क्या RSS जैसी संस्थाओं संगठनों की देश को सख्त जरूरत है ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
RSS जैसे संगठनों की भारत को जरूरत नहीं है मेरे मुताबिक तो क्योंकि RSS एक खास धर्म को ही सपोर्ट करती है RSS यह चाहती है कि भारत को एक हिंदू राष्ट्र बना दिया जाए और बाकी धर्म के लोगों को दबा दिया जाए यहां पर लेकिन मेरे मुताबिक भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है और यही इसकी एक पहचान है तो RSS की जो धरना है उससे मैं सहमत नहीं हूं कि भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाया जाए और हिंदुओं को ही सिर्फ आगे बढ़ाया जाए जबकि सभी धर्म के लोग एक समान नहीं होते हैं और हमें सब के बारे में एक जैसे विचार रखने चाहिएRSS Jaise Sangathano Ki Bharat Ko Zaroorat Nahi Hai Mere Mutabik To Kyonki RSS Ek Khas Dharm Ko Hi Support Karti Hai RSS Yeh Chahti Hai Ki Bharat Ko Ek Hindu Rashtra Bana Diya Jaye Aur Baki Dharm Ke Logon Ko Daba Diya Jaye Yahan Par Lekin Mere Mutabik Bharat Ek Dharmanirapeksh Rashtra Hai Aur Yahi Iski Ek Pehchaan Hai To RSS Ki Jo Dharna Hai Usse Main Sahmat Nahi Hoon Ki Bharat Ko Ek Hindu Rashtra Banaya Jaye Aur Hinduon Ko Hi Sirf Aage Badhaya Jaye Jabki Sabhi Dharm Ke Log Ek Saman Nahi Hote Hain Aur Hume Sab Ke Baare Mein Ek Jaise Vichar Rakhne Chahiye
Likes  13  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी हां मेरा मानना है कि आदेश को RSS जैसे संगठनों का बहुत ज्यादा जरूरत है क्योंकि आर एस एस का मतलब होता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ चौकी कैसी संस्था है जो कि आम आदमी की बहुत ही ज्यादा मदद करने के लिए हमेशा तत्पर रहती है यह लोग हर जगह पहुंच जाते हैं जहां पर हमारे देश में कोई भी क्लाइमेट एक प्रॉब्लम आई हो या फिर कोई भी अर्थक्वेक या फिर कुछ भी और दिक्कत हो यह लोग हमेशा तैयार रहते हैं कि हम आम आदमियों की देश की जनता की मदद करें और RSS के लोग कभी अपनी कोई भी शादी नहीं करते कभी अपना परिवार नहीं बताते हैं उनका मानना है कि देश की सेवा ही उनके लिए बहुत बड़ा कार्य है और अगर वह देश की सेवा करना चाहते हैं तो वह किसी में बंधन में नहीं बन सकते तो RSS वैसे संस्थाओं को मेरा शत-शत प्रणाम और मैं कहना चाहूंगा कि वह हमारे देश के लिए बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और ऐसे ही संस्थाओं के हमारे देश में बहुत ज्यादा जरूरत हैJi Haan Mera Manana Hai Ki Aadesh Ko RSS Jaise Sangathano Ka Bahut Jyada Zaroorat Hai Kyonki R S S Ka Matlab Hota Hai Rashtriya Svayansevak Sangh Chowki Kaisi Sanstha Hai Jo Ki Aam Aadmi Ki Bahut Hi Jyada Madad Karne Ke Liye Hamesha Tatpar Rehti Hai Yeh Log Har Jagah Pahunch Jaate Hain Jahan Par Hamare Desh Mein Koi Bhi Climate Ek Problem Eye Ho Ya Phir Koi Bhi Earthquake Ya Phir Kuch Bhi Aur Dikkat Ho Yeh Log Hamesha Taiyaar Rehte Hain Ki Hum Aam Adamiyo Ki Desh Ki Janta Ki Madad Karen Aur RSS Ke Log Kabhi Apni Koi Bhi Shadi Nahi Karte Kabhi Apna Parivar Nahi Batatey Hain Unka Manana Hai Ki Desh Ki Seva Hi Unke Liye Bahut Bada Karya Hai Aur Agar Wah Desh Ki Seva Karna Chahte Hain To Wah Kisi Mein Badhan Mein Nahi Ban Sakte To RSS Waise Sasthaon Ko Mera Shat Shat Pranam Aur Main Kehna Chahunga Ki Wah Hamare Desh Ke Liye Bahut Accha Kaam Kar Rahe Hain Aur Aise Hi Sasthaon Ke Hamare Desh Mein Bahut Jyada Zaroorat Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya RSS Jaisi Sasthaon Sangathano Ki Desh Ko Sakht Zaroorat Hai





मन में है सवाल?