महारष्ट्र विवाद राजनैतिक है या संयोग ? ...

Likes  0  Dislikes

5 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जहां तक मुझे लगता है और यहां तक राजनीतिक विश्लेषकों को भी है लगता है कि यह अधिक संयोग है और कम राजनीतिक परंतु इस सहयोग को बाद में राजनीतिक बना दिया गया देखिए 1 जनवरी सन 1818 की जो क्रांति थी किसी जो युद्ध हुआ था जिसमें कि दलितों ने ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ मिलकर बाजीराव पेशवा द्वितीय की सेना को हराया था उसकी याद में अंग्रेजों ने गोरे गांव में जो भीमा कोरेगांव नामक स्थान है महाराष्ट्र में वहां पर विजय स्तंभ बनाया था तथा दलित हर वर्ष प्रतिवर्ष 1 जनवरी 2001 1 जनवरी को वहां पर अपना विजय दिवस मनाते हैं रैली निकालते हैं जो पूरी तरह शांतिपूर्ण रहती है हालांकि उसमें किसी प्रकार का उत्तेजना नहीं होती परंतु इस साल 200 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य पर वहां पर कुछ उत्तेजना थी इससे सभी लोग मान रहे हैं तो धीरे-धीरे करके इस प्रकार के जो युवा वर्ग में जोश जगाया उसके हाथ में बाकी लोग भी आ गए और मराठा भी इसने अपने अस्मिता की लड़ाई समझकर कूद पड़े बाद में धीरे-धीरे करके जो छत्रिय मराठा राजनेता से वापिस में कूद पड़े हो और बाद में BJP कांग्रेस पर अन्य जो राजनीतिक दल थे उन्होंने अभी से हवा देने शुरू करें ऐसा राजनीतिक विश्लेषकों को लगता है परंतु मुझे अभी भी है लगता है कि महासंयोग था परंतु इसके बाद में राजा दिखावा दी गई जो किसी भी प्रकार से ठीक नहीं थी इस प्रकार की रैलियां बहुत सालों से दो दशकों से और सैकड़ों वर्षो से चल रही सामाजिक सुहागर की भावना को हानि पहुंचाते हैं और इन को रोक लगाना इन पर रोक लगाना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि शांति बनने में बहुत अधिक समय लग जाता है आपसी भाईचारा बनने में परंतु बिगड़ने में कुछ घंटे ही काफी होते हैं धन्यवादJahan Tak Mujhe Lagta Hai Aur Yahan Tak Rajnitik Vishleshakon Ko Bhi Hai Lagta Hai Ki Yeh Adhik Sanyog Hai Aur Kum Rajnitik Parantu Is Sahyog Ko Baad Mein Rajnitik Bana Diya Gaya Dekhie 1 January Sun 1818 Ki Jo Kranti Thi Kisi Jo Yudh Hua Tha Jisme Ki Dalito Ne East India Company Ke Saath Milkar Bajirao Peshwa Dvitiya Ki Sena Ko Haraya Tha Uski Yaad Mein Angrejo Ne Gore Gav Mein Jo Bhima Koregaon Namak Sthan Hai Maharashtra Mein Wahan Par Vijay Stambh Banaya Tha Tatha Dalit Har Varsh Prativarsh 1 January 2001 1 January Ko Wahan Par Apna Vijay Divas Manate Hain Rally Nikalate Hain Jo Puri Tarah Shantipurna Rehti Hai Halanki Usamen Kisi Prakar Ka Uttejna Nahi Hoti Parantu Is Saal 200 Varsh Poore Hone Ke Upalakshya Par Wahan Par Kuch Uttejna Thi Isse Sabhi Log Maan Rahe Hain To Dhire Dhire Karke Is Prakar Ke Jo Yuva Varg Mein Josh Jagaaya Uske Hath Mein Baki Log Bhi Aa Gaye Aur Maratha Bhi Isane Apne Asmita Ki Ladai Samajhkar Kud Pade Baad Mein Dhire Dhire Karke Jo " chatriy " Maratha Rajneta Se Vapis Mein Kud Pade Ho Aur Baad Mein BJP Congress Par Anya Jo Rajnitik Dal The Unhone Abhi Se Hawa Dene Shuru Karen Aisa Rajnitik Vishleshakon Ko Lagta Hai Parantu Mujhe Abhi Bhi Hai Lagta Hai Ki Mahasanyog Tha Parantu Iske Baad Mein Raja Dikhawa Di Gayi Jo Kisi Bhi Prakar Se Theek Nahi Thi Is Prakar Ki Railiyan Bahut Salon Se Do Dashakon Se Aur Saikadon Varsho Se Chal Rahi Samajik Suhagar Ki Bhavna Ko Hani Pahunchate Hain Aur In Ko Rok Lagana In Par Rok Lagana Atyant Aavashyak Hai Kyonki Shanti Banane Mein Bahut Adhik Samay Lag Jata Hai Aapasi Bhaichara Banane Mein Parantu Bigadane Mein Kuch Ghante Hi Kafi Hote Hain Dhanyavad
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
महाराष्ट्र के पुणे से शुरू हुआ जातीय हिंसा का दौर और कई अन्य शहरों तक पहुंच गया है पुणे के बाद महाराष्ट्र के अन्य छोटे उपनगर जैसे कि कुर्ला थाने चेंबूर और हडपसर इन सारी जगह पर पथराव और आगजनी की कई घटनाएं सामने आई है चेंबूर में तो लोगों ने एंबुलेंस पर भी पथराव किया जो कि बिल्कुल गलत है अब आया शराबी बाद अंग्रेजों और पेशवाओ बीच हुए 200 साल पूरे होने को लेकर हुआ है जिसमें 1 जनवरी 1818 में अंग्रेजों ने दलितों की मदद ले करके पेशवा द्वितीय को युद्ध में हरा दिया था तो तूने के कोरे गांव के जय स्तंभ पर हर साल यह उत्सव मनाया जाता है और दलित लोग जो है वह इस दिवस को शौर्य दिवस के तौर पर मनाते हैं लेकिन मराठा लोग जो है वह इससे क्या मतलब हर साल इसका विरोध करते हैं लेकिन इस बार क्या था कि इस युद्ध के 200 साल पूरे हो रहे थे तो दलित लोग इस बार मतलब बस का भव्य आयोजन कर रहे थे जिससे कि मराठा लोग काफी दुखी थे और उसका विरोध कर रहे थे जिसकी वजह से यह सारा विवाद उभरा है तो मेरे मुताबिक तो अगर विवाद हो रहा है तो यह जाती है और इसमें लेकिन राजनीतिक अंश भी कुछ न कुछ जरुर होगाMaharashtra Ke Pune Se Shuru Hua Jatiye Hinsa Ka Daur Aur Kai Anya Shaharon Tak Pahunch Gaya Hai Pune Ke Baad Maharashtra Ke Anya Chote Upanagar Jaise Ki Kurla Thane Chembur Aur Hadapsar In Saree Jagah Par Pathrao Aur Agajani Ki Kai Ghatnaye Samane Eye Hai Chembur Mein To Logon Ne Ambulance Par Bhi Pathrao Kiya Jo Ki Bilkul Galat Hai Ab Aaya Sharabee Baad Angrejo Aur Peshvao Beech Hue 200 Saal Poore Hone Ko Lekar Hua Hai Jisme 1 January 1818 Mein Angrejo Ne Dalito Ki Madad Le Karke Peshwa Dvitiya Ko Yudh Mein Hara Diya Tha To Tune Ke Core Gav Ke Jai Stambh Par Har Saal Yeh Utsav Manaya Jata Hai Aur Dalit Log Jo Hai Wah Is Divas Ko Shorya Divas Ke Taur Par Manate Hain Lekin Maratha Log Jo Hai Wah Isse Kya Matlab Har Saal Iska Virodh Karte Hain Lekin Is Baar Kya Tha Ki Is Yudh Ke 200 Saal Poore Ho Rahe The To Dalit Log Is Baar Matlab Bus Ka Bhavya Aayojan Kar Rahe The Jisse Ki Maratha Log Kafi Dukhi The Aur Uska Virodh Kar Rahe The Jiski Wajah Se Yeh Saara Vivad Ubhra Hai To Mere Mutabik To Agar Vivad Ho Raha Hai To Yeh Jati Hai Aur Isme Lekin Rajnitik Ansh Bhi Kuch N Kuch Zaroor Hoga
Likes  11  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
लेकिन मुझे लगता है कि जिस तरह का महाराष्ट्र में एक बार इलेक्शन हुआ था बहुत ज्यादा कुछ लोगों के नायक कम्युनल वायलेंस है कुछ लोग कहते हैं कदमों रिलेशन है तो मुझे लगता है अगर इस तरह का महाराष्ट्र के अंदर विवाद हालाकि महाराष्ट्र के अंदर इस तरह की चीजों को कम ही देखा जाता है फिर भी यह हुआ है तो मुझे लगता है कि सीधा-सीधा सरकार को दोष देना मुझे नहीं लगता बिल्कुल सही होगा यह जिम्मेदारी होती वहां के लोकल एडमिनिस्ट्रेशन कि क्यों वह अपनी पूरी सुविधा सेवा नहीं दे पा जिस वजह से इस छोटी सी चीज को लेकर दंगा भड़का दूसरी चीज में यही कहना चाहूंगा किसी भी राज्य के किस देश के किसी भी राज्य में अगर दंगा होता है तो सीधा सरकार को दोषी नहीं ठहरा ना चाहिए वहां का लोकल एडमिनिस्ट्रेशन है और देश में कहीं भी अगर दंगे होते हैं तो उसके लिए बिल्कुल सरकार की सरकार की जिम्मेदारी है उनकी तो नैतिक जिम्मेदारी है देश के लिए अच्छा नहीं है तो मुझे लगता है कि अगर ऐसा हुआ तो उसको राजनीतिक बिल्कुल नहीं समझना चाहिए मोबाइल में से हो गई उसका कंपनसेशन आ जाएगा अब जैसे कंपनसेशन होगा उसको राज्य सरकार को देखना लेकिन मुझे नहीं लगता इस तरह की कोई राजनीतिक होनी चाहिए इस तरह के दंगों परLekin Mujhe Lagta Hai Ki Jis Tarah Ka Maharashtra Mein Ek Baar Election Hua Tha Bahut Jyada Kuch Logon Ke Nayak Communal Violence Hai Kuch Log Kehte Hain Kadamon Relation Hai To Mujhe Lagta Hai Agar Is Tarah Ka Maharashtra Ke Andar Vivad Halaki Maharashtra Ke Andar Is Tarah Ki Chijon Ko Kum Hi Dekha Jata Hai Phir Bhi Yeh Hua Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Sidhaa Sidhaa Sarkar Ko Dosh Dena Mujhe Nahi Lagta Bilkul Sahi Hoga Yeh Jimmedari Hoti Wahan Ke Local Administration Ki Kyun Wah Apni Puri Suvidha Seva Nahi De Pa Jis Wajah Se Is Choti Si Cheez Ko Lekar Danga Bhadaka Dusri Cheez Mein Yahi Kehna Chahunga Kisi Bhi Rajya Ke Kis Desh Ke Kisi Bhi Rajya Mein Agar Danga Hota Hai To Sidhaa Sarkar Ko Doshi Nahi Thahara Na Chahiye Wahan Ka Local Administration Hai Aur Desh Mein Kahin Bhi Agar Denge Hote Hain To Uske Liye Bilkul Sarkar Ki Sarkar Ki Jimmedari Hai Unki To Naitik Jimmedari Hai Desh Ke Liye Accha Nahi Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Agar Aisa Hua To Usko Rajnitik Bilkul Nahi Samajhna Chahiye Mobile Mein Se Ho Gayi Uska Kampanaseshan Aa Jayega Ab Jaise Kampanaseshan Hoga Usko Rajya Sarkar Ko Dekhna Lekin Mujhe Nahi Lagta Is Tarah Ki Koi Rajnitik Honi Chahiye Is Tarah Ke Dango Par
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Maharashtra Vivad Rajnaitik Hai Ya Sanyog ?





मन में है सवाल?