राज्य सभा ने दिवालियापन और दिवालियापन संहिता संशोधन विधेयक को मंजूरी दी, इसका क्या असर होगा? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोकसभा में 28 सितंबर को एक विधेयक पेश किया गया जिसमें दिवाला और दिवालियापन संहिता में संशोधन करने की मांग की गई ताकि सीधी की कमियों को दूर किया जा सके और जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले बकायदा खु...जवाब पढ़िये
देखिए लोकसभा में 28 सितंबर को एक विधेयक पेश किया गया जिसमें दिवाला और दिवालियापन संहिता में संशोधन करने की मांग की गई ताकि सीधी की कमियों को दूर किया जा सके और जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले बकायदा खुद की परिसंपत्तियों के बोली नहीं लगा सके और इसका मकसद है कि जो अनैतिक लोगों को दिवालियापन और दिवालियापन संहिता के प्रावधानों का दुरुपयोग का दुर्व्यवहार करने से रोका जाएगा ऐसे अपात्र व्यक्ति या संस्था ने जो या तो जान कर के अचूक करता है या जिन के खातों में गैर निष्पादित परिसंपत्तियां है इसके अंदर शामिल होंगे वह दिखा लिया करता जिन्होंने 23 नवंबर से पहले दिवाला की कार्रवाई में भाग लिया था BP 1 महीने में अपनी बकाया राशि को स्पष्ट करने के लिए जोरदार संपत्ति के लिए बोली लगा सकते हैं संस्था सदस्यों को चीन की चिंताओं का जवाब देते हुए अरुण जेटली ने कहा कि पूरे प्रयास बैंकिंग क्षेत्र को मजबूत बनाने और राजनीति से अलग करने के लिए है अरुण जेटली ने कहा दिवालिया प्रक्रिया के दौरान कहां बैंकों और असुरक्षित लेनदारों को कुछ बाल कटवाने लगाना होगा और अगर एक ही प्रबंधन वापस आ जाए तो कुछ भी नहीं बदलेगा देखिए जो करता रैवेन प्रक्रियाओं का प्रयोग कर उपयोग कर रहे हैं उन्होंने कहा कि बड़े लंबित मामले मोटे तौर पर दो श्रेणियों में होता है एक बड़ी संपत्ति और दूसरा है तो व्यापारिक कंपनियां आई पी सी कंपनी की संपत्ति बहुत कम हैDekhie Lok Sabha Mein 28 September Ko Ek Vidhayak Pesh Kiya Gaya Jisme Diwala Aur Diwaliyapan Sanhita Mein Sanshodhan Karne Ki Maang Ki Gayi Taki Sidhi Ki Kamiyon Ko Dur Kiya Ja Sake Aur Janbujhkar Karj Nahi Chukane Wale Bakayada Khud Ki Parisampattiyon Ke Boli Nahi Laga Sake Aur Iska Maksad Hai Ki Jo Anaitik Logon Ko Diwaliyapan Aur Diwaliyapan Sanhita Ke Pravdhano Ka Durupyog Ka Durvyavahaar Karne Se Roka Jayega Aise Apatr Vyakti Ya Sanstha Ne Jo Ya To Jaan Kar Ke Achuk Karta Hai Ya Jin Ke Khaaton Mein Gair Nishpadit Parisampattiyan Hai Iske Andar Shamil Honge Wah Dikha Liya Karta Jinhone 23 November Se Pehle Diwala Ki Karyawahi Mein Bhag Liya Tha BP 1 Mahine Mein Apni Bakaya Rashi Ko Spasht Karne Ke Liye Jordaar Sampatti Ke Liye Boli Laga Sakte Hain Sanstha Sadasyon Ko Chin Ki Chintaon Ka Jawab Dete Hue Arun Jaitley Ne Kaha Ki Poore Prayas Banking Kshetra Ko Mazboot Banane Aur Rajneeti Se Alag Karne Ke Liye Hai Arun Jaitley Ne Kaha Diwaliya Prakriya Ke Dauran Kahan Bankon Aur Asurakshit Lendaro Ko Kuch Baal Katavane Lagana Hoga Aur Agar Ek Hi Prabandhan Wapas Aa Jaye To Kuch Bhi Nahi Badalega Dekhie Jo Karta Raiven Prakriyaon Ka Prayog Kar Upyog Kar Rahe Hain Unhone Kaha Ki Bade Lambit Mamle Mote Taur Par Do Shreniyon Mein Hota Hai Ek Badi Sampatti Aur Doosra Hai To Vyaparik Companiyan Eye P Si Company Ki Sampatti Bahut Kum Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Rajya Sabha Ne Diwaliyapan Aur Diwaliyapan Sanhita Sanshodhan Vidhayak Ko Manjuri Di Iska Kya Asar Hoga, Rajya Sabha Has Approved The Bankruptcy And Amendment To The Code Of Criminal Law, What Will Be The Effect?

vokalandroid