क्या मोदी जी ने 500 के और 1000 नोट बंद करके अच्छा किया क्या ? ...

Likes  0  Dislikes

5 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मोदी जी ने 500 और 1000 के नोट बंद करवा कर बिल्कुल भी अच्छा नहीं किया क्योंकि इससे देश पर आर्थिक बोझ और बढ़ गया आरबीआई ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि फाइनेंशियल ईयर 2017 में नोट छापने में उसे 7965 करोड रुपए लगे लेकिन यही 2016 की अगर बात की जाए तो आरबीआई को नए नोट छापने में 3421 करोड रुपए लगे थे तो मतलब कि आरबीआई को दोगुने से भी ज्यादा पैसे खर्च करने पड़े सिर्फ डीमोनेटाइजेशन के वजह से आरबीआई ने यह भी बताया कि 15.44 लाख करोड़ वैल्यू की करेंसी उस समय सरकुलेशन में थी जिसे की हटा दिया गया था और जब 500 और 1000 के नोट वापस आए आरबीआई में तो उन्हें पता चला कि 99 परसेंट यानी कि 15.28 लाख करोड़ वापस आ गए हैं तो फिर सिर्फ एक परसेंट भी ऐसे पैसे थे जो वापस नहीं आ पाए और यह एक परसेंट उस पैसे ज्यादा है जो कि नोट छापने में लगे तो टोटल मिलाकर के देखा जाए तो अपनी भारतीय सरकार या फिर आरबीआई को नुकसान ही हुआ है यह नोटबंदी करने से और लोग भी परेशान हुए इसके अलावा मोदी जी ने ₹2000 के नोट भी निकाल दिया अब ब्लैक मनी जमा करने वालों को 2000नोट आ जाने से और भी सुविधा हो गई है क्योंकि वह ₹2000 के नोट आराम से इधर-उधर ले जा सकते हैं और लोगों को पता भी नहीं चलेगा कि उनके पास कितने नोट हैModi Ji Ne 500 Aur 1000 Ke Note Band Karava Kar Bilkul Bhi Accha Nahi Kiya Kyonki Isse Desh Par Aarthik Bojh Aur Badh Gaya Rbi Ne Apni Report Mein Bataya Hai Ki Financial Year 2017 Mein Note Chapne Mein Use 7965 Crore Rupaiye Lage Lekin Yahi 2016 Ki Agar Baat Ki Jaye To Rbi Ko Naye Note Chapne Mein 3421 Crore Rupaiye Lage The To Matlab Ki Rbi Ko Dogune Se Bhi Jyada Paise Kharch Karne Pade Sirf Dimonetaijeshan Ke Wajah Se Rbi Ne Yeh Bhi Bataya Ki 15.44 Lakh Crore Value Ki Currency Us Samay Circulation Mein Thi Jise Ki Hata Diya Gaya Tha Aur Jab 500 Aur 1000 Ke Note Wapas Aaye Rbi Mein To Unhen Pata Chala Ki 99 Percent Yani Ki 15.28 Lakh Crore Wapas Aa Gaye Hain To Phir Sirf Ek Percent Bhi Aise Paise The Jo Wapas Nahi Aa Paye Aur Yeh Ek Percent Us Paise Jyada Hai Jo Ki Note Chapne Mein Lage To Total Milakar Ke Dekha Jaye To Apni Bhartiya Sarkar Ya Phir Rbi Ko Nuksan Hi Hua Hai Yeh Notebandi Karne Se Aur Log Bhi Pareshan Hue Iske Alava Modi Ji Ne ₹2000 Ke Note Bhi Nikal Diya Ab Black Money Jama Karne Walon Ko Note Aa Jaane Se Aur Bhi Suvidha Ho Gayi Hai Kyonki Wah ₹2000 Ke Note Aaram Se Idhar Udhar Le Ja Sakte Hain Aur Logon Ko Pata Bhi Nahi Chalega Ki Unke Paas Kitne Note Hai
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
विकी मुझे लगता है कि डिमोनेटाइजेशन की जरूरत थी हमारे देश के अंदर जो एक बहुत बड़ा डिसीजन मुझे नहीं लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा कोई डिसीजन को ले भी सकता था टाइम भी भारतीय जनता पार्टी का अगर कोई और पीएम होता तो मुझे नहीं लगता क्योंकि बहुत बड़ा रिश्ता सरकार के लिए उसकी छवि के लिए ठीक है हां बिल्कुल इस बात से सहमत हूं कि बिल्कुल दुख तकलीफ तो हुई थी 500 1000 का नोट बंद करके अच्छा किया था कि तुम मार्केट के अंदर एक तो फेक करेंसी बहुत आगे दीपा रेट करेंसी बहुत ज्यादा आ गई थी तो उस पर भी कंट्रोल रखना जरूरी था दूसरा यह मुझे नहीं समझ आया कि 2000कानोट पता नहीं क्यों स्टार्ट किया 2000कानोट नहीं स्टार्ट करना चाहिए अगर करेंसी को चेंज करना तो वन थाउजेंड का नया नोट लेकर आ जाते ठीक है लेकिन 500 1000 का नोट जो बंद किया वह ठीक ही है नई करेंसी आना जरूरी भी तक मार्केट के अंदर बहुत ज्यादा पैर ऐसी हो गई थीVikee Mujhe Lagta Hai Ki Dimonetaijeshan Ki Zaroorat Thi Hamare Desh Ke Andar Jo Ek Bahut Bada Decision Mujhe Nahi Lagta Hai Ki Pradhanmantri Narendra Modi Ke Alava Koi Decision Ko Le Bhi Sakta Tha Time Bhi Bhartiya Janta Party Ka Agar Koi Aur Pm Hota To Mujhe Nahi Lagta Kyonki Bahut Bada Rishta Sarkar Ke Liye Uski Chawi Ke Liye Theek Hai Haan Bilkul Is Baat Se Sahmat Hoon Ki Bilkul Dukh Takleef To Hui Thi 500 1000 Ka Note Band Karke Accha Kiya Tha Ki Tum Market Ke Andar Ek To Fake Currency Bahut Aage Deepa Rate Currency Bahut Jyada Aa Gayi Thi To Us Par Bhi Control Rakhna Zaroori Tha Doosra Yeh Mujhe Nahi Samajh Aaya Ki Kanot Pata Nahi Kyun Start Kiya Kanot Nahi Start Karna Chahiye Agar Currency Ko Change Karna To Van Thousand Ka Naya Note Lekar Aa Jaate Theek Hai Lekin 500 1000 Ka Note Jo Band Kiya Wah Theek Hi Hai Nayi Currency Aana Zaroori Bhi Tak Market Ke Andar Bahut Jyada Pair Aisi Ho Gayi Thi
Likes  6  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
जी हां मेरे हिसाब से मोदी जी ने 500 और 1000 के नोट बंद करके अच्छा किया क्योंकि हम सभी जानते हैं देश में हमारे देश में भ्रष्टाचार बहुत ज्यादा बढ़ गया था और नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचार बहुत हद तक कम हुआ है तो उन्होंने नोटबंदी करके बहुत अच्छा फैसला लिया था हालांकि उसके फैसले की वजह से उनको बहुत ज्यादा आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा आम आदमी को बहुत ज्यादा तकलीफ हुई और सभी लोगों ने मोदी को ही इसका जिम्मेदार ठहराया परंतु अगर हम एक लार्ज स्केल पर देखें तो हमें डिमोनेटाइजेशन से बहुत ज्यादा फायदा हुआ है और इस चीज का भी हमें सबूत नहीं मिला है लोगों ने नहीं बताया है कि कितना कालाधन वापस आया लेकिन हमें पता है इससे बहुत चीजों में हमें फायदा मिल चुका हैJi Haan Mere Hisab Se Modi Ji Ne 500 Aur 1000 Ke Note Band Karke Accha Kiya Kyonki Hum Sabhi Jante Hain Desh Mein Hamare Desh Mein Bhrashtachar Bahut Jyada Badh Gaya Tha Aur Notebandi Ke Baad Bhrashtachar Bahut Had Tak Kum Hua Hai To Unhone Notebandi Karke Bahut Accha Faisla Liya Tha Halanki Uske Faisle Ki Wajah Se Unko Bahut Jyada Aalochnao Ka Bhi Samana Karna Pada Aam Aadmi Ko Bahut Jyada Takleef Hui Aur Sabhi Logon Ne Modi Ko Hi Iska Zimmedar Thahraya Parantu Agar Hum Ek Large Scale Par Dekhen To Hume Dimonetaijeshan Se Bahut Jyada Fayda Hua Hai Aur Is Cheez Ka Bhi Hume Sabut Nahi Mila Hai Logon Ne Nahi Bataya Hai Ki Kitna Kaladhan Wapas Aaya Lekin Hume Pata Hai Isse Bahut Chijon Mein Hume Fayda Mil Chuka Hai
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

मोदी जी का 500 1000 नोटों को बंद करने का कदम बहुत जने आंसर और गलत बताया था बट यह भी हमको देखना पड़ेगा यह हमको लिस्ट हमको मोदी जी के इंटरव्यू से भी देखना पड़ेगा कि उन्होंने ऐसा किया तो क्यों किया उन्होंने हजार बार बोल दिया है कि उनका यह स्टेप उठाने का कारण था करप्शन को कम करने और काला धन वापस लाना हमारे जो देश में जो मेन प्रॉब्लम है करप्शन का उसको उसके लिए काला धन को वापस लाने के लिए उन्होंने किया था वह जिसमें यह थोड़ी बहुत तो करेक्ट भी रहे हैं अभी तक के आंकड़े देखो तो

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

मोदी जी का 500 1000 नोटों को बंद करने का कदम बहुत जने आंसर और गलत बताया था बट यह भी हमको देखना पड़ेगा यह हमको लिस्ट हमको मोदी जी के इंटरव्यू से भी देखना पड़ेगा कि उन्होंने ऐसा किया तो क्यों किया उन्होंने हजार बार बोल दिया है कि उनका यह स्टेप उठाने का कारण था करप्शन को कम करने और काला धन वापस लाना हमारे जो देश में जो मेन प्रॉब्लम है करप्शन का उसको उसके लिए काला धन को वापस लाने के लिए उन्होंने किया था वह जिसमें यह थोड़ी बहुत तो करेक्ट भी रहे हैं अभी तक के आंकड़े देखो तोModi Ji Ka 500 1000 Noton Ko Band Karne Ka Kadam Bahut Jane Answer Aur Galat Bataya Tha But Yeh Bhi Hamko Dekhna Padega Yeh Hamko List Hamko Modi Ji Ke Interview Se Bhi Dekhna Padega Ki Unhone Aisa Kiya To Kyun Kiya Unhone Hazar Baar Bol Diya Hai Ki Unka Yeh Step Uthane Ka Kaaran Tha Corruption Ko Kum Karne Aur Kala Dhan Wapas Lana Hamare Jo Desh Mein Jo Main Problem Hai Corruption Ka Usko Uske Liye Kala Dhan Ko Wapas Lane Ke Liye Unhone Kiya Tha Wah Jisme Yeh Thodi Bahut To Correct Bhi Rahe Hain Abhi Tak Ke Aankde Dekho To
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Modi Ji Ne 500 Ke Aur 1000 Note Band Karke Accha Kiya Kya ?, 2000 Note Band





मन में है सवाल?