search_iconmic
leaderboard
notify
हिंदी
leaderboard
notify
हिंदी
जवाब दें

क्या आईआईटी दिल्ली द्वारा 10 रुपयों का नाक फिल्टर लोगों को प्रदूषण की समस्याओं से लड़ने में मदद करेगा? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी के अभी हाल ही में आए थे दिल्ली में जो है वह ₹10 का चूना का फिल्टर की समस्याओं से लड़ने के लिए मदद करेगा ऐसा क्या कहा उन्होंने निकाला था और अगर आईडी कैसे निकाले तो उन्होंने पूरा टेस्टिंग करके इसको साइंटिफिक रीजन से पूरा टेस्टिंग करके सब कुछ करके ही मार्केट में लॉन्च किया होगा क्योंकि वह बिना उसको प्रैक्टिकल टेस्ट किए मार्केट में नई लांच कर देंगे लोगों के लिए अगर उन्होंने ऐसा किया है तो जरूर पूरा टेस्टिंग उसको क्लियर हो चुका होगा वह सर्टिफाइड होगा और लोगों की जो है इसे मदद के करने के लिए किया गया है और यह बहुत ही वाजिब दाम पर निकाला गया क्योंकि ₹10 वेतन में मैं यह नहीं चाहता कि किसी के लिए भी बड़ी बात होती है और अपनी सेहत को ध्यान में रखते हुए तो यह बिल्कुल भी कोई बड़ा दान नहीं है और बहुत ही अच्छी चीज है जो ₹10 में उन्होंने निकाले
Romanized Version
अभी के अभी हाल ही में आए थे दिल्ली में जो है वह ₹10 का चूना का फिल्टर की समस्याओं से लड़ने के लिए मदद करेगा ऐसा क्या कहा उन्होंने निकाला था और अगर आईडी कैसे निकाले तो उन्होंने पूरा टेस्टिंग करके इसको साइंटिफिक रीजन से पूरा टेस्टिंग करके सब कुछ करके ही मार्केट में लॉन्च किया होगा क्योंकि वह बिना उसको प्रैक्टिकल टेस्ट किए मार्केट में नई लांच कर देंगे लोगों के लिए अगर उन्होंने ऐसा किया है तो जरूर पूरा टेस्टिंग उसको क्लियर हो चुका होगा वह सर्टिफाइड होगा और लोगों की जो है इसे मदद के करने के लिए किया गया है और यह बहुत ही वाजिब दाम पर निकाला गया क्योंकि ₹10 वेतन में मैं यह नहीं चाहता कि किसी के लिए भी बड़ी बात होती है और अपनी सेहत को ध्यान में रखते हुए तो यह बिल्कुल भी कोई बड़ा दान नहीं है और बहुत ही अच्छी चीज है जो ₹10 में उन्होंने निकालेAbhi Ke Abhi Haal Hi Mein Aaye The Delhi Mein Jo Hai Wah ₹10 Ka Chuna Ka Filter Ki Samasyaon Se Ladane Ke Liye Madad Karega Aisa Kya Kaha Unhone Nikaala Tha Aur Agar Id Kaise Nikale To Unhone Pura Testing Karke Isko Scientific Reason Se Pura Testing Karke Sab Kuch Karke Hi Market Mein Launch Kiya Hoga Kyonki Wah Bina Usko Practical Test Kiye Market Mein Nayi Launch Kar Denge Logon Ke Liye Agar Unhone Aisa Kiya Hai To Jarur Pura Testing Usko Clear Ho Chuka Hoga Wah Certified Hoga Aur Logon Ki Jo Hai Ise Madad Ke Karne Ke Liye Kiya Gaya Hai Aur Yeh Bahut Hi Wajib Dam Par Nikaala Gaya Kyonki ₹10 Vetan Mein Main Yeh Nahi Chahta Ki Kisi Ke Liye Bhi Badi Baat Hoti Hai Aur Apni Sehat Ko Dhyan Mein Rakhate Hue To Yeh Bilkul Bhi Koi Bada Daan Nahi Hai Aur Bahut Hi Acchi Cheez Hai Jo ₹10 Mein Unhone Nikale
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिए😊

ऐसे और सवाल

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

अधिक जवाब


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

IIT डेल्ही के द्वारा बनाया गया यह रो फ़िल्टर 95% तक धूल और एयर पोल्यूशन स्कोर हमारे नाखून में जाने से रोकता है साथी साथिया केवल ₹10 का है तो यह काफी अफोर्डेबल है और कोई भी इंसान इसे खरीद करके इस्तेमाल कर सकता है या 58 घंटे तक काम करता है जिन लोगों ने इसे तैयार किया है उन्हें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से नेशनल स्पोर्ट्स अवार्ड भी मिल चुका है इस फ़िल्टर को बनाते समय आप पीएम 2.5 को ध्यान में रखा गया है ताकि यह अपने नाकों के द्वारा फेफड़ों तक ना पहुंच पाए नैनो क्लीन ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी इन रिसर्चर्स ने बनाई है और यही कंपनी इस नेहरू फ़िल्टर को बना रही है
Romanized Version
IIT डेल्ही के द्वारा बनाया गया यह रो फ़िल्टर 95% तक धूल और एयर पोल्यूशन स्कोर हमारे नाखून में जाने से रोकता है साथी साथिया केवल ₹10 का है तो यह काफी अफोर्डेबल है और कोई भी इंसान इसे खरीद करके इस्तेमाल कर सकता है या 58 घंटे तक काम करता है जिन लोगों ने इसे तैयार किया है उन्हें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से नेशनल स्पोर्ट्स अवार्ड भी मिल चुका है इस फ़िल्टर को बनाते समय आप पीएम 2.5 को ध्यान में रखा गया है ताकि यह अपने नाकों के द्वारा फेफड़ों तक ना पहुंच पाए नैनो क्लीन ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी इन रिसर्चर्स ने बनाई है और यही कंपनी इस नेहरू फ़िल्टर को बना रही हैIIT Dulhe Ke Dwara Banaya Gaya Yeh Ro Filter 95% Tak Dhul Aur Air Pollution Score Hamare Nakhun Mein Jaane Se Rokta Hai Sathi Sathiya Kewal ₹10 Ka Hai To Yeh Kafi Affordable Hai Aur Koi Bhi Insaan Ise Kharid Karke Istemal Kar Sakta Hai Ya 58 Ghante Tak Kaam Karta Hai Jin Logon Ne Ise Taiyaar Kiya Hai Unhen Purv Rashtrapati Pranab Mukherjee Se National Sports Award Bhi Mil Chuka Hai Is Filter Ko Banate Samay Aap Pm 2.5 Ko Dhyan Mein Rakha Gaya Hai Taki Yeh Apne Nako Ke Dwara Phephadon Tak Na Pahunch Paye Nano Clean Global Private Limited Naam Ki Company In Researchers Ne Banai Hai Aur Yahi Company Is Nehru Filter Ko Bana Rahi Hai
Likes  11  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए दिल्ली में पॉल्यूशन को देखते हुए इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी दिल्ली नहीं जाना नौकरी नौकरी प्राइवेट के साथ कोल्हापुरी शंकर के 1 नए नोट ए स्पेसिफिक डिजाइन क्या है जिसकी कीमत सिर्फ ₹10 है यह प्रोडक्ट है यह Returns चौकी 2 पॉइंट 5:00 pm तक छुट्टी पर हूं उनको भी रोकने में मदद करता है यह जो इंस्ट्रूमेंट ही काम कैसे करता है यह नाक पर चिपक जाता है और जो फॉरेन पॉलिटेक्निक मॉडल से उनको पेडीमेंट करने से रोकता है जी की जीव जंतु बायोडिग्रेडेबल प्रोडक्ट है यानी कि 8 से 10 घंटे के लिए आप इसे यूज करें और फिर से एक से एक थे इसलिए काफी प्रैक्टिस भी है तो जरूरी पोलूशन में जैसे कि जो इसके ऑपरेटर से वह बोल रहे हैं कि यह और 10:00 PM की पार्टिकल्स को सो पर्सेंट दूर रखेगा और 2:30 PM के पार्टिकल्स को 95% तक किया नहीं है काफी फैक्ट्री है और यह बहुत सस्ता भी है तो इसे यूज करने में ज्यादा लोगों को परेशानी नहीं होगी तो और इस प्रोडक्ट को होम इस प्रोडक्ट को अब जो प्रणब मुखर्जी हमारे फॉर्मर प्रेसिडेंट थे उन्होंने साटक नेशनल अवार्ड भी दिया था 2017 में भी काफी अच्छा प्रोडक्ट है और काफी अच्छी पहल की है आईआईटी दिल्ली की
Romanized Version
देखिए दिल्ली में पॉल्यूशन को देखते हुए इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी दिल्ली नहीं जाना नौकरी नौकरी प्राइवेट के साथ कोल्हापुरी शंकर के 1 नए नोट ए स्पेसिफिक डिजाइन क्या है जिसकी कीमत सिर्फ ₹10 है यह प्रोडक्ट है यह Returns चौकी 2 पॉइंट 5:00 pm तक छुट्टी पर हूं उनको भी रोकने में मदद करता है यह जो इंस्ट्रूमेंट ही काम कैसे करता है यह नाक पर चिपक जाता है और जो फॉरेन पॉलिटेक्निक मॉडल से उनको पेडीमेंट करने से रोकता है जी की जीव जंतु बायोडिग्रेडेबल प्रोडक्ट है यानी कि 8 से 10 घंटे के लिए आप इसे यूज करें और फिर से एक से एक थे इसलिए काफी प्रैक्टिस भी है तो जरूरी पोलूशन में जैसे कि जो इसके ऑपरेटर से वह बोल रहे हैं कि यह और 10:00 PM की पार्टिकल्स को सो पर्सेंट दूर रखेगा और 2:30 PM के पार्टिकल्स को 95% तक किया नहीं है काफी फैक्ट्री है और यह बहुत सस्ता भी है तो इसे यूज करने में ज्यादा लोगों को परेशानी नहीं होगी तो और इस प्रोडक्ट को होम इस प्रोडक्ट को अब जो प्रणब मुखर्जी हमारे फॉर्मर प्रेसिडेंट थे उन्होंने साटक नेशनल अवार्ड भी दिया था 2017 में भी काफी अच्छा प्रोडक्ट है और काफी अच्छी पहल की है आईआईटी दिल्ली कीDekhie Delhi Mein Pollution Ko Dekhte Hue Indian Institute Of Technology Delhi Nahi Jana Naukri Naukri Private Ke Saath Kolhapuri Shankar Ke 1 Naye Note A Specific Design Kya Hai Jiski Kimat Sirf ₹10 Hai Yeh Product Hai Yeh Returns Chowki 2 Point 5:00 Pm Tak Chutti Par Hoon Unko Bhi Rokne Mein Madad Karta Hai Yeh Jo Instrument Hi Kaam Kaise Karta Hai Yeh Nak Par Chipak Jata Hai Aur Jo Foreign Polytechnic Model Se Unko Pediment Karne Se Rokta Hai Ji Ki Jeev Jantu Biodegradable Product Hai Yani Ki 8 Se 10 Ghante Ke Liye Aap Ise Use Karen Aur Phir Se Ek Se Ek The Isliye Kafi Practice Bhi Hai To Zaroori Pollution Mein Jaise Ki Jo Iske Operator Se Wah Bol Rahe Hain Ki Yeh Aur 10:00 PM Ki Particles Ko So Percent Dur Rakhega Aur 2:30 PM Ke Particles Ko 95% Tak Kiya Nahi Hai Kafi Factory Hai Aur Yeh Bahut Sasta Bhi Hai To Ise Use Karne Mein Jyada Logon Ko Pareshani Nahi Hogi To Aur Is Product Ko Home Is Product Ko Ab Jo Pranab Mukherjee Hamare Former President The Unhone Satak National Award Bhi Diya Tha 2017 Mein Bhi Kafi Accha Product Hai Aur Kafi Acchi Pahal Ki Hai IIT Delhi Ki
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जिस तरह से दिल्ली के अंदर पिछले कुछ सालों में प्रदूषण का स्तर जो बड़ा है उस वजह से लोगों को बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जो लोग दिल्ली के अंदर है उनको सबसे बड़ी दिक्कत जो आ रही है आज अस्थमा की आ रही है सांस में बहुत ज्यादा दिक्कत होती हो कम समय में या कम उम्र में ही बीमार लोग पढ़ जा रहे हैं तो मुझे लगता है कि केवल मां वगैरा डिस्ट्रीब्यूट करने से मुझे नहीं लगता कि आप सेकंड समस्या से निजात पा सकते मुझे लगता है कि लोगों को पोलूशन को कम करने का उपाय ढूंढने चाहिए इसके अलावा सरकार को कुछ ऐसे जरूर कदम उठाने चाहिए जिसमें पोलूशन को कंट्रोल किया जा सके ठीक है दूसरी चीज मैं कहना चाहूंगा कि लोगों को खुद अपनी तरफ से नहीं सीख लेना चाहिए पोलूशन को कम करने के लिए दूसरा क्या है कि जिस तरह से दिल्ली के अंदर नंबर ऑफ बिकास बहुत बढ़ते जा रहे हैं तो एक बहुत बड़ी समस्या जो हमारे दिल्ली के अंदर हो गई है हालांकि सरकार ने यू आर नॉट स्टार्ट किया था लेकिन मुझे नहीं लगता कि कुछ फर्क पड़ा होगा तो ₹10 का जो मांस अगर दिल्ली यूनिवर्सिटी दे रही है सॉरी आईआईटी दिल्ली दे रही है तो मुझे लगता है कि हां ऐसे कुछ नहीं जान पाया सकता है लेकिन पूरी तरह पर समस्या का समाधान इसे नहीं किया जा सकता समस्या का समाधान केवल तभी होगा जब सरकार प्रदूषण को कम को कम करने के लिए उचित कदम उठाएं
Romanized Version
देखिए जिस तरह से दिल्ली के अंदर पिछले कुछ सालों में प्रदूषण का स्तर जो बड़ा है उस वजह से लोगों को बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जो लोग दिल्ली के अंदर है उनको सबसे बड़ी दिक्कत जो आ रही है आज अस्थमा की आ रही है सांस में बहुत ज्यादा दिक्कत होती हो कम समय में या कम उम्र में ही बीमार लोग पढ़ जा रहे हैं तो मुझे लगता है कि केवल मां वगैरा डिस्ट्रीब्यूट करने से मुझे नहीं लगता कि आप सेकंड समस्या से निजात पा सकते मुझे लगता है कि लोगों को पोलूशन को कम करने का उपाय ढूंढने चाहिए इसके अलावा सरकार को कुछ ऐसे जरूर कदम उठाने चाहिए जिसमें पोलूशन को कंट्रोल किया जा सके ठीक है दूसरी चीज मैं कहना चाहूंगा कि लोगों को खुद अपनी तरफ से नहीं सीख लेना चाहिए पोलूशन को कम करने के लिए दूसरा क्या है कि जिस तरह से दिल्ली के अंदर नंबर ऑफ बिकास बहुत बढ़ते जा रहे हैं तो एक बहुत बड़ी समस्या जो हमारे दिल्ली के अंदर हो गई है हालांकि सरकार ने यू आर नॉट स्टार्ट किया था लेकिन मुझे नहीं लगता कि कुछ फर्क पड़ा होगा तो ₹10 का जो मांस अगर दिल्ली यूनिवर्सिटी दे रही है सॉरी आईआईटी दिल्ली दे रही है तो मुझे लगता है कि हां ऐसे कुछ नहीं जान पाया सकता है लेकिन पूरी तरह पर समस्या का समाधान इसे नहीं किया जा सकता समस्या का समाधान केवल तभी होगा जब सरकार प्रदूषण को कम को कम करने के लिए उचित कदम उठाएंDekhie Jis Tarah Se Delhi Ke Andar Pichle Kuch Salon Mein Pradushan Ka Sthar Jo Bada Hai Us Wajah Se Logon Ko Bahut Saree Dikkaton Ka Samana Karna Padh Raha Hai Jo Log Delhi Ke Andar Hai Unko Sabse Badi Dikkat Jo Aa Rahi Hai Aaj Asthama Ki Aa Rahi Hai Saans Mein Bahut Jyada Dikkat Hoti Ho Kum Samay Mein Ya Kum Umar Mein Hi Bimar Log Padh Ja Rahe Hain To Mujhe Lagta Hai Ki Kewal Maa Vagaira Distribyut Karne Se Mujhe Nahi Lagta Ki Aap Second Samasya Se Nijat Pa Sakte Mujhe Lagta Hai Ki Logon Ko Pollution Ko Kum Karne Ka Upay Dhundhane Chahiye Iske Alava Sarkar Ko Kuch Aise Jarur Kadam Uthane Chahiye Jisme Pollution Ko Control Kiya Ja Sake Theek Hai Dusri Cheez Main Kehna Chahunga Ki Logon Ko Khud Apni Taraf Se Nahi Seekh Lena Chahiye Pollution Ko Kum Karne Ke Liye Doosra Kya Hai Ki Jis Tarah Se Delhi Ke Andar Number Of Bikas Bahut Badhte Ja Rahe Hain To Ek Bahut Badi Samasya Jo Hamare Delhi Ke Andar Ho Gayi Hai Halanki Sarkar Ne You R Not Start Kiya Tha Lekin Mujhe Nahi Lagta Ki Kuch Fark Pada Hoga To ₹10 Ka Jo Maans Agar Delhi University De Rahi Hai Sorry IIT Delhi De Rahi Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Haan Aise Kuch Nahi Jaan Paya Sakta Hai Lekin Puri Tarah Par Samasya Ka Samadhan Ise Nahi Kiya Ja Sakta Samasya Ka Samadhan Kewal Tabhi Hoga Jab Sarkar Pradushan Ko Kum Ko Kum Karne Ke Liye Uchit Kadam Uthaen
Likes  5  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kya IIT Delhi Dwara 10 Rupyon Ka Nak Filter Logon Ko Pradushan Ki Samasyaon Se Ladane Mein Madad Karega,Will The 10 Rupees Nose Filter By IIT Delhi Help People Fight Pollution Problems?,Badi Filter,


vokalandroid