फांसी की सजा सुबह सूरज निकलने से पहले क्यों दी जाती है? दूसरे समय क्यों नहीं ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए फांसी की सजा सूरज निकलने से पहले देते हैं इस बारे में मुझे यह लगता है कि व्यक्ति उस टाइम पर स्वस्थ और शांत रहता है और उस टाइम पर व्यक्ति का स्वास्थ्य ठीक रहता है तू मुझे लगता है कि उस टाइम पास क...
जवाब पढ़िये
देखिए फांसी की सजा सूरज निकलने से पहले देते हैं इस बारे में मुझे यह लगता है कि व्यक्ति उस टाइम पर स्वस्थ और शांत रहता है और उस टाइम पर व्यक्ति का स्वास्थ्य ठीक रहता है तू मुझे लगता है कि उस टाइम पास कर देना शायद सही माना बताओ का स्वास्थ्य केंद्र ठीक है और फिर बाद में भी लोगों को काम रहता है बाकी के भी सूरज निकलने के बाद में फांसी की सजा सूरज निकलने से पहले ही दी जाती हैDekhie Fansi Ki Saja Suraj Nikalne Se Pehle Dete Hain Is Baare Mein Mujhe Yeh Lagta Hai Ki Vyakti Us Time Par Swasth Aur Shaant Rehta Hai Aur Us Time Par Vyakti Ka Swasthya Theek Rehta Hai Tu Mujhe Lagta Hai Ki Us Time Paas Kar Dena Shayad Sahi Mana Batao Ka Swasthya Kendra Theek Hai Aur Phir Baad Mein Bhi Logon Ko Kaam Rehta Hai Baki Ke Bhi Suraj Nikalne Ke Baad Mein Fansi Ki Saja Suraj Nikalne Se Pehle Hi Di Jati Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जो फांसी की सजा है वह हमारे देश में और सूरज निकलने से पहले दी जाती है उसका कारण यह है यह माना जाता है कि जो सूर्योदय होता है सन राइज़ होता है तब माना जाता है कि एक नए दिन की शुरुआत हो गई है और इस...
जवाब पढ़िये
लिखे जो फांसी की सजा है वह हमारे देश में और सूरज निकलने से पहले दी जाती है उसका कारण यह है यह माना जाता है कि जो सूर्योदय होता है सन राइज़ होता है तब माना जाता है कि एक नए दिन की शुरुआत हो गई है और इस प्रकार से तो जेल का कोई भी है जो काम है वह कोई भी दिक्कत पैदा ना करें इसलिए सुबह सुबह ही उसे खत्म कर दिया जाता है निपटा दिया जाता है इसका दूसरा मुख्य कारण यह है कि जो भी वह सजा पा रहा है जो भी इंसान को फांसी मिलने वाली है उसको पनिशमेंट यह दिया गया है कि उसकी डेट वह है ढंग की चीज होगी उसमे दे दी जाएगी लेकिन उसको मेंटल टॉर्चर नहीं होना चाहिए और यदि वह आधे दिन बाद यह प्रोसेस होती है तो मेंटेन टॉर्चर हो गए तरीके से यहां की होने वाला है सुबह से कि अब आने वाली है इसलिए सूरत होने से पहले ही दे दिया तेरे से नए दिन की शुरुआत हो जेल के काम में नया दिन नई ढंग सेLikhe Jo Fansi Ki Saja Hai Wah Hamare Desh Mein Aur Suraj Nikalne Se Pehle Di Jati Hai Uska Kaaran Yeh Hai Yeh Mana Jata Hai Ki Jo Sooryoday Hota Hai Sun Rise Hota Hai Tab Mana Jata Hai Ki Ek Naye Din Ki Shuruvat Ho Gayi Hai Aur Is Prakar Se To Jail Ka Koi Bhi Hai Jo Kaam Hai Wah Koi Bhi Dikkat Paida Na Karen Isliye Subah Subah Hi Use Khatam Kar Diya Jata Hai Nipta Diya Jata Hai Iska Doosra Mukhya Kaaran Yeh Hai Ki Jo Bhi Wah Saja Pa Raha Hai Jo Bhi Insaan Ko Fansi Milne Wali Hai Usko Punishment Yeh Diya Gaya Hai Ki Uski Date Wah Hai Dhang Ki Cheez Hogi Usme De Di Jayegi Lekin Usko Mental Torture Nahi Hona Chahiye Aur Yadi Wah Aadhe Din Baad Yeh Process Hoti Hai To Maintain Torture Ho Gaye Tarike Se Yahan Ki Hone Wala Hai Subah Se Ki Ab Aane Wali Hai Isliye Surat Hone Se Pehle Hi De Diya Tere Se Naye Din Ki Shuruvat Ho Jail Ke Kaam Mein Naya Din Nayi Dhang Se
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाकी लोग जब तक सो रहे होते हैं तब सोसाइटी अगर आप उसके विरुद्ध होते हैं हैंगिंग का तो वह रिएक्शन नहीं दे पाते या क्राउड जादा नहीं करते हैं यह क्रिश्चन है और यदि कल रीजन यह है कि वह शक्स को वेट नहीं करन...
जवाब पढ़िये
बाकी लोग जब तक सो रहे होते हैं तब सोसाइटी अगर आप उसके विरुद्ध होते हैं हैंगिंग का तो वह रिएक्शन नहीं दे पाते या क्राउड जादा नहीं करते हैं यह क्रिश्चन है और यदि कल रीजन यह है कि वह शक्स को वेट नहीं करना होगा दिनभर अगर हां दोपहर 3:00 बजे को हैंगिंग है तो पूरा दिन वह बैठ कर सोचता रहेगा और वह बहुत मेंटल अगर नहीं होगा तो सुबह सुबह जब उठते हैं तो ज्यादा वह वेट नहीं करते और सोचते नहीं तो इसलिए सुबह हैंग करते हैंBaki Log Jab Tak So Rahe Hote Hain Tab Society Agar Aap Uske Viruddha Hote Hain Hanging Ka To Wah Reaction Nahi De Paate Ya Crowd Jada Nahi Karte Hain Yeh Krishchan Hai Aur Yadi Kal Reason Yeh Hai Ki Wah Shaks Ko Wait Nahi Karna Hoga Dinbhar Agar Haan Dopahar 3:00 Baje Ko Hanging Hai To Pura Din Wah Baith Kar Sochta Rahega Aur Wah Bahut Mental Agar Nahi Hoga To Subah Subah Jab Uthte Hain To Jyada Wah Wait Nahi Karte Aur Sochte Nahi To Isliye Subah Hang Karte Hain
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Fansi Ki Saza Subah Suraj Nikalne Se Pehle Kyon Di Jati Hai Dusre Samay Kyon Nahi ?, Why Is The Sentence Of Hanging Given Before Sunrise In The Morning? Why Not Second Time? , फांसी का समय 4 बजे ही क्यों

vokalandroid