ग्लोबल वार्मिंग जैसी भयावह समस्या के प्रति भारतीय जनमानस का रवैया इतना उदासीन क्यों है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें जहां तक बात ग्लोबल वार्मिंग की है तो मेरे हिसाब से हमारे देश के लोगों अभी भी अज्ञान है मैं समझ नहीं पा रहे हैं कि ऐसा क्यों हुआ है कि अचानक से ज्यादा पानी बरसता है अचानक से अचानक से बिल्कुल सूखा...
जवाब पढ़िये
देखें जहां तक बात ग्लोबल वार्मिंग की है तो मेरे हिसाब से हमारे देश के लोगों अभी भी अज्ञान है मैं समझ नहीं पा रहे हैं कि ऐसा क्यों हुआ है कि अचानक से ज्यादा पानी बरसता है अचानक से अचानक से बिल्कुल सूखा पड़ जाती है तो इस प्रकार से लोगों का अज्ञानी होना इसमें महत्वपूर्ण कारण है लोग समझने की कोशिश नहीं कर रहे हैं कि कि ऐसा हो क्यों रहा हैDekhen Jahan Tak Baat Global Warming Ki Hai To Mere Hisab Se Hamare Desh Ke Logon Abhi Bhi Agyan Hai Main Samajh Nahi Pa Rahe Hain Ki Aisa Kyun Hua Hai Ki Achanak Se Jyada Pani Barasata Hai Achanak Se Achanak Se Bilkul Sukha Padh Jati Hai To Is Prakar Se Logon Ka Agyaani Hona Isme Mahatvapurna Kaaran Hai Log Samjhne Ki Koshish Nahi Kar Rahe Hain Ki Ki Aisa Ho Kyun Raha Hai
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Global Warming Jaisi Bhyavah Samasya Ke Prati Bharatiya Janmanas Ka Ravaiya Itna Udasin Kyon Hai, Why Is The Attitude Of The Indian Public Towards Such A Frightening Problem Like Global Warming?

vokalandroid