चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कश्मीर से पलायन दो चरणों में वह पहला शेख अब्दुल्ला के भूमि सुधार के कारण और दूसरी बार 1990 के दशक में कहती है डोकरा शासन के दौरान डोगरा राजपूतों कश्मीरी पंडितों और कुलीन मुसलमानों के एक छोटे से तपते न...
जवाब पढ़िये
कश्मीर से पलायन दो चरणों में वह पहला शेख अब्दुल्ला के भूमि सुधार के कारण और दूसरी बार 1990 के दशक में कहती है डोकरा शासन के दौरान डोगरा राजपूतों कश्मीरी पंडितों और कुलीन मुसलमानों के एक छोटे से तपते ने कश्मीर की लगभग 90 CC जमीन पर कब्जा कर लिया था कश्मीर के भारत में विलय होने के बाद नेशनल कांफ्रेंस के शेख अब्दुल्ला को वहां का प्रधानमंत्री चुना गया इस दौरान राजपूत और कश्मीरी पंडित सेना में भर्ती हो रहे थे और उनकी जमीन करीब और दलित मुसलमान जो ताकत शेख अब्दुल्ला ने नया कश्मीर बनाने के नाम पर जमीन उसकी जो ज्योति नारे के साथ भूमि सुधार कानून लागू किया जिसके तहत जम्मू कश्मीर की में जमीन का मालिकाना गरीब मुसलमानों दलितों और अन्य खेतिहरों को दे दिया गया था इस समय भी काफी संख्या में लोग कश्मीर छोड़कर के चले गए थे इसके बाद 1990 के दौरान वहां आतंकवाद गहराने लगा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की हत्या के बाद स्थिति बिगड़ती चली गई इस दौरान हिजबुल मुजाहिदीन की ओर से स्थानीय अखबारों में एक विज्ञप्ति दे गई जिसमें कश्मीरी पंडितों को कश्मीर छोड़ने की धमकी दी गई थी उधर पाक प्रधानमंत्री बेनजीर भड़काऊ भाषण दे रही थी इसे घाटी में अशांति फैल गई थी घाटी में खुलेआम भारत विरोधी नारे लगने लगे थे इस दौरान कश्मीरी पंडितों ने वहां से पलायन करना ही बेहतर समझाKashmir Se Palayan Do Charanon Mein Wah Pehla Shekh Abdullaa Ke Bhoomi Sudhaar Ke Kaaran Aur Dusri Baar 1990 Ke Dashak Mein Kahti Hai Dokra Shasan Ke Dauran Dogra Rajputon Kashmiri Pandito Aur Kulin Musalmano Ke Ek Chote Se Tapate Ne Kashmir Ki Lagbhag 90 CC Jameen Par Kabja Kar Liya Tha Kashmir Ke Bharat Mein Vilay Hone Ke Baad National Conference Ke Shekh Abdullaa Ko Wahan Ka Pradhanmantri Chuna Gaya Is Dauran Rajput Aur Kashmiri Pandit Sena Mein Bharti Ho Rahe The Aur Unki Jameen Karib Aur Dalit Musalman Jo Takat Shekh Abdullaa Ne Naya Kashmir Banane Ke Naam Par Jameen Uski Jo Jyoti Nare Ke Saath Bhoomi Sudhaar Kanoon Laagu Kiya Jiske Tahat Jammu Kashmir Ki Mein Jameen Ka Malikana Garib Musalmano Dalito Aur Anya Khetiharon Ko De Diya Gaya Tha Is Samay Bhi Kafi Sankhya Mein Log Kashmir Chodkar Ke Chale Gaye The Iske Baad 1990 Ke Dauran Wahan Aatankwad Gaharane Laga Bhajpa Ke Pradesh Adhyaksh Ki Hatya Ke Baad Sthiti Bigadati Chali Gayi Is Dauran Hijbul Mujahidin Ki Oar Se Sthaniye Akhabaron Mein Ek Vigyapti De Gayi Jisme Kashmiri Pandito Ko Kashmir Chodane Ki Dhamki Di Gayi Thi Udhar Pak Pradhanmantri Benazir Bhadkau Bhashan De Rahi Thi Ise Ghati Mein Ashanti Fail Gayi Thi Ghati Mein Khuleaam Bharat Virodhi Nare Lagne Lage The Is Dauran Kashmiri Pandito Ne Wahan Se Palayan Karna Hi Behtar Samjha
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कश्मीर बाली के हिंदू Suzuki मेजोरिटी में कश्मीरी पंडित थे उन्हें 28 जून 1919 को या उसके बाद आतंकवाद परिणाम स्वरुप कश्मीर वाली से भागने को मजबूर कर दिया गया 1980 में कश्मीर में कई तरह के एंटी इंडियन प्...
जवाब पढ़िये
कश्मीर बाली के हिंदू Suzuki मेजोरिटी में कश्मीरी पंडित थे उन्हें 28 जून 1919 को या उसके बाद आतंकवाद परिणाम स्वरुप कश्मीर वाली से भागने को मजबूर कर दिया गया 1980 में कश्मीर में कई तरह के एंटी इंडियन प्रोटेस्ट हुए जो कई कश्मीरी मुस्लिम युद्ध के लिए प्रेरणा का स्रोत बने प्रो इंडिपेंडेंस ऑफ फ्लो पाकिस्तान इस्लामिक ग्रुप दोनों महीने बढ़ावा दिया 1986 में उसी टाइम के सीएम ने एक इंजन हिंदू मंदिर के अंदर एक मस्जिद बनाने का डिसाइड किया जिसे मुस्लिम एंप्लाइज नमाज के लिए इस्तेमाल कर सकें जम्मू के लोग फैसले के विरोध में सड़कों पर आ गए और एक हिंदू मुस्लिम संघर्ष हो गया नतीजतन कश्मीरी मुस्लिम द्वारा कश्मीरी पंडित को निशाना बनाया गया कई मारे गए और कई की संपत्ति और मंदिरों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया इस्लामिक 1987 के चुनाव में खड़े हुए और हार गए 19097 के चुनावों को व्यापक रूप से धांधली माना गया था ताकि कोई सेकुलर पार्टी इलेक्शन जीते इससे वहां इनफार्मेशन सी फैल गई और कश्मीरी मुस्लिम ने किसी भी Pro इंजन पॉलिसी वाले को मारना शुरू कर दिया जिसमें कश्मीरी पंडित को उनके फेस के कारण सबसे ज्यादा टारगेट किया गया 24 जून 1990 को इंडियन सिक्योरिटी फोर्स इसने स्टेटस पर ओपन फायर करके अगले 50 लोगों को मार दिया इस घटना से नॉलेज नस बहुत बढ़ गई लोग बंदूकों के साथ सड़क पर आ गए जो हिंदू से बच गए थे वह किसी ना किसी तरह कश्मीर से भाग उसी वक्त भाग गए 1919 में जो 17 थाउजेंड तस्वीर पंडित रहते थे उस कश्मीर में 2016 में 330 नहीं थेKashmir Baali Ke Hindu Suzuki Majority Mein Kashmiri Pandit The Unhen 28 June 1919 Ko Ya Uske Baad Aatankwad Parinam Swarup Kashmir Wali Se Bhagne Ko Majboor Kar Diya Gaya 1980 Mein Kashmir Mein Kai Tarah Ke Anti Indian Protest Hue Jo Kai Kashmiri Muslim Yudh Ke Liye Prerna Ka Srot Bane Pro Independence Of Flow Pakistan Islamic Group Dono Mahine Badhawa Diya 1986 Mein Ussi Time Ke Cm Ne Ek Engine Hindu Mandir Ke Andar Ek Masjid Banane Ka Decide Kiya Jise Muslim Emplaij Namaz Ke Liye Istemal Kar Saken Jammu Ke Log Faisle Ke Virodh Mein Sadkon Par Aa Gaye Aur Ek Hindu Muslim Sangharsh Ho Gaya Natijatan Kashmiri Muslim Dwara Kashmiri Pandit Ko Nishana Banaya Gaya Kai Maare Gaye Aur Kai Ki Sampatti Aur Mandiro Ko Kshatigrast Kar Diya Gaya Islamic 1987 Ke Chunav Mein Khade Hue Aur Haar Gaye 19097 Ke Chunavon Ko Vyapak Roop Se Dhandhali Mana Gaya Tha Taki Koi Secular Party Election Jeete Isse Wahan Information Si Fail Gayi Aur Kashmiri Muslim Ne Kisi Bhi Pro Engine Policy Wale Ko Maarna Shuru Kar Diya Jisme Kashmiri Pandit Ko Unke Face Ke Kaaran Sabse Jyada Target Kiya Gaya 24 June 1990 Ko Indian Security Force Isane Status Par Open Fire Karke Agle 50 Logon Ko Maar Diya Is Ghatna Se Knowledge Nas Bahut Badh Gayi Log Bandukon Ke Saath Sadak Par Aa Gaye Jo Hindu Se Bach Gaye The Wah Kisi Na Kisi Tarah Kashmir Se Bhag Ussi Waqt Bhag Gaye 1919 Mein Jo 17 Thousand Tasveer Pandit Rehte The Us Kashmir Mein 2016 Mein 330 Nahi The
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए 1989 से लेकर 1995 के बीच कत्लेआम का ऐसा दौर चला कि पंडितों को कश्मीर से पलायन होने पर मजबूर होना पड़ा इस संसार में 6000 कश्मीरी पंडितों को मारा गया था 7:30 लाख पंडितों के पलायन के लिए मजबूर किया...
जवाब पढ़िये
देखिए 1989 से लेकर 1995 के बीच कत्लेआम का ऐसा दौर चला कि पंडितों को कश्मीर से पलायन होने पर मजबूर होना पड़ा इस संसार में 6000 कश्मीरी पंडितों को मारा गया था 7:30 लाख पंडितों के पलायन के लिए मजबूर किया गया 15 सो मंदिर नष्ट कर दिए गए शिशु कश्मीरी पंडितों के गांव को इस्लामी नाम दिया गया और जो सरकार थी वह बस मूकदर्शक बन कर देखती रही एक रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों के अब केवल 808 परिवार रहे तथा उनके कुछ 7002 पंजीकृत प्रवासी है वह घाटी के बाहर है पहले घाटी में 430 मंदिर थे अब इनमें से 200 साल सुरक्षित बचे हैं जिनमें से 170 मंदिर क्षतिग्रस्त है यह जो पाकिस्तान के जो आतंक उन्होंने यह युद्ध शुरू किया था और उन्होंने कश्मीरी पंडितों को विवश कर दिया कि वह अपने पवित्र भूमि को छोड़ कर बाहर रहे पिछले 26 वर्षों से जारी आतंकवाद ने घाटी के मूल निवासी कहे जाने वाले लाखों कश्मीरी पंडितों को निर्वासित जीवन व्यतीत करने को मजबूर कर दिया और सरकारी सरकारी कुछ नहीं कर पा रही है रोज पर स्पीच होते हैं लेकिन कोई सलूशन नहीं निकल पा रहा हैDekhie 1989 Se Lekar 1995 Ke Beech Katleam Ka Aisa Daur Chala Ki Pandito Ko Kashmir Se Palayan Hone Par Majboor Hona Pada Is Sansar Mein 6000 Kashmiri Pandito Ko Mara Gaya Tha 7:30 Lakh Pandito Ke Palayan Ke Liye Majboor Kiya Gaya 15 So Mandir Nasht Kar Diye Gaye Shishu Kashmiri Pandito Ke Gav Ko Islami Naam Diya Gaya Aur Jo Sarkar Thi Wah Bus Mukadarshak Ban Kar Dekhti Rahi Ek Report Ke Mutabik Kashmir Ghati Mein Kashmiri Pandito Ke Ab Kewal 808 Parivar Rahe Tatha Unke Kuch 7002 Panjikrit Pravasi Hai Wah Ghati Ke Bahar Hai Pehle Ghati Mein 430 Mandir The Ab Inme Se 200 Saal Surakshit Bache Hain Jinmein Se 170 Mandir Kshatigrast Hai Yeh Jo Pakistan Ke Jo Aatank Unhone Yeh Yudh Shuru Kiya Tha Aur Unhone Kashmiri Pandito Ko Vivash Kar Diya Ki Wah Apne Pavitra Bhoomi Ko Chod Kar Bahar Rahe Pichle 26 Varshon Se Jaari Aatankwad Ne Ghati Ke Mul Nivasi Kahe Jaane Wale Laakhon Kashmiri Pandito Ko Nirvasit Jeevan Vyatit Karne Ko Majboor Kar Diya Aur Sarkari Sarkari Kuch Nahi Kar Pa Rahi Hai Roj Par Speech Hote Hain Lekin Koi Salution Nahi Nikal Pa Raha Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हुआ क्या था कि 9999 में दंगे और लड़ाइयां और आतंकवाद...
जवाब पढ़िये
हुआ क्या था कि 9999 में दंगे और लड़ाइयां और आतंकवादHua Kya Tha Ki 9999 Mein Denge Aur Ladaiyan Aur Aatankwad
Likes  6  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर और कश्मीर इसलिए छोड़ा था कि कि 1989 पर उन पर हमला हुआ था उन पर आतंकवादी हमला हुआ था अगर देखा जाए तो कश्मीर की एक पार्टी जो की मुस्लिमों से भरी दुनिया मांग की थी कि कश्म...
जवाब पढ़िये
कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर और कश्मीर इसलिए छोड़ा था कि कि 1989 पर उन पर हमला हुआ था उन पर आतंकवादी हमला हुआ था अगर देखा जाए तो कश्मीर की एक पार्टी जो की मुस्लिमों से भरी दुनिया मांग की थी कि कश्मीर को भारत से अलग हो जाना चाहिए जब भारत सरकार ने इस नेता को एक्सेप्ट नहीं किया यह बता को ठुकराया तो उन्होंने धीरे धीरे कर कर के जितने भी कश्मीरी पंडित उनके मन को मार दिया उन पर हमले किए जिसके कारण बाकी सारे जो भी कश्मीरी पंडित है जो जम्मू कश्मीर में थे वह सब डर गए और डर के मारे वह लोग बाकी बाकी सारे राज्यों में चलेगा जम्मू कश्मीर होना छोड़ दिया और बाजू की जो राज्य है जैसे कि पंजाब हरियाणा उत्तराखंड हिमाचल प्रदेश दिल्ली में आकर वह सब सेटल हो गएKashmiri Pandito Ne Jammu Kashmir Aur Kashmir Isliye Choda Tha Ki Ki 1989 Par Un Par Hamla Hua Tha Un Par Aatankwadi Hamla Hua Tha Agar Dekha Jaye To Kashmir Ki Ek Party Jo Ki Muslimo Se Bhari Duniya Maang Ki Thi Ki Kashmir Ko Bharat Se Alag Ho Jana Chahiye Jab Bharat Sarkar Ne Is Neta Ko Except Nahi Kiya Yeh Bata Ko Thukaraya To Unhone Dhire Dhire Kar Kar Ke Jitne Bhi Kashmiri Pandit Unke Man Ko Maar Diya Un Par Hamle Kiye Jiske Kaaran Baki Sare Jo Bhi Kashmiri Pandit Hai Jo Jammu Kashmir Mein The Wah Sab Dar Gaye Aur Dar Ke Maare Wah Log Baki Baki Sare Rajyo Mein Chalega Jammu Kashmir Hona Chod Diya Aur Baju Ki Jo Rajya Hai Jaise Ki Punjab Haryana Uttarakhand Himachal Pradesh Delhi Mein Aakar Wah Sab Settle Ho Gaye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1990 के दशक में करीब 3:30 लाख कश्मीरी पंडितों को कश्मीर छोड़कर जाना पड़ा था इसका मुख्य कारण कश्मीरी मुस्लिम थे और वह लोग का बहुत ही दंगे-फसाद करते थे और इन लोगों पर हमला करते थे हिंदू और सिख लोगों पर ...
जवाब पढ़िये
1990 के दशक में करीब 3:30 लाख कश्मीरी पंडितों को कश्मीर छोड़कर जाना पड़ा था इसका मुख्य कारण कश्मीरी मुस्लिम थे और वह लोग का बहुत ही दंगे-फसाद करते थे और इन लोगों पर हमला करते थे हिंदू और सिख लोगों पर जिसके कारण इन्हें कश्मीर छोड़ना पड़ा कश्मीरी मुस्लिम की मांग यह थी कि सिर्फ उन्हीं का राज्य है कश्मीर और उसे वहां पर इस्लाम को मानने वाले लोग ही रहने चाहिए थे इसलिए कश्मीरी पंडितों को कहा कि या तो वह अपना धर्म इस्लाम में तब्दील कर ले या फिर वह कश्मीर छोड़कर चले जाएं और कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी इसी दंगे फसाद के बीच में तो इसलिए मजबूरन इन लोगों को वश में छोड़कर जाना पड़ा था था1990 Ke Dashak Mein Karib 3:30 Lakh Kashmiri Pandito Ko Kashmir Chodkar Jana Pada Tha Iska Mukhya Kaaran Kashmiri Muslim The Aur Wah Log Ka Bahut Hi Denge Fasad Karte The Aur In Logon Par Hamla Karte The Hindu Aur Sikh Logon Par Jiske Kaaran Inhen Kashmir Chodna Pada Kashmiri Muslim Ki Maang Yeh Thi Ki Sirf Unhin Ka Rajya Hai Kashmir Aur Use Wahan Par Islam Ko Manane Wale Log Hi Rehne Chahiye The Isliye Kashmiri Pandito Ko Kaha Ki Ya To Wah Apna Dharm Islam Mein Tabdil Kar Le Ya Phir Wah Kashmir Chodkar Chale Jayen Aur Kuch Logon Ne Hatya Kar Di Thi Isi Denge Fasad Ke Beech Mein To Isliye Majbooran In Logon Ko Vash Mein Chodkar Jana Pada Tha Tha
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वेकेशन 1989 से शुरुआत हुई इस बात की और वो सब जो दंगे होना शुरू हुए थे धर्म के नाम पर और किस चीज का विरोध था उसमें कहा जाता है कि पाकिस्तानी आतंकवादियों का रोल था पाकिस्तानी आतंकवादी लोग थे उन्होंने भी...
जवाब पढ़िये
वेकेशन 1989 से शुरुआत हुई इस बात की और वो सब जो दंगे होना शुरू हुए थे धर्म के नाम पर और किस चीज का विरोध था उसमें कहा जाता है कि पाकिस्तानी आतंकवादियों का रोल था पाकिस्तानी आतंकवादी लोग थे उन्होंने भी इस बात को बहुत ही साफ कर दिया इस राशि का मिनट कम्युनल राइट्स होते रहें और धर्म के नाम पर दंगे होते रहे और नतीजतन में कश्मीरी पंडित होते हैं उन्हें वहां से जाना पड़ाVacation 1989 Se Shuruvat Hui Is Baat Ki Aur Vo Sab Jo Denge Hona Shuru Hue The Dharm Ke Naam Par Aur Kis Cheez Ka Virodh Tha Usamen Kaha Jata Hai Ki Pakistani Aatankwadion Ka Roll Tha Pakistani Aatankwadi Log The Unhone Bhi Is Baat Ko Bahut Hi Saaf Kar Diya Is Rashi Ka Minute Communal Rights Hote Rahen Aur Dharm Ke Naam Par Denge Hote Rahe Aur Natijatan Mein Kashmiri Pandit Hote Hain Unhen Wahan Se Jana Pada
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kashmiri Pandito Ne Jammu Kashmir Kyon Choda Tha, Why Did Kashmiri Pandit Leave Jammu Kashmir? , Pandit Ne Choda

vokalandroid