गवर्नमेंट स्कूल में पढाई न हनी का क्या कारन है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी सरकारी स्कूल में पढ़ाई ना होने का कारण मेल मेरे हिसाब से है वह यह है कि विशेषण क्या होता है किसी चीज की जॉब जॉब होते हैं वह बहुत अच्छा शिक्षा और होती है उनको प्रॉब्लम नहीं होती है कि वह बच्चों को...
जवाब पढ़िये
विकी सरकारी स्कूल में पढ़ाई ना होने का कारण मेल मेरे हिसाब से है वह यह है कि विशेषण क्या होता है किसी चीज की जॉब जॉब होते हैं वह बहुत अच्छा शिक्षा और होती है उनको प्रॉब्लम नहीं होती है कि वह बच्चों को पढ़ा रहे हैं जॉब सिक्योरिटी की वजह से मैं स्कूल में नहीं आते हैं और तीसरा पॉइंट है कि जो पीरियड्स होते हैं वह खुद जागरुक नहीं होते हैं बच्चों को भेजने के लिए बच्चों को पढ़ाने के लिए इसके साथ साथ है हम लोगों की जो अत्यंत है जो वहां के बच्चों को जिनके बच्चे कहां पढ़ते हैं उनकी जागरूकता की जरूरत है कि वहां की पिक्चर फुल को पढ़ा रहे हैं या नहीं अगर उनको नहीं पढ़ा रहे हैं तो उनको अपने एरिया के DM हो ल बीडीओ को फोन करना चाहिए और उनकी टीचर की कंप्लेंट करनी चाहिए यह सारी चीजें मिलकर ही हम अपने कॉमेंट स्कूल की टीचर पर लगाम लगा सकते हैं और अपने देश को आगे बढ़ा सकते हैंVikee Sarkari School Mein Padhai Na Hone Ka Kaaran Mail Mere Hisab Se Hai Wah Yeh Hai Ki Visheshan Kya Hota Hai Kisi Cheez Ki Job Job Hote Hain Wah Bahut Accha Shiksha Aur Hoti Hai Unko Problem Nahi Hoti Hai Ki Wah Bacchon Ko Padha Rahe Hain Job Security Ki Wajah Se Main School Mein Nahi Aate Hain Aur Teesra Point Hai Ki Jo Periods Hote Hain Wah Khud Jagaruk Nahi Hote Hain Bacchon Ko Bhejne Ke Liye Bacchon Ko Padhane Ke Liye Iske Saath Saath Hai Hum Logon Ki Jo Atyant Hai Jo Wahan Ke Bacchon Ko Jinke Bacche Kahan Padhte Hain Unki Jagrukta Ki Zaroorat Hai Ki Wahan Ki Picture Full Ko Padha Rahe Hain Ya Nahi Agar Unko Nahi Padha Rahe Hain To Unko Apne Area Ke DM Ho L Bidio Ko Phone Karna Chahiye Aur Unki Teacher Ki Complaint Karni Chahiye Yeh Saree Cheezen Milkar Hi Hum Apne Cament School Ki Teacher Par Lagaam Laga Sakte Hain Aur Apne Desh Ko Aage Badha Sakte Hain
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कॉमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का सबसे बड़ा कारण तो यही है कि जहां की टीचर हैं वह खुद ही इतने शिक्षक नहीं है कि वह बच्चों को पढ़ा सके अच्छे से और जो भी कुछ स्पेशल टीचर है अभी तू वहां जाकर पढ़ाना पसंद ...
जवाब पढ़िये
कॉमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का सबसे बड़ा कारण तो यही है कि जहां की टीचर हैं वह खुद ही इतने शिक्षक नहीं है कि वह बच्चों को पढ़ा सके अच्छे से और जो भी कुछ स्पेशल टीचर है अभी तू वहां जाकर पढ़ाना पसंद ही नहीं करते क्योंकि हमारे देश में कोई प्रावधान ही नहीं है जो दूसरों पर नजर रख सके कि वह कल स्कूल में आ रहे हैं कि नहीं आ रहे पढ़ाई कैसी चल रही है बच्चों की टिक्की और कोई स्कूल आता ही नहीं है क्योंकि उन्हें लगता है कि कोई देखने वाला नहीं है तो हम घर पर रहकर अपना काम कर सकते हैं और पैसा तो उनके घर पहुंची जाता है उनके पास उनके अकाउंट टूटू टीचरों को कोई स्ट्रीट एक्शन अगर ले उनके आगे कभी उनको लगेगा क्या मैं आकर स्कूल में पढ़ाना चाहिए और कोई अथॉरिटी नहीं है उन लोगों के ऊपर चाहिए चेक करती हूं कि वह पढ़ा रहे हैं नहीं पढ़ा रहे हैं स्कूलों में क्या हो रहा है उसके अलावा पढ़ाई ना होने का दूसरा कारण यह भी है कि गांव के लोग नहीं चाहते कि उनके बच्चे स्कूल जाए वह यह चाहते हैं कि उनके मम्मी की तरह उनके साथ काम करवाया उनकी मदद करें क्योंकि गांव के लोगों को इतनी इतनी अक्ल नहीं होती है कि उनको पता रहे कि अगर वह बच्चे अपने बच्चों को पढ़ाएंगे नहीं तो वह आगे कैसे बढ़ेगी उनको ऐसा लगता है कि अगर हमने भोजपुरी किया तो हमारे बच्चों को भी वही करनी पड़ेगी और इसलिए वह हमेशा अपने बच्चों को मजदूरी की तरह ही धकेल देते हैं और पढ़ाई की तरफ उनका रोड सावधानी नहीं होताCament School Mein Padhai Na Hone Ka Sabse Bada Kaaran To Yahi Hai Ki Jahan Ki Teacher Hain Wah Khud Hi Itne Shikshak Nahi Hai Ki Wah Bacchon Ko Padha Sake Acche Se Aur Jo Bhi Kuch Special Teacher Hai Abhi Tu Wahan Jaakar Padhana Pasand Hi Nahi Karte Kyonki Hamare Desh Mein Koi Pravadhan Hi Nahi Hai Jo Dusron Par Nazar Rakh Sake Ki Wah Kal School Mein Aa Rahe Hain Ki Nahi Aa Rahe Padhai Kaisi Chal Rahi Hai Bacchon Ki Tikki Aur Koi School Aata Hi Nahi Hai Kyonki Unhen Lagta Hai Ki Koi Dekhne Wala Nahi Hai To Hum Ghar Par Rahkar Apna Kaam Kar Sakte Hain Aur Paisa To Unke Ghar Pahunchi Jata Hai Unke Paas Unke Account Tutu "ticharon Ko Koi Street Action Agar Le Unke Aage Kabhi Unko Lagega Kya Main Aakar School Mein Padhana Chahiye Aur Koi Authority Nahi Hai Un Logon Ke Upar Chahiye Check Karti Hoon Ki Wah Padha Rahe Hain Nahi Padha Rahe Hain Schoolon Mein Kya Ho Raha Hai Uske Alava Padhai Na Hone Ka Doosra Kaaran Yeh Bhi Hai Ki Gav Ke Log Nahi Chahte Ki Unke Bacche School Jaye Wah Yeh Chahte Hain Ki Unke Mummy Ki Tarah Unke Saath Kaam Karvaya Unki Madad Karen Kyonki Gav Ke Logon Ko Itni Itni Akl Nahi Hoti Hai Ki Unko Pata Rahe Ki Agar Wah Bacche Apne Bacchon Ko Padhaenge Nahi To Wah Aage Kaise Badhegi Unko Aisa Lagta Hai Ki Agar Humne Bhojpuri Kiya To Hamare Bacchon Ko Bhi Wahi Karni Padegi Aur Isliye Wah Hamesha Apne Bacchon Ko Mazdoori Ki Tarah Hi Dhakal Dete Hain Aur Padhai Ki Taraf Unka Road Savadhani Nahi Hota
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गवर्नमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का क्या कारण है गवर्नमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का कारण तो ऐसा कुछ है नहीं लेकिन जो मुझे लगता है शिक्षक होते सरकारी उनको जो है वो इतना परेशान नहीं होता गवर्नमेंट मे...
जवाब पढ़िये
गवर्नमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का क्या कारण है गवर्नमेंट स्कूल में पढ़ाई ना होने का कारण तो ऐसा कुछ है नहीं लेकिन जो मुझे लगता है शिक्षक होते सरकारी उनको जो है वो इतना परेशान नहीं होता गवर्नमेंट में अगर हम प्राइवेट की बात की चक्की प्राइवेट में जो होता है वहां पर उनकी अगर बात की जाए सैलरी की वगैरह सब चीजें तो आप जिनके सैलरी होल्ड करके भी टीचर्स को मैनडेटरी कर सकते हैं वह बच्चों से वो बरसों से जो है आप इतना मिनिमम परफॉर्मेंस लेकर आगे बढ़े लेकिन सरकारी में जो होता है वहां पर शिक्षकों को भी कोई चिंता नहीं होती उनकी सैलरी उनके टाइम पर आती जाती तो उनको भी कुछ फर्क नहीं पड़ता बच्चे सीख रहे या ना सके तो मुझे लगता है और मैं स्कूल में यही बात होती है या लडकी वहां पर जो है ध्यान कम दिया जाता है बच्चों की पढ़ाई की तरफ तो अगर यही इंप्रूव किया जाए तो प्राइवेट के हिसाब से गवर्नमेंट कभी भी स्कूल आगे बढ़ सकते हैंGovernment School Mein Padhai Na Hone Ka Kya Kaaran Hai Government School Mein Padhai Na Hone Ka Kaaran To Aisa Kuch Hai Nahi Lekin Jo Mujhe Lagta Hai Shikshak Hote Sarkari Unko Jo Hai Vo Itna Pareshan Nahi Hota Government Mein Agar Hum Private Ki Baat Ki Chakki Private Mein Jo Hota Hai Wahan Par Unki Agar Baat Ki Jaye Salary Ki Vagairah Sab Cheezen To Aap Jinke Salary Hold Karke Bhi Teachers Ko Maindetri Kar Sakte Hain Wah Bacchon Se Vo Barason Se Jo Hai Aap Itna Minimum Performance Lekar Aage Badhe Lekin Sarkari Mein Jo Hota Hai Wahan Par Shikshakon Ko Bhi Koi Chinta Nahi Hoti Unki Salary Unke Time Par Aati Jati To Unko Bhi Kuch Fark Nahi Padata Bacche Seekh Rahe Ya Na Sake To Mujhe Lagta Hai Aur Main School Mein Yahi Baat Hoti Hai Ya Ladki Wahan Par Jo Hai Dhyan Kum Diya Jata Hai Bacchon Ki Padhai Ki Taraf To Agar Yahi Improve Kiya Jaye To Private Ke Hisab Se Government Kabhi Bhi School Aage Badh Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गवर्मेंट स्कूल के अंदर पढ़ाई ना होने का कारण यह है कि वहां के लोगों को जानकारी नहीं होती वह अच्छे से जागरुक नहीं होते की पढ़ाई की वैल्यू क्या है उन लोगों को यह बताया नहीं जाता की पढ़ाई की वैल्यू क्या ...
जवाब पढ़िये
गवर्मेंट स्कूल के अंदर पढ़ाई ना होने का कारण यह है कि वहां के लोगों को जानकारी नहीं होती वह अच्छे से जागरुक नहीं होते की पढ़ाई की वैल्यू क्या है उन लोगों को यह बताया नहीं जाता की पढ़ाई की वैल्यू क्या है वहां के जो टीचर्स भी होते हैं ऐसा काफी बार देखा है कि वहां के जो अध्यापक की अध्यापिकाएं होती हैं वह भी वहां की पढ़ाई को इतना सीरियसली नहीं लेते हैं वह भी बच्चों को इतना सीरियस नहीं लेते हैं कभी भी छुट्टी ले लेते हैं कभी भी स्कूल नहीं आते कभी आते टाइम के लिए आते हैं ऐसा डिसिप्लिन टीचर्स से भी देखा क्या है वहीं दूसरी ओर जो पीरियड्स होते हैं वह बच्चों को रेगुलर ली रोज स्कूल नहीं भेजते बहुत उन्हें उन्हें पढ़ने में इतना उत्साह उनको उठा नहीं दिला तुम को सपोर्ट नहीं करते पढ़ने के लिए तो इन्हीं कारणों वश जो गांव में स्कूल की पढ़ाई है बेबसी नहीं हो पाती जैसे प्राइवेट स्कूल के अंदर होती है सबसे पहले तो इसको सही करने के लिए हमें पेरेंट्स को जागरुक करना होगा उन्हें बताना होगा कि पढ़ाई की क्या वैल्यू होती है और कितना ज्यादा जरूरी है उनके बच्चों का पढ़ना फिर टीचर्स के डिसिप्लिन के लिए काफी रूल्स और काफी जगह फाइन वगैरह लगाने चाहिए ताकि वह भी सीरियस और वह भी बच्चों को ढंग से पढ़ाई नहीं तीसरी और बच्चों को खुद भी स्कूल आने का मन करना चाहिए अगर बच्चों में खुद में प्रेरणा ही नहीं होगी कुछ सीखने की तो फिर कोई उन्हें कुछ सिखा नहीं सकता है तो बच्चों की और काफ़ी देखा है कि बच्चों के अंदर तो प्रेरणा होती है तो पहले दो कारणों की वजह से ही मैं ढंग से पढ़ नहीं पातेGoverment School Ke Andar Padhai Na Hone Ka Kaaran Yeh Hai Ki Wahan Ke Logon Ko Jankari Nahi Hoti Wah Acche Se Jagaruk Nahi Hote Ki Padhai Ki Value Kya Hai Un Logon Ko Yeh Bataya Nahi Jata Ki Padhai Ki Value Kya Hai Wahan Ke Jo Teachers Bhi Hote Hain Aisa Kafi Baar Dekha Hai Ki Wahan Ke Jo Adhyapak Ki Adhyapikaen Hoti Hain Wah Bhi Wahan Ki Padhai Ko Itna Siriyasali Nahi Lete Hain Wah Bhi Bacchon Ko Itna Serious Nahi Lete Hain Kabhi Bhi Chutti Le Lete Hain Kabhi Bhi School Nahi Aate Kabhi Aate Time Ke Liye Aate Hain Aisa Discipline Teachers Se Bhi Dekha Kya Hai Wahin Dusri Oar Jo Periods Hote Hain Wah Bacchon Ko Regular Lee Roj School Nahi Bhejate Bahut Unhen Unhen Padhne Mein Itna Utsaah Unko Utha Nahi Dila Tum Ko Support Nahi Karte Padhne Ke Liye To Inhin Kaarno Vash Jo Gav Mein School Ki Padhai Hai Bebasii Nahi Ho Pati Jaise Private School Ke Andar Hoti Hai Sabse Pehle To Isko Sahi Karne Ke Liye Hume Parents Ko Jagaruk Karna Hoga Unhen Batana Hoga Ki Padhai Ki Kya Value Hoti Hai Aur Kitna Jyada Zaroori Hai Unke Bacchon Ka Padhna Phir Teachers Ke Discipline Ke Liye Kafi Rules Aur Kafi Jagah Fine Vagairah Lagane Chahiye Taki Wah Bhi Serious Aur Wah Bhi Bacchon Ko Dhang Se Padhai Nahi Teesri Aur Bacchon Ko Khud Bhi School Aane Ka Man Karna Chahiye Agar Bacchon Mein Khud Mein Prerna Hi Nahi Hogi Kuch Seekhne Ki To Phir Koi Unhen Kuch Sikha Nahi Sakta Hai To Bacchon Ki Aur Kafi Dekha Hai Ki Bacchon Ke Andar To Prerna Hoti Hai To Pehle Do Kaarno Ki Wajah Se Hi Main Dhang Se Padh Nahi Paate
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भीगी मुझे लगता है आज हमारे देश में प्राइमरी एजुकेशन का जो इस तरह बहुत ही गिर चुका है जिस तरह से आज प्राइमरी एजुकेशन एकदम बर्बाद हो चुकी हमारे देश के अंदर हालांकि सरकार बहुत प्रयास करती है उसको इंप्रूव...
जवाब पढ़िये
भीगी मुझे लगता है आज हमारे देश में प्राइमरी एजुकेशन का जो इस तरह बहुत ही गिर चुका है जिस तरह से आज प्राइमरी एजुकेशन एकदम बर्बाद हो चुकी हमारे देश के अंदर हालांकि सरकार बहुत प्रयास करती है उसको इंप्रूव करने का लेकिन विश्व इतिहास रियलिटी के गांव में जो भी स्कूल से प्राइमरी एजुकेशन इन जून एजुकेशन के वहां क्वालिटी एजुकेशन नहीं दी जा रही है इसके बहुत सारे रीजन से हैं हालांकि मैं यह जरुर कहना चाहूंगा हर दम मिट जाती है कि प्राइमरी एजुकेशन बहुत अच्छी हो उसके लिए वह प्रॉपर टाइम पर बजट भी देती है और बहुत सी पॉलिसी भी चलाती है सर्व शिक्षा अभियान में गवर्मेंट का एक बहुत बड़ा इनिशिएटिव था क्लब मिड डे मील बहुत सारी स्कीम कॉमेडी स्टार्ट की थी लेकिन रिजल्ट उसका सिरोही रहा तुम बहुत सारे रीजन से मुझे पहला दिन में सबसे बड़ा नजर आता है वह लाइक ऑफ अवेयरनेस है हालांकि बहुत सारे कैंपियन गवर्मेंट चलाती है टीवी पर ऐड भी देखते हैं एजुकेशन इस प्रोग्राम को लेकर लेकिन उसके बाद भी चीजें प्रॉपर्ली गांव में जो लोग रहने उनके पास नहीं पहुंच पा रही वक्त अपने बच्चों को स्कूल में भेजने से कतराते हैं उसको ने भेजना नहीं चाहते हो छोटी उम्र से इनको काम में लगाना चाहते हैं तो यह मुझे एक बहुत बड़ा रीजन लगता है दूसरा वहां जो टीचर्स बनाते हैं उनका जो एटीट्यूड होता है बच्चों के वह भी मुझे ठीक नहीं लगता वह भी कही न कही जिम्मेदार होती सी चीज मुझे लगता है जो सबसे बड़ी चीज है वह है लोगों का जो फर्नीचर फाइनेंसियल कंडीशन है जो जो BPL फैमिली से गांव में रहते हैं जो लोग रह रहे हैं उनकी जो आर्थिक स्थिति है वह बहुत हालत खराब है तो मुझे लगता है वह भी कहीं ना कहीं का एक बहुत बड़ा कारण हैBhigi Mujhe Lagta Hai Aaj Hamare Desh Mein Primary Education Ka Jo Is Tarah Bahut Hi Gir Chuka Hai Jis Tarah Se Aaj Primary Education Ekdam Barbad Ho Chuki Hamare Desh Ke Andar Halanki Sarkar Bahut Prayas Karti Hai Usko Improve Karne Ka Lekin Vishwa Itihas Reality Ke Gav Mein Jo Bhi School Se Primary Education In June Education Ke Wahan Quality Education Nahi Di Ja Rahi Hai Iske Bahut Sare Reason Se Hain Halanki Main Yeh Zaroor Kehna Chahunga Har Dum Mit Jati Hai Ki Primary Education Bahut Acchi Ho Uske Liye Wah Proper Time Par Budget Bhi Deti Hai Aur Bahut Si Policy Bhi Chalati Hai Surve Shiksha Abhiyan Mein Goverment Ka Ek Bahut Bada Inishietiv Tha Club Mid Day Meal Bahut Saree Scheme Comedy Start Ki Thi Lekin Result Uska Sirohi Raha Tum Bahut Sare Reason Se Mujhe Pehla Din Mein Sabse Bada Nazar Aata Hai Wah Like Of Awareness Hai Halanki Bahut Sare Kaimpiyan Goverment Chalati Hai Tv Par Aid Bhi Dekhte Hain Education Is Program Ko Lekar Lekin Uske Baad Bhi Cheezen Properly Gav Mein Jo Log Rehne Unke Paas Nahi Pahunch Pa Rahi Waqt Apne Bacchon Ko School Mein Bhejne Se Katarate Hain Usko Ne Bhejna Nahi Chahte Ho Choti Umar Se Inko Kaam Mein Lagana Chahte Hain To Yeh Mujhe Ek Bahut Bada Reason Lagta Hai Doosra Wahan Jo Teachers Banate Hain Unka Jo Attitude Hota Hai Bacchon Ke Wah Bhi Mujhe Theek Nahi Lagta Wah Bhi Kahi N Kahi Zimmedar Hoti Si Cheez Mujhe Lagta Hai Jo Sabse Badi Cheez Hai Wah Hai Logon Ka Jo Furniture Financial Condition Hai Jo Jo BPL Family Se Gav Mein Rehte Hain Jo Log Rah Rahe Hain Unki Jo Aarthik Sthiti Hai Wah Bahut Halat Kharab Hai To Mujhe Lagta Hai Wah Bhi Kahin Na Kahin Ka Ek Bahut Bada Kaaran Hai
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गवर्मेंट स्कूल में पढ़ाई नहीं होने का इतने मेन कारण हो गया कि गवर्मेंट उतना रिसोर्सेज नहीं देती है यह सब स्कूल में क्योंकि इंडिया एंड गवर्मेंट मेरे हिसाब से वह करप्शन मनी हो जाता है जो पॉकेट में ही चल...
जवाब पढ़िये
गवर्मेंट स्कूल में पढ़ाई नहीं होने का इतने मेन कारण हो गया कि गवर्मेंट उतना रिसोर्सेज नहीं देती है यह सब स्कूल में क्योंकि इंडिया एंड गवर्मेंट मेरे हिसाब से वह करप्शन मनी हो जाता है जो पॉकेट में ही चला जाता है और जो फैसिलिटीज में जाना चाहिए वह नहीं जाता है जैसे गवर्मेंट स्कूल में और फिर बच्चे भी ज्यादा है कि गवर्मेंट स्कूल में बच्चे ज्यादा हो जाते हैं जिसके कारण टीचर का वह जो स्टूडेंट टीचर का रेश्यो बहुत ही कम है टीचर्स कम है और स्टूडेंट ज्यादा है और हर लोकेशन में भी वह पॉसिबल नहीं रहता है गवर्मेंट को सब जगह स्कूल्स कार्ड इससे उन को कवर करें एंड मेइओसिस की कमी हो जाती हैGoverment School Mein Padhai Nahi Hone Ka Itne Main Kaaran Ho Gaya Ki Goverment Utana Resources Nahi Deti Hai Yeh Sab School Mein Kyonki India End Goverment Mere Hisab Se Wah Corruption Money Ho Jata Hai Jo Pocket Mein Hi Chala Jata Hai Aur Jo Faisilitij Mein Jana Chahiye Wah Nahi Jata Hai Jaise Goverment School Mein Aur Phir Bacche Bhi Jyada Hai Ki Goverment School Mein Bacche Jyada Ho Jaate Hain Jiske Kaaran Teacher Ka Wah Jo Student Teacher Ka Ratio Bahut Hi Kum Hai Teachers Kum Hai Aur Student Jyada Hai Aur Har Location Mein Bhi Wah Possible Nahi Rehta Hai Goverment Ko Sab Jagah Schools Card Isse Un Ko Cover Karen End Meiosis Ki Kami Ho Jati Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Government School Mein Padhai Na Honey Ka Kya Kaaran Hai, What Is The Reason For Not Studying In Government School? , पड़तिक सेक्सी, Padhai Kaisi Chal Rahi Hai

vokalandroid