जो पैसा मंदिरों मे चढ़ावा आता उस का क्या हित है और वो कहा जमा होता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही अच्छा सवाल जो मंदिरों में पैसा चलाने के रूप में आता है उसका एक और अनेक दोनों हैं हित में यह है कि यदि अगर किसी मंदिर का ट्रस्ट अकाउंट है तो वह पैसा लिखे जो कि मैं होता है गवर्नमेंट की भी नजर में होता है और मंदिर ट्रस्ट के अनुसार जितने लोग उस में सम्मिलित है या जो कमेटी बनी हुई है उस कमेटी में जो लोग हैं उन लोगों की निगरानी में रहता है कि जो पैसा आता है वह मंदिर कार्य में इस्तेमाल होता है और जैन मंदिरों का ट्रस्ट नहीं बना होता है यानी कि मंदिर का अकाउंट नहीं होता है और एक संगठित कमेटी नहीं होती है वहां पर उस पैसे का अनिता है इसलिए अगर आप कहीं भी पैसा चढ़ाते हैं या देते हैं तो यह देख ले कि वह मंदिर ट्रस्ट में है सरकारी निगरानी में है या नहीं है या उसकी कॉमेडी अच्छी है कि नहीं तभी पैसे को मंदिर में दान करें
Romanized Version
बहुत ही अच्छा सवाल जो मंदिरों में पैसा चलाने के रूप में आता है उसका एक और अनेक दोनों हैं हित में यह है कि यदि अगर किसी मंदिर का ट्रस्ट अकाउंट है तो वह पैसा लिखे जो कि मैं होता है गवर्नमेंट की भी नजर में होता है और मंदिर ट्रस्ट के अनुसार जितने लोग उस में सम्मिलित है या जो कमेटी बनी हुई है उस कमेटी में जो लोग हैं उन लोगों की निगरानी में रहता है कि जो पैसा आता है वह मंदिर कार्य में इस्तेमाल होता है और जैन मंदिरों का ट्रस्ट नहीं बना होता है यानी कि मंदिर का अकाउंट नहीं होता है और एक संगठित कमेटी नहीं होती है वहां पर उस पैसे का अनिता है इसलिए अगर आप कहीं भी पैसा चढ़ाते हैं या देते हैं तो यह देख ले कि वह मंदिर ट्रस्ट में है सरकारी निगरानी में है या नहीं है या उसकी कॉमेडी अच्छी है कि नहीं तभी पैसे को मंदिर में दान करेंBahut Hi Accha Sawal Jo Mandiro Mein Paisa Chalane Ke Roop Mein Aata Hai Uska Ek Aur Anek Dono Hain Hit Mein Yeh Hai Ki Yadi Agar Kisi Mandir Ka Trust Account Hai To Wah Paisa Likhe Jo Ki Main Hota Hai Government Ki Bhi Nazar Mein Hota Hai Aur Mandir Trust Ke Anusar Jitne Log Us Mein Smmilit Hai Ya Jo Committee Bani Hui Hai Us Committee Mein Jo Log Hain Un Logon Ki Nigrani Mein Rehta Hai Ki Jo Paisa Aata Hai Wah Mandir Karya Mein Istemal Hota Hai Aur Jain Mandiro Ka Trust Nahi Bana Hota Hai Yani Ki Mandir Ka Account Nahi Hota Hai Aur Ek Sangathit Committee Nahi Hoti Hai Wahan Par Us Paise Ka Anita Hai Isliye Agar Aap Kahin Bhi Paisa Chadhate Hain Ya Dete Hain To Yeh Dekh Le Ki Wah Mandir Trust Mein Hai Sarkari Nigrani Mein Hai Ya Nahi Hai Ya Uski Comedy Acchi Hai Ki Nahi Tabhi Paise Ko Mandir Mein Daan Karen
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो भी पैसा मंदिरों में चढ़ावा के तौर पर आता है उसका देखिए और कहीं ना कहीं उन लोगों के पास जाता है वह पैसा जो उस संबंध है कि ट्रस्ट में होते हैं या फिर उस मंदिर के मालिक होते हैं क्योंकि देखिए जो भी मंदिर है चाहे वह बड़ा हो या छोटा मंदिर हो उसको किसी ने किसी मालिक ने बनवाया होता है जिसकी जमीन पर वह बना होता है वह उसका मालिक होता है तो उसका जितना भी चढ़ावा आता है वह या तो वहां की पुजारी वालों को मिलता है क्या फिर उस मालिक के पास जाता है तो कहीं ना कहीं जो आप पैसा भगवान को चढ़ा रहे हैं वह किसी भी तरह से अच्छे काम में प्रयोग नहीं हो रहा है उसके अलावा जो बड़े मंदिर हैं उन मंदिरों में भी ट्रस्ट होते हैं तो कहीं ना की उनका चढ़ावा भी ट्रस्ट के पास जाता है हो सकता है कि मैं उस चढ़ावे का मंदिर के कार्यों में इस्तेमाल होता है भंडारे में या और जितने भी काम है उन्हें होता लेकिन उस पैसे का काफी हद तक भाग लोगों के पास चला जाता है और वह अमीर हो रहे हैं और कोई भी उसका अच्छा काम नहीं हो रहा किसी के हित के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है तो मेरी सबसे यह दरखास्त है क्या आप पूछना भी की जगह किसी गरीब की मदद कर की प्रयास करें क्योंकि गरीब की आप मदद करेंगे जिसको उस पैसे की जरूरत है उसको देंगे तो बहुत ज्यादा भला होगा आपका वही आप सब भगवान को चढ़ा तो आ रहे हैं पैसा लेकिन वह किसके पास जा रहा है आपको नहीं पता है तो कहीं नहीं पैसा चढ़ाना लिखकर ऐसे फिजूलखर्ची है आप उसको अच्छे काम में इस्तेमाल कर सकते हैं तो उसमें कीजिए
Romanized Version
जो भी पैसा मंदिरों में चढ़ावा के तौर पर आता है उसका देखिए और कहीं ना कहीं उन लोगों के पास जाता है वह पैसा जो उस संबंध है कि ट्रस्ट में होते हैं या फिर उस मंदिर के मालिक होते हैं क्योंकि देखिए जो भी मंदिर है चाहे वह बड़ा हो या छोटा मंदिर हो उसको किसी ने किसी मालिक ने बनवाया होता है जिसकी जमीन पर वह बना होता है वह उसका मालिक होता है तो उसका जितना भी चढ़ावा आता है वह या तो वहां की पुजारी वालों को मिलता है क्या फिर उस मालिक के पास जाता है तो कहीं ना कहीं जो आप पैसा भगवान को चढ़ा रहे हैं वह किसी भी तरह से अच्छे काम में प्रयोग नहीं हो रहा है उसके अलावा जो बड़े मंदिर हैं उन मंदिरों में भी ट्रस्ट होते हैं तो कहीं ना की उनका चढ़ावा भी ट्रस्ट के पास जाता है हो सकता है कि मैं उस चढ़ावे का मंदिर के कार्यों में इस्तेमाल होता है भंडारे में या और जितने भी काम है उन्हें होता लेकिन उस पैसे का काफी हद तक भाग लोगों के पास चला जाता है और वह अमीर हो रहे हैं और कोई भी उसका अच्छा काम नहीं हो रहा किसी के हित के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है तो मेरी सबसे यह दरखास्त है क्या आप पूछना भी की जगह किसी गरीब की मदद कर की प्रयास करें क्योंकि गरीब की आप मदद करेंगे जिसको उस पैसे की जरूरत है उसको देंगे तो बहुत ज्यादा भला होगा आपका वही आप सब भगवान को चढ़ा तो आ रहे हैं पैसा लेकिन वह किसके पास जा रहा है आपको नहीं पता है तो कहीं नहीं पैसा चढ़ाना लिखकर ऐसे फिजूलखर्ची है आप उसको अच्छे काम में इस्तेमाल कर सकते हैं तो उसमें कीजिएJo Bhi Paisa Mandiro Mein Chadhawa Ke Taur Par Aata Hai Uska Dekhie Aur Kahin Na Kahin Un Logon Ke Paas Jata Hai Wah Paisa Jo Us Sambandh Hai Ki Trust Mein Hote Hain Ya Phir Us Mandir Ke Malik Hote Hain Kyonki Dekhie Jo Bhi Mandir Hai Chahe Wah Bada Ho Ya Chota Mandir Ho Usko Kisi Ne Kisi Malik Ne Banwaya Hota Hai Jiski Jameen Par Wah Bana Hota Hai Wah Uska Malik Hota Hai To Uska Jitna Bhi Chadhawa Aata Hai Wah Ya To Wahan Ki "pujari " Walon Ko Milta Hai Kya Phir Us Malik Ke Paas Jata Hai To Kahin Na Kahin Jo Aap Paisa Bhagwan Ko Chadha Rahe Hain Wah Kisi Bhi Tarah Se Acche Kaam Mein Prayog Nahi Ho Raha Hai Uske Alava Jo Bade Mandir Hain Un Mandiro Mein Bhi Trust Hote Hain To Kahin Na Ki Unka Chadhawa Bhi Trust Ke Paas Jata Hai Ho Sakta Hai Ki Main Us Chadhave Ka Mandir Ke Kaaryon Mein Istemal Hota Hai Bhandare Mein Ya Aur Jitne Bhi Kaam Hai Unhen Hota Lekin Us Paise Ka Kafi Had Tak Bhag Logon Ke Paas Chala Jata Hai Aur Wah Amir Ho Rahe Hain Aur Koi Bhi Uska Accha Kaam Nahi Ho Raha Kisi Ke Hit Ke Liye Istemal Nahi Kiya Ja Raha Hai To Meri Sabse Yeh Darakhast Hai Kya Aap Poochna Bhi Ki Jagah Kisi Garib Ki Madad Kar Ki Prayas Karen Kyonki Garib Ki Aap Madad Karenge Jisko Us Paise Ki Zaroorat Hai Usko Denge To Bahut Jyada Bhala Hoga Aapka Wahi Aap Sab Bhagwan Ko Chadha To Aa Rahe Hain Paisa Lekin Wah Kiske Paas Ja Raha Hai Aapko Nahi Pata Hai To Kahin Nahi Paisa Chadhana Likhkar Aise Fijulakharchi Hai Aap Usko Acche Kaam Mein Istemal Kar Sakte Hain To Usamen Kijiye
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूरी तरह दिखता है
Romanized Version
पूरी तरह दिखता हैPuri Tarah Dikhta Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Jo Paisa Mandiro Mein Chadava Aata Us Ka Kya Hit Hai Aur Vo Kaha Jama Hota Hai,


vokalandroid