बैंक को मर्ज होने से बैंक एम्प्लोयी की संख्या घटती है या बढ़ती है ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस समय कोई भी दो कंपनीज का मर्जर होता है, सपोज बैंक का मर्जर होता है तो उसमें एंप्लोई की संख्या में कोई अंतर नहीं पड़ता है, स्पेशली आपका ये क्वेश्चन पब्लिक सेक्टर बैंक के मर्जर से रिलेटेड है तो पब्लि...
जवाब पढ़िये
जिस समय कोई भी दो कंपनीज का मर्जर होता है, सपोज बैंक का मर्जर होता है तो उसमें एंप्लोई की संख्या में कोई अंतर नहीं पड़ता है, स्पेशली आपका ये क्वेश्चन पब्लिक सेक्टर बैंक के मर्जर से रिलेटेड है तो पब्लिक सेक्टर बैंक में सबकी जॉब सेफ है| कोई किसी को ऐसे मर्ज करते वक्त निकालता नहीं है| तो यहां पर बैंकों की एंप्लोई की संख्या में कोई अंतर नहीं रहेगा| हां! लेकिन अगर मर्जर के बाद बैंक को लगता है कि हमारे एंप्लॉई ज्यादा है तो वह वोलंटरी रिटायरमेंट की स्कीम कुछ अनाउंस कर सकते हैं जिसमें वह कुछ पैकेज देते हैं और लोग को ऑप्शन देते हैं कि अगर हम आपको इतना पैसा दे रहे हैं तो आप जल्दी रिटायरमेंट ले सकते हैं और वह ऑप्शनल होता है, वह वॉलेंटरी होता है| अगर आपको अच्छा है कि आपको ज्यादा पैसा मिल रहा है आपको ५० लाख १ करोड मिल रहा है और आप सोचते हैं कि इस से अच्छा है की में रिटायरमेंट लेके और कुछ काम कर लेता हूं तो लोग उसको ऑप्ट भी करते हैं| लेकिन बैंक मर्ज करने से ऐसे एकदम से वहां पर कोई एंप्लॉई की संख्या घटती नहीं है और मर्जर के थोड़े टाइम बाद क्या होगा यह जो नई इन्टीटी बनती है, नयी कंपनी बनती है उसके बिजनेस में पता लगेगा तो हो सकता है कि वह एक/दो/तीन साल बाद और फास्ट ग्रोथ करें और नई रिक्रूटमेंट करें| इस पिछले पब्लिक सेक्टर बैंकों में इस समय बहुत सारा एंप्लॉई जो है उसकी ऐज काफी ज्यादा है वह 45 प्लस बहुत ज्यादा लोग हैं| और यंग ब्लड अभी भी काफी कम है| तो नए रिक्रूटमेंट की पॉलिसी इसको देखकर भी बनती है कि हमारी आर्गेनाईजेशन में ओवरऑल एज क्या है एंप्लोई की, क्योंकि हर आर्गेनाईजेशन में यंग और एक्सपीरियंस दोनों टाइप के एंप्लोई चाहिए होते हैं तो एंप्लोई की संख्या बिजनेस के हिसाब से डिसाइड होगी फ्यूचर में क्या हो रहा है और इमीडिएटेली उसके नंबर में कोई फर्क नहीं पड़ेगा जिसमें बैंक मर्जर होगा |Jis Samay Koi Bhi Do Companies Ka Merger Hota Hai Suppose Bank Ka Merger Hota Hai To Usamen Employee Ki Sankhya Mein Koi Antar Nahi Padata Hai Speshli Aapka Ye Question Public Sector Bank Ke Merger Se Related Hai To Public Sector Bank Mein Sabaki Job Safe Hai Koi Kisi Ko Aise Merge Karte Waqt Nikalata Nahi Hai To Yahan Par Bankon Ki Employee Ki Sankhya Mein Koi Antar Nahi Rahega Haan Lekin Agar Merger Ke Baad Bank Ko Lagta Hai Ki Hamare Emplai Jyada Hai To Wah Voluntary Retirement Ki Scheme Kuch Anauns Kar Sakte Hain Jisme Wah Kuch Package Dete Hain Aur Log Ko Option Dete Hain Ki Agar Hum Aapko Itna Paisa De Rahe Hain To Aap Jaldi Retirement Le Sakte Hain Aur Wah Optional Hota Hai Wah Valentari Hota Hai Agar Aapko Accha Hai Ki Aapko Jyada Paisa Mil Raha Hai Aapko 50 Lakh 1 Crore Mil Raha Hai Aur Aap Sochte Hain Ki Is Se Accha Hai Ki Mein Retirement Leke Aur Kuch Kaam Kar Leta Hoon To Log Usko Opt Bhi Karte Hain Lekin Bank Merge Karne Se Aise Ekdam Se Wahan Par Koi Emplai Ki Sankhya Ghatati Nahi Hai Aur Merger Ke Thode Time Baad Kya Hoga Yeh Jo Nayi Intiti Banti Hai Nayi Company Banti Hai Uske Business Mein Pata Lagega To Ho Sakta Hai Ki Wah Ek Do Teen Saal Baad Aur Fast Growth Karen Aur Nayi Recruitment Karen Is Pichle Public Sector Bankon Mein Is Samay Bahut Saara Emplai Jo Hai Uski Age Kafi Jyada Hai Wah 45 Plus Bahut Jyada Log Hain Aur Young Blood Abhi Bhi Kafi Kum Hai To Naye Recruitment Ki Policy Isko Dekhkar Bhi Banti Hai Ki Hamari Organisation Mein Ovaraal Age Kya Hai Employee Ki Kyonki Har Organisation Mein Young Aur Experience Dono Type Ke Employee Chahiye Hote Hain To Employee Ki Sankhya Business Ke Hisab Se Decide Hogi Future Mein Kya Ho Raha Hai Aur Imidieteli Uske Number Mein Koi Fark Nahi Padega Jisme Bank Merger Hoga |
Likes  21  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बैंकों की मर्ज होने से एंप्लॉय की संख्या आमतौर पर घटती ही है क्योंकि बहुत सारी जो ब्रांच होती हैं किसी बैंक की जगह दूसरे बैंक के साथ मिल जाती हैं तुम मान लीजिए एक मार्केट में बहुत सारी शॉपिंग जैसी हो ...
जवाब पढ़िये
बैंकों की मर्ज होने से एंप्लॉय की संख्या आमतौर पर घटती ही है क्योंकि बहुत सारी जो ब्रांच होती हैं किसी बैंक की जगह दूसरे बैंक के साथ मिल जाती हैं तुम मान लीजिए एक मार्केट में बहुत सारी शॉपिंग जैसी हो जाएंगे तो उसका उपयोग नहीं होगा बजाए कि उस मार्केट में उचित शॉप को बड़ा कर दिया जाएगा तो यही SIM चीज बैंक के साथ होती है सही बात अगर बैंक के प्रैक्टिस अभी देखी जाए तो जैसे कि SBI का विलय हुआ था बाकी सारी बैंकों के साथ तो अब SBI अपने आप को स्टैंड कर सकता है दुनिया की बैंकों में आप देखें तो भारत दो बैंकों में रैंकिंग स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रॉपर्टी में अब जाकर आ पाया जब State Bank of India मर्ज हो गया है प्राइवेट बैंकों की मर्ज करने की बात चल रही है जिसके ऊपर अरुण जेटली कमेटी बनाई गई है जिसमें मुझे क्या देखें मुझे लगता है कि शायद यह चीज अच्छी है हालांकि यह चीज जरूर अन एंप्लॉयमेंट बढ़ाएं गीत लेकिन भविष्यवाणी और दूरगामी चीजों के लिए चीज काफी अच्छी है क्योंकि बैंकों का निजी करण जब किया गया था उसमें भी यह चीजें बोली गई थी कि बैंकों का आपस में मिलाकर एक बड़ी यूनिट बना दिया जाए उस समय चीज पॉसिबल नहीं हो पाई थी आज भी बहुत मुश्किल है लेकिन अगर हो जाती है तो प्राइवेट बैंकों को मिलाकर एक बड़ा बैंक बनाया जाए जिससे कि बाद में बड़ी बैंक होगी ज्यादा पैसा होगा तो वह इन्वेस्टमेंट ज्यादा होगा ज्यादा इन्वेस्टमेंट होगा तेरा ब्याज दरें कम होंगी बहुत सारी फायदे हैं धन्यवादBankon Ki Merge Hone Se Employee Ki Sankhya Aamtaur Par Ghatati Hi Hai Kyonki Bahut Saree Jo Branch Hoti Hain Kisi Bank Ki Jagah Dusre Bank Ke Saath Mil Jati Hain Tum Maan Lijiye Ek Market Mein Bahut Saree Shopping Jaisi Ho Jaenge To Uska Upyog Nahi Hoga Bajae Ki Us Market Mein Uchit Shop Ko Bada Kar Diya Jayega To Yahi SIM Cheez Bank Ke Saath Hoti Hai Sahi Baat Agar Bank Ke Practice Abhi Dekhi Jaye To Jaise Ki SBI Ka Vilay Hua Tha Baki Saree Bankon Ke Saath To Ab SBI Apne Aap Ko Stand Kar Sakta Hai Duniya Ki Bankon Mein Aap Dekhen To Bharat Do Bankon Mein Ranking State Bank Of India Ke Property Mein Ab Jaakar Aa Paya Jab State Bank Of India Merge Ho Gaya Hai Private Bankon Ki Merge Karne Ki Baat Chal Rahi Hai Jiske Upar Arun Jaitley Committee Banai Gayi Hai Jisme Mujhe Kya Dekhen Mujhe Lagta Hai Ki Shayad Yeh Cheez Acchi Hai Halanki Yeh Cheez Jarur An Employment Badhaye Geet Lekin Bhavishyavaani Aur Durgami Chijon Ke Liye Cheez Kafi Acchi Hai Kyonki Bankon Ka Niji Karan Jab Kiya Gaya Tha Usamen Bhi Yeh Cheezen Boli Gayi Thi Ki Bankon Ka Aapas Mein Milakar Ek Badi Unit Bana Diya Jaye Us Samay Cheez Possible Nahi Ho Payi Thi Aaj Bhi Bahut Mushkil Hai Lekin Agar Ho Jati Hai To Private Bankon Ko Milakar Ek Bada Bank Banaya Jaye Jisse Ki Baad Mein Badi Bank Hogi Jyada Paisa Hoga To Wah Investment Jyada Hoga Jyada Investment Hoga Tera Byaj Daren Kum Hongi Bahut Saree Fayde Hain Dhanyavad
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक मैं जानती हूं वह आपसे बताना आपको बताना चाहती हूं कि बाय को मर्ज होने से बैंक एंप्लाइज की संख्या घटती है क्योंकि क्योंकि ऑलरेडी जो है देखिए एक बैंक में ही सारे इंप्लॉइज होते हैं अगर दूसरी बैंक ...
जवाब पढ़िये
जहां तक मैं जानती हूं वह आपसे बताना आपको बताना चाहती हूं कि बाय को मर्ज होने से बैंक एंप्लाइज की संख्या घटती है क्योंकि क्योंकि ऑलरेडी जो है देखिए एक बैंक में ही सारे इंप्लॉइज होते हैं अगर दूसरी बैंक मौज हो रही है तू स्टाफ की उतनी ही जरुरत नहीं पड़ती है उनको सिर्फ जो है सेलेक्ट पीपल्स को ले लेते हैं बाकी को जो है निकाला जाता है तू इस तरह से बैंक घटती है मगर बढ़ती नहीं है जितना मैं जानती हूंJahan Tak Main Jaanti Hoon Wah Aapse Batana Aapko Batana Chahti Hoon Ki By Ko Merge Hone Se Bank Emplaij Ki Sankhya Ghatati Hai Kyonki Kyonki Already Jo Hai Dekhie Ek Bank Mein Hi Sare Employees Hote Hain Agar Dusri Bank Mauj Ho Rahi Hai Tu Staff Ki Utani Hi Zaroorat Nahi Padhti Hai Unko Sirf Jo Hai Select Peoples Ko Le Lete Hain Baki Ko Jo Hai Nikaala Jata Hai Tu Is Tarah Se Bank Ghatati Hai Magar Badhti Nahi Hai Jitna Main Jaanti Hoon
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bank Ko Merge Hone Se Bank Employee Ki Sankhya Ghatati Hai Ya Badhti Hai ?, Does The Merger Of The Bank Decrease Or Increase The Number Of Bank Employees?

vokalandroid