नागरिकों को अपने समाज में योगदान करने के लिए मजबूर क्यों किया जाता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

......
जवाब पढ़िये
...
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए और नागरिकों को मजबूर किया जा रहा है यह तो मतलब मैं समझ नहीं पा इसको मेरे को कहना चाहूंगी कि मैंने आज आखिरी एक न्यूज़ पड़ी कि जो दक्षिण कोरिया में है वहां के एक व्यक्ति ने अब पता नहीं कौन से सपोर...
जवाब पढ़िये
देखिए और नागरिकों को मजबूर किया जा रहा है यह तो मतलब मैं समझ नहीं पा इसको मेरे को कहना चाहूंगी कि मैंने आज आखिरी एक न्यूज़ पड़ी कि जो दक्षिण कोरिया में है वहां के एक व्यक्ति ने अब पता नहीं कौन से सपोर्ट में विशेषज्ञ में चल रहे हैं आप पर सदा मेडल मेडल जीता वहां पर यह रूल है कि कोई भी लड़का उसको कम कर कम से कम 21 साल तक फौज में रहना पड़ेगा यानी कि देश को योगदान देना पड़ेगा WhatsApp यह है कि अगर आप ने गोल्ड मेडल जीता हूं किसी और लंबे आदमी किसी डर आशिकी में तब आप कोई चीज नहीं करनी पड़ेगी तो वह व्यक्ति जिसने आज मेल ड्रेस शास्त्र पर मेरी जिंदगी से खुश होना चाहिए वह खुश नहीं था क्योंकि उसको पोस्ट किया जाएगा अब कि वह मिलिट्री ज्वाइन करें और रही बात इंडिया कि तुम्हारे पास उसे कोई रूल से रेगुलेशंस है ही नहीं हम तो स्वेच्छा से अपने चेस्ट सेंटर से कुछ करना चाहे तो हम कर देना करना चाहे तो हम ना करें बट आपको नहीं लगता कि अगर हमने किसी देश में जन्म लिया है किस IT में जन्म लिया है तो उसकी प्रति हमारे कुछ कर्तव्य कुछ फर्ज हैं और उन्हें पूरा करना तो मुझे लगता है किसी ने हमें कोई प्रॉब्लम होनी चाहिए वह चीज एक तरीके से हमारा फर्ज है तो वह मैं करना ही चाहिएDekhie Aur Naagrikon Ko Majboor Kiya Ja Raha Hai Yeh To Matlab Main Samajh Nahi Pa Isko Mere Ko Kehna Chahungi Ki Maine Aaj Aakhiri Ek News Padi Ki Jo Dakshin Korea Mein Hai Wahan Ke Ek Vyakti Ne Ab Pata Nahi Kaon Se Support Mein Visheshasgya Mein Chal Rahe Hain Aap Par Sada Medal Medal Jita Wahan Par Yeh Rule Hai Ki Koi Bhi Ladka Usko Kam Kar Kam Se Kam 21 Saal Tak Fauj Mein Rehna Padega Yani Ki Desh Ko Yogdan Dena Padega WhatsApp Yeh Hai Ki Agar Aap Ne Gold Medal Jita Hoon Kisi Aur Lambe Aadmi Kisi Dar Aashiqui Mein Tab Aap Koi Cheez Nahi Karni Padegi To Wah Vyakti Jisne Aaj Mail Dress Shastra Par Meri Zindagi Se Khush Hona Chahiye Wah Khush Nahi Tha Kyonki Usko Post Kiya Jayega Ab Ki Wah Miltary Join Karen Aur Rahi Baat India Ki Tumhare Paas Use Koi Rule Se Reguleshans Hai Hi Nahi Hum To Swachcha Se Apne Chest Center Se Kuch Karna Chahe To Hum Kar Dena Karna Chahe To Hum Na Karen But Aapko Nahi Lagta Ki Agar Humne Kisi Desh Mein Janm Liya Hai Kis IT Mein Janm Liya Hai To Uski Prati Hamare Kuch Kartavya Kuch Farj Hain Aur Unhen Pura Karna To Mujhe Lagta Hai Kisi Ne Hume Koi Problem Honi Chahiye Wah Cheez Ek Tarike Se Hamara Farj Hai To Wah Main Karna Hi Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है कि नागरिकों को समाज में योगदान के लिए मजबूर किया जाता है अपने देश का नागरिक होने के नाते एक समाज में जहां आप रहते हैं उसके लिए आपका कुछ करता भी जरूर पड़ता है अक्सर होता ही है कि हम अपने अ...
जवाब पढ़िये
ऐसा नहीं है कि नागरिकों को समाज में योगदान के लिए मजबूर किया जाता है अपने देश का नागरिक होने के नाते एक समाज में जहां आप रहते हैं उसके लिए आपका कुछ करता भी जरूर पड़ता है अक्सर होता ही है कि हम अपने अधिकारों को तो पहचानते हैं और अधिकारों के प्रति हमेशा हम अपना कोई करता भी नहीं करना ही नहीं चाहते चाहे वह परिवार के प्रति हो चाहे समाज के हर नागरिक को अपना योगदान अपने समाज के लिए करना चाहिए जितनी भी उसकी क्षमता है सकता है उसके अनुसार नहीं करता है अगर आप इस जहां समझ कर सकते हैं अपने मन से करना चाहिए हर नागरिक का कर्तव्य होना चाहिए समाज की उन्नति में अपना योगदान दें किसी भी समाज आगे बढ़ेगा तभी हम समाज के भागीदार बनेंगे और अपना अगर कर्तव्य पूरा करते हैं तो हम आपके जितना जो कुछ लिखते हैं उसका कुछ वापस समाज को देखा इसलिए जरूरी है कि हर नागरिक अपने अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों को बताने की कोशिश करें ताकि समाज के प्रति उत्तरदाई हैAisa Nahi Hai Ki Naagrikon Ko Samaaj Mein Yogdan Ke Liye Majboor Kiya Jata Hai Apne Desh Ka Nagarik Hone Ke Naate Ek Samaaj Mein Jahan Aap Rehte Hain Uske Liye Aapka Kuch Karta Bhi Jarur Padata Hai Aksar Hota Hi Hai Ki Hum Apne Adhikaaro Ko To Pehchante Hain Aur Adhikaaro Ke Prati Hamesha Hum Apna Koi Karta Bhi Nahi Karna Hi Nahi Chahte Chahe Wah Parivar Ke Prati Ho Chahe Samaaj Ke Har Nagarik Ko Apna Yogdan Apne Samaaj Ke Liye Karna Chahiye Jitni Bhi Uski Kshamta Hai Sakta Hai Uske Anusar Nahi Karta Hai Agar Aap Is Jahan Samajh Kar Sakte Hain Apne Man Se Karna Chahiye Har Nagarik Ka Kartavya Hona Chahiye Samaaj Ki Unnati Mein Apna Yogdan Dein Kisi Bhi Samaaj Aage Badhega Tabhi Hum Samaaj Ke Bhagidaar Banenge Aur Apna Agar Kartavya Pura Karte Hain To Hum Aapke Jitna Jo Kuch Likhte Hain Uska Kuch Wapas Samaaj Ko Dekha Isliye Zaroori Hai Ki Har Nagarik Apne Adhikaaro Ke Saath Apne Kartavyon Ko Batane Ki Koshish Karen Taki Samaaj Ke Prati Uttardai Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह हर नागरिक का दायित्व के जिस समाज में पैदा हुआ है वह समाज की सेवा करें तथा समाज को एक नई दिशा दें एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते यह जिम्मेदारी हर भारतीय और अगर आप संविधान में विश्वास रखते है...
जवाब पढ़िये
देखिए यह हर नागरिक का दायित्व के जिस समाज में पैदा हुआ है वह समाज की सेवा करें तथा समाज को एक नई दिशा दें एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते यह जिम्मेदारी हर भारतीय और अगर आप संविधान में विश्वास रखते हैं तो संविधान में फंडामेंटल ड्यूटीज के बारे में बताएंगे मुझे लगता है जो फंडामेंटल ड्यूटीज है हर व्यक्ति का कर्तव्य और उन चीजों का पालन उसको करना चाहिए और अच्छे से करना चाहिए ताकि एक समाज को नई दिशा दे सकें अब जैसे मैं अगर एग्जाम पर दूध राजा राममोहन राय का एग्जाम पर ले सकते स्वामी विवेकानंद का देसी समाज में पैदा हुए तथा इस समाज की कुरीतियां सी बुराइयां हैं उनको दूर किया एक समाज को एक नई दिशा दी एक मॉडल की तरह समाज को लेकर गए तो मुझे लगता है कि हम में से हर कोई राजा राममोहन राय बन सकता हैDekhie Yeh Har Nagarik Ka Dayitva Ke Jis Samaaj Mein Paida Hua Hai Wah Samaaj Ki Seva Karen Tatha Samaaj Ko Ek Nayi Disha Dein Ek Zimmedar Nagarik Hone Ke Naate Yeh Jimmedari Har Bharatiya Aur Agar Aap Samvidhan Mein Vishwas Rakhate Hain To Samvidhan Mein Fundamental Duties Ke Bare Mein Batayenge Mujhe Lagta Hai Jo Fundamental Duties Hai Har Vyakti Ka Kartavya Aur Un Chijon Ka Palan Usko Karna Chahiye Aur Acche Se Karna Chahiye Taki Ek Samaaj Ko Nayi Disha De Saken Ab Jaise Main Agar Exam Par Dudh Raja Rammohan Raya Ka Exam Par Le Sakte Swami Vivekananda Ka Desi Samaaj Mein Paida Huye Tatha Is Samaaj Ki Kuritiyan Si Buraiyan Hain Unko Dur Kiya Ek Samaaj Ko Ek Nayi Disha Di Ek Model Ki Tarah Samaaj Ko Lekar Gaye To Mujhe Lagta Hai Ki Hum Mein Se Har Koi Raja Rammohan Raya Ban Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी भी नागरिक को या किसी भी इंसान को अपने समाज अपने आसपास की चीजों में या फिर अपने देश के लिए और योगदान करने के लिए मजबूर इसलिए नहीं किया जाता है क्योंकि देखें हर किसी को अधिकार होता है वह अपना योगदा...
जवाब पढ़िये
किसी भी नागरिक को या किसी भी इंसान को अपने समाज अपने आसपास की चीजों में या फिर अपने देश के लिए और योगदान करने के लिए मजबूर इसलिए नहीं किया जाता है क्योंकि देखें हर किसी को अधिकार होता है वह अपना योगदान जिस चीज में देना चाहे उसमें दे सकते हैं वह नहीं देना चाहते तो नहीं दे सकते कोई भी किसी को मजबूर नहीं कर सकता और यह अधिकार संविधान में सभी को दे रखा है क्या जो चीज करना चाहते हैं कर सकते हैं कोई भी आपसे कारणवश आपको बातें करके कोई काम नहीं करता करवा सकता तो कहीं ना कहीं योगदान देने की जहां बात आती है तो वहां अगर लोगों का मन करता है लोग चाहते हैं कि उनको समाज के सुधार के लिए समाज में परिवर्तन लाने के लिए योगदान देना चाहिए तो वह दे सकते पर अगर वह नहीं देना चाहते तो कोई इनको बात भी नहीं कर सकता कि उनको योगदान देना हैKisi Bhi Nagarik Ko Ya Kisi Bhi Insaan Ko Apne Samaaj Apne Aaspass Ki Chijon Mein Ya Phir Apne Desh Ke Liye Aur Yogdan Karne Ke Liye Majboor Isliye Nahi Kiya Jata Hai Kyonki Dekhen Har Kisi Ko Adhikaar Hota Hai Wah Apna Yogdan Jis Cheez Mein Dena Chahe Usamen De Sakte Hain Wah Nahi Dena Chahte To Nahi De Sakte Koi Bhi Kisi Ko Majboor Nahi Kar Sakta Aur Yeh Adhikaar Samvidhan Mein Sabhi Ko De Rakha Hai Kya Jo Cheez Karna Chahte Hain Kar Sakte Hain Koi Bhi Aapse Karanvash Aapko Batein Karke Koi Kaam Nahi Karta Karava Sakta To Kahin Na Kahin Yogdan Dene Ki Jahan Baat Aati Hai To Wahan Agar Logon Ka Man Karta Hai Log Chahte Hain Ki Unko Samaaj Ke Sudhaar Ke Liye Samaaj Mein Pariwartan Lane Ke Liye Yogdan Dena Chahiye To Wah De Sakte Par Agar Wah Nahi Dena Chahte To Koi Inko Baat Bhi Nahi Kar Sakta Ki Unko Yogdan Dena Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Naagrikon Ko Apne Samaaj Mein Yogdan Karne Ke Liye Majboor Kyon Kiya Jata Hai

vokalandroid