क्या हमारे समाज में आज भी SC/ST लोगो के साथ आज भी छोटी भावना रखता है ...ऐसा क्यों ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारा समाज आज की डेट में ऐसे रिश्ते लोगों के साथ भेदभाव नहीं रखता है छोटी भावना नहीं रखता है क्योंकि अगर ऐसा होता तो उनको जो भी बेनिफिट्स और जो भी उनको पॉजिटिविटी दी जा रही है जो वह को अधिकार मिल रहे ...
जवाब पढ़िये
हमारा समाज आज की डेट में ऐसे रिश्ते लोगों के साथ भेदभाव नहीं रखता है छोटी भावना नहीं रखता है क्योंकि अगर ऐसा होता तो उनको जो भी बेनिफिट्स और जो भी उनको पॉजिटिविटी दी जा रही है जो वह को अधिकार मिल रहे हैं उसके वह उन को नहीं मिलता क्योंकि अगर वह सब मिलता उनको तो लोगों को जो दूसरी जाति के लोग हैं वह उसका एड्रेस होते उसको सेवन नहीं करते हो मन को मना कर देते हो यह तो पहला पॉइंट ही गलत मैं बोलूंगी कि गलत है कुछ एक कंडिशंस में कुछ एक जगह पर जाकर पहुंचा एजुकेटेड लोग नहीं है ज्यादा जागरूक लोग नहीं है वहां पर होता है कुछ छोटे-छोटे गांव में का स्कोर में ऐसा होता है जहां पर एससी और एसटी लोगों को बहुत ज्यादा बढ़ा नहीं दिया जाता है और न पाया जाता है उनको हीन भावना से देखा जाता है लेकिन अगर हम पूरे समाज को गलत होगा चॉकलेट हमारे समाज में बढ़ रही है दे भाई रे और लोगों को उसके प्रति सम्मान भी बढ़ रहा है तो यह गलत हैHamara Samaaj Aaj Ki Date Mein Aise Rishte Logon Ke Saath Bhedbhav Nahi Rakhta Hai Choti Bhavna Nahi Rakhta Hai Kyonki Agar Aisa Hota To Unko Jo Bhi Benefits Aur Jo Bhi Unko Pajitiviti Di Ja Rahi Hai Jo Wah Ko Adhikaar Mil Rahe Hain Uske Wah Un Ko Nahi Milta Kyonki Agar Wah Sab Milta Unko To Logon Ko Jo Dusri Jati Ke Log Hain Wah Uska Address Hote Usko Seven Nahi Karte Ho Man Ko Mana Kar Dete Ho Yeh To Pehla Point Hi Galat Main Bolungi Ki Galat Hai Kuch Ek Kandishans Mein Kuch Ek Jagah Par Jaakar Pahuncha Educated Log Nahi Hai Jyada Jaagruk Log Nahi Hai Wahan Par Hota Hai Kuch Chote Chote Gav Mein Ka Score Mein Aisa Hota Hai Jahan Par Sc Aur ST Logon Ko Bahut Jyada Badha Nahi Diya Jata Hai Aur N Paya Jata Hai Unko Heen Bhavna Se Dekha Jata Hai Lekin Agar Hum Poore Samaaj Ko Galat Hoga Chocolate Hamare Samaaj Mein Badh Rahi Hai De Bhai Ray Aur Logon Ko Uske Prati Samman Bhi Badh Raha Hai To Yeh Galat Hai
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय संस्कृति को मुर्दा हिंदू संस्कृति के रूप में देखा जाता है यह हिंदू संस्कृति ब्राह्मणवादी व्यवस्था का ही दूसरा नाम है हालांकि इस पर हम गर्व करते नहीं थकते लेकिन सच यह है कि हमारी इस संस्कृति में...
जवाब पढ़िये
भारतीय संस्कृति को मुर्दा हिंदू संस्कृति के रूप में देखा जाता है यह हिंदू संस्कृति ब्राह्मणवादी व्यवस्था का ही दूसरा नाम है हालांकि इस पर हम गर्व करते नहीं थकते लेकिन सच यह है कि हमारी इस संस्कृति में अनुसूचित जाति जनजाति दलित पिछड़े पिछड़ी जाति के साथ निभा हमेशा से होता रहा है इसका प्रमाण है कि जातिगत व्यवस्था किस जाति व्यवस्था में 4 वार्डों में सूत्र चौथा वर्ण है और चौथे वनडे में अनुसूचित जाति जनजाति दलित सब को शामिल कर दिया गया इन की ताजा खबर 80% है फिर भी ब्राह्मण और स्वर्णिम पर भारी है झारखंड छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश गुजरात राजस्थान कर्नाटक तमिलनाडु केरल बिहार और उत्तरप्रदेश कहीं भी हो ऐसी-ऐसी से लेकर दलितों तक सब के साथ भेदभाव हो रहे हैं उन पर अत्याचार हो रहा है लेकिन मौजूदा सरकार के समय में देखने में आया है कि ऐसे अत्याचार और इजाफा ही हुआ है आदिवासियों की जमीन पर जबरन दखल हो या फिर नक्सल या माओवाद के नाम पर उन पर अत्याचार हो रहे हैं हत्या बलात्कार बेरहमी से पिटाई नंगा करके सड़क में घुमाने जैसी घटना आम है यहां तक कि दलितों की मूंछ रखने घोड़ी चढ़कर शादी में जाने पर भी यात्रा जताकर उनकी पिटाई हो रही है के अक्षर देश में भी अन्याय कुछ कम नहीं हो रहा हैBhartiya Sanskriti Ko Murda Hindu Sanskriti Ke Roop Mein Dekha Jata Hai Yeh Hindu Sanskriti Brahmanwadi Vyavastha Ka Hi Doosra Naam Hai Halanki Is Par Hum Garv Karte Nahi Thakate Lekin Sach Yeh Hai Ki Hamari Is Sanskriti Mein Anusuchit Jati Janjaati Dalit Pichade Pichhadi Jati Ke Saath Nibha Hamesha Se Hota Raha Hai Iska Pramaan Hai Ki Jaatigat Vyavastha Kis Jati Vyavastha Mein 4 Vardo Mein Sutra Chautha Varn Hai Aur Chauthe Oneday Mein Anusuchit Jati Janjaati Dalit Sab Ko Shamil Kar Diya Gaya In Ki Taaza Khabar 80% Hai Phir Bhi Brahman Aur Swarnim Par Bhari Hai Jharkhand Chattisgarh Madhya Pradesh Gujarat Rajasthan Karnataka Tamil Nadu Kerala Bihar Aur Uttar Pradesh Kahin Bhi Ho Aisi Aisi Se Lekar Dalito Tak Sab Ke Saath Bhedbhav Ho Rahe Hain Un Par Atyachar Ho Raha Hai Lekin Maujuda Sarkar Ke Samay Mein Dekhne Mein Aaya Hai Ki Aise Atyachar Aur Ijafa Hi Hua Hai Aadivaasiyo Ki Jameen Par Jabran Dakhal Ho Ya Phir Naxal Ya Maovaad Ke Naam Par Un Par Atyachar Ho Rahe Hain Hatya Balatkar Berehami Se Pitai Nanga Karke Sadak Mein Ghumaane Jaisi Ghatna Aam Hai Yahan Tak Ki Dalito Ki Munch Rakhne Ghodi Chadhakar Shadi Mein Jaane Par Bhi Yatra Jatakar Unki Pitai Ho Rahi Hai Ke Akshar Desh Mein Bhi Anyay Kuch Kum Nahi Ho Raha Hai
Likes  3  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन उसने मुझे नहीं लगता कि आज के दिनों में जो है जो ऐसी और ST कास्ट के लोगों और ऐसी st कासते समझ के जो भी लोग हैं उन्हें जो है कोई मतलब छोटी बहू बना दी जाती है फिर उनको ऐसे वागणूक दी जाती क्योंकि आज...
जवाब पढ़िये
लेकिन उसने मुझे नहीं लगता कि आज के दिनों में जो है जो ऐसी और ST कास्ट के लोगों और ऐसी st कासते समझ के जो भी लोग हैं उन्हें जो है कोई मतलब छोटी बहू बना दी जाती है फिर उनको ऐसे वागणूक दी जाती क्योंकि आजकल ऐसी st कास्ट की भी लोग कोई भी खुशी में सेक्टर में पीछे नहीं वह सब जो है ओपन के साथ के लोगों के साथ बराबरी है उनसे भी वाले आ गए और बाकी रिजर्वेशन की बात करो बात भी नहीं की प्रकृति और साबुन को मिलते ही आ रहे तो मुझे लगता है कि उनको जो एक किसी भी तरह की छोटी बहू में मिल रही है आज के दिनों में तोLekin Usne Mujhe Nahi Lagta Ki Aaj Ke Dinon Mein Jo Hai Jo Aisi Aur ST Caste Ke Logon Aur Aisi St Kaaste Samajh Ke Jo Bhi Log Hain Unhen Jo Hai Koi Matlab Choti Bahu Bana Di Jati Hai Phir Unko Aise Vagnuk Di Jati Kyonki Aajkal Aisi St Caste Ki Bhi Log Koi Bhi Khushi Mein Sector Mein Piche Nahi Wah Sab Jo Hai Open Ke Saath Ke Logon Ke Saath Barabari Hai Unse Bhi Wale Aa Gaye Aur Baki Reservation Ki Baat Karo Baat Bhi Nahi Ki Prakriti Aur Sabun Ko Milte Hi Aa Rahe To Mujhe Lagta Hai Ki Unko Jo Ek Kisi Bhi Tarah Ki Choti Bahu Mein Mil Rahi Hai Aaj Ke Dinon Mein To
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भाई हम किसी को कितना भी आरक्षण दे दे SC ST लोगों कितना भी आरक्षण दे दे लेकिन उसके बावजूद जो लोगों में एक चीज होती है Xperia रेट की चीज की हम सुपीरियर हैं और एक अभी भी ऐसी और ST को छोटा दर्जा मान...
जवाब पढ़िये
देखिए भाई हम किसी को कितना भी आरक्षण दे दे SC ST लोगों कितना भी आरक्षण दे दे लेकिन उसके बावजूद जो लोगों में एक चीज होती है Xperia रेट की चीज की हम सुपीरियर हैं और एक अभी भी ऐसी और ST को छोटा दर्जा माना जाता है हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं समझ में रहते हैं सब साथ में हैं ऐसी और ST का खेल के बाद हम लोग इधर उधर से लेकर नहीं आए थे तो SC ST जनरल ओबीसी हम लोग सभी प्रकार के हैं तो हमें इस तरीके की भावना नहीं रखनी चाहिए लेकिन यह सही बात है कि ऐसी छोटी भावना रखी जाती है दूसरी तरफ थोड़ा जमाना सुधरा भी है जो आजकल की युवा पीढ़ी है वह लोगों के साथ उठना बैठना हैDekhie Bhai Hum Kisi Ko Kitna Bhi Aarakshan De De SC ST Logon Kitna Bhi Aarakshan De De Lekin Uske Bawajud Jo Logon Mein Ek Cheez Hoti Hai Xperia Rate Ki Cheez Ki Hum Superior Hain Aur Ek Abhi Bhi Aisi Aur ST Ko Chota Darja Mana Jata Hai Halanki Aisa Kuch Bhi Nahi Samajh Mein Rehte Hain Sab Saath Mein Hain Aisi Aur ST Ka Khel Ke Baad Hum Log Idhar Udhar Se Lekar Nahi Aaye The To SC ST General Obc Hum Log Sabhi Prakar Ke Hain To Hume Is Tarike Ki Bhavna Nahi Rakhni Chahiye Lekin Yeh Sahi Baat Hai Ki Aisi Choti Bhavna Rakhi Jati Hai Dusri Taraf Thoda Jamana Sudhara Bhi Hai Jo Aajkal Ki Yuva Pidhi Hai Wah Logon Ke Saath Uthana Baithana Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Hamare Samaaj Mein Aaj Bhi SC/ST Logo Ke Saath Aaj Bhi Choti Bhavna Rakhta Hai Aisa Kyon ?, Even Today In Our Society With The SC / ST People Still Have A Small Feeling ... Why So?

vokalandroid