क्या रूस भारत के रिश्ते बाकी देशों से अलग हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Jigar भारत और रूस के रिश्ते की बात की जाए तो यह हम सब जानते हैं कि भारत और रूस का रिश्ता काफी पुराना है और कहीं ना कहीं रूस ने भारत को सपोर्ट भी किया है कोई हंसता है और काफी बात है वह कमजोर होता दिखाई...
जवाब पढ़िये
Jigar भारत और रूस के रिश्ते की बात की जाए तो यह हम सब जानते हैं कि भारत और रूस का रिश्ता काफी पुराना है और कहीं ना कहीं रूस ने भारत को सपोर्ट भी किया है कोई हंसता है और काफी बात है वह कमजोर होता दिखाई दे रहा है जब से भारत और यूएई के संस्थापक बड़े हैं और अच्छे हुए और भारत और अमेरिका से रिलेटेड जब भी कोई डील होती है USA तो कहीं ना कहीं इसका इंपैक्ट दिखता है मैं रिश्ते में भारत और उसके बीच में उसका रिजल्ट अभी यह हुआ कि 2016 में जो पाकिस्तान और रूस के बीच में जॉइंट मिलिट्री एक्सरसाइज दिखाता है कि रसिया को इंडिया और यूएस के बीच में रिलेशन अच्छे नहीं लग रहे हैं अच्छे भी है और अभी एक समय में पता चला कि इंडिया और एशिया के बीच में हम जानते हैं कि सबसे ज्यादा होती है सबसे ज्यादा होती है तो अभी पता चला कि 62% के जो भारत में पोस्ट किए गए थे और अभी बात चल रही है ब्रह्मोस मिसाइल की उसके बाद अभी इंडिया में बहुत इंटरेस्ट दिखाएं रशियन कॉल रिफायनरीज में तो यह जो दिल है और यह जो जो मीटिंग होती है इंडिया और इंडिया के बीच में भारत और रिश्ते को इंप्रूव करता है फिलाल में जब भारत में विजिट किया था तभी एक दिल साइन होता जब से भारत और यूएई के बीच में मीटिंग हो रही है और इनके बीच में पहना के एक रिश्ता पड़ रहा है जो कि पैसा को पसंद नहीं आ रहा तो उम्मीद है कि आने वाले समय में अगर ऐसा ही चलता रहा तो भारत और अमेरिका के बीच के रिश्ते कमजोर हो सकते हैंJigar Bharat Aur Rus Ke Rishte Ki Baat Ki Jaye To Yeh Hum Sab Jante Hain Ki Bharat Aur Rus Ka Rishta Kafi Purana Hai Aur Kahin Na Kahin Rus Ne Bharat Ko Support Bhi Kiya Hai Koi Hansata Hai Aur Kafi Baat Hai Wah Kamjor Hota Dikhai De Raha Hai Jab Se Bharat Aur Uae Ke Sansthapak Bade Hain Aur Acche Huye Aur Bharat Aur America Se Related Jab Bhi Koi Deal Hoti Hai USA To Kahin Na Kahin Iska Inspect Dikhta Hai Main Rishte Mein Bharat Aur Uske Bich Mein Uska Result Abhi Yeh Hua Ki 2016 Mein Jo Pakistan Aur Rus Ke Bich Mein Joint Miltary Exercise Dikhaata Hai Ki Rasiya Ko India Aur Us Ke Bich Mein Relation Acche Nahi Lag Rahe Hain Acche Bhi Hai Aur Abhi Ek Samay Mein Pata Chala Ki India Aur Asia Ke Bich Mein Hum Jante Hain Ki Sabse Jyada Hoti Hai Sabse Jyada Hoti Hai To Abhi Pata Chala Ki 62% Ke Jo Bharat Mein Post Kiye Gaye The Aur Abhi Baat Chal Rahi Hai Bramhos Missile Ki Uske Baad Abhi India Mein Bahut Interest Dikhaen Russian Call Rifayanarij Mein To Yeh Jo Dil Hai Aur Yeh Jo Jo Meeting Hoti Hai India Aur India Ke Bich Mein Bharat Aur Rishte Ko Improve Karta Hai Filal Mein Jab Bharat Mein Visit Kiya Tha Tabhi Ek Dil Sign Hota Jab Se Bharat Aur Uae Ke Bich Mein Meeting Ho Rahi Hai Aur Inke Bich Mein Pahana Ke Ek Rishta Padh Raha Hai Jo Ki Paisa Ko Pasand Nahi Aa Raha To Ummid Hai Ki Aane Wale Samay Mein Agar Aisa Hi Chalta Raha To Bharat Aur America Ke Bich Ke Rishte Kamjor Ho Sakte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और रूस के संबंध 70 साल पुरानी है और दोनों ही देशों की दोस्ती में कभी भी किसी भी तरह की घटा चाहिए आई है वर्तमान में भारत और अमेरिका के हिस्सों में काफी भारत का सच्चा दोस्त हमेशा सुखी रहा भारत के ह...
जवाब पढ़िये
भारत और रूस के संबंध 70 साल पुरानी है और दोनों ही देशों की दोस्ती में कभी भी किसी भी तरह की घटा चाहिए आई है वर्तमान में भारत और अमेरिका के हिस्सों में काफी भारत का सच्चा दोस्त हमेशा सुखी रहा भारत के हर मुश्किल में रूस ने हमेशा भारत का हिस्सा दिया है संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी उसने कश्मीर मुद्दे पर वीटो का इस्तेमाल करके भारत को समर्थन दिया था इससे पहले भी उसने भी तो का इस्तेमाल भारत के समर्थन में गोवा के लिए किया था उसने हमेशा प्रमाणित से लेकर विकास कार्य में भारत का साथिया है भारत की विश्व में सिर्फ राजनीति ही नहीं अपितु सामाजिक आर्थिक और सांस्कृतिक संबंध भी रहे हैं भारत के एकीकरण के लिए भी रुप में अहम भूमिका निभाई है मोदी जी ने उसी अखबार को लिखे लेख में भारत को दुनिया की उम्र अर्थव्यवस्था क्या है रूप से भारत के साथ अपनी सैन्य-तकनीकी भी साझा की है भारत ने रूस से कई हथियार खरीदे हैं आतंकवाद के खिलाफ भी भारत और दूध दोनों देशों की राय 1991 में सोवियत संघ के विघटन के बाद भी रुप का मिजाज नहीं बदला भारत के प्रति पिछले 70 वर्षों में परिस्थितियों में कई तरह के लिए लेकिन आज भी दुनिया के सामने विशाल है देखा जाए तो भारत और रूस के संबंध अन्य देशों के मुकाबले ज्यादा मजबूत ज्यादा पर देखें और ज्यादा समय तक टिकने वाले रिश्ते हैंBharat Aur Rus Ke Sambandh 70 Saal Purani Hai Aur Dono Hi Deshon Ki Dosti Mein Kabhi Bhi Kisi Bhi Tarah Ki Ghata Chahiye Eye Hai Vartaman Mein Bharat Aur America Ke Hisso Mein Kafi Bharat Ka Saccha Dost Hamesha Sukhi Raha Bharat Ke Har Mushkil Mein Rus Ne Hamesha Bharat Ka Hissa Diya Hai Sanyukt Rashtra Suraksha Parishad Mein Bhi Usne Kashmir Mudde Par Vito Ka Istemal Karke Bharat Ko Samarthan Diya Tha Isse Pehle Bhi Usne Bhi To Ka Istemal Bharat Ke Samarthan Mein Goa Ke Liye Kiya Tha Usne Hamesha Pramanit Se Lekar Vikash Karya Mein Bharat Ka Sathiya Hai Bharat Ki Vishwa Mein Sirf Rajneeti Hi Nahi Apitu Samajik Aarthik Aur Sanskritik Sambandh Bhi Rahe Hain Bharat Ke Ekikaran Ke Liye Bhi Roop Mein Aham Bhumika Nibhaai Hai Modi Ji Ne Ussi Akbar Ko Likhe Lekh Mein Bharat Ko Duniya Ki Umar Arthavyavastha Kya Hai Roop Se Bharat Ke Saath Apni Sainya Takniki Bhi Sajha Ki Hai Bharat Ne Rus Se Kai Hathiyar Kharide Hain Aatankwad Ke Khilaf Bhi Bharat Aur Dudh Dono Deshon Ki Raya 1991 Mein Soviet Sangh Ke Vighatan Ke Baad Bhi Roop Ka Mizaaz Nahi Badla Bharat Ke Prati Pichhle 70 Varshon Mein Paristhitiyon Mein Kai Tarah Ke Liye Lekin Aaj Bhi Duniya Ke Samane Vishal Hai Dekha Jaye To Bharat Aur Rus Ke Sambandh Anya Deshon Ke Muqable Jyada Mazboot Jyada Par Dekhen Aur Jyada Samay Tak Tikne Wale Rishte Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे रूस और भारत के रिश्ते काफी पुराने 1947 में जब रूस जो के सोवियत संघ था उस समय हिंदुस्तान की दिल्ली में और मॉस्को में मिशन सेंटर दोनों देशों की तरफ से स्थापित किए गए और उन मिशन सेंटर इसके बाद दोनों...
जवाब पढ़िये
लिखे रूस और भारत के रिश्ते काफी पुराने 1947 में जब रूस जो के सोवियत संघ था उस समय हिंदुस्तान की दिल्ली में और मॉस्को में मिशन सेंटर दोनों देशों की तरफ से स्थापित किए गए और उन मिशन सेंटर इसके बाद दोनों देशों के बहुत अच्छे रिलेशन हुए और आपको याद होगा काफी बार रोशनी सिक्योरिटी काउंसिल में भारत के खिलाफ जो भी प्रस्ताव रहा उसके ऊपर बिठा लिया और आपको याद होगा जो id मिशन था उसके ऊपर रसिया ने भी तो किया था और भारत को सेव किया था तो कहीं नहीं दिखाता है कि भारत और रशिया के रिश्ते काफी पुराने वह काफी मजबूत है हालांकि मैं इस बात को जरूर माताओं कुछ वर्षों से हिंदुस्तान और अमेरिका के रिश्ते में भी बहुत ज्यादा वरीयता दी गई है लेकिन जो रिश्ता रूस और भारत का है वह स्थान अमेरिका इंडिया रिलेशंस का नहीं है दूसरी तरफ जो भी हमारा वाली ट्रेन कैंसिल है वह हमारी रसिया के साथ बहुत को यादों को चाय ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम की बात करके हम सुकून की बात कर यह सारी चीजें हमने हमने और रशियन उन्होंने जॉइंट वेंचर के रुप में स्थापित किया तो मुझे लगता है कि आने वाले समय में भारत और रशिया के रिश्ते बहुत ज्यादा मजबूत होंगे स्पेशली डिफेंस सेक्टर की बात की जाए तो बहुत ज्यादा मजबूत होंगे और हमेशा रसिया नेम भारत का सिक्योरिटी काउंसिल के लिए परमानेंट सदस्य होने का समर्थन किया हैLikhe Rus Aur Bharat Ke Rishte Kafi Purane 1947 Mein Jab Rus Jo Ke Soviet Sangh Tha Us Samay Hindustan Ki Dilli Mein Aur Moscow Mein Mission Center Dono Deshon Ki Taraf Se Sthapit Kiye Gaye Aur Un Mission Center Iske Baad Dono Deshon Ke Bahut Acche Relation Huye Aur Aapko Yaad Hoga Kafi Bar Roshni Security Council Mein Bharat Ke Khilaf Jo Bhi Prastaav Raha Uske Upar Bitha Liya Aur Aapko Yaad Hoga Jo Id Mission Tha Uske Upar Rasiya Ne Bhi To Kiya Tha Aur Bharat Ko Save Kiya Tha To Kahin Nahi Dikhaata Hai Ki Bharat Aur Rashiya Ke Rishte Kafi Purane Wah Kafi Mazboot Hai Halanki Main Is Baat Ko Jarur Mataon Kuch Varshon Se Hindustan Aur America Ke Rishte Mein Bhi Bahut Jyada Variyata Di Gayi Hai Lekin Jo Rishta Rus Aur Bharat Ka Hai Wah Sthan America India Rileshans Ka Nahi Hai Dusri Taraf Jo Bhi Hamara Wali Train Cancel Hai Wah Hamari Rasiya Ke Saath Bahut Ko Yaadon Ko Chai Bramhos Missile System Ki Baat Karke Hum Sukoon Ki Baat Kar Yeh Saree Cheezen Humne Humne Aur Russian Unhone Joint Venture Ke Roop Mein Sthapit Kiya To Mujhe Lagta Hai Ki Aane Wale Samay Mein Bharat Aur Rashiya Ke Rishte Bahut Jyada Mazboot Honge Speshli Defence Sector Ki Baat Ki Jaye To Bahut Jyada Mazboot Honge Aur Hamesha Rasiya Name Bharat Ka Security Council Ke Liye Permanent Sadasya Hone Ka Samarthan Kiya Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Rus Bharat Ke Rishte Baki Deshon Se Alag Hain

vokalandroid