बीते 4- 5 सालों में भारतीय मीडिया में क्या बदलाव आया है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय मीडिया में देखिए मीडिया जैसा कि चौथा स्तंभ था माना जाता है लेकिन है नहीं जो सी अदा दी थी वह छिनी जा रही है उस हिसाब से जो उनके मतलब जैसे हर सिस्टम में हरियाली का है उसको हरपुरवा रही है मीडिया क...
जवाब पढ़िये
भारतीय मीडिया में देखिए मीडिया जैसा कि चौथा स्तंभ था माना जाता है लेकिन है नहीं जो सी अदा दी थी वह छिनी जा रही है उस हिसाब से जो उनके मतलब जैसे हर सिस्टम में हरियाली का है उसको हरपुरवा रही है मीडिया को यात्रा बहुत ज्यादा बोल दिया गया या बहुत ज्यादा आजाद छोड़ दिया गया और मीडिया के लिए कोई सिस्टम ज्यादा कुछ कर नहीं पा रहे हो सब को भी नहीं किया है क्या जा रहा है और जब पर सरकार के पालिसी पर कंपनियों को कमी को खुद ही बता कर के कर कर रहे हैं रोहित सरदाना अकरम लोगों से पूछ पूछ होती है
Likes  17  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सारी टूल्स बदल गया सरकार की पॉलिसी बदल गए सोशल मीडिया गया जो ग्लोबल डिमांड है वह सब होने लगा प्रिंट थे रीडर से कम हुआ सरकार ने नए नए पॉलिसीज बनाकर थोपा है मीडिया के ऊपर आपको अपने सर्वाइकल के लिए ...
जवाब पढ़िये
बहुत सारी टूल्स बदल गया सरकार की पॉलिसी बदल गए सोशल मीडिया गया जो ग्लोबल डिमांड है वह सब होने लगा प्रिंट थे रीडर से कम हुआ सरकार ने नए नए पॉलिसीज बनाकर थोपा है मीडिया के ऊपर आपको अपने सर्वाइकल के लिए आपको उसको एक्सेप्ट करना तो फ्रीडम कहीं ना कहीं मीडिया को तो वॉइस को दबाया गया रोड ऑटो से कुछ देखिए हमेशा कभी कुछ बदलाव आता है तो उसमें बेटरमेंट होता है और मीडिया में स्केल का जो ए स्मॉल पब्लिकेशन आईएस स्मॉल यूट्यूब जैसे चैनेलाइजेशन चीजों में तो सारे सरकार को आदमी थोड़ा लिबरल बनाना चाहिए कि कैसे सरवाइव कैसे उन लोगों के लिए आने वाले टाइम में देख लो इस गारमेंट से अच्छा होगा
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऑनलाइन कंटेंट के लिए बड़ी गिरावट शायद नहीं देखी कंटेंट है ही नहीं कंटेंट के नाम पर केवल मजाक हो रहा है देश की जनता के साथ और उनके दिमाग को पूरी तरह से हाईजैक कर लिया है लोगों ने...
जवाब पढ़िये
ऑनलाइन कंटेंट के लिए बड़ी गिरावट शायद नहीं देखी कंटेंट है ही नहीं कंटेंट के नाम पर केवल मजाक हो रहा है देश की जनता के साथ और उनके दिमाग को पूरी तरह से हाईजैक कर लिया है लोगों ने
Likes  16  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय मीडिया के प्रति जो आम आदमी है उसका विश्वास रखते भारतीय की व्यवस्था करना है उसे मीडिया के खिलाफ जन मानव पर्यावरण मानव एवं को ईमानदारी और सच्चाई से देश की कई बातों को अब गरीब मजदूर किसान व्यापारी...
जवाब पढ़िये
भारतीय मीडिया के प्रति जो आम आदमी है उसका विश्वास रखते भारतीय की व्यवस्था करना है उसे मीडिया के खिलाफ जन मानव पर्यावरण मानव एवं को ईमानदारी और सच्चाई से देश की कई बातों को अब गरीब मजदूर किसान व्यापारी हर बार का ध्यान रखकर उनकी बात और उनकी मांग को आगे बढ़ाना चाहिए
Likes  16  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो में तो बहुत बड़ा बदलाव आया है वीडियो दिखाओ हो गया इसमें जो संविधान के चार तिलक माने जाते थे उस पेड़ के अंदर जंग लग गया एक कर दो पैसे की जो पैसा देता है वीडियो उसके लिए काम करता है...
जवाब पढ़िये
वीडियो में तो बहुत बड़ा बदलाव आया है वीडियो दिखाओ हो गया इसमें जो संविधान के चार तिलक माने जाते थे उस पेड़ के अंदर जंग लग गया एक कर दो पैसे की जो पैसा देता है वीडियो उसके लिए काम करता है
Likes  18  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीजे भारतीय मीडिया है वह राजनीति से बहुत ज्यादा प्रभावित हैं लगभग पिछले चार-पांच साल से ज्यादा इस क्षेत्र के अंदर राजनीति में पोस्टेड जो है यह राजनीति है वो ना एक निकला है जो भविष्य के लिए बहुत उचित न...
जवाब पढ़िये
डीजे भारतीय मीडिया है वह राजनीति से बहुत ज्यादा प्रभावित हैं लगभग पिछले चार-पांच साल से ज्यादा इस क्षेत्र के अंदर राजनीति में पोस्टेड जो है यह राजनीति है वो ना एक निकला है जो भविष्य के लिए बहुत उचित नहीं है क्योंकि पत्रकार को हमेशा निष्पक्ष होना चाहिए वह चीज नहीं आ रही है कॉलर ट्यून मीडिया के नोट और प्रिंट मीडिया है उसके अंदर भी देखने को मिली हैDJ Bharatiya Media Hai Wah Rajneeti Se Bahut Zyada Prabhavit Hain Lagbhag Pichhle Char Paanch Saal Se Zyada Is Shetra Ke Andar Rajneeti Mein Posted Jo Hai Yeh Rajneeti Hai Vo Na Ek Nikla Hai Jo Bhavishya Ke Liye Bahut Uchit Nahi Hai Kyonki Patrakar Ko Hamesha Nishpaksh Hona Chahiye Wah Cheez Nahi Aa Rahi Hai Collar Tune Media Ke Note Aur Print Media Hai Uske Andar Bhi Dekhne Ko Mili Hai
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मां के चरणों में 2014 के बाद का जो बदलाव लिखा हुआ है यह देती है कि अगर अगर 4 सालों में बदलाव हुआ है खास करके बात करें तो यह सोशल मीडिया को लेकर ज्यादा काम कर रही है मीडिया जॉय बदलाव हुआ है कि आम जनता ...
जवाब पढ़िये
मां के चरणों में 2014 के बाद का जो बदलाव लिखा हुआ है यह देती है कि अगर अगर 4 सालों में बदलाव हुआ है खास करके बात करें तो यह सोशल मीडिया को लेकर ज्यादा काम कर रही है मीडिया जॉय बदलाव हुआ है कि आम जनता के पास जाना चाहती हैMaa Ke Charanon Mein 2014 Ke Baad Ka Jo Badlav Likha Hua Hai Yeh Deti Hai Ki Agar Agar 4 Salon Mein Badlav Hua Hai Khas Karke Baat Karen To Yeh Social Media Ko Lekar Zyada Kaam Kar Rahi Hai Media Joy Badlav Hua Hai Ki Aam Janta Ke Paas Jana Chahti Hai
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वाकई इन सालों में मीडिया में बहुत बदलाव आया है आज मीडिया की बाजार का हिस्सा है इसमें बड़ी पूंजी निवेश है इसका संचालन कॉरपोरेट तरीके से पूंजीपति कर रही है इसलिए मीडिया जाहिर उनके हितों की बात करता है आ...
जवाब पढ़िये
वाकई इन सालों में मीडिया में बहुत बदलाव आया है आज मीडिया की बाजार का हिस्सा है इसमें बड़ी पूंजी निवेश है इसका संचालन कॉरपोरेट तरीके से पूंजीपति कर रही है इसलिए मीडिया जाहिर उनके हितों की बात करता है आम जनता के हित में अब काम नहीं करती है मीडिया सामाजिक सरोकार से कुछ लेना-देना नहीं रह गया महंगाई बेरोजगारी किसानों की आत्महत्या जैसे बड़े मुद्दे नदारत है मीडिया की सरकार तैयारी चल रही है जाहिर मीडिया का अस्तित्व खतरे में ही है लोकतंत्र के लिए या एक खतरे की घंटी है मीडिया का काम सत्ता से सवाल पूछना था और उसकी आलोचना करना था ना कि सरकार की खुशामत वीडियो में ज्यादातर बिकाऊ खबरें ही है मजेदार बात यह है कि इन बिकाऊ खबरों के लिए हम अपनी जेब ढीली कर रहे हैंVaakai In Salon Mein Media Mein Bahut Badlav Aaya Hai Aaj Media Ki Bazar Ka Hissa Hai Isme Badi Punji Nivesh Hai Iska Sanchalan Corporate Tarike Se Punjipati Kar Rahi Hai Isliye Media Jaahir Unke Hiton Ki Baat Karta Hai Aam Janta Ke Hit Mein Ab Kaam Nahi Karti Hai Media Samajik Sarokar Se Kuch Lena Dena Nahi Rah Gaya Mahangai Berojgari Kisano Ki Aatmahatya Jaise Bade Mudde Nadarat Hai Media Ki Sarkar Taiyari Chal Rahi Hai Jaahir Media Ka Astitv Khatre Mein Hi Hai Loktantra Ke Liye Ya Ek Khatre Ki Ghanti Hai Media Ka Kaam Satta Se Sawal Poochna Tha Aur Uski Aalochana Karna Tha Na Ki Sarkar Ki Khushamat Video Mein Jyadatar Bikau Khabren Hi Hai Majedar Baat Yeh Hai Ki In Bikau Khabaro Ke Liye Hum Apni Jeb Dhili Kar Rahe Hain
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीते चार-पांच सालों में तो नहीं कह सकते लेकिन हां जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार आई है केंद्र में तब से मीडिया बिल्कुल बदल सा गया है ऐसा मालूम पड़ता है जैसे मीडिया पूरी तरीके से केंद्र सरकार के अधी...
जवाब पढ़िये
बीते चार-पांच सालों में तो नहीं कह सकते लेकिन हां जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार आई है केंद्र में तब से मीडिया बिल्कुल बदल सा गया है ऐसा मालूम पड़ता है जैसे मीडिया पूरी तरीके से केंद्र सरकार के अधीन आ गया है जादू तक चैनल के देवों के मुख्य केंद्र सरकार की फैसला उनके पक्ष में हो या विपक्ष पार्टियों क्या बुराई करता है और केंद्र सरकार की हमेशा तारीफ करता है नरेंद्र मोदी की तारीफ करता है ज्यादातर चैनल इस्लामिक वॉलपेपरBitte Char Paanch Salon Mein To Nahi Keh Sakte Lekin Haan Jab Se Bhartiya Janta Party Ki Sarkar Eye Hai Kendra Mein Tab Se Media Bilkul Badal Sa Gaya Hai Aisa Maloom Padata Hai Jaise Media Puri Tarike Se Kendra Sarkar Ke Adhin Aa Gaya Hai Jadu Tak Channel Ke Devon Ke Mukhya Kendra Sarkar Ki Faisla Unke Paksh Mein Ho Ya Vipaksh Partiyon Kya Burayi Karta Hai Aur Kendra Sarkar Ki Hamesha Tarif Karta Hai Narendra Modi Ki Tarif Karta Hai Jyadatar Channel Islamic Wallpaper
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नथिंग सबसे बड़ा जो बदलाव आया है वह यह कि अब हम लोग भी धीरे-धीरे ना कहीं ना कहीं मीडिया का जो पब्लिक है उसको समझने लग गए हैं और अब तो शायद जनरेशन को उस नजर से नहीं देखा जाता है जिस नजर से 5 साल पहले दे...
जवाब पढ़िये
नथिंग सबसे बड़ा जो बदलाव आया है वह यह कि अब हम लोग भी धीरे-धीरे ना कहीं ना कहीं मीडिया का जो पब्लिक है उसको समझने लग गए हैं और अब तो शायद जनरेशन को उस नजर से नहीं देखा जाता है जिस नजर से 5 साल पहले देखा जाता था पिछले 5 सालों के दौरान एक चीनी अभी आया है किस चैनल अब खुलकर धीरे धीरे सामने आने लग गए हैं और आप एक या दूसरी विचारधारा के पक्ष में एक नए टैब उनका है जो अब खुलकर सबके सामने आ रहा है और हो सकता है आने वाले समय में कैसा भी हमें बस देखने को मिले जब खुलकर आपको वह चैनल खुद ही यह बोलते हुए नजर आए कि वह इस पार्टी को उस पार्टी को या इस विचारधारा को या उस विचारधारा को समर्थन देते जैसे यूएस में होता है आप अगर वहां देखें न्यू यॉर्क टाइम्स और सीएनएन लिफ्ट की तरफ काफी झुके हुए हैं हिलेरी क्लिंटन का जमकर समर्थन किया उन्होंने पिछले इलेक्शन के दौरान और यहां तक कि वो खुलकर सामने आ गए थे न्यूयॉर्क टाइम्स ने पहली बार ऐसा हुआ इतिहास में निवेश की सीमा की खुलकर एक का कैंडिडेट को जो है वह सपोर्ट के तो इस तरीके की चीजें भी आपको आने वाले समय में हो सकता है देखने को मिले इंडिया में जब खुलकर सब अपने आप को रंग दिखाएNothing Sabse Bada Jo Badlav Aaya Hai Wah Yeh Ki Ab Hum Log Bhi Dhire Dhire Na Kahin Na Kahin Media Ka Jo Public Hai Usko Samjhne Lag Gaye Hain Aur Ab To Shayad Generation Ko Us Nazar Se Nahi Dekha Jata Hai Jis Nazar Se 5 Saal Pehle Dekha Jata Tha Pichle 5 Salon Ke Dauran Ek Chini Abhi Aaya Hai Kis Channel Ab Khulkar Dhire Dhire Samane Aane Lag Gaye Hain Aur Aap Ek Ya Dusri Vichardhara Ke Paksh Mein Ek Naye Tab Unka Hai Jo Ab Khulkar Sabke Samane Aa Raha Hai Aur Ho Sakta Hai Aane Wale Samay Mein Kaisa Bhi Hume Bus Dekhne Ko Mile Jab Khulkar Aapko Wah Channel Khud Hi Yeh Bolte Hue Nazar Aaye Ki Wah Is Party Ko Us Party Ko Ya Is Vichardhara Ko Ya Us Vichardhara Ko Samarthan Dete Jaise Us Mein Hota Hai Aap Agar Wahan Dekhen New York Times Aur Sienaen Lift Ki Taraf Kafi Jhuke Hue Hain Hillary Clinton Ka Jamakar Samarthan Kiya Unhone Pichle Election Ke Dauran Aur Yahan Tak Ki Vo Khulkar Samane Aa Gaye The Nyuyark Times Ne Pehli Baar Aisa Hua Itihas Mein Nivesh Ki Seema Ki Khulkar Ek Ka Candidate Ko Jo Hai Wah Support Ke To Is Tarike Ki Cheezen Bhi Aapko Aane Wale Samay Mein Ho Sakta Hai Dekhne Ko Mile India Mein Jab Khulkar Sab Apne Aap Ko Rang Dekhiye
Likes  5  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

4:00 से 5 सालों में भारतीय मीडिया के बदलाव के अगर बात करें तो का अच्छे बुरे दोनों ही बदलाव देखे गए हैं अच्छे बदलाव में अगर देखा जाए तो हमारे भारतीय मीडिया काफी बोल्ड हो गए हैं चाहे वह डिबेट शो ऑफ कॉन्...
जवाब पढ़िये
4:00 से 5 सालों में भारतीय मीडिया के बदलाव के अगर बात करें तो का अच्छे बुरे दोनों ही बदलाव देखे गए हैं अच्छे बदलाव में अगर देखा जाए तो हमारे भारतीय मीडिया काफी बोल्ड हो गए हैं चाहे वह डिबेट शो ऑफ कॉन्ट्रोवर्सी हो या फिर किसी चीज पर किस मुद्दे पर डिस्कस करना हो बहुत खुलकर करती है सारे आप जो जानकारियां निकालते लोगों को भी जानकारियां मिलती है कहां पर क्या हो रहा है कैसे हो रहा रेप छोटी छोटी बातों का डिस्कशन होता है और एक अगर बुरी के सगर देखे जाए अगर जो बुरा बदलाव आ कर देखा गया है अभी एक कर दो बहुत मान्यता मिलती है वह होता है जो कि TV वीडियो में बहुत ज्यादा होता एक मसाला न्यूज़ अगर कोई चीज घट रही है और उसमें टीआरपी रेटिंग बहुत ज्यादा पर जा रही है उसी पर ही रहता है और दो-तीन दिन तक न्यूज़ को दोहराया जा बार-बार अजब के 1 दिन में काफी कुछ हो जाता है और काफी कुछ जानने के लिए होता है जबकि एक बहुत बड़ी चीज हो गई है आम आदमी को फर्क पड़ रहा है नहीं पड़ रहा है और वही चीज दिनभर अगर और चलती रहे दिन भर दिन चलती रहे तो वह बहुत टेंशन हो जाती है मगर मीडिया का काम ही यही है कि तू हमारे आम आदमी है कॉमर्स से उन तक न्यूज़ पहुंचाएं कहां पर क्या चल रहा है चाहे वो Tv हो जाए वह न्यूज़पेपर चाहे और रेडियो हो4:00 Se 5 Salon Mein Bhartiya Media Ke Badlav Ke Agar Baat Karen To Ka Acche Bure Dono Hi Badlav Dekhe Gaye Hain Acche Badlav Mein Agar Dekha Jaye To Hamare Bhartiya Media Kafi Bold Ho Gaye Hain Chahe Wah Debate Show Of Controversy Ho Ya Phir Kisi Cheez Par Kis Mudde Par Discuss Karna Ho Bahut Khulkar Karti Hai Sare Aap Jo Jankariyan Nikalate Logon Ko Bhi Jankariyan Milti Hai Kahan Par Kya Ho Raha Hai Kaise Ho Raha Rape Choti Choti Baaton Ka Discussion Hota Hai Aur Ek Agar Buri Ke Sagar Dekhe Jaye Agar Jo Bura Badlav Aa Kar Dekha Gaya Hai Abhi Ek Kar Do Bahut Manyata Milti Hai Wah Hota Hai Jo Ki TV Video Mein Bahut Jyada Hota Ek Masala News Agar Koi Cheez Ghat Rahi Hai Aur Usamen Trp Rating Bahut Jyada Par Ja Rahi Hai Ussi Par Hi Rehta Hai Aur Do Teen Din Tak News Ko Dohraya Ja Baar Baar Ajab Ke 1 Din Mein Kafi Kuch Ho Jata Hai Aur Kafi Kuch Jaanne Ke Liye Hota Hai Jabki Ek Bahut Badi Cheez Ho Gayi Hai Aam Aadmi Ko Fark Padh Raha Hai Nahi Padh Raha Hai Aur Wahi Cheez Dinbhar Agar Aur Chalti Rahe Din Bhar Din Chalti Rahe To Wah Bahut Tension Ho Jati Hai Magar Media Ka Kaam Hi Yahi Hai Ki Tu Hamare Aam Aadmi Hai Commerce Se Un Tak News Paunchaye Kahan Par Kya Chal Raha Hai Chahe Vo Tv Ho Jaye Wah Newspaper Chahe Aur Radio Ho
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीडिया भारतीय मीडिया आज के समय में कुछ ऐसी हो गई है कि वह टीआरपी बढ़ाने के चक्कर में जो मैं न्यूज़ होती है उसको नहीं दिखाती है उसको अच्छे से नहीं दर्शाती है और मैं आपके बताऊं कि आपको तो पता ही होगा कि...
जवाब पढ़िये
मीडिया भारतीय मीडिया आज के समय में कुछ ऐसी हो गई है कि वह टीआरपी बढ़ाने के चक्कर में जो मैं न्यूज़ होती है उसको नहीं दिखाती है उसको अच्छे से नहीं दर्शाती है और मैं आपके बताऊं कि आपको तो पता ही होगा कि अपने जो भारतीय मीडिया या जो न्यूज़ चैनल होते हैं वह कहीं ना कहीं डायरेक्ट और इनडायरेक्ट लिए किसी पॉलिटिकल पॉलिटिकल पॉलिटिकल पार्टी से कनेक्टेड होते हैं कि उसकी फंडिंग वहीं से होती है उसको सपोर्ट भी नहीं चलता है तो जो यह डिफरेंस है आपको वह कहीं ना कहीं अपनी मीडिया न्यूज़ में दिखी जाएगा कि एक पर्टिकुलर चैनल एक पर्टिकुलर पॉलिटिकल पार्टी को सपोर्ट कर रहे लेकिन अभी कुछ एक या दो साल में जब से BJP सरकार आई है तो इसमें कोई शक नहीं है कि मोस्ट ऑफ़ ज़ी न्यूज़ चैनल सपोर्ट पीएम मोदी और मैं आपको बताऊं मेरी जोहरा है कि जो हमारे भारतीय मीडिया है उसको जो मेन मुद्दा है भारत का भ्रष्टाचार और बहुत सारे कई मुद्दे उसको अच्छे से दर्शाया चाहिए ना कि कुछ ऐसा करना चाहिए ताकि टीआरपी बढ़ाने के चक्कर में जो मेन न्यूज़ है या मेन मुद्दा है वो हटकर Entertainment जो बन जाता है बस यही बोलूंगा और जैसे आपको एग्जाम पति तो आपको तो पता है आकर भारत में कुछ ऐसा होता है या कुछ गलत काम होता है कुछ ऐसा एक नया मिर्ची वाला टॉपिक मिलता है मीडिया को तो मीडिया एक कॉन्फ्रेंस कर आती है आपस में दो पार्टी के लोगों को मिटा देती है और उस टॉपिक पर एक या 2 घंटे पर डिबेट चलता है वह सिर्फ एक दूसरे को गाली देते रहते हैं कोई रिजल्ट नहीं आ रहा है बाकी एंटरटेनमेंट बढ़ गया उसे की आयु बढ़ जाती है और कुछ नहीं होताMedia Bhartiya Media Aaj Ke Samay Mein Kuch Aisi Ho Gayi Hai Ki Wah Trp Badhane Ke Chakkar Mein Jo Main News Hoti Hai Usko Nahi Dikhaati Hai Usko Acche Se Nahi Darshatee Hai Aur Main Aapke Bataun Ki Aapko To Pata Hi Hoga Ki Apne Jo Bhartiya Media Ya Jo News Channel Hote Hain Wah Kahin Na Kahin Direct Aur Indirect Liye Kisi Political Political Political Party Se Connected Hote Hain Ki Uski Funding Wahin Se Hoti Hai Usko Support Bhi Nahi Chalta Hai To Jo Yeh Difference Hai Aapko Wah Kahin Na Kahin Apni Media News Mein Dikhi Jayega Ki Ek Particular Channel Ek Particular Political Party Ko Support Kar Rahe Lekin Abhi Kuch Ek Ya Do Saal Mein Jab Se BJP Sarkar Eye Hai To Isme Koi Shaq Nahi Hai Ki Most Of Zi News Channel Support Pm Modi Aur Main Aapko Bataun Meri Johra Hai Ki Jo Hamare Bhartiya Media Hai Usko Jo Main Mudda Hai Bharat Ka Bhrashtachar Aur Bahut Sare Kai Mudde Usko Acche Se Darshaya Chahiye Na Ki Kuch Aisa Karna Chahiye Taki Trp Badhane Ke Chakkar Mein Jo Main News Hai Ya Main Mudda Hai Vo Hatakar Entertainment Jo Ban Jata Hai Bus Yahi Bolunga Aur Jaise Aapko Exam Pati To Aapko To Pata Hai Aakar Bharat Mein Kuch Aisa Hota Hai Ya Kuch Galat Kaam Hota Hai Kuch Aisa Ek Naya Mirchi Wala Topic Milta Hai Media Ko To Media Ek Conference Kar Aati Hai Aapas Mein Do Party Ke Logon Ko Mita Deti Hai Aur Us Topic Par Ek Ya 2 Ghante Par Debate Chalta Hai Wah Sirf Ek Dusre Ko Gaali Dete Rehte Hain Koi Result Nahi Aa Raha Hai Baki Entertainment Badh Gaya Use Ki Aayu Badh Jati Hai Aur Kuch Nahi Hota
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीते 45 सालों में बिल्कुल भारतीय मीडिया में बहुत बदलाव आए हैं भारतीय मीडिया अगर आप टेलीविजन मीडिया देखा जाए तो टेलीविजन मीडिया में आज कल सारे रिपोर्टर सारी खबरों की बहुत अच्छे से पुष्टि करके ही उन्हें...
जवाब पढ़िये
बीते 45 सालों में बिल्कुल भारतीय मीडिया में बहुत बदलाव आए हैं भारतीय मीडिया अगर आप टेलीविजन मीडिया देखा जाए तो टेलीविजन मीडिया में आज कल सारे रिपोर्टर सारी खबरों की बहुत अच्छे से पुष्टि करके ही उन्हें टेलीविजन पर ला रहे हैं बहुत से बहुत सारी खबरें जो ढूंढ ढूंढ कर जो जी ने निकाला मुश्किल है हमारे पत्रकार वहां पर मेहनत करके भी उन खबरों को अच्छे से रिपोर्टिंग कर रहे हैं उनकी 45 14 20 20 45 सालों में खास करके सोशल मीडिया जो है बहुत ताकतवर हो गया है सोशल मीडिया याने इंटरनेट द्वारा सारे खबरों को जब तक पहुंचाना अब न्यूज़ चैनल न्यूज़ चैनल ने सिर्फ TV का कि अपने आप को सीमित नहीं रखा है उन्होंने बहुत सारे जैसे की आप सभी शुरू कर दी है ताकि लोगों तक खबरें पहुंच सके अब शुरू कर दी यह फेसबुक पर पेज इस वगैरा निकाले हैं इंस्टाग्राम जैसे आप पर भी पेजेस निकाले हैं वीडियोस डालते रहते हैं ताकि लोगों लोग लोग और खास करके युवा पीढ़ी भी इन सोशल मीडिया ऐप्स के द्वारा सारे खबरों के साथ जुड़े रहे एक बहुत अच्छी कोशिश है पर हम कुछ बुरे कुछ बुरा चाहिए सर घटना भी घटी है मीडिया के साथ जैसे कि वह इसी समय में जा पद्मावती का घटना हुआ था दिल्ली में लगभग लाखों बहुत सारे लाखों किसानों ने एक मार्च किया था पर पद्मावती के लिए ट्रेन के पद्मावती की जो घटना उसके टीआरपी बहुत ज्यादा मिलती है इसके लिए उन्होंने उसे ही बार बार TV मीडिया दिखा रही थी पर किसानों के मार्च को नहीं दिखाएगा यह बहुत गलत हो रहा है TV मीडिया को इस पर भी ध्यान देना चाहिएBitte 45 Salon Mein Bilkul Bhartiya Media Mein Bahut Badlav Aaye Hain Bhartiya Media Agar Aap Television Media Dekha Jaye To Television Media Mein Aaj Kal Sare Reporter Saree Khabaro Ki Bahut Acche Se Pushti Karke Hi Unhen Television Par La Rahe Hain Bahut Se Bahut Saree Khabren Jo Dhundh Dhundh Kar Jo Ji Ne Nikaala Mushkil Hai Hamare Patrakar Wahan Par Mehnat Karke Bhi Un Khabaro Ko Acche Se Reporting Kar Rahe Hain Unki 45 14 20 20 45 Salon Mein Khas Karke Social Media Jo Hai Bahut Takatwar Ho Gaya Hai Social Media Yaane Internet Dwara Sare Khabaro Ko Jab Tak Pahunchana Ab News Channel News Channel Ne Sirf TV Ka Ki Apne Aap Ko Simith Nahi Rakha Hai Unhone Bahut Sare Jaise Ki Aap Sabhi Shuru Kar Di Hai Taki Logon Tak Khabren Pahunch Sake Ab Shuru Kar Di Yeh Facebook Par Page Is Vagaira Nikale Hain Instagram Jaise Aap Par Bhi Pejes Nikale Hain Videos Daalte Rehte Hain Taki Logon Log Log Aur Khas Karke Yuva Pidhi Bhi In Social Media Apps Ke Dwara Sare Khabaro Ke Saath Jude Rahe Ek Bahut Acchi Koshish Hai Par Hum Kuch Bure Kuch Bura Chahiye Sar Ghatna Bhi Ghati Hai Media Ke Saath Jaise Ki Wah Isi Samay Mein Ja Padmavati Ka Ghatna Hua Tha Delhi Mein Lagbhag Laakhon Bahut Sare Laakhon Kisano Ne Ek March Kiya Tha Par Padmavati Ke Liye Train Ke Padmavati Ki Jo Ghatna Uske Trp Bahut Jyada Milti Hai Iske Liye Unhone Use Hi Baar Baar TV Media Dikha Rahi Thi Par Kisano Ke March Ko Nahi Dikhaega Yeh Bahut Galat Ho Raha Hai TV Media Ko Is Par Bhi Dhyan Dena Chahiye
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bitte 4- 5 Salon Mein Bharatiya Media Mein Kya Badlav Aaya Hai, What Has Changed In Indian Media In The Past 4-5 Years?

vokalandroid