क्या भारतीय मीडिया आज भी उतनी स्वतंत्र है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहां जा रहा है कि आप लोग समझने लगे इस तरह का जो पूरा खुल्लम खुल्ला आम जनता को भी लगने लगा है...
जवाब पढ़िये
कहां जा रहा है कि आप लोग समझने लगे इस तरह का जो पूरा खुल्लम खुल्ला आम जनता को भी लगने लगा है
Likes  18  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुश्मन के मीडिया पूरी तरह स्वतंत्र है और चैनलों और अखबारों पर सरकार के खिलाफ सरकार के पक्ष और विपक्ष में जातियां आती हैं तो 2 स्वतंत्र है और अपने व्यक्तिगत कारणों से किसी पत्रकार को शाम को बता दे मारी...
जवाब पढ़िये
दुश्मन के मीडिया पूरी तरह स्वतंत्र है और चैनलों और अखबारों पर सरकार के खिलाफ सरकार के पक्ष और विपक्ष में जातियां आती हैं तो 2 स्वतंत्र है और अपने व्यक्तिगत कारणों से किसी पत्रकार को शाम को बता दे मारी चौथ किया जा रहा है या किसी तरह की पहरेदारी की जा रही है लोगों को तो सरकार के खिलाफ तो अभी
Likes  72  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दमाद अपने आप को के लिए काम करना है...
जवाब पढ़िये
दमाद अपने आप को के लिए काम करना है
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में मीडिया को चौथा स्तंभ कहा जाता है सवाल का जवाब बन ही रहना तुम भारत में लौह स्तंभ कहा जाता है पनर कहा जाता है औरत पटाने का भी जन्म हुआ है पिछले साल प्रधानमंत्री आने वाले कल में घटक काम करने जा ...
जवाब पढ़िये
भारत में मीडिया को चौथा स्तंभ कहा जाता है सवाल का जवाब बन ही रहना तुम भारत में लौह स्तंभ कहा जाता है पनर कहा जाता है औरत पटाने का भी जन्म हुआ है पिछले साल प्रधानमंत्री आने वाले कल में घटक काम करने जा रही है बताते हुए हैं लड़की से बात करके आया था तो हमको बहुत सारी गाइडलाइन लोगों ने सरकार विरोधी कोई भी खबर अगर प्रक्रिया पोर्टल पर आ रही है किसी का तो उसको मैडम तुरंत देखा जा रहा है यह पत्रकार के लिए यह भारतीय पत्रकारिता के लिए शुभ संकेत नहीं है कि साउथ कोरिया नहीं है या जो आलाकमान तक के पर मेरे और आप जैसे ही लोग निकलते हैं लेकिन आप पढ़ कर आएंगे अपने मां बाप को कितनी कठिन परिश्रम के होने पर आया था बहुत सारे लोग जिनके बाबा कौन है लिखता चला चला कर लगा लगा कर उनके बच्चे बने और वहां का तानाशाह बनेंगे और अपने आप को कंट्रोल नहीं कर मीडिया के हक और हुकूक को रोकने की कोशिश करी दबाने की कोशिश करी तो भारत में मीडिया के प्रभाव
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो कितना स्वतंत्र है यह एक बहुत बड़ा सवाल है और शायद इसका एक सटीक आंसर दे पाना बहुत मुश्किल है जितने भी लीडिंग मीडिया हाउस इन इंडिया में आप तो देखेंगे अगर उन की तह तक जाए तो आप को साफ दिख जाएगा कि...
जवाब पढ़िये
वीडियो कितना स्वतंत्र है यह एक बहुत बड़ा सवाल है और शायद इसका एक सटीक आंसर दे पाना बहुत मुश्किल है जितने भी लीडिंग मीडिया हाउस इन इंडिया में आप तो देखेंगे अगर उन की तह तक जाए तो आप को साफ दिख जाएगा कि उनका एक ना एक बड़ी पार्टी जो इंडिया में पॉलिटिकल पार्टी है उसके साथ कुछ न कुछ गड़बड़ है और वैसे मैं वह कितने स्वतंत्र हैं और कितने निष्पक्ष हैं इसका अंदाजा लगा पाना अपने आप के दम पर बहुत मुश्किल है लेकिन अगर आप टाइटंस फॉलो करें और उन को रिकॉर्ड करने की कोशिश करें तो आपको दिख जाएगा कि साफ तौर पर दो अलग-अलग धाराएं हैं और हर एक चैनल उनमें से किसी न किसी एक में आपको अधिक जाएगा तो वैसे मैं आप बहुत ज्यादा एक्सपेक्ट नहीं कर सकते हैं खासकर जो मेनस्ट्रीम मीडिया टेलीविजन और न्यूज़ पेपर्स उनसे मुझे लगता है कि बहुत ज्यादा स्वतंत्रता उनके अंदर और निष्पक्षता उनके पर हरमेश कि आप उम्मीद नहीं करें तो बेहतरVideo Kitna Swatantra Hai Yeh Ek Bahut Bada Sawal Hai Aur Shayad Iska Ek Sateek Answer De Pana Bahut Mushkil Hai Jitne Bhi Leading Media House In India Mein Aap To Dekhenge Agar Un Ki Tah Tak Jaye To Aap Ko Saaf Dikh Jayega Ki Unka Ek Na Ek Badi Party Jo India Mein Political Party Hai Uske Saath Kuch N Kuch Gadbad Hai Aur Waise Main Wah Kitne Swatantra Hain Aur Kitne Nishpaksh Hain Iska Andaja Laga Pana Apne Aap Ke Dum Par Bahut Mushkil Hai Lekin Agar Aap Taitans Follow Karen Aur Un Ko Record Karne Ki Koshish Karen To Aapko Dikh Jayega Ki Saaf Taur Par Do Alag Alag Dharayen Hain Aur Har Ek Channel Unmen Se Kisi N Kisi Ek Mein Aapko Adhik Jayega To Waise Main Aap Bahut Jyada Expect Nahi Kar Sakte Hain Khaskar Jo Mainstream Media Television Aur News Papers Unse Mujhe Lagta Hai Ki Bahut Jyada Swatantrata Unke Andar Aur Nishpakshata Unke Par Harmesh Ki Aap Ummid Nahi Karen To Behtar
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BJP BJP कि केंद्र में सरकार आने के बाद चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन मैंने यह एक्सपीरियंस किया है कि भारतीय मीडिया उतना सुंदर नहीं रहा अंदरखाने जो भी हो जैसा भी हो यह हमें नहीं पता लग सकता है लेकिन दर्शको...
जवाब पढ़िये
BJP BJP कि केंद्र में सरकार आने के बाद चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन मैंने यह एक्सपीरियंस किया है कि भारतीय मीडिया उतना सुंदर नहीं रहा अंदरखाने जो भी हो जैसा भी हो यह हमें नहीं पता लग सकता है लेकिन दर्शकों के रूप में एक जनता आम जनता के रूप में जो मैंने एक्सपीरियंस किया है महसूस किया है कि भारतीय मीडिया केवल और केवल सरकार के अच्छे काम बना रहा है आजकल बहुत सारे चैनल इसमें शामिल है मैं नाम नहीं लेना चाहूंगा लेकिन क्योंकि सब लोग जानते हैं इसलिए लेना पड़ रहा है Zee TV खुलेआम सपोर्ट करता है भारत केंद्र सरकार का करना भी चाहिए लेकिन हर काम का नहीं करना चाहिए जो काम हो रहा है उसकी बुराई करनी चाहिए जैसे हाल ही में कुछ दिन पहले एक रिश्ता आया था NDTV चैनल ने केंद्र सरकार के किसी की आलोचना की थी जिसके कारणवश क्वेश्चन को 1 दिन के लिए बंद कर दिया गया था मीडिया के लिए काला धंधा को अवगत कराना सच्चाई से किसी की झूठी तारीफ नहीं करना तो इसलिए उनको स्वतंत्रता हमें आजादी मिलनी चाहिए उन पर किसी भी तरीके की बहुत टेंशन नहीं होगीBJP BJP Ki Kendra Mein Sarkar Aane Ke Baad Chahe Koi Kuch Bhi Kahe Lekin Maine Yeh Experience Kiya Hai Ki Bhartiya Media Utana Sundar Nahi Raha Andarakhane Jo Bhi Ho Jaisa Bhi Ho Yeh Hume Nahi Pata Lag Sakta Hai Lekin Darshakon Ke Roop Mein Ek Janta Aam Janta Ke Roop Mein Jo Maine Experience Kiya Hai Mahsus Kiya Hai Ki Bhartiya Media Kewal Aur Kewal Sarkar Ke Acche Kaam Bana Raha Hai Aajkal Bahut Sare Channel Isme Shamil Hai Main Naam Nahi Lena Chahunga Lekin Kyonki Sab Log Jante Hain Isliye Lena Padh Raha Hai Zee TV Khuleaam Support Karta Hai Bharat Kendra Sarkar Ka Karna Bhi Chahiye Lekin Har Kaam Ka Nahi Karna Chahiye Jo Kaam Ho Raha Hai Uski Burayi Karni Chahiye Jaise Haal Hi Mein Kuch Din Pehle Ek Rishta Aaya Tha NDTV Channel Ne Kendra Sarkar Ke Kisi Ki Aalochana Ki Thi Jiske Karanvash Question Ko 1 Din Ke Liye Band Kar Diya Gaya Tha Media Ke Liye Kala Dhanda Ko Avgat Krana Sacchai Se Kisi Ki Jhuthi Tarif Nahi Karna To Isliye Unko Swatantrata Hume Azadi Milani Chahiye Un Par Kisi Bhi Tarike Ki Bahut Tension Nahi Hogi
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharatiya Media Aaj Bhi Utani Swatantra Hai, Is The Indian Media Still So Independent Today?

vokalandroid