आज के माता पिता अपने बच्चे को सही पारवारिक ज्ञान दे पाते हैं? ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
मुझे ऐसा लगता है कि आजकल के माता पिता अपने बच्चे को सही तरीके से पारिवारिक ज्ञान नहीं दे पाते हैं इसके पीछे कई कारण हैं सबसे पहला कि कि कि आजकल लोगों की जिंदगी की पड़ती रफ्तार दूसरा डिजिटलाइजेशन और बाकी कई सारे स्ट्रेस से रिलेटेड पागल हैं जो हमारे लाइफ स्टाइल चेंज इसकी वजह से है और आजकल हमारी जिंदगी में आते जा रहे हैं जो कि सही नहीं है पहले तो सबसे बड़ी बात यह है कि पैसे कमाने की होड़ में काफी लोग परिवार को वक्त नहीं दे पाते हैं और उसके बाद जो आज कल हमारा एजुकेशन सिस्टम है इसमें जो स्टूडेंट से उनके ऊपर काफी प्रेशर बना रहता है अच्छा परफॉर्म करने का देश में अच्छे मार्क्स लाने का टॉप स्कूल इन सूरत में रहने का और इसीलिए वह स्कूल खत्म होते ही होमवर्क फिर ट्यूशन और सुरेश तो इस हिसाब होते होते जाए काफी कम टाइम मिलता है पेरेंट्स और उनके बच्चों को आपस में इंतजार करने का और आजकल लोग काफी नहीं प्ले पब्लिक में रह रहे हैं जॉइंट फैमिली काफी कम देखने को मिलते हैं तो इससे भी काफी फर्क पड़ता है कि पहले दादिया बहुत सारी ढ़ेर किस्से और पारिवारिक ज्ञान देते थे अपने पोते पोते और नाती नातिन को जो अब नहीं हो पाता है तो मुझे लगता है कि यही सबसे बड़ा कारण है कि आजकल बच्चों को सही पारिवारिक ज्ञान नहीं है क्योंकि सोसाइटी की डिमांड सब चेंज हो रही है और परिवार से ज्यादा लोग ध्यान जो है की पर्सनल लाइफ से ज्यादा ध्यान लोग अपने प्रोफेशनल लाइफ कर रहे हैं जो कि बिल्कुल सही नहीं है और हमें इस पर भी ध्यान देना चाहिए यह भी उतना ही जरूरी है क्योंकि इसी से एक आदमी का व्यक्तित्व बनाया जाता है धन्यवादMujhe Aisa Lagta Hai Ki Aajkal Ke Mata Pita Apne Bacche Ko Sahi Tarike Se Parivarik Gyaan Nahi De Paate Hain Iske Piche Kai Kaaran Hain Sabse Pehla Ki Ki Ki Aajkal Logon Ki Zindagi Ki Padhti Raftaar Doosra Dijitlaijeshan Aur Baki Kai Sare Stress Se Related Pagal Hain Jo Hamare Life Style Change Iski Wajah Se Hai Aur Aajkal Hamari Zindagi Mein Aate Ja Rahe Hain Jo Ki Sahi Nahi Hai Pehle To Sabse Badi Baat Yeh Hai Ki Paise Kamane Ki Hod Mein Kafi Log Parivar Ko Waqt Nahi De Paate Hain Aur Uske Baad Jo Aaj Kal Hamara Education System Hai Isme Jo Student Se Unke Upar Kafi Pressure Bana Rehta Hai Accha Perform Karne Ka Desh Mein Acche Marks Lane Ka Top School In Surat Mein Rehne Ka Aur Isliye Wah School Khatam Hote Hi Homework Phir Tuition Aur Suresh To Is Hisab Hote Hote Jaye Kafi Kum Time Milta Hai Parents Aur Unke Bacchon Ko Aapas Mein Intejar Karne Ka Aur Aajkal Log Kafi Nahi Play Public Mein Rah Rahe Hain Joint Family Kafi Kum Dekhne Ko Milte Hain To Isse Bhi Kafi Fark Padata Hai Ki Pehle Dadiya Bahut Saree Dher Kisse Aur Parivarik Gyaan Dete The Apne Pote Pote Aur Nati Natin Ko Jo Ab Nahi Ho Pata Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Yahi Sabse Bada Kaaran Hai Ki Aajkal Bacchon Ko Sahi Parivarik Gyaan Nahi Hai Kyonki Society Ki Demand Sab Change Ho Rahi Hai Aur Parivar Se Jyada Log Dhyan Jo Hai Ki Personal Life Se Jyada Dhyan Log Apne Professional Life Kar Rahe Hain Jo Ki Bilkul Sahi Nahi Hai Aur Hume Is Par Bhi Dhyan Dena Chahiye Yeh Bhi Utana Hi Zaroori Hai Kyonki Isi Se Ek Aadmi Ka Vyaktitva Banaya Jata Hai Dhanyavad
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देसी भानु जी आज के माता पिता हूं या कल क्या आने वाले कल के ऐसा कोई माता-पिता नहीं होता है जो चाहे कि उसका बच्चा सही संस्कारी शिक्षा प्राप्त नहीं कर सके हर कोई चाहता है हर कोई अपनी तरफ से देने की कोशिश करता है अच्छे संस्कार अब बच्चा उसे कितना लेट आए या ना ले पाए यह भी एक स्थिति है दूसरी स्थिति यह भी हो गई है कि पहले जमाने के माता-पिता क्योंकि इतने बिजी नहीं थे तो वह अपने बच्चों पर पूरी तरीके से ध्यान दे पाते थे उनके साथ समय बिता पाते थे उनकी रोज की दैनिक व्यवस्था को समझ पाते थे उन सब चीजों पर उनकी नजर आज के जमाने में पैसे के पीछे लोग इतने पागल हो गए हैं सब काम काजी है सुबह जाना शाम को आना है रात को आना कामकाज होने लगी हे माता पिता आजकल दोनों वर्किंग होने लगे एक जैसा भी है ध्यान कम हो गया है अपने बच्चों को उनके संग कम समय बिताते हैं वह पैसा कमाने में लगे इसलिए बच्चों से हर बात शेयर नहीं कर पाते हैं उनके साथ पूरा टाइम स्पेंडिंग कर पाते हैं और इसीलिए उनको नहीं सुधर पाते हैं जिसके कारणवश आज का समाज पहले के सामान से बचने संस्कारी नहीं आते हर तरीके से अंडे पर सबसे पहले रहते थेDesi Bhanu Ji Aaj Ke Mata Pita Hoon Ya Kal Kya Aane Wale Kal Ke Aisa Koi Mata Pita Nahi Hota Hai Jo Chahe Ki Uska Baccha Sahi Sanskari Shiksha Prapt Nahi Kar Sake Har Koi Chahta Hai Har Koi Apni Taraf Se Dene Ki Koshish Karta Hai Acche Sanskar Ab Baccha Use Kitna Let Aaye Ya Na Le Paye Yeh Bhi Ek Sthiti Hai Dusri Sthiti Yeh Bhi Ho Gayi Hai Ki Pehle Jamaane Ke Mata Pita Kyonki Itne Busy Nahi The To Wah Apne Bacchon Par Puri Tarike Se Dhyan De Paate The Unke Saath Samay Bita Paate The Unki Roj Ki Dainik Vyavastha Ko Samajh Paate The Un Sab Chijon Par Unki Nazar Aaj Ke Jamaane Mein Paise Ke Piche Log Itne Pagal Ho Gaye Hain Sab Kaam Kaji Hai Subah Jana Shaam Ko Aana Hai Raat Ko Aana Kamkaj Hone Lagi He Mata Pita Aajkal Dono Working Hone Lage Ek Jaisa Bhi Hai Dhyan Kum Ho Gaya Hai Apne Bacchon Ko Unke Sang Kum Samay Bitaate Hain Wah Paisa Kamane Mein Lage Isliye Bacchon Se Har Baat Share Nahi Kar Paate Hain Unke Saath Pura Time Spending Kar Paate Hain Aur Isliye Unko Nahi Sudhar Paate Hain Jiske Karanvash Aaj Ka Samaaj Pehle Ke Saamaan Se Bachane Sanskari Nahi Aate Har Tarike Se Ande Par Sabse Pehle Rehte The
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aaj Ke Mata Pita Apne Bacche Ko Sahi Parvarik Gyaan De Paate Hain





मन में है सवाल?