जनसंख्या विस्फोटक है या नहीं ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल जनसंख्या जो है वह बिल्कुल एक प्रकार का विस्फोटक की है जो कि धीरे-धीरे पड़ता है क्योंकि जैसे जैसे किसी भी एक देश की जनसंख्या बढ़ती रहती है तो उस देश में जितने भी रिसोर्सेज से तो धीरे-धीरे जो...
जवाब पढ़िये
जी बिल्कुल जनसंख्या जो है वह बिल्कुल एक प्रकार का विस्फोटक की है जो कि धीरे-धीरे पड़ता है क्योंकि जैसे जैसे किसी भी एक देश की जनसंख्या बढ़ती रहती है तो उस देश में जितने भी रिसोर्सेज से तो धीरे-धीरे जोड़ी उनकी डिमांड बढ़ती है उसकी वजह से देश का जो खर्चा है वह बढ़ता है तो जनसंख्या क्या कर बात कीजिए तो एक प्रकार का वॉइस फोटो की हैJi Bilkul Jansankhya Jo Hai Wah Bilkul Ek Prakar Ka Vishphotak Ki Hai Jo Ki Dhire Dhire Padata Hai Kyonki Jaise Jaise Kisi Bhi Ek Desh Ki Jansankhya Badhti Rehti Hai To Us Desh Mein Jitne Bhi Resources Se To Dhire Dhire Jodi Unki Demand Badhti Hai Uski Wajah Se Desh Ka Jo Kharcha Hai Wah Badhta Hai To Jansankhya Kya Kar Baat Kijiye To Ek Prakar Ka Voice Photo Ki Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जनसंख्या अवश्य ही विस्फोटक है इसके कारण भारत को नुकसान एवं फायदे दोनों हैं पर भारत की जनसंख्या बहुत अत्यधिक हो चुकी है और पढ़ने पर भारत को इकॉनमी में तो अवश्य ही फायदा है साथ ही साथ इस से उस पर वह भी ...
जवाब पढ़िये
जनसंख्या अवश्य ही विस्फोटक है इसके कारण भारत को नुकसान एवं फायदे दोनों हैं पर भारत की जनसंख्या बहुत अत्यधिक हो चुकी है और पढ़ने पर भारत को इकॉनमी में तो अवश्य ही फायदा है साथ ही साथ इस से उस पर वह भी आता है हर आदमी में प्रति व्यक्ति आय बहुत ही कम है और जनसंख्या और बढ़ने पर यह और भी कम हो जाएगी लोगों को रहने के लिए जगह की आवश्यकता होगी क्योंकि लोग जंगल को काटकर पूरा करेंगे भारत में और प्रदूषण होगा क्योंकि कार्य अत्यधिक होंगी और ट्रैफिक की समस्या तो भारत अभी नहीं हल कर पा रहा तो बाद में कठिनाई और ही होगी जब गाड़ियां और बढ़ जाएंगी भारत में जो भी बनेंगे क्योंकि हर एक व्यक्ति को सम्मान धन नहीं प्राप्त होगा और लोगों की इच्छाएं पढ़ ही रही है घट नहीं रहे भारत में अन्य की भी दिक्कत होगी क्योंकि अभी भी भारत अपनी 121 करोड़ की जनता में हर एक व्यक्ति को अन्न देने में सफल नहीं हुआ भारत में साक्षरता दर भी अभी इतनी नहीं है कि लोग समझ सके कि वह अपने लिए एक तरफ तो अत्यधिक बच्चे कर एक हाथ कमाने के लिए नहीं बढ़ाते बल्कि एक पेट पालने के लिए और भी बढ़ाते हैं हर एक व्यक्ति एक ही चीज कहता है कि बस रोटी कपड़ा और मकान हो इस से ज्यादा कुछ नहीं चाहिए पर अगर जनसंख्या अत्यधिक होगी तो यह संभव नहीं है भारत की सरकार को 2018 या 2019 में कड़े कदम उठाने होंगेJansankhya Avashya Hi Vishphotak Hai Iske Kaaran Bharat Ko Nuksan Evam Fayde Dono Hain Par Bharat Ki Jansankhya Bahut Atyadhik Ho Chuki Hai Aur Padhne Par Bharat Ko Economy Mein To Avashya Hi Fayda Hai Saath Hi Saath Is Se Us Par Wah Bhi Aata Hai Har Aadmi Mein Prati Vyakti Aay Bahut Hi Kum Hai Aur Jansankhya Aur Badhne Par Yeh Aur Bhi Kum Ho Jayegi Logon Ko Rehne Ke Liye Jagah Ki Avashyakta Hogi Kyonki Log Jungle Ko Katkar Pura Karenge Bharat Mein Aur Pradushan Hoga Kyonki Karya Atyadhik Hongi Aur Traffic Ki Samasya To Bharat Abhi Nahi Hal Kar Pa Raha To Baad Mein Kathinai Aur Hi Hogi Jab Gadiyan Aur Badh Jaengi Bharat Mein Jo Bhi Banenge Kyonki Har Ek Vyakti Ko Samman Dhan Nahi Prapt Hoga Aur Logon Ki Ichhaen Padh Hi Rahi Hai Ghat Nahi Rahe Bharat Mein Anya Ki Bhi Dikkat Hogi Kyonki Abhi Bhi Bharat Apni 121 Crore Ki Janta Mein Har Ek Vyakti Ko Ann Dene Mein Safal Nahi Hua Bharat Mein Saksharta Dar Bhi Abhi Itni Nahi Hai Ki Log Samajh Sake Ki Wah Apne Liye Ek Taraf To Atyadhik Bacche Kar Ek Hath Kamane Ke Liye Nahi Badhate Balki Ek Pet Palne Ke Liye Aur Bhi Badhate Hain Har Ek Vyakti Ek Hi Cheez Kahata Hai Ki Bus Roti Kapda Aur Makan Ho Is Se Jyada Kuch Nahi Chahiye Par Agar Jansankhya Atyadhik Hogi To Yeh Sambhav Nahi Hai Bharat Ki Sarkar Ko 2018 Ya 2019 Mein Kade Kadam Uthane Honge
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Jansankhya Vishphotak Hai Ya Nahi, Whether The Population Is Explosive Or Not

vokalandroid