झारखंड सरकार की अनोखी पहल, रक्तदान करने पर मिलेगी 4 दिन की छुट्टी ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किस प्रकार की योजनाएं शुरू करने की बजाय यदि झारखंड सरकार वहां के पिछड़े और शोषित वर्ग के विकास के लिए कार्य करेगी तो है ज्यादा उत्तम रहेगा झारखंड सरकार ने अभी तक बहुत ही अधिक नहीं रहा क्या है जिस प्रकार से मैंने अन्य रिपोर्टर में पड़ा कि ना अस्पताल है ना विद्यालय हैं ना रोज़गार की सुविधा है और कुल मिलाकर के बहुत ही बुरी तरह से जो है राज्य की अर्थव्यवस्था तथा सामाजिक व्यवस्था है वह चरमरा गई है पिछले कुछ वर्षों में तो मुझे ऐसा लगता है कि झारखंड सरकार को चाहिए कि वह जो झारखंड के प्राकृतिक संसाधन है उसका तो हनन करें जितना करना है लेकिन आम जनता को उसकी एवज में कम से कम रोजगार तथा मूलभूत सुविधाएं तो देखिए मैं ना किसी राजनीतिक पार्टी का समर्थक हूं और ना ही किसी भी समुदाय या वर्ग का मुझे बस ऐसा लगता है कि इस प्रकार की जो जो रक्तदान और यह बाकी की जो जीते हैं जो कि बहुत अधिक महत्वपूर्ण है हमें इसकी प्रशंसा करता हूं कि रक्तदान करना चाहिए मैं खुद भी रक्तदान करता हूं परंतु इन सब चीजों को प्राथमिकता देने की बजाय जो मूलभूत आवश्यकताएं हैं आम जनता की उस को तवज्जो देनी चाहिए झारखंड सरकार को चाहिए कि रक्तदान करने पर 4 दिन की छुट्टी और इन सब चीजों को क्यों पर गौर ना करके हम जनता की जो मूलभूत आवश्यकता है उनको पूरा करें और रही बात 4 दिन की छुट्टी की तो मुझे ऐसा लगता है कि पहले ही जो है छुट्टियां बहुत अधिक प्राप्त होती हैं सरकारी कर्मचारियों को भी तथा कुछ अब तक जो निजी कर्मचारियों उनको भी तो उनको शायद इतनी छुट्टियों की आवश्यकता है नहीं क्योंकि हम कार्य करने के लिए कोई भी नौकरी करते हैं ना की छुट्टियां मनाने के लिए तो मुझे ऐसा लगता है कि इस प्रकार की छुट्टियां देने से आम जनता का जो कर जाता है उनका पैसा ही मारा जा रहा है और कुछ नहीं बोला था ना
Romanized Version
किस प्रकार की योजनाएं शुरू करने की बजाय यदि झारखंड सरकार वहां के पिछड़े और शोषित वर्ग के विकास के लिए कार्य करेगी तो है ज्यादा उत्तम रहेगा झारखंड सरकार ने अभी तक बहुत ही अधिक नहीं रहा क्या है जिस प्रकार से मैंने अन्य रिपोर्टर में पड़ा कि ना अस्पताल है ना विद्यालय हैं ना रोज़गार की सुविधा है और कुल मिलाकर के बहुत ही बुरी तरह से जो है राज्य की अर्थव्यवस्था तथा सामाजिक व्यवस्था है वह चरमरा गई है पिछले कुछ वर्षों में तो मुझे ऐसा लगता है कि झारखंड सरकार को चाहिए कि वह जो झारखंड के प्राकृतिक संसाधन है उसका तो हनन करें जितना करना है लेकिन आम जनता को उसकी एवज में कम से कम रोजगार तथा मूलभूत सुविधाएं तो देखिए मैं ना किसी राजनीतिक पार्टी का समर्थक हूं और ना ही किसी भी समुदाय या वर्ग का मुझे बस ऐसा लगता है कि इस प्रकार की जो जो रक्तदान और यह बाकी की जो जीते हैं जो कि बहुत अधिक महत्वपूर्ण है हमें इसकी प्रशंसा करता हूं कि रक्तदान करना चाहिए मैं खुद भी रक्तदान करता हूं परंतु इन सब चीजों को प्राथमिकता देने की बजाय जो मूलभूत आवश्यकताएं हैं आम जनता की उस को तवज्जो देनी चाहिए झारखंड सरकार को चाहिए कि रक्तदान करने पर 4 दिन की छुट्टी और इन सब चीजों को क्यों पर गौर ना करके हम जनता की जो मूलभूत आवश्यकता है उनको पूरा करें और रही बात 4 दिन की छुट्टी की तो मुझे ऐसा लगता है कि पहले ही जो है छुट्टियां बहुत अधिक प्राप्त होती हैं सरकारी कर्मचारियों को भी तथा कुछ अब तक जो निजी कर्मचारियों उनको भी तो उनको शायद इतनी छुट्टियों की आवश्यकता है नहीं क्योंकि हम कार्य करने के लिए कोई भी नौकरी करते हैं ना की छुट्टियां मनाने के लिए तो मुझे ऐसा लगता है कि इस प्रकार की छुट्टियां देने से आम जनता का जो कर जाता है उनका पैसा ही मारा जा रहा है और कुछ नहीं बोला था नाKiss Prakar Ki Yojnaen Shuru Karne Ki Bajay Yadi Jharkhand Sarkar Vahan K Pichde Aur Shoshit Varg K Vikas K Lie Karya Karegii To Hai Jyada Uttam Rahega Jharkhand Sarkar Ne Abhi Tak Bahut Hea Adhik Nahin Raha Kya Hai Jisha Prakar Se Maine Anya Reporter Mein Pada Qi Na Aspatal Hai Na Vidyalaya Hain Na Rozgar Ki Suvidha Hai Aur Cool Milakar K Bahut Hea Burri Turha Se Joe Hai Rajya Ki Arthavyavastha Tatha Samajik Vyavastha Hai Wah Charmara Gi Hai Pichle Kuch Varshon Mein To Mujhe Aisa Lagta Hai Qi Jharkhand Sarkar Co Chahie Qi Wah Joe Jharkhand K Praakritik Sansadhan Hai Uska To Hanon Karein Jitna Krna Hai Lekin Am Janta Co Uski Evaj Mein Come Se Come Rojgar Tatha Mulbhut Suvidhaen To Dekhiye Main Na Kisi Raajnetik Party Ka Samarthak Hoon Aur Na Hea Kisi Bhi Samudaya Ya Varg Ka Mujhe Bus Aisa Lagta Hai Qi Is Prakar Ki Joe Joe Raktadan Aur Yeh Baaki Ki Joe Jite Hain Joe Qi Bahut Adhik Mahatvapoorn Hai Human Essaki Prashansa Karata Hoon Qi Raktadan Krna Chahie Main Khud Bhi Raktadan Karata Hoon Parantu In Sub Chijon Co Praathmikta Dane Ki Bajay Joe Mulbhut Avashyakataen Hain Am Janta Ki Oosh Co Tavajjo DENNY Chahie Jharkhand Sarkar Co Chahie Qi Raktadan Karne Per 4 Din Ki Chutti Aur In Sub Chijon Co Kio Per Gaur Na Karake Hum Janta Ki Joe Mulbhut Aavshyakata Hai Unko Poora Karein Aur Rahi Baat 4 Din Ki Chutti Ki To Mujhe Aisa Lagta Hai Qi Pehle Hea Joe Hai Chuttiyan Bahut Adhik Prapt Hoti Hain Sarkari Karmachaariyo Co Bhi Tatha Kuch Aba Tak Joe Niji Karmachaariyo Unko Bhi To Unko Shayad Itni Chuttiyon Ki Aavshyakata Hai Nahin Kyonki Hum Karya Karne K Lie Koi Bhi Naukari Karte Hain Na Ki Chuttiyan Manane K Lie To Mujhe Aisa Lagta Hai Qi Is Prakar Ki Chuttiyan Dane Se Am Janta Ka Joe Car Jaata Hai Unka Paisa Hea Mara Ja Raha Hai Aur Kuch Nahin Bolla Thaa Na
Likes  20  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

जनता के 4 साल में कितने अच्छे दिन आए हैं मोदी जी की सरकार में आपकी क्या राय है ? ...

जितने वादे मोदी सरकार ने किए थे कि वह जनता के लिए अच्छे दिन लेकर आएंगे और वह कुछ भी पूरे नहीं हुए हैं और जब हम देखें तो इन 4 साल जो पीते हैं अब तक उनके पद पर आने के बाद उनमें उन्होंने और ज्यादातर वादोजवाब पढ़िये
ques_icon

क्या वाकई में मीडिया सत्य खबर दिखाने लगे तो 4 दिन में ही मोदी सरकार गिर जाए ? ...

जैसा कि आपने बोला है कि मीडिया जो है अगर सत्य खबर दिखाएं तो मोदी जी की सरकार जो है 4 दिन हम क्या बोल सकते कि क्लियर नहीं हो पाया देखती कट लेयर में क्या जवाब आता है क्योंकि यह बहुत ही बहुत ज्यादा बतायाजवाब पढ़िये
ques_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Jharkhand Sarkar Ki Anokhi Pahal Raktadan Karne Par Milegi 4 Din Ki Chhutti,


vokalandroid