चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फराजी नोटबंदी और जीएसटी में काफी अंतर है नोटबंदी का मतलब होता है जो नोट अभी चल रहे हैं उसको बंद कर देना ठीक है जिसे पिछले साल जो भारत में अपने इंडिया में नवंबर में नोटबंदी हुई थी इसमें 500 और 1000 के ...जवाब पढ़िये
फराजी नोटबंदी और जीएसटी में काफी अंतर है नोटबंदी का मतलब होता है जो नोट अभी चल रहे हैं उसको बंद कर देना ठीक है जिसे पिछले साल जो भारत में अपने इंडिया में नवंबर में नोटबंदी हुई थी इसमें 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए गए तो उसकी वजह एक नया नोट मार्केट में लाए गए थे 2000 के और 500 के नोट को बोलते नोटबंदी भारत ने ऐसा इसलिए किया ब्लैक मनी को रोकने के लिए और दो दो उसमें इन्वॉल्व है उसको पकड़ने के लिए और जीएसटी का मतलब है गुड एंड सर्विस टैक्स जो अपने हम लोग सामान खरीद लो उस पर टैक्स लगता है उसको जीएसटी बोलते है पहले यह जो टैक्स लगता था अपने सामान पर यह बहुत सारे टैक्स लगते थे जैसे एंटरटेनमेंट टैक्स सेंट्रल गवर्नमेंट एक ऐसे बहुत सारे टाइटल अभी से हटा कर सकती टैक्स लगता है जिसका हम बोतल गुड सर्विस टैक्स जो अभी भारत में एक जुलाई से लॉन्च हुआ हैFaraji Notebandi Aur Gst Mein Kafi Antar Hai Notebandi Ka Matlab Hota Hai Jo Note Abhi Chal Rahe Hain Usko Band Kar Dena Theek Hai Jise Pichle Saal Jo Bharat Mein Apne India Mein November Mein Notebandi Hui Thi Isme 500 Aur 1000 Ke Note Band Kar Diye Gaye To Uski Wajah Ek Naya Note Market Mein Laye Gaye The 2000 Ke Aur 500 Ke Note Ko Bolte Notebandi Bharat Ne Aisa Isliye Kiya Black Money Ko Rokne Ke Liye Aur Do Do Usamen Involve Hai Usko Pakadane Ke Liye Aur Gst Ka Matlab Hai Good End Service Tax Jo Apne Hum Log Saamaan Kharid Lo Us Par Tax Lagta Hai Usko Gst Bolte Hai Pehle Yeh Jo Tax Lagta Tha Apne Saamaan Par Yeh Bahut Sare Tax Lagte The Jaise Entertainment Tax Central Government Ek Aise Bahut Sare Title Abhi Se Hata Kar Sakti Tax Lagta Hai Jiska Hum Botal Good Service Tax Jo Abhi Bharat Mein Ek July Se Launch Hua Hai
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिमोनेटाइजेशन एक करेंसी यूनिट को उसके लीगल टेंडर के स्टेटस से अलग करने का कार्य है यह तब होता है जब भी नाशन करेंसी का कोई परिवर्तन होता है या नहीं वर्तमान करेंसी संचालन से निकल निकाल ली जाए अक्सर नए न...जवाब पढ़िये
डिमोनेटाइजेशन एक करेंसी यूनिट को उसके लीगल टेंडर के स्टेटस से अलग करने का कार्य है यह तब होता है जब भी नाशन करेंसी का कोई परिवर्तन होता है या नहीं वर्तमान करेंसी संचालन से निकल निकाल ली जाए अक्सर नए नोट से आशिकों से बदलने के लिए वही गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स या जीएसटी एक अप्रत्यक्ष टैक्स है जो 1 जुलाई 2017 को भारत में पेश किया गया था और पूरे भारत में लागू किया गया था जिसने केंद्रीय और राज्य सरकारों द्वारा लगाए गए कई विशाल टैक्स इस को बदल दिया जीएसटी के तहत माल और सेवाओं पर जीरो परसेंट 5% 12% इंपॉर्टेंट और 28% पर टैक्स लगाया गया हैDimonetaijeshan Ek Currency Unit Ko Uske Legal Tender Ke Status Se Alag Karne Ka Karya Hai Yeh Tab Hota Hai Jab Bhi Nashan Currency Ka Koi Pariwartan Hota Hai Ya Nahi Vartaman Currency Sanchalan Se Nikal Nikal Lee Jaye Aksar Naye Note Se Ashikon Se Badalne Ke Liye Wahi Goods End Services Tax Ya Gst Ek Apratyksh Tax Hai Jo 1 July 2017 Ko Bharat Mein Pesh Kiya Gaya Tha Aur Poore Bharat Mein Laagu Kiya Gaya Tha Jisne Kendriya Aur Rajya Sarkaro Dwara Lagaye Gaye Kai Vishal Tax Is Ko Badal Diya Gst Ke Tahat Maal Aur Sewaon Par Zero Percent 5% 12% Important Aur 28% Par Tax Lagaya Gaya Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी और जीएसटी में सबसे बड़ा अंतर यही है कि जीएसटी जो है यह पूरी तरह से हमारे देश के टैक्स सिस्टम के ऊपर लागू होते जो टैक्स सिस्टम में बदलाव आए हैं यह उस को दर्शाती है जबकि नोटबंदी का मतलब यह है जो...जवाब पढ़िये
नोटबंदी और जीएसटी में सबसे बड़ा अंतर यही है कि जीएसटी जो है यह पूरी तरह से हमारे देश के टैक्स सिस्टम के ऊपर लागू होते जो टैक्स सिस्टम में बदलाव आए हैं यह उस को दर्शाती है जबकि नोटबंदी का मतलब यह है जो हमारे पुराने मुद्राएं थी जो हमारे देश के पुरानी मूत्र आए थे उनकी जगह पर जो नहीं मुद्रास्फीति और वह जो अभी चलन में है उस पूरे सिस्टम को डिमोनेटाइजेशन का डिमोशन नोटबंदी कहा जाता हैNotebandi Aur Gst Mein Sabse Bada Antar Yahi Hai Ki Gst Jo Hai Yeh Puri Tarah Se Hamare Desh Ke Tax System Ke Upar Laagu Hote Jo Tax System Mein Badlav Aaye Hain Yeh Us Ko Darshatee Hai Jabki Notebandi Ka Matlab Yeh Hai Jo Hamare Purane Mudraen Thi Jo Hamare Desh Ke Purani Mutra Aaye The Unki Jagah Par Jo Nahi Mudrasfiti Aur Wah Jo Abhi Chalan Mein Hai Us Poore System Ko Dimonetaijeshan Ka Dimoshan Notebandi Kaha Jata Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी और जीएसटी दो अलग चीजें हैं हालांकि दोनों को मोदी सरकार नहीं लागू किया है नोटबंदी 500 और ₹1000 के प्रचलन पर रोक है जबकि जीएसटी एक देश एक कर के नारे के साथ लागू किया गया...जवाब पढ़िये
नोटबंदी और जीएसटी दो अलग चीजें हैं हालांकि दोनों को मोदी सरकार नहीं लागू किया है नोटबंदी 500 और ₹1000 के प्रचलन पर रोक है जबकि जीएसटी एक देश एक कर के नारे के साथ लागू किया गयाNotebandi Aur Gst Do Alag Cheezen Hain Halanki Dono Ko Modi Sarkar Nahi Laagu Kiya Hai Notebandi 500 Aur ₹1000 Ke Parchalan Par Rok Hai Jabki Gst Ek Desh Ek Kar Ke Nare Ke Saath Laagu Kiya Gaya
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटाबंदी जो है वह मार्केट में चलने नोटों को बंद करने को कहते हैं जैसा कि हाल ही में पिछले साल भारत में हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने किया था जिसके आने के कारण थे जैसे कि आतंकवादियों को फंडिंग की प्रोस...जवाब पढ़िये
नोटाबंदी जो है वह मार्केट में चलने नोटों को बंद करने को कहते हैं जैसा कि हाल ही में पिछले साल भारत में हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने किया था जिसके आने के कारण थे जैसे कि आतंकवादियों को फंडिंग की प्रोसेस को खत्म करना या काले धन को कंट्रोल करना और एसजीएसटी जो है वह होता है गुर्जर सर्विस टैक्स जैसा कि पहले हमारे देश में अलग अलग तरह के टैक्स लगाते थे स्टेट गवर्नमेंट ऑफ सेंट्रल गवर्नमेंट जैसे की सर्विस टैक्स क्या वैल्यू एडेड टैक्स एक्साइज ड्यूटी है कस्टम ड्यूटी जो जो कि अभी खत्म करके खाली एक ही टैक्स लगाया जाता है जिसकी जिस किधर है अलग अलग है सारी सामानों पर जो की 5% 12 18 28 प्रतिशत पर लगाई जाती है और जो कि 1 जुलाई 2017 को लागू किया गया थाNotabandi Jo Hai Wah Market Mein Chalne Noton Ko Band Karne Ko Kehte Hain Jaisa Ki Haal Hi Mein Pichle Saal Bharat Mein Hamare Pradhanmantri Modi Ji Ne Kiya Tha Jiske Aane Ke Kaaran The Jaise Ki Aatankwadion Ko Funding Ki Process Ko Khatam Karna Ya Kaale Dhan Ko Control Karna Aur Sgst Jo Hai Wah Hota Hai Gurjar Service Tax Jaisa Ki Pehle Hamare Desh Mein Alag Alag Tarah Ke Tax Lagate The State Government Of Central Government Jaise Ki Service Tax Kya Value Aided Tax Excise Duty Hai Custom Duty Jo Jo Ki Abhi Khatam Karke Khaali Ek Hi Tax Lagaya Jata Hai Jiski Jis Kidhar Hai Alag Alag Hai Saree Samano Par Jo Ki 5% 12 18 28 Pratishat Par Lagai Jati Hai Aur Jo Ki 1 July 2017 Ko Laagu Kiya Gaya Tha
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी जो हमा हमा वस्तु खरीदते हैं उस पर लगने वाला टैक्स है जबकि नोटबंदी एक कदम था सरकार का जो भी काला धन स्विस बैंकों में जमा है या भ्रष्टाचार में इस्तेमाल हो रहा है उस पर रोक लगाने के लिए जबकि जीएसट...जवाब पढ़िये
जीएसटी जो हमा हमा वस्तु खरीदते हैं उस पर लगने वाला टैक्स है जबकि नोटबंदी एक कदम था सरकार का जो भी काला धन स्विस बैंकों में जमा है या भ्रष्टाचार में इस्तेमाल हो रहा है उस पर रोक लगाने के लिए जबकि जीएसटी एक टैक्स का मिलाजुला सारे टैक्स को मिलाकर एक टैक्स बना दिया गया जो कहीं पर 18 परसेंट किसी चीज के पास पर्सेंट लग रहा है इसलिए किया गया था कि जो हम ज्यादा मात्रा में कर देते तो उसकी जगह एक टेक्स्ट ज्यादा करते हमें बचाने के लिए जबकि नोटबंदी भ्रष्टाचार को रोकने के लिए जो भी का कितना भी कालाधन जहां भी जमा है उसको सामने लाने के लिएGst Jo Hama Hama Vastu Kharidte Hain Us Par Lagne Wala Tax Hai Jabki Notebandi Ek Kadam Tha Sarkar Ka Jo Bhi Kala Dhan Swiss Bankon Mein Jama Hai Ya Bhrashtachar Mein Istemal Ho Raha Hai Us Par Rok Lagane Ke Liye Jabki Gst Ek Tax Ka Milajula Sare Tax Ko Milakar Ek Tax Bana Diya Gaya Jo Kahin Par 18 Percent Kisi Cheez Ke Paas Percent Lag Raha Hai Isliye Kiya Gaya Tha Ki Jo Hum Jyada Matra Mein Kar Dete To Uski Jagah Ek Text Jyada Karte Hume Bachane Ke Liye Jabki Notebandi Bhrashtachar Ko Rokne Ke Liye Jo Bhi Ka Kitna Bhi Kaladhan Jahan Bhi Jama Hai Usko Samane Lane Ke Liye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड एंड सर्विस टैक्स के साथ टैक्स सिस्टम है जिसके तहत 2017 से पहले तक जितने भी यह अलग-अलग प्रकार के टैक्स मैसेज ऐसे सर्विस टैक्स कस्टम ड्यूटी एक्साइज ड्यूटी इन सब को हटाकर एक यूनिफार्म टैक्स देना होगा...जवाब पढ़िये
गुड एंड सर्विस टैक्स के साथ टैक्स सिस्टम है जिसके तहत 2017 से पहले तक जितने भी यह अलग-अलग प्रकार के टैक्स मैसेज ऐसे सर्विस टैक्स कस्टम ड्यूटी एक्साइज ड्यूटी इन सब को हटाकर एक यूनिफार्म टैक्स देना होगा जितने भी इन डायरेक्ट टैक्सेज थे इन सबको खत्म कर दिया गया था अलग अलग वस्तुओं और अलग अलग से हो पर अलग-अलग टैक्स दिया जाए देने की बजाय आप एक सिंगल ट्रैक दिया जाएगा इसका रेट 5:00 पर्सेंट 12:00 पर्सेंट 18 वर्ष संख्या 28 पर्सेंट होगा जबकि नोटबंदी कैसा एक्शन लिया गया था मोदी सरकार द्वारा जिसमें 2016 तक 8 नवंबर 2016 तक जो भी नोट चलन में थे 500 और 1000 के उन को बंद कर दिया गया था ताकि जो देश में काला धन है और जो आतंकवादियों को फंडिंग हो रही है इन को रोका जाएGood End Service Tax Ke Saath Tax System Hai Jiske Tahat 2017 Se Pehle Tak Jitne Bhi Yeh Alag Alag Prakar Ke Tax Massage Aise Service Tax Custom Duty Excise Duty In Sab Ko Hatakar Ek Uniform Tax Dena Hoga Jitne Bhi In Direct Taxes The In Sabko Khatam Kar Diya Gaya Tha Alag Alag Vastuon Aur Alag Alag Se Ho Par Alag Alag Tax Diya Jaye Dene Ki Bajay Aap Ek Single Track Diya Jayega Iska Rate 5:00 Percent 12:00 Percent 18 Varsh Sankhya 28 Percent Hoga Jabki Notebandi Kaisa Action Liya Gaya Tha Modi Sarkar Dwara Jisme 2016 Tak 8 November 2016 Tak Jo Bhi Note Chalan Mein The 500 Aur 1000 Ke Un Ko Band Kar Diya Gaya Tha Taki Jo Desh Mein Kala Dhan Hai Aur Jo Aatankwadion Ko Funding Ho Rahi Hai In Ko Roka Jaye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी और नोटबंदी में वही पर है के जैसे टैक्स ऑफ ब्लैक मनी का जीएसटी हमारे रिलेटिव स्टेट बैंक से नोट बंदी रिलेटेड हमारा ब्लैक मनी से पहले हम भोसड़ी टैक्स प्ले सर्विस टैक्स रेट एंटरटेनमेंट टैक्स बहुत क...जवाब पढ़िये
जीएसटी और नोटबंदी में वही पर है के जैसे टैक्स ऑफ ब्लैक मनी का जीएसटी हमारे रिलेटिव स्टेट बैंक से नोट बंदी रिलेटेड हमारा ब्लैक मनी से पहले हम भोसड़ी टैक्स प्ले सर्विस टैक्स रेट एंटरटेनमेंट टैक्स बहुत कुछ उसको अब सब मिलाकर एक ही टाइप बना दी जीएसटी उस बस्ती में हम देते हैं 18 परसेंट 5:00 पर्सेंट सब जगह अलग-अलग है तो यह जो मैंने सेट उठाया है हमारा जो हम बहुत अच्छे से वह बहुत ज्यादा अमाउंट में पैसे देते हैं उसको कम करने की कोशिश में और यह रीजन यह सारा पैसा जाता है गवर्नमेंट को ऐसे रेवेन्यू झूठ ऑफिस में करते हैं तो यह जीएसटी है नोटबंदी में उमर आता है ब्लैक मनी ब्लैक मनी को रोकने के लिए हम जो इंडिया से बाहर जा स्विस बैंक वगैरह में ज्यादा था वह रोकने के नोट बंदी करी गई ताकि असली कल पेट असली जो यह गलत धंधा करते हैं उन को पकड़ने के लिए इसलिए 500 1000 की नॉट बंद करेगा क्योंकि 10 10 के नोट में जो भी करेगा नहीं ना बाहर इतने बड़े माउंट का 500 और 1000 के नोटों से ही हमारा ब्लैक मनी गुरुद्वारा तो उसको बंद करने के लिए नोटबंदी गवर्नमेंट एल आई तो बहुत ही अलग अलग चीज है बहुत ही विस्तार में जाकर इनके बारे में बात की जा सकती है 2 मिनट में इतना ही डिफरेंस इतना ही अंतर बता सकते हैं कि नोटबंदी और जीएसटी में फर्क क्या है तू इस इन दोनों की जो में हमें कंफ्यूज नहीं होना चाहिए हमें दिमाग में रखना चाहिए कि नोटबंदी हमारा ब्लैक मनी रोकने के लिए है और जीएसटी मारा टैक्स को एक जुट करके मुझे टैक्स को कम करने के लिए हैGst Aur Notebandi Mein Wahi Par Hai Ke Jaise Tax Of Black Money Ka Gst Hamare Relative State Bank Se Note Bandi Related Hamara Black Money Se Pehle Hum Bhosdi Tax Play Service Tax Rate Entertainment Tax Bahut Kuch Usko Ab Sab Milakar Ek Hi Type Bana Di Gst Us Basti Mein Hum Dete Hain 18 Percent 5:00 Percent Sab Jagah Alag Alag Hai To Yeh Jo Maine Set Uthaya Hai Hamara Jo Hum Bahut Acche Se Wah Bahut Jyada Amount Mein Paise Dete Hain Usko Kum Karne Ki Koshish Mein Aur Yeh Reason Yeh Saara Paisa Jata Hai Government Ko Aise Revenue Jhuth Office Mein Karte Hain To Yeh Gst Hai Notebandi Mein Umar Aata Hai Black Money Black Money Ko Rokne Ke Liye Hum Jo India Se Bahar Ja Swiss Bank Vagairah Mein Jyada Tha Wah Rokne Ke Note Bandi Kari Gayi Taki Asli Kal Pet Asli Jo Yeh Galat Dhanda Karte Hain Un Ko Pakadane Ke Liye Isliye 500 1000 Ki Not Band Karega Kyonki 10 10 Ke Note Mein Jo Bhi Karega Nahi Na Bahar Itne Bade Mount Ka 500 Aur 1000 Ke Noton Se Hi Hamara Black Money Gurudwara To Usko Band Karne Ke Liye Notebandi Government El Eye To Bahut Hi Alag Alag Cheez Hai Bahut Hi Vistar Mein Jaakar Inke Baare Mein Baat Ki Ja Sakti Hai 2 Minute Mein Itna Hi Difference Itna Hi Antar Bata Sakte Hain Ki Notebandi Aur Gst Mein Fark Kya Hai Tu Is In Dono Ki Jo Mein Hume Confuse Nahi Hona Chahiye Hume Dimag Mein Rakhna Chahiye Ki Notebandi Hamara Black Money Rokne Ke Liye Hai Aur Gst Mara Tax Ko Ek Jut Karke Mujhe Tax Ko Kum Karne Ke Liye Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की जीएसटी जो है इस देश में बेचे जाने वाली किसी भी वस्तु या सेवा पर जो साधारण कर लगता है उसे जीएसटी कहते हैं जीएसटी एक ऐसा फैसला सरकार ने लिया है जिसे बहुत सारी जो है इन डायरेक्ट टैक्सेज जैसे की सर्...जवाब पढ़िये
आज की जीएसटी जो है इस देश में बेचे जाने वाली किसी भी वस्तु या सेवा पर जो साधारण कर लगता है उसे जीएसटी कहते हैं जीएसटी एक ऐसा फैसला सरकार ने लिया है जिसे बहुत सारी जो है इन डायरेक्ट टैक्सेज जैसे की सर्विस टैक्स और एक्साइज ड्यूटी जो था यह सब बिल्कुल समाप्त हो गया है बल्कि नोटबंदी तो एक ऐसा फैसला है जो सरकार ने इस देश में कालेधन को कम करने के लिए लिया है अभी काला धन मतलब वह धन जो इस पर टैक्स नहीं भर्ती है या नहीं करने दिया जाता नागरिकों द्वारा अब काला धन अक्सर क्लास के फॉर्म में कहीं ना कहीं छुपा रहता है नोटबंदी के फैसले से यह बहुत बड़ा हमारे लिए क्या बोलते हैं वह एडवांटेज हुआ है जैसे कि इसके वजह से सारा जो धन है क्या स्पर्म में वह इस समय बैंक को बैंक के खातों में जमा हो रहा है उससे हमारी इकनॉमी में जो है पैसे आ रहे हैं जिससे बहुत सारे लोन के जोरे इंटरेस्ट रेट है वह काम हो जाएंगे जीएसटी एक ऐतिहासिक फैसला है जिसमें बहुत सारे रेट है जैसे कि 28% 8:00 10% वगैरह जीएसटी जीएसटी ऐसे देखा जाए तो इस फैसले से बहुत सारी टैक्सी जो है वह कम हो गई है और सारी मिलकर एक ही टैक्स हो गई है विशेष सरकार को भी योजनाएं बनाने में बहुत सहायता पड़ती हैAaj Ki Gst Jo Hai Is Desh Mein Beche Jaane Wali Kisi Bhi Vastu Ya Seva Par Jo Sadhaaran Kar Lagta Hai Use Gst Kehte Hain Gst Ek Aisa Faisla Sarkar Ne Liya Hai Jise Bahut Saree Jo Hai In Direct Taxes Jaise Ki Service Tax Aur Excise Duty Jo Tha Yeh Sab Bilkul Samapt Ho Gaya Hai Balki Notebandi To Ek Aisa Faisla Hai Jo Sarkar Ne Is Desh Mein Kaledhan Ko Kum Karne Ke Liye Liya Hai Abhi Kala Dhan Matlab Wah Dhan Jo Is Par Tax Nahi Bharti Hai Ya Nahi Karne Diya Jata Naagrikon Dwara Ab Kala Dhan Aksar Class Ke Form Mein Kahin Na Kahin Chhupa Rehta Hai Notebandi Ke Faisle Se Yeh Bahut Bada Hamare Liye Kya Bolte Hain Wah Advantage Hua Hai Jaise Ki Iske Wajah Se Saara Jo Dhan Hai Kya Sperm Mein Wah Is Samay Bank Ko Bank Ke Khaaton Mein Jama Ho Raha Hai Usse Hamari Ikanami Mein Jo Hai Paise Aa Rahe Hain Jisse Bahut Sare Loan Ke Jore Interest Rate Hai Wah Kaam Ho Jaenge Gst Ek Aetihasik Faisla Hai Jisme Bahut Sare Rate Hai Jaise Ki 28% 8:00 10% Vagairah Gst Gst Aise Dekha Jaye To Is Faisle Se Bahut Saree Taxi Jo Hai Wah Kum Ho Gayi Hai Aur Saree Milkar Ek Hi Tax Ho Gayi Hai Vishesh Sarkar Ko Bhi Yojanaye Banane Mein Bahut Sahaayata Padhti Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राधाकृष्ण विखे जीएसटी जो है वस्तु तथा सेवा कर रहा होगा आज तक हिंदुस्तान में जो कर रहा व्यवस्था थी जिस तरह से करता था अपना घर अपनी आय का अपने आप जो भी चीज में खरीदा हूं जो भी सर्विस इसमें लेता हूं उस ह...जवाब पढ़िये
राधाकृष्ण विखे जीएसटी जो है वस्तु तथा सेवा कर रहा होगा आज तक हिंदुस्तान में जो कर रहा व्यवस्था थी जिस तरह से करता था अपना घर अपनी आय का अपने आप जो भी चीज में खरीदा हूं जो भी सर्विस इसमें लेता हूं उस हर एक चीज के लिए मुझे अब तक जो टेक्स्ट या देना पड़ता था उसके लिए बड़ी जटिल प्रक्रिया होती थी लेकिन जो जीएसटी जब से आया है तो यह बहुत बड़ा सुधार है इंडिया के कर ढांचे में हिंदुस्तान के कल रांची में और नोटबंदी कि जब बात की जाती है तो नोटबंदी बिल्कुल नहीं है एक अलग शब्दों की नोटबंदी से मतलब यह है कि आप जो अभी तक आप के नोट चलन में थे बाजार में उन को बंद करने के बाद अपने तरीके से नोट निकालकरRadhakrishna Vikhe Gst Jo Hai Vastu Tatha Seva Kar Raha Hoga Aaj Tak Hindustan Mein Jo Kar Raha Vyavastha Thi Jis Tarah Se Karta Tha Apna Ghar Apni Aay Ka Apne Aap Jo Bhi Cheez Mein Kharida Hoon Jo Bhi Service Isme Leta Hoon Us Har Ek Cheez Ke Liye Mujhe Ab Tak Jo Text Ya Dena Padata Tha Uske Liye Badi Jatil Prakriya Hoti Thi Lekin Jo Gst Jab Se Aaya Hai To Yeh Bahut Bada Sudhaar Hai India Ke Kar Dhanche Mein Hindustan Ke Kal Ranchi Mein Aur Notebandi Ki Jab Baat Ki Jati Hai To Notebandi Bilkul Nahi Hai Ek Alag Shabdon Ki Notebandi Se Matlab Yeh Hai Ki Aap Jo Abhi Tak Aap Ke Note Chalan Mein The Bazar Mein Un Ko Band Karne Ke Baad Apne Tarike Se Note Nikalakar
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वस्तु एवं सेवा कर या जीएसटी एक व्यापक बहुत स्त्री गंतव्य आधारित कर है जो प्रत्येक मूल में जोड़ पर लगाया जाएगा मोदी सरकार ने काले धन पर अंकुश लगाने के मकसद से 500 और 1000 के नोट बंद करने का फैसला लिया ...जवाब पढ़िये
वस्तु एवं सेवा कर या जीएसटी एक व्यापक बहुत स्त्री गंतव्य आधारित कर है जो प्रत्येक मूल में जोड़ पर लगाया जाएगा मोदी सरकार ने काले धन पर अंकुश लगाने के मकसद से 500 और 1000 के नोट बंद करने का फैसला लिया है इस फैसले का असर सिर्फ देश में ही नहीं भारत के पड़ोसी मुल्कों में भी देखने को मिल रहा हैVastu Evam Seva Kar Ya Gst Ek Vyapak Bahut Stri Gantavya Aadharit Kar Hai Jo Pratyek Mul Mein Jod Par Lagaya Jayega Modi Sarkar Ne Kaale Dhan Par Ankush Lagane Ke Maksad Se 500 Aur 1000 Ke Note Band Karne Ka Faisla Liya Hai Is Faisle Ka Asar Sirf Desh Mein Hi Nahi Bharat Ke Padoshi Mulkon Mein Bhi Dekhne Ko Mil Raha Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी के किनारे टेक्स्ट जो हमारे देश में बेची गई वस्तु सेवा के निर्माण में लगाया जाता है जब गवर्मेंट ने एक जुलाई से जीएसटी को लागू कर दिया तो इसमें चार जनों ने बनाई है जो आपकी 5 परसेंट 12 परसेंट 18 प...जवाब पढ़िये
जीएसटी के किनारे टेक्स्ट जो हमारे देश में बेची गई वस्तु सेवा के निर्माण में लगाया जाता है जब गवर्मेंट ने एक जुलाई से जीएसटी को लागू कर दिया तो इसमें चार जनों ने बनाई है जो आपकी 5 परसेंट 12 परसेंट 18 परसेंट है और 28% की है ठीक है अब इससे हुआ क्या कि जितने भी इन डायरेक्ट टैक्सेज तेलगू 1682 गवर्मेंट बिल्कुल फिनिश कर दिया जैसे मैं बोलूं तो एक्साइज ड्यूटी था सर्विस टैक्स आवडता एंटरटेनमेंट टैक्स लॉटरी टैक्स ऑफ ट्रॉय ठीक है एंटी टेक्स 25 टेक्स्ट टू यह सारे टेक्स्ट खत्म हो गए उसके बहुत ज्यादा बेनीफिट कुछ प्रॉब्लम सलूशन क्रिएट हुई नोटबंदी जो है वह उसके जो इफ़ेक्ट ऑफ़ ब्लैक मनी के बारे में अगर मैं कहूं किसके भी जरूरी जनता को यही था कि नशा स्मगलिंग टेरेस टॉमस एक्टिविटीज को खत्म करना और कुछ हद तक गवर्मेंट मेंGst Ke Kinare Text Jo Hamare Desh Mein Bechi Gayi Vastu Seva Ke Nirman Mein Lagaya Jata Hai Jab Goverment Ne Ek July Se Gst Ko Laagu Kar Diya To Isme Char Jano Ne Banai Hai Jo Aapki 5 Percent 12 Percent 18 Percent Hai Aur 28% Ki Hai Theek Hai Ab Isse Hua Kya Ki Jitne Bhi In Direct Taxes Telgu 1682 Goverment Bilkul Finish Kar Diya Jaise Main Bolun To Excise Duty Tha Service Tax Avadata Entertainment Tax Lottery Tax Of Troy Theek Hai Anti Tax 25 Text To Yeh Sare Text Khatam Ho Gaye Uske Bahut Jyada Benifit Kuch Problem Salution Create Hui Notebandi Jo Hai Wah Uske Jo Effect Of Black Money Ke Baare Mein Agar Main Kahun Kiske Bhi Zaroori Janta Ko Yahi Tha Ki Nasha Smagaling Terrace Tamas Ektivitij Ko Khatam Karna Aur Kuch Had Tak Goverment Mein
Likes  13  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केसर नोटबंदी और जीएसटी अंतर क्या है यह दोनों एक दूसरे से रिलेटेड है अंतर तुम्हें नहीं बोलूंगी एक दूसरे से रिलेटेड नोटबंदी जब डिमांड डाइजेशन हुआ था तो फिर क्या था की डिमांड है जिसमें आप क्या होता है बह...जवाब पढ़िये
केसर नोटबंदी और जीएसटी अंतर क्या है यह दोनों एक दूसरे से रिलेटेड है अंतर तुम्हें नहीं बोलूंगी एक दूसरे से रिलेटेड नोटबंदी जब डिमांड डाइजेशन हुआ था तो फिर क्या था की डिमांड है जिसमें आप क्या होता है बहुत बड़ी संख्या में इन्फेक्शन हुआ था जो कि जो इंफॉर्मेशन टैक्स इनकम टैक्स के अंदर आ गया था उनके पास बहुत सारा पैसा जमा था उन्होंने अपना पैसा जमा कराया बैंक में निकाला अपना काला मनी ब्लैक मनी निकालना और जमा कराया कुछ दूर से डिप्रेशन लेकिन जो बहुत सारे टेक्सी स्टैंड जवाहर डायरेक्ट और इनडायरेक्ट से उसको सारे टैक्स को एक टेक्स्ट नीमच कर दिया सारे एडजेक्टिव इन डायरेक्ट इसको एक सिंगल ट्रैक सुना दिया ठीक है इन दोनों की वजह से नोटबंदी ने बहुत हेल्पफुल हुआ है जीएसटी को अप्लाई करने में अगर नोटबंदी नहीं होता तो जीएसटी को अप्लाई करना बहुत मुश्किल हो जाता एक पारदर्शिता आ गया है 11Kesar Notebandi Aur Gst Antar Kya Hai Yeh Dono Ek Dusre Se Related Hai Antar Tumhein Nahi Bolungi Ek Dusre Se Related Notebandi Jab Demand Daijeshan Hua Tha To Phir Kya Tha Ki Demand Hai Jisme Aap Kya Hota Hai Bahut Badi Sankhya Mein Infection Hua Tha Jo Ki Jo Information Tax Income Tax Ke Andar Aa Gaya Tha Unke Paas Bahut Saara Paisa Jama Tha Unhone Apna Paisa Jama Karaya Bank Mein Nikaala Apna Kala Money Black Money Nikalna Aur Jama Karaya Kuch Dur Se Depression Lekin Jo Bahut Sare Teksi Stand Jawahar Direct Aur Indirect Se Usko Sare Tax Ko Ek Text Neemuch Kar Diya Sare Adjective In Direct Isko Ek Single Track Suna Diya Theek Hai In Dono Ki Wajah Se Notebandi Ne Bahut Helpaful Hua Hai Gst Ko Apply Karne Mein Agar Notebandi Nahi Hota To Gst Ko Apply Karna Bahut Mushkil Ho Jata Ek Pardarshita Aa Gaya Hai 11
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Notebandi Aur GST Mein Kya Antar Hai, What Is The Difference Between Note-taking And GST?

vokalandroid