भारत में पहला असहयोग आंदोलन शुरू करने क्या कारण था? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रथम विश्वयुद्ध के बाद महात्मा गांधी ने भारतीय राजनीति में प्रवेश किया था उन्होंने 1917 ईस्वी में अंग्रेजों से किसानों को मुक्ति दिलाई थी उनमें उन्होंने अहमदाबाद के मजदूरों और मिल मालिकों के बीच समझौ...
जवाब पढ़िये
प्रथम विश्वयुद्ध के बाद महात्मा गांधी ने भारतीय राजनीति में प्रवेश किया था उन्होंने 1917 ईस्वी में अंग्रेजों से किसानों को मुक्ति दिलाई थी उनमें उन्होंने अहमदाबाद के मजदूरों और मिल मालिकों के बीच समझौता कराने के लिए अनशन किया था और जिसमें उन्हें सफलता भी मिली थी और इन्हीं सब घटनाओं से उन्हें असहयोग आंदोलन की प्रेरणा मिली असहयोग आंदोलन के प्रमुख कारण थे अंग्रेजी सरकार की अर्थ स्पष्ट नीतियां सरकार के सुधारों से जनता संतुष्ट नहीं थी आर्थिक संकट छाया हुआ था और अंग्रेज सरकार ने 1919 को रोलेट एक्ट शुरू किया था जो भारतीयों की नजर में काला कानून था इसके विरोध में पूरे देश में विरोध हो रहे थे और पूरे देश में हड़ताल करने का निश्चय किया था अमृतसर में जलियांवाला बाग में विरोध प्रकट करने के लिए एक सभा आयोजित की गई थी लेकिन जनरल डायर ने वहां पर गोली मारने का आदेश दिया और सैकड़ों स्त्री स्त्री पुरुष और बच्चे मार डाले गए सितंबर 1920 में कोलकाता के कांग्रेस अधिवेशन में गांधी जी ने सरकार के विरोध में असहयोग प्रस्ताव रखा था पूरे देश में असहयोग आंदोलन की शुरुआत हुई असहयोग आंदोलन जब पूरे चरम पर था तब चोरा चोरी नामक स्थान पर आंदोलनकारियों ने थानेदार और 21 सिपाहियों को मार डाला था हिंसात्मक रूप इस आंदोलन ने ले लिया था तब गांधीजी बहुत विचलित हुए और उन्होंने इसे स्थगित करने का निर्णय भी ले लिया था लेकिन असहयोग आंदोलन स्थगित होने के बाद भी इसका महत्व कम नहीं हुआ और भारत में राष्ट्रीयता की भावना प्रबलPratham Vishwayudh Ke Baad Mahatma Gandhi Ne Bhartiya Rajneeti Mein Pravesh Kiya Tha Unhone 1917 Issavi Mein Angrejo Se Kisano Ko Mukti Dilai Thi Unmen Unhone Ahmedabad Ke Majduro Aur Mil Maalikon Ke Bich Samjhauta Karane Ke Liye Anshan Kiya Tha Aur Jisme Unhen Safalta Bhi Mili Thi Aur Inhin Sab Ghatnaon Se Unhen Asahayog Aandolan Ki Prerna Mili Asahayog Aandolan Ke Pramukh Kaaran The Angrezi Sarkar Ki Arth Spasht Nitiyan Sarkar Ke Sudharo Se Janta Santusht Nahi Thi Aarthik Sankat Chaya Hua Tha Aur Angrej Sarkar Ne 1919 Ko Rolet Act Shuru Kiya Tha Jo Bharatiyon Ki Nazar Mein Kala Kanoon Tha Iske Virodh Mein Poore Desh Mein Virodh Ho Rahe The Aur Poore Desh Mein Hartal Karne Ka Nishchay Kiya Tha Amritsar Mein Jalianwala Baag Mein Virodh Prakat Karne Ke Liye Ek Sabha Aayojit Ki Gayi Thi Lekin General Dire Ne Wahan Par Goli Maarne Ka Aadesh Diya Aur Saikadon Stri Stri Purush Aur Bacche Maar Dale Gaye September 1920 Mein Kolkata Ke Congress Adhiveshan Mein Gandhi Ji Ne Sarkar Ke Virodh Mein Asahayog Prastaav Rakha Tha Poore Desh Mein Asahayog Aandolan Ki Shuruvat Hui Asahayog Aandolan Jab Poore Charam Par Tha Tab Chora Chori Namak Sthan Par Andolanakariyon Ne Thaanedaar Aur 21 Sipaahiyon Ko Maar Dala Tha Hinsatmak Roop Is Aandolan Ne Le Liya Tha Tab Gandhiji Bahut Vichalit Huye Aur Unhone Ise Sthagit Karne Ka Nirnay Bhi Le Liya Tha Lekin Asahayog Aandolan Sthagit Hone Ke Baad Bhi Iska Mahatva Kam Nahi Hua Aur Bharat Mein Rastriyata Ki Bhavna Prabal
Likes  1  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी की जहां तक बात है तो महात्मा गांधी अहिंसा को फॉलो करते थे अहिंसा परमो धर्म उन्होंने इस बात को कहा था और जब असहयोग आंदोलन महात्मा गांधी ने स्टार्ट किया उसका सबसे बड़ा कारण जो ब्रिटिश ने र...
जवाब पढ़िये
महात्मा गांधी की जहां तक बात है तो महात्मा गांधी अहिंसा को फॉलो करते थे अहिंसा परमो धर्म उन्होंने इस बात को कहा था और जब असहयोग आंदोलन महात्मा गांधी ने स्टार्ट किया उसका सबसे बड़ा कारण जो ब्रिटिश ने रोलेट एक्ट पास किया तो दूसरा जलियांवाला बाग कांड हुआ था हिंदुओं की वजह से गांधी जी बहुत आती है और ब्लैक कानून की जिस को कहा जाता रौलट एक्ट जिसमे बिना किसी इंक्वायरी के किसी भी व्यक्ति को शक के दायरे में उठाकर सलाखों के पीछे डाल सकती तो इस वजह से महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन स्टार्ट किया और जब असहयोग आंदोलन स्टार्ट किया और यह एक ऐसा दोस्त था जिसकी वजह से इस देश को आजादी मिली और इस देश की आजादी में उनकी अहम भूमिका रहीMahatma Gandhi Ki Jahan Tak Baat Hai To Mahatma Gandhi Ahinsha Ko Follow Karte The Ahinsha Paramo Dharm Unhone Is Baat Ko Kaha Tha Aur Jab Asahayog Aandolan Mahatma Gandhi Ne Start Kiya Uska Sabse Bada Kaaran Jo British Ne Rolet Act Paas Kiya To Doosra Jalianwala Baag Kaand Hua Tha Hinduon Ki Wajah Se Gandhi Ji Bahut Aati Hai Aur Black Kanoon Ki Jis Ko Kaha Jata Rollat Act Jisme Bina Kisi Enquiry Ke Kisi Bhi Vyakti Ko Shaq Ke Daayre Mein Uthaakar Salakhon Ke Piche Dal Sakti To Is Wajah Se Mahatma Gandhi Ne Asahayog Aandolan Start Kiya Aur Jab Asahayog Aandolan Start Kiya Aur Yeh Ek Aisa Dost Tha Jiski Wajah Se Is Desh Ko Azadi Mili Aur Is Desh Ki Azadi Mein Unki Aham Bhumika Rahi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Mein Pehla Asahayog Aandolan Shuru Karne Kya Kaaran Tha

vokalandroid