क्या लोकतंत्र भारत में असफल रहा है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लोकतंत्र यदि असफल होता तो एक चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता था एक अखबार बेचने वाला देश का राष्ट्रपति नहीं बन सकता लाल बहादुर शास्त्री जैसा व्यक्ति इस देश का प्रधानमंत्री नहीं...जवाब पढ़िये
भारत में लोकतंत्र यदि असफल होता तो एक चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता था एक अखबार बेचने वाला देश का राष्ट्रपति नहीं बन सकता लाल बहादुर शास्त्री जैसा व्यक्ति इस देश का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता था कि यह लोकतंत्र की शक्ति है कि इस तरह के लोग भी देश के सर्वोच्च शिखर पर हसनपुर में लोकतंत्र के कारण संभव हो सका है हां लेकिन लोकतंत्र को जितना सफल होना चाहिए था भारत में कहीं न कहीं उस में कमी जरूर दिखाई देती है कि नेपथ्य में जाने की आवश्यकता है जिस तेजी समय आजाद हुआ उस समय देश के सामने कई बड़ी चुनौतियां की गरीबी से देश दूसरा था बेरोजगारी थी स्वास्थ्य सुविधाओं का बड़ा अभाव था उद्योग धंधे नहीं थे इतना ही नहीं अभी कुछ दिन ही पीते कि देश को युद्ध की चुनौतियों से भी गुजरना पड़ा 1971 1965 इस तरह से देश हमेशा चुनौतियों से जूझता रहा कहीं ना कहीं इन समस्याओं के बीच में लोकतंत्र की समझ और शिक्षा को जिस प्रकार से देश के अंदर नागरिकों में मजबूत होना चाहिए था विकसित होना चाहिए था यह कहीं न कहीं पीछे छूट गया और इसमें सबसे बड़ा अगर कोई जिम्मेदार है तो वह देश के राजनीतिक दल है क्योंकि उन्होंने लोकतंत्र को सत्ता पाने का एक प्रयोगशाला बना लिया और उसमें तरह-तरह के नए प्रयोग करने शुरू कर दिए कि जैसे राजनीतिक केंद्र में अपराध का समावेश राजनीतिक केंद्र धनबल राजनीति के अंदर बाहुबल इन सब चीजों का प्रयोग जब शुरू हो गया तो कहीं न कहीं मूल लोकतंत्र की जो आत्मा थी वह पीछे छूट गई यही कारण है कि 30 से 40% पोलिंग परसेंटेज पर ही कभी सरकारी बन जाया करती थी परंतु आज देश का नागरिक शिक्षित हो रहा है युवा जागरुक है सोशल मीडिया पर एक्टिव है और पोलिंग परसेंटेज बढ़ रहा है और लोकतंत्र के प्रति समझ भी लोगों कीBharat Mein Loktantra Yadi Asafal Hota To Ek Chai Bechne Wala Desh Ka Pradhanmantri Nahi Ban Sakta Tha Ek Akbar Bechne Wala Desh Ka Rashtrapati Nahi Ban Sakta Lal Bahadur Shastri Jaisa Vyakti Is Desh Ka Pradhanmantri Nahi Ban Sakta Tha Ki Yeh Loktantra Ki Shakti Hai Ki Is Tarah Ke Log Bhi Desh Ke Sarvoch Shikhar Par Hasanpur Mein Loktantra Ke Kaaran Sambhav Ho Saka Hai Haan Lekin Loktantra Ko Jitna Safal Hona Chahiye Tha Bharat Mein Kahin N Kahin Us Mein Kami Jarur Dikhai Deti Hai Ki Nepathya Mein Jaane Ki Avashyakta Hai Jis Teji Samay Azad Hua Us Samay Desh Ke Samane Kai Badi Chunautiyaan Ki Garibi Se Desh Doosra Tha Berojgari Thi Swasthya Suvidhaon Ka Bada Abhaav Tha Udyog Dhandhe Nahi The Itna Hi Nahi Abhi Kuch Din Hi Pite Ki Desh Ko Yudh Ki Chunautiyon Se Bhi Gujarana Pada 1971 1965 Is Tarah Se Desh Hamesha Chunautiyon Se Jujhta Raha Kahin Na Kahin In Samasyaon Ke Bich Mein Loktantra Ki Samajh Aur Shiksha Ko Jis Prakar Se Desh Ke Andar Naagrikon Mein Mazboot Hona Chahiye Tha Viksit Hona Chahiye Tha Yeh Kahin N Kahin Piche Chhut Gaya Aur Isme Sabse Bada Agar Koi Zimmedar Hai To Wah Desh Ke Rajnitik Dal Hai Kyonki Unhone Loktantra Ko Satta Pane Ka Ek Prayogshala Bana Liya Aur Usamen Tarah Tarah Ke Naye Prayog Karne Shuru Kar Diye Ki Jaise Rajnitik Kendra Mein Apradh Ka Samavesh Rajnitik Kendra DHANABAL Rajneeti Ke Andar Bahubal In Sab Chijon Ka Prayog Jab Shuru Ho Gaya To Kahin N Kahin Mul Loktantra Ki Jo Aatma Thi Wah Piche Chhut Gayi Yahi Kaaran Hai Ki 30 Se 40% Polling Percentage Par Hi Kabhi Sarkari Ban Jaaya Karti Thi Parantu Aaj Desh Ka Nagarik Shikshit Ho Raha Hai Yuva Jagaruk Hai Social Media Par Active Hai Aur Polling Percentage Badh Raha Hai Aur Loktantra Ke Prati Samajh Bhi Logon Ki
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लोकतंत्र के कारण ही भारत की पहचान है और पूरे विश्व में लोकतंत्र जिसका भारत से मजबूत इतना कहीं पर भी नहीं हर व्यक्ति को अपनी अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता है अलग-अलग समाज अलग-अलग स्टेट अलग-अलग...जवाब पढ़िये
भारत में लोकतंत्र के कारण ही भारत की पहचान है और पूरे विश्व में लोकतंत्र जिसका भारत से मजबूत इतना कहीं पर भी नहीं हर व्यक्ति को अपनी अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता है अलग-अलग समाज अलग-अलग स्टेट अलग-अलग स्टेट में अलग-अलग पार्टियां और पार्टियों के अलग-अलग आज अंडे देते हैं इस हिसाब से लोगों को काफी मजबूत है भारत में और इससे कोई साथ नहीं देता और मेरी यह सोचे कि प्रजातांत्रिक तरीके से ही देश में काफी विकास किया और आगे भी विकास करेगा
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है और अमेरिका सबसे पुराना लोकतांत्रिक देश है भारत में लोकतंत्र के बलबूते पर चंद्रयान मंगलयान तेजस फाइटर जेट स्त्रोत डीआरडीओ एग्रीकल्चरल ग्रोथ इंडियन ट्रेन LIC...जवाब पढ़िये
भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है और अमेरिका सबसे पुराना लोकतांत्रिक देश है भारत में लोकतंत्र के बलबूते पर चंद्रयान मंगलयान तेजस फाइटर जेट स्त्रोत डीआरडीओ एग्रीकल्चरल ग्रोथ इंडियन ट्रेन LIC ऐसे बहुत सारे क्षेत्रों में बहुत अच्छी प्रगति की है जिनका नाम गिराना भी आसान नहीं है और हमने जिन क्षेत्रों में प्रगति की है उसके बारे में रिसर्च करने के लिए स्टडी करने के लिए विदेश से छात्र आते हैं और अलग-अलग आर्गेनाईजेशन से लोग आकर पर सर्च करते हैं तो लोकतंत्र के बारे में गलत कहना हमारे भारत देश के बारे में गलतफहमी के बारे में अगर लोकतंत्र नहीं होता तो आज के दिनों में अभी तक हमारे भारत देश में जो प्रगति किए वह कभी नहीं कर पाते थे जिस तरीके से किसी मोटर गाड़ी में अगर मोटर ना हो तो वह गाड़ी चल नहीं सकती उसी तरह हमारे भारत देश में अगर लोकतंत्र हो ना हो तो हमारा देश नहीं चल सकता तो यह कहना सरासर गलत है कि लोकतंत्र भारत में ऐसा समय हमारे भारत में लोकतंत्र है इसीलिए हम आज दुनिया के लिए एक मिसाल बन चुके हैं के सवा सौ करोड़ लोकसंख्या का देश आज इतनी अच्छी प्रगति कर रहा है थैंक यूBharat Duniya Ka Sabse Bada Loktantrik Desh Hai Aur America Sabse Purana Loktantrik Desh Hai Bharat Mein Loktantra Ke Balbute Par Chandrayan Mangalyaan Tejas Fighter Jet Satrot DRDO Agricultural Growth Indian Train LIC Aise Bahut Sare Kshetro Mein Bahut Acchi Pragati Ki Hai Jinka Naam Girana Bhi Aasan Nahi Hai Aur Humne Jin Kshetro Mein Pragati Ki Hai Uske Bare Mein Research Karne Ke Liye Study Karne Ke Liye Videsh Se Chatra Aate Hain Aur Alag Alag Organisation Se Log Aakar Par Search Karte Hain To Loktantra Ke Bare Mein Galat Kehna Hamare Bharat Desh Ke Bare Mein Galatfahamee Ke Bare Mein Agar Loktantra Nahi Hota To Aaj Ke Dinon Mein Abhi Tak Hamare Bharat Desh Mein Jo Pragati Kiye Wah Kabhi Nahi Kar Paate The Jis Tarike Se Kisi Motor Gaadi Mein Agar Motor Na Ho To Wah Gaadi Chal Nahi Sakti Ussi Tarah Hamare Bharat Desh Mein Agar Loktantra Ho Na Ho To Hamara Desh Nahi Chal Sakta To Yeh Kehna Sarasar Galat Hai Ki Loktantra Bharat Mein Aisa Samay Hamare Bharat Mein Loktantra Hai Isliye Hum Aaj Duniya Ke Liye Ek Misal Ban Chuke Hain Ke Sava Sau Crore Loksankhya Ka Desh Aaj Itni Acchi Pragati Kar Raha Hai Thank You
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Loktantra Bharat Mein Asafal Raha Hai

vokalandroid