भारत अभी भी स्वच्छ भारत क्यों नहीं है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर रहे थे और जो दसवां व्यक्ति था उसको यह नहीं पता था कि बाकी लोग एक्टिंग कर रहे हैं तो 1 आदमी भारी से बैग लेकर अ...जवाब पढ़िये
एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर रहे थे और जो दसवां व्यक्ति था उसको यह नहीं पता था कि बाकी लोग एक्टिंग कर रहे हैं तो 1 आदमी भारी से बैग लेकर अंदर घुसता है और नीचे उसके हाथ से नीचे गिर जाता है वैसे एक्टिंग करते हैं जैसे कि उन्हें कोई फर्क ही नहीं पड़ता इनवेरिएबली जो बनता है वह भी वही बता दिखाता है यह पेमेंट जब अकेले में किया जाता है तो 3 में से एक व्यक्ति फौरन मदद करता है स्वच्छता अभियान का भी कुछ ऐसा ही रिएक्शन है दूसरों को देखकर हर कोई यही सोचता है कि मेरे एक अकेले से क्या फर्क पड़ता करना लोंग चॉकलेट के रहर में करें तो 10 आदमी कहता मेरे उठाने से बिना फेंकने से क्या फर्क पड़ता है चलो मैं भी फेंक देता हूं कि मेरे ना फेंकने से अखिलेश थोड़ा से सफाई रहेगी इस वजह से देश की यह हाल है जब तक हर भारतीय देश को अपना घर नहीं मानता भारत का जो स्वच्छ अभियान हो सकता फुल नहीं हो सकता स्वच्छ भारत अभियान है इसके नसीब करने के और भी कारण यह है कि गवर्नमेंट कापूस चूहे टॉयलेट बनाने में था 9 करोड़ से ज्यादा टॉयलेट घरों और पब्लिक प्लेसिस ने बनाई गई है लेकिन शोर नहीं किया गया कि पानी का सप्लाई तथा सफाई सही तरह से हो जाए उसमें तो अब आधे से ज्यादा जो टॉयलेट्स है पिछले 3 साल से खाली पड़े हैं अन्य न्यूज़ पड़े हैं दूसरों की मैनेजमेंट नहीं किया जा रहा सही तरीके से कलेक्शन अभी भी उसी पुल उल्टे सीधे तरीके से किया जा रहा है जहां क्रिएशन नहीं होता छटाई नहीं होती की साईकिल के नाम पर जो जाती है वह थोड़ी बहुत दस परसेंट रीसायकल होते हैं वेस्ट प्रोसेसिंग के लिए फंक्शन नहीं है हजार्ड मैनेजमेंट नहीं ठीक से होता जैसे गाजीपुर जैसी इंसीडेंट होती रहती है और जब तक कि अवेयरनेस नहीं क्रिएट होता स्वच्छ भारत नहीं हो सकता और जब तक हर एक भारतीय अपने आप अंदर से उसमें स्वच्छता कि वह नहीं आती तब तक
Likes  65  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वच्छ भारत मिशन है वह उसमें सबसे बड़ी जो बाधा है लोगों के अंदर अभिनीत की कमी है जागरूकता की कमी है जो तेल और लोगों को जागरूकता आएगी तो स्वच्छ भारत मिशन अपने हंड्रेड परसेंट सौ परसेंट लक्ष्य को प्राप्त...जवाब पढ़िये
स्वच्छ भारत मिशन है वह उसमें सबसे बड़ी जो बाधा है लोगों के अंदर अभिनीत की कमी है जागरूकता की कमी है जो तेल और लोगों को जागरूकता आएगी तो स्वच्छ भारत मिशन अपने हंड्रेड परसेंट सौ परसेंट लक्ष्य को प्राप्त करेगा अगर यूरोपियन कंट्रीज को देखा जाए जो यूरोप के देश हैं तो वहां के लोगों के अंदर सिविक सेंस हमारे यहां पर बहुत अधिक है इसलिए वहां स्वच्छता और इन सब चीजों को लेकर काफी लोग अवेयर हैं उनको लगता है कि यह हमारा देश है हमारा शहर है हमारा मोहल्ला है कैसे साफ रखना भारत में यह नहीं है भारत में थोड़ा सा लोगों के अंदर जागरूकता भी है वह अपना घर तो साफ रखते हैं लेकिन गली में कूड़ा और गंदगी है तो सबसे पहला काम ही गवर्नमेंट के लेबल पर और नॉन गवर्नमेंट एजेंसीज के माध्यम से एनजीओ के माध्यम से दूसरे तरीकों के माध्यम से सारे चाहिए तो लेकिन लोगों को जागरूक करना लोगों के अंदर इस तरह का सिविक सेंस नागरिकता बहुत बोलते हैं शायद तो नागरिकता बोल पैदा करना ज्यादा जरूरी है
Likes  14  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जेटली ने किस गांव में जो शिक्षा शिक्षा और रोजगार शिक्षा और रोजगार और सड़क वाली काली मैया का जो है वह सब पीरा जो कजरा कजरा कजरा कजरा करने का मतलब के दूसरे अप्रैल को कैसे किया जाता है कि को जलाना है कि ...जवाब पढ़िये
जेटली ने किस गांव में जो शिक्षा शिक्षा और रोजगार शिक्षा और रोजगार और सड़क वाली काली मैया का जो है वह सब पीरा जो कजरा कजरा कजरा कजरा करने का मतलब के दूसरे अप्रैल को कैसे किया जाता है कि को जलाना है कि उसको संसाधन है वह जितना चाहिए स्वच्छता तो बहुत कुछ तो सफल हो रही है चित्र में कुछ मुझे कुछ क्षेत्रों में तो यह भी धीरे-धीरे अगर इतने करे लगातार में लगे रहे तो स्वच्छता सफल हो जाएगा कुछ भारत का जो अभियान है यह एक बड़ा एक दिन में बहुत विदेशी जो भी है वह अपना चीज है थोड़ा सा और अच्छा गुप्ता का बनता है देख यह सब अपने नागरिकों की जवाबदारी है बबीता की बातें
Likes  4  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किस देश की सरकार अरबों रुपए खर्च कर गई हो पब्लिक तक भेजने के लिए पुलक सागर करोड़ों अरबों रुपए खर्च कर रही है क्या आप टॉयलेट में जाकर प्रेस को कैसे रखा जा सकता बहुत प्रयास तो हुआ है रोकथाम तो हुई है ल...जवाब पढ़िये
किस देश की सरकार अरबों रुपए खर्च कर गई हो पब्लिक तक भेजने के लिए पुलक सागर करोड़ों अरबों रुपए खर्च कर रही है क्या आप टॉयलेट में जाकर प्रेस को कैसे रखा जा सकता बहुत प्रयास तो हुआ है रोकथाम तो हुई है लेकिन आप तो बिल्कुल नहीं करेंगे और क्या अरबों करोड़ों रुपए पब्लिक भेजने में
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो यह स्वच्छ भारत नहीं है इसलिए क्योंकि यह आम पब्लिक ही बात है आम पब्लिक जब तक नहीं करेगी तब तक तब तक सारे लोग मिलकर इस को स्वच्छता अभियान को उसको चलाएंगे सारे लोग अपनी जिम्मेदारी समझेंगे तोता के प...जवाब पढ़िये
यह तो यह स्वच्छ भारत नहीं है इसलिए क्योंकि यह आम पब्लिक ही बात है आम पब्लिक जब तक नहीं करेगी तब तक तब तक सारे लोग मिलकर इस को स्वच्छता अभियान को उसको चलाएंगे सारे लोग अपनी जिम्मेदारी समझेंगे तोता के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझेंगे वेतन
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि फिल्म भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है यह कहना अतिशयोक्ति होगा लेकिन क्योंकि किसी ने पहले से जो बिगड़ मंत्री जी के द्वारा या किसी के द्वारा संदेश देते हैं उसे आम जनता नहीं कर सकती ऐसे में हम सभ...जवाब पढ़िये
क्योंकि फिल्म भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है यह कहना अतिशयोक्ति होगा लेकिन क्योंकि किसी ने पहले से जो बिगड़ मंत्री जी के द्वारा या किसी के द्वारा संदेश देते हैं उसे आम जनता नहीं कर सकती ऐसे में हम सभी को एक साथ स्वच्छ भारत के निर्माण के लिए समानता का निर्गुण करना जरूरी होता है
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा इसलिए है क्योंकि हम अभी भी यह सोच नहीं रखते कि यह देश हमारा है ऐसा देश की सड़के हमारी है जहां पर भी हम चाहते हैं वह हमारा ही है कि आप किसी पब्लिक चलाना चाहते हैं जब वह पार को यह मंदिर हो या कोई भी...जवाब पढ़िये
ऐसा इसलिए है क्योंकि हम अभी भी यह सोच नहीं रखते कि यह देश हमारा है ऐसा देश की सड़के हमारी है जहां पर भी हम चाहते हैं वह हमारा ही है कि आप किसी पब्लिक चलाना चाहते हैं जब वह पार को यह मंदिर हो या कोई भी जगह हमें यह याद रखना चाहिए कि यह सारा हमारा ही तो है लेकिन हम क्या देखते हैं हम क्या नजरिया रखते हैं हम यह नजरिया रखते हैं कि सिर्फ घर हमारा है वह गाड़ी हमारी है वह बंगला हमारा है और इसके अलावा कुछ और हमारा नहीं है रास्ता रास्ता किसका है रास्ता सब का है चलो कोई बात नहीं वह कूड़ा फेंक दो केले के छिलके गंदगी फैलाते कोई दिक्कत नहीं है कोई परेशानी नहीं कोई बोलने वाला नहीं है कोई टोकने वाला नहीं है 10 मिनट बनाई है तो क्या दर्शन के बाहर भी फेंक सकते हैं अब कौन 10 मिनट ढूंढ कर उसमें डालने जाएगा जी यह तो हमारी मानसिकता ही हमारी सोच है दिक्कत है और है दिक्कत यह है कि कई बार ऐसा होता है कि हम डस्टबिन ढूंढते हैं पर वह मिलता नहीं है तो इंसान क्या करता है कहीं पर फेंक देता है अब मीरा राय तो यही होगा मैं सही होगा कि कहीं और देखने के बचे हैं आप उसको साथ में ले जाएं घर में ले जाकर घर में डस्टबिन में फेंक दें तो यह सब सोच हमारी अपनी है और हम ही को इस पर काम करना पड़ेगा जब एक ही इंसान इसके बारे में सोचने लगे गा करने लगेगा तब जा की हालत सुधर सकते हैं एक तो हो गया कि सेंट्रल लेवल पर गवर्नमेंट की तरफ से क्या इनीशिएटिव प्राइवेट सेक्टर में जहां पर बीचोबीच कोई वेरिया संभाल रहा है वहां पर उन लोगों ने क्या इनीशिएटिव ले रखा है दूसरा यह है कि आपका क्या पसंद है आप अपना फर्ज निभाया क्यों भारत अभी भी ऐसे हैं क्योंकि सब लोग ऐसा नहीं सोचते हैं सब लोग साफ सफाई के बारे में नहीं सोच से जिस दिन हर एक इंसान यह सोचना शुरू कर दिया तो क्या आपको लगता है गंदगी रहेगी नहीं रहेगी किसी एक इंसान के सोचने से ऐसा साफ नहीं हो सकता हम सबको अपने-अपने हिस्से का सफाई मेड इन करना पड़ेगा हम सबको केयरफुल रहकर यह काम करना पड़ेगा तभी भारत स्वच्छ हो सकता है
Likes  10  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस तरीके से इंडिया के लोग पब्लिक प्रॉपर्टी को ट्वीट करते हैं मुझे नहीं लगता भारत कभी भी स्वच्छ भारत बंद रहेगा अगर आप कहीं पर भी रोड पर चलते हुए लोगों को देख ले वह आज भी तंबाकू गुटका या या ऐसी उल्टी-स...जवाब पढ़िये
जिस तरीके से इंडिया के लोग पब्लिक प्रॉपर्टी को ट्वीट करते हैं मुझे नहीं लगता भारत कभी भी स्वच्छ भारत बंद रहेगा अगर आप कहीं पर भी रोड पर चलते हुए लोगों को देख ले वह आज भी तंबाकू गुटका या या ऐसी उल्टी-सीधी चिंगम ही हो गई यह सब चीजें खाते रहते हैं और रोड पर कहीं पर भी थूक देते हैं क्या वो अपने घर में कभी ऐसे ठोकेंगे बिल्कुल भी नहीं जब अपने ड्राइंग रूम में ऐसा झुकेंगे नहीं क्योंकि उसे अपना मानते हैं और रोड वह तो हमारी है नहीं वह तो सरकार की है और जब वही रोड गंदी होती है तो हम कह देते हैं कि सरकार कुछ नहीं कर रही क्या मोदी जी हर जगह रोड पर झाड़ू लगाने के लिए आएंगे यह के प्रेसिडेंट रामनाथ कोविंद आपके सफाई करेंगे जब तक हम लोग खुद से जागरूक नहीं होंगे और अपने आसपास वालों को जागरुक नहीं करेंगे साफ सफाई के लिए तब तक भारत कभी स्वच्छ भारत नहीं हो सकता थैंक यू सो मचJis Tarike Se India Ke Log Public Property Ko Tweet Karte Hain Mujhe Nahi Lagta Bharat Kabhi Bhi Swach Bharat Band Rahega Agar Aap Kahin Par Bhi Road Par Chalte Huye Logon Ko Dekh Le Wah Aaj Bhi Tambaku Gutka Ya Ya Aisi Ulti Sidhi Chingam Hi Ho Gayi Yeh Sab Cheezen Khate Rehte Hain Aur Road Par Kahin Par Bhi Thuk Dete Hain Kya Vo Apne Ghar Mein Kabhi Aise Thokenge Bilkul Bhi Nahi Jab Apne Drying Room Mein Aisa Jhukenge Nahi Kyonki Use Apna Manate Hain Aur Road Wah To Hamari Hai Nahi Wah To Sarkar Ki Hai Aur Jab Wahi Road Gandi Hoti Hai To Hum Keh Dete Hain Ki Sarkar Kuch Nahi Kar Rahi Kya Modi G Har Jagah Road Par Jhaad Lagane Ke Liye Aayenge Yeh Ke President Ramnath Kovind Aapke Safaai Karenge Jab Tak Hum Log Khud Se Jaagruk Nahi Honge Aur Apne Aaspass Walon Ko Jagaruk Nahi Karenge Saaf Safaai Ke Liye Tab Tak Bharat Kabhi Swach Bharat Nahi Ho Sakta Thank You So Mach
Likes  18  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharat Abhi Bhi Swacch Bharat Kyon Nahi Hai

vokalandroid