सब बातो को निजी तौर से लेना कैसे बंद करुँ ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर बात को निजी तौर से देना हम तब शुरू करते हैं जब हमारे आत्मविश्वास में कमी आने लगती है हम अपनी तुलना और उसे करने लगते हैं और फिर ऐसा होता है कि हमें सिर्फ अपनी खामियां दिखाई दिखाई देने लगती हैं हम अपनी खूबियों पर नहीं ध्यान दे पाते हैं ऐसे में आप अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए अपने व्यक्तित्व को लगातार निकालना शुरू करें अपने पॉजिटिव पॉइंट पर ध्यान देना स्टार्ट करें अपनी सकारात्मक खूबियों पर ध्यान दें आप में क्या अच्छाइयां हैं यह ध्यान में रखें कि हर इंसान में अच्छाइयां और बुराइयां दोनों होते हैं और हर इंसान दूसरे के जितना ही काबिल होता है आप में कोई टैलेंट होएगी आपके दोस्त में किसी और तरह की टैलेंट होगी अपने पॉजिटिव पॉइंट्स पर ध्यान दे अपने पर्सनल अपने व्यक्तित्व को पर्सनालिटी को लगातार निखारें और आपके लिए कामयाबी का क्या मतलब है कामयाबी की परिभाषा आपके लिए क्या है यह समझने की कोशिश करें कि आप जीवन में क्या करना चाहते हैं उस पर ध्यान दें ना कि लोग अपने जीवन में क्या कर रहे हैं और उनकी कामयाबी कितनी है उस पर ध्यान देना बंद कर दें यह जिन्होंने आप को मदद करनी चाहिए
Romanized Version
हर बात को निजी तौर से देना हम तब शुरू करते हैं जब हमारे आत्मविश्वास में कमी आने लगती है हम अपनी तुलना और उसे करने लगते हैं और फिर ऐसा होता है कि हमें सिर्फ अपनी खामियां दिखाई दिखाई देने लगती हैं हम अपनी खूबियों पर नहीं ध्यान दे पाते हैं ऐसे में आप अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए अपने व्यक्तित्व को लगातार निकालना शुरू करें अपने पॉजिटिव पॉइंट पर ध्यान देना स्टार्ट करें अपनी सकारात्मक खूबियों पर ध्यान दें आप में क्या अच्छाइयां हैं यह ध्यान में रखें कि हर इंसान में अच्छाइयां और बुराइयां दोनों होते हैं और हर इंसान दूसरे के जितना ही काबिल होता है आप में कोई टैलेंट होएगी आपके दोस्त में किसी और तरह की टैलेंट होगी अपने पॉजिटिव पॉइंट्स पर ध्यान दे अपने पर्सनल अपने व्यक्तित्व को पर्सनालिटी को लगातार निखारें और आपके लिए कामयाबी का क्या मतलब है कामयाबी की परिभाषा आपके लिए क्या है यह समझने की कोशिश करें कि आप जीवन में क्या करना चाहते हैं उस पर ध्यान दें ना कि लोग अपने जीवन में क्या कर रहे हैं और उनकी कामयाबी कितनी है उस पर ध्यान देना बंद कर दें यह जिन्होंने आप को मदद करनी चाहिएHar Baat Ko Niji Taur Se Dena Hum Tab Shuru Karte Hain Jab Hamare Aatmvishvaas Mein Kami Aane Lagti Hai Hum Apni Tulna Aur Use Karne Lagte Hain Aur Phir Aisa Hota Hai Ki Hume Sirf Apni Khamiyan Dikhai Dikhai Dene Lagti Hain Hum Apni Khubiyon Par Nahi Dhyan De Paate Hain Aise Mein Aap Apne Aatmvishvaas Ko Badhane Ke Liye Apne Vyaktitva Ko Lagatar Nikalna Shuru Karen Apne Positive Point Par Dhyan Dena Start Karen Apni Sakaratmak Khubiyon Par Dhyan Dein Aap Mein Kya Acchaiyan Hain Yeh Dhyan Mein Rakhen Ki Har Insaan Mein Acchaiyan Aur Buraiyan Dono Hote Hain Aur Har Insaan Dusre Ke Jitna Hi Kaabil Hota Hai Aap Mein Koi Talent Hoegi Aapke Dost Mein Kisi Aur Tarah Ki Talent Hogi Apne Positive Points Par Dhyan De Apne Personal Apne Vyaktitva Ko Personality Ko Lagatar Nikharen Aur Aapke Liye Kamyabi Ka Kya Matlab Hai Kamyabi Ki Paribhasha Aapke Liye Kya Hai Yeh Samjhne Ki Koshish Karen Ki Aap Jeevan Mein Kya Karna Chahte Hain Us Par Dhyan Dein Na Ki Log Apne Jeevan Mein Kya Kar Rahe Hain Aur Unki Kamyabi Kitni Hai Us Par Dhyan Dena Band Kar Dein Yeh Jinhone Aap Ko Madad Karni Chahiye
Likes  13  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

क्या राष्ट्रपति पुस्तकालयों को निजी तौर पर वित्त पोषित किया जाता है? ...

राष्ट्रपति पदनाम (निजी, गैर-लाभकारी समर्थन संगठन) धन जुटाने और राष्ट्रपति पुस्तकालय सुविधाओं का निर्माण, प्रत्येक पुस्तकालय के संग्रहालय में मुख्य प्रदर्शन के लिए भुगतान करते हैं, सार्वजनिक कार्यक्रमोजवाब पढ़िये
ques_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Sab Bato Ko Niji Taur Se Lena Kaise Band Karun ?,


vokalandroid