अधिकांश लोग जीवन के बारे में क्या नहीं सीखते हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अधिकतर कर के लोग भी अपनी जिंदगी में यह चीज नहीं सीख पाते हैं कि आपकी ज़िंदगी चुने हुए प्रकार का खेल है और आपको जो इसे खेल की तरह जीना है पहले किसी भी खेल में जाने के लिए हम उस खेल के नियम पिक्चर...जवाब पढ़िये
देखिए अधिकतर कर के लोग भी अपनी जिंदगी में यह चीज नहीं सीख पाते हैं कि आपकी ज़िंदगी चुने हुए प्रकार का खेल है और आपको जो इसे खेल की तरह जीना है पहले किसी भी खेल में जाने के लिए हम उस खेल के नियम पिक्चर उसी प्रकार से आपको जो इस जिंदगी के खेल के नियम सीखने होंगे और उसके बाद जो है आप इस जिंदगी को एक खेल की तरह नहीं खेल पाओगे और जिंदगी के खेल के नियम जो इस जिंदगी को जी सकते इसलिए आपको कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है आपको अपनी जिंदगी थोड़ा अवेयरनेस के साथ जी नहीं है उसके बाद ही आप जो इसके नियम धीरे धीरे से पीने लगोगे की जिंदगी आपको जो भी बुरे नहीं हम सिखा देंगे और बाद में काफी जिंदगी के अच्छे खिलाडी बन सको तो आपको इस मैदान को कभी छोड़कर नहीं बात नहीं पहले कितनी बड़ी समस्या आ जाए आपको एक जिंदगी को एक लौंग पोस्टपेड उसे देखना है एक खेल कितने बजे से देखना और खेल में जैसे जिस प्रकार से हार जीत चलती रहती है उसी प्रकार से जिंदगी में अच्छे बुरे समय चलते रहते हैं आपको बस किसी भी समय में जो मैदान को छोड़कर भागना नहीं है तो यह तुझे लगता है कि मुझे अधिकतर लोग भी अच्छे से सीख नहीं पाते जिंदगी को लेकर जो कि मैं पूरी जिंदगी एक खराब समझ निकलते हैं डर के जीते हैं फिर उदासीनता उदासीनता या नाराज होकर निकाल देती और बाद में जब मरने को आते तब उनको समझ में आता कि उन्होंने अपनी जिंदगी में कुछ भी नहीं किया है क्योंकि पूरी तरह से गलत होता है तो मुझे लगता है कि एक इंसान के नाते उन्हें इस चीज को समझना चाहिए जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी की जीवनी पूरी तरह से खेले और हमें उसी प्रकार से जीवन को जीना चाहिएDekhie Adhiktar Kar Ke Log Bhi Apni Zindagi Mein Yeh Cheez Nahi Seekh Paate Hain Ki Aapki Zindagi Chune Huye Prakar Ka Khel Hai Aur Aapko Jo Ise Khel Ki Tarah Jeena Hai Pehle Kisi Bhi Khel Mein Jaane Ke Liye Hum Us Khel Ke Niyam Picture Ussi Prakar Se Aapko Jo Is Zindagi Ke Khel Ke Niyam Seekhne Honge Aur Uske Baad Jo Hai Aap Is Zindagi Ko Ek Khel Ki Tarah Nahi Khel Paoge Aur Zindagi Ke Khel Ke Niyam Jo Is Zindagi Ko Ji Sakte Isliye Aapko Kahin Bahar Jaane Ki Zaroorat Nahi Hai Aapko Apni Zindagi Thoda Awareness Ke Saath Ji Nahi Hai Uske Baad Hi Aap Jo Iske Niyam Dhire Dhire Se Peene Lagoge Ki Zindagi Aapko Jo Bhi Bure Nahi Hum Sikha Denge Aur Baad Mein Kafi Zindagi Ke Acche Khiladi Ban Sako To Aapko Is Maidan Ko Kabhi Chodkar Nahi Baat Nahi Pehle Kitni Badi Samasya Aa Jaye Aapko Ek Zindagi Ko Ek Long Postpaid Use Dekhna Hai Ek Khel Kitne Baje Se Dekhna Aur Khel Mein Jaise Jis Prakar Se Haar Jeet Chalti Rehti Hai Ussi Prakar Se Zindagi Mein Acche Bure Samay Chalte Rehte Hain Aapko Bus Kisi Bhi Samay Mein Jo Maidan Ko Chodkar Bhaagna Nahi Hai To Yeh Tujhe Lagta Hai Ki Mujhe Adhiktar Log Bhi Acche Se Seekh Nahi Paate Zindagi Ko Lekar Jo Ki Main Puri Zindagi Ek Kharab Samajh Nikalte Hain Dar Ke Jeete Hain Phir Udasinta Udasinta Ya Naaraj Hokar Nikal Deti Aur Baad Mein Jab Marne Ko Aate Tab Unko Samajh Mein Aata Ki Unhone Apni Zindagi Mein Kuch Bhi Nahi Kiya Hai Kyonki Puri Tarah Se Galat Hota Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Ek Insaan Ke Naate Unhen Is Cheez Ko Samajhna Chahiye Jitni Jaldi Ho Sake Utani Jaldi Ki Jivani Puri Tarah Se Khele Aur Hume Ussi Prakar Se Jeevan Ko Jeena Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Adhikaansh Log Jeevan Ke Bare Mein Kya Nahi Sikhate Hain

vokalandroid