रावण का पुराना नाम क्या था ? ...

रावण लंका का राजा था वह अपने 10 सिरों से भी जाना जाता था।जिसके कारण उसका नाम दशानन यानी (दश+आनन) था।
Romanized Version
रावण लंका का राजा था वह अपने 10 सिरों से भी जाना जाता था।जिसके कारण उसका नाम दशानन यानी (दश+आनन) था।Ravan Lanka Ka Raja Tha Wah Apne 10 Siron Se Bhi Jana Jata Tha Jiske Kaaran Uska Naam Dashanan Yani Tha
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


रावण रामायण का एक प्रमुख प्रतिचरित्र है। रावण लंका का राजा था। वह अपने दस सिरों के कारण भी जाना जाता था, जिसके कारण उसका नाम दशानन (दश = दस + आनन = मुख) भी था। किसी भी कृति के लिये नायक के साथ ही सशक्त खलनायक का होना अति आवश्यक है। रामकथा में रावण ऐसा पात्र है, जो राम के उज्ज्वल चरित्र को उभारने काम करता है। किंचित मान्यतानुसार रावण में अनेक गुण भी थे। सारस्वत ब्राह्मण पुलस्त्य ऋषि का पौत्र और विश्रवा का पुत्र रावण एक परम शिव भक्त, उद्भट राजनीतिज्ञ , महापराक्रमी योद्धा , अत्यन्त बलशाली , शास्त्रों का प्रखर ज्ञाता ,प्रकान्ड विद्वान पंडित एवं महाज्ञानी था। रावण के शासन काल में लंका का वैभव अपने चरम पर था इसलिये उसकी लंकानगरी को सोने की लंका अथवा सोने की नगरी भी कहा जाता है।
Romanized Version
रावण रामायण का एक प्रमुख प्रतिचरित्र है। रावण लंका का राजा था। वह अपने दस सिरों के कारण भी जाना जाता था, जिसके कारण उसका नाम दशानन (दश = दस + आनन = मुख) भी था। किसी भी कृति के लिये नायक के साथ ही सशक्त खलनायक का होना अति आवश्यक है। रामकथा में रावण ऐसा पात्र है, जो राम के उज्ज्वल चरित्र को उभारने काम करता है। किंचित मान्यतानुसार रावण में अनेक गुण भी थे। सारस्वत ब्राह्मण पुलस्त्य ऋषि का पौत्र और विश्रवा का पुत्र रावण एक परम शिव भक्त, उद्भट राजनीतिज्ञ , महापराक्रमी योद्धा , अत्यन्त बलशाली , शास्त्रों का प्रखर ज्ञाता ,प्रकान्ड विद्वान पंडित एवं महाज्ञानी था। रावण के शासन काल में लंका का वैभव अपने चरम पर था इसलिये उसकी लंकानगरी को सोने की लंका अथवा सोने की नगरी भी कहा जाता है।Ravan Ramayana Ka Ek Pramukh Pratichritra Hai Ravan Lanka Ka Raja Tha Wah Apne Das Siron Ke Kaaran Bhi Jana Jata Tha Jiske Kaaran Uska Naam Dashanan Dash = Das + Aanan = Mukh Bhi Tha Kisi Bhi Kriti Ke Liye Nayak Ke Saath Hi Sashakt Khalnayak Ka Hona Ati Aavashyak Hai Ramkatha Mein Ravan Aisa Patra Hai Jo Ram Ke Ujjwal Charitra Ko Ubharane Kaam Karta Hai Kinchit Manyatanusar Ravan Mein Anek Gun Bhi The Saaraswat Brahman PULASTYA Rishi Ka Potra Aur Visrava Ka Putra Ravan Ek Param Shiv Bhakt Udbhat Rajanitigya , Mahaprakrami Yoddha , Atyant Balashaalee , Shashtro Ka Prakhar Gyata Prakand Vidwan Pandit Evam Mahagyani Tha Ravan Ke Shasan Kaal Mein Lanka Ka Vaibhav Apne Charam Par Tha Isaliya Uski Lankanagari Ko Sone Ki Lanka Athwa Sone Ki Nagari Bhi Kaha Jata Hai
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Ravan Ka Purana Naam Kya Tha ?, Ravan Ka Purana Naam, रावण

vokalandroid