देश मे जाति व्यवस्था कैसे समाप्त की जा सकती है?? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
...है यहां डिस्कस करने से ज्यादा व्यवस्था समाप्त होने वाली तो नहीं है मेरा पर्सनल...
Likes  9  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
...है पर साथ ही साथ में बहुत ही ज्यादा सेंसिटिव है इसके ऊपर एक ही...
Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Likes  5  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


हमारे देश में जाति व्यवस्था एक ऐसी समस्या है जिसकी जड़ें बहुत गहरी है मौजूदा समय में जाति व्यवस्था को खत्म करने की सोच अपने आप में बेईमानी है क्योंकि इस समय जातिगत विभेद चरम पर है आम तौर पर जब हम जातिवाद की बात करती हैं तो केवल हिंदू धर्म में व्याप्त जातिगत व्यवस्था की ही चर्चा होती है लेकिन सच्चाई यह है कि सभी धर्मों में जातिगत व्यवस्था है फिर चाहे वह हिंदू हो मुस्लिम या शीट इसलिए हमारे भारतीय समाज में सवर्ण दलित अगली पिछली जाति का विभेद है इस विवेक का लाभ राजनीतिक पार्टियां जमकर उठाती है अपनी अपनी रोटी सेकने के लिए जातिगत राजनितिक पार्टिया तक बना ली गई है भाजपा से लेकर बसपा का रिजल्ट गोरखा मोर्चा मुक्ति भारतीय यूनियन मुस्लिम लीग तक पार्टियों का नाम भले ही कुछ हो लेकिन राजनीति पर अपने क्षेत्र की जाति समीकरण के आधार पर ही करती है फिर पर लालू की पार्टी हो या मुलायम अजीत सिंह की जाति के आधार पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए भी कभी नहीं चाहेंगे कि जात पात की व्यवस्था का लोहिया के जमाने में पथरी हटाने का चलन शुरू हुआ था पर इससे कोई खास बात बनी नहीं उनका मानना था कि समुदायों के बीच रोटी बेटी का संबंध नहीं बनता तब तक जाति व्यवस्था समाप्त नहीं होगी अंतरजातीय विवाह एक तरीका हो सकता है लेकिन सोने नहीं दिया जाएगा अंतरजातीय विवाह के खिलाफ खाप पंचायत लव जिहाद जैसी व्यवस्था शुरू हुई और उसके लिंग का संक्रमण आज पूरे देश में फैल गया है

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

हमारे देश में जाति व्यवस्था एक ऐसी समस्या है जिसकी जड़ें बहुत गहरी है मौजूदा समय में जाति व्यवस्था को खत्म करने की सोच अपने आप में बेईमानी है क्योंकि इस समय जातिगत विभेद चरम पर है आम तौर पर जब हम जातिवाद की बात करती हैं तो केवल हिंदू धर्म में व्याप्त जातिगत व्यवस्था की ही चर्चा होती है लेकिन सच्चाई यह है कि सभी धर्मों में जातिगत व्यवस्था है फिर चाहे वह हिंदू हो मुस्लिम या शीट इसलिए हमारे भारतीय समाज में सवर्ण दलित अगली पिछली जाति का विभेद है इस विवेक का लाभ राजनीतिक पार्टियां जमकर उठाती है अपनी अपनी रोटी सेकने के लिए जातिगत राजनितिक पार्टिया तक बना ली गई है भाजपा से लेकर बसपा का रिजल्ट गोरखा मोर्चा मुक्ति भारतीय यूनियन मुस्लिम लीग तक पार्टियों का नाम भले ही कुछ हो लेकिन राजनीति पर अपने क्षेत्र की जाति समीकरण के आधार पर ही करती है फिर पर लालू की पार्टी हो या मुलायम अजीत सिंह की जाति के आधार पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए भी कभी नहीं चाहेंगे कि जात पात की व्यवस्था का लोहिया के जमाने में पथरी हटाने का चलन शुरू हुआ था पर इससे कोई खास बात बनी नहीं उनका मानना था कि समुदायों के बीच रोटी बेटी का संबंध नहीं बनता तब तक जाति व्यवस्था समाप्त नहीं होगी अंतरजातीय विवाह एक तरीका हो सकता है लेकिन सोने नहीं दिया जाएगा अंतरजातीय विवाह के खिलाफ खाप पंचायत लव जिहाद जैसी व्यवस्था शुरू हुई और उसके लिंग का संक्रमण आज पूरे देश में फैल गया हैHamare Desh Mein Jati Vyavastha Ek Aisi Samasya Hai Jiski Jaden Bahut Gehri Hai Maujuda Samay Mein Jati Vyavastha Ko Khatam Karne Ki Soch Apne Aap Mein Baimani Hai Kyonki Is Samay Jaatigat Wived Charam Par Hai Aam Taur Par Jab Hum Jaatiwad Ki Baat Karti Hain To Kewal Hindu Dharm Mein Vyapt Jaatigat Vyavastha Ki Hi Charcha Hoti Hai Lekin Sacchai Yeh Hai Ki Sabhi Dharmon Mein Jaatigat Vyavastha Hai Phir Chahe Wah Hindu Ho Muslim Ya Sheet Isliye Hamare Bhartiya Samaaj Mein Savarn Dalit Agli Pichali Jati Ka Wived Hai Is Vivek Ka Labh Rajnitik Partyian Jamakar Uthaati Hai Apni Apni Roti Sekane Ke Liye Jaatigat Rajnitik Partiya Tak Bana Lee Gayi Hai Bhajpa Se Lekar Basapa Ka Result Gorkha Morcha Mukti Bhartiya Union Muslim League Tak Partiyon Ka Naam Bhale Hi Kuch Ho Lekin Rajneeti Par Apne Kshetra Ki Jati Samikaran Ke Aadhar Par Hi Karti Hai Phir Par Lalu Ki Party Ho Ya Mulayam Ajit Singh Ki Jati Ke Aadhar Par Apni Rajnitik Rotiyan Sekane Ke Liye Bhi Kabhi Nahi Chahenge Ki Jaat Pat Ki Vyavastha Ka Lohiya Ke Jamaane Mein Pathari Hatane Ka Chalan Shuru Hua Tha Par Isse Koi Khas Baat Bani Nahi Unka Manana Tha Ki Samudayo Ke Beech Roti Beti Ka Sambandh Nahi Banta Tab Tak Jati Vyavastha Samapt Nahi Hogi Antarjaatiy Vivah Ek Tarika Ho Sakta Hai Lekin Sone Nahi Diya Jayega Antarjaatiy Vivah Ke Khilaf Khaap Panchayat Love Jihad Jaisi Vyavastha Shuru Hui Aur Uske Ling Ka Sankraman Aaj Poore Desh Mein Fail Gaya Hai
Likes  3  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Desh Me Jati Vyavastha Kaise Samapt Ki Ja Sakti Hai





मन में है सवाल?