कीमिया से रसायन शास्त्र को कैसे फायदा हुआ? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


कीमिया ने धातु के कामकाज, परिष्करण, गनपाउडर, सिरेमिक, कांच, मिट्टी के बरतन, स्याही, रंग, रंग, सौंदर्य प्रसाधन, अर्क, तरल पदार्थ इत्यादि के उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। एल्केमिस्ट ने रासायनिक तत्वों को पहली प्राथमिक आवधिक सारणी में अवधारणा दी और पश्चिमी को आसवन की प्रक्रिया शुरू की यूरोप।

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

कीमिया ने धातु के कामकाज, परिष्करण, गनपाउडर, सिरेमिक, कांच, मिट्टी के बरतन, स्याही, रंग, रंग, सौंदर्य प्रसाधन, अर्क, तरल पदार्थ इत्यादि के उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। एल्केमिस्ट ने रासायनिक तत्वों को पहली प्राथमिक आवधिक सारणी में अवधारणा दी और पश्चिमी को आसवन की प्रक्रिया शुरू की यूरोप।Keemiya Ne Dhatu Ke Kamkaj Gunpowder Ceramic Kanch Mitti Ke Baratan Syahi Rang Rang Saundarya Ark Taral Padarth Ityadi Ke Utpadan Mein Mahatvapurna Yogdan Diya Ne Rasaynik Tatwon Ko Pehli Prathmik Aavadhik Sarani Mein Awdharna Di Aur Pashchimi Ko Aasavan Ki Prakriya Shuru Ki Europe
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

अपना सवाल पूछिए

0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


कीमिया ने धातु के कामकाज, परिष्करण, गनपाउडर, सिरेमिक, कांच, मिट्टी के बरतन, स्याही, रंग, रंग, सौंदर्य प्रसाधन, निष्कर्ष, तरल पदार्थ आदि के उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। एल्केमिस्ट ने रासायनिक तत्वों को पहली प्राथमिक आवधिक सारणी में अवधारणा दी और पश्चिमी को आसवन की प्रक्रिया शुरू की यूरोप

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

कीमिया ने धातु के कामकाज, परिष्करण, गनपाउडर, सिरेमिक, कांच, मिट्टी के बरतन, स्याही, रंग, रंग, सौंदर्य प्रसाधन, निष्कर्ष, तरल पदार्थ आदि के उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। एल्केमिस्ट ने रासायनिक तत्वों को पहली प्राथमिक आवधिक सारणी में अवधारणा दी और पश्चिमी को आसवन की प्रक्रिया शुरू की यूरोपKeemiya Ne Dhatu Ke Kamkaj Parishkaran Gunpowder Ceramic Kanch Mitti Ke Baratan Syahi Rang Rang Saundarya Prasadhan Nishkarsh Taral Padarth Aadi Ke Utpadan Mein Mahatvapurna Yogdan Diya Alchemist Ne Rasaynik Tatwon Ko Pehli Prathmik Aavadhik Sarani Mein Awdharna Di Aur Pashchimi Ko Aasavan Ki Prakriya Shuru Ki Europe
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

कीमिया और रसायनज्ञ वास्तव में अंग्रेजी में रसायन शास्त्र और रसायनज्ञ की तुलना में पुराने शब्द हैं। एल्केमिस्ट का मानना ​​था कि लीड को सोने में परिपूर्ण किया जा सकता है, कि बीमारियों को ठीक किया जा सकता है, और यह जीवन ट्रांसमिशन के माध्यम से लंबा हो सकता है, या कुछ आवश्यक तत्वों को एक बेहतर रूप में बदल सकता है।

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

कीमिया और रसायनज्ञ वास्तव में अंग्रेजी में रसायन शास्त्र और रसायनज्ञ की तुलना में पुराने शब्द हैं। एल्केमिस्ट का मानना ​​था कि लीड को सोने में परिपूर्ण किया जा सकता है, कि बीमारियों को ठीक किया जा सकता है, और यह जीवन ट्रांसमिशन के माध्यम से लंबा हो सकता है, या कुछ आवश्यक तत्वों को एक बेहतर रूप में बदल सकता है।Keemiya Aur Rasayangya Vaastav Mein Angrezi Mein Rasayan Shastra Aur Rasayangya Ki Tulna Mein Purane Shabdh Hain Alchemist Ka Manana Tha Ki Lead Ko Sone Mein Paripurna Kiya Ja Sakta Hai Ki Bimariyon Ko Theek Kiya Ja Sakta Hai Aur Yeh Jeevan Transmission Ke Maadhyam Se Lamba Ho Sakta Hai Ya Kuch Aavashyak Tatwon Ko Ek Behtar Roop Mein Badal Sakta Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Keemiya Se Rasayan Shastra Ko Kaise Fayda Hua , How Did Chemistry Benefit From Alchemy?





मन में है सवाल?