क्या भारत अपने पुराने और भरोसेमंद मित्र रूस (Russia) का साथ खो रहा है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी रसिया तक बातें तो इतिहास में हमारे समस्या से बहुत अच्छे रहें बहुत सारे प्लेटफार्म परेशान इंडिया की मदद की है और मैं इस बात को बिल्कुल नहीं मानता कि रसिया रसिया से हमारे संबंध खत्म होते जा रहे हैं...जवाब पढ़िये
विकी रसिया तक बातें तो इतिहास में हमारे समस्या से बहुत अच्छे रहें बहुत सारे प्लेटफार्म परेशान इंडिया की मदद की है और मैं इस बात को बिल्कुल नहीं मानता कि रसिया रसिया से हमारे संबंध खत्म होते जा रहे हैं उतने अच्छे नहीं रहे हैं हमें जरूर इस बात को मानता हूं कि इंडिया ने अपने-अपने जो संबंध में लेटर इंग्लिश अनुवाद कंट्री से बहुत ज्यादा की है दिल की बात करूं अमेरिका की पाक मैच लिस्ट कंट्रीस में की बात करूं जहां से हम लगभग 80% वोट करते हैं तो वहां इंडिया ने अपने रिलेशन है लेकिन मैं इस बात को नहीं मानता के रसिया से रिलेशन हमारी खराब अभी शायद आपको पता होगा 39 साल करोड़ का S4 इंडियन मिसाइल सिस्टम पर जो तिल होने वाली है वह से हमारी रसिया से है और हम उसको खरीदने वाले हैं जिसको दोनों लोगों इंडियन डिफेंस मिनिस्टर चौरसिया के काउंटर पर जो गुलशन काउंटर पर उन्होंने इस को दिल को फाइनल फाइनल आईज किया है तो यह कहना गलत है कि रशिया से संबंध खराब हुए आज भी हमारे मुंह से मिसाइल सिस्टम हो रसिया ब्रह्मोस की बात करें तो ऐसा नहीं है कि रशिया संबंध खराब हुए हां मैं यह जरूर कहता हूं कि हमने जो अपने संबंध हैं वह अदर कंट्री से भी इंप्रूव किया हैVikee Rasiya Tak Batein To Itihas Mein Hamare Samasya Se Bahut Acche Rahen Bahut Sare Platform Pareshan India Ki Madad Ki Hai Aur Main Is Baat Ko Bilkul Nahi Manata Ki Rasiya Rasiya Se Hamare Sambandh Khatam Hote Ja Rahe Hain Utne Acche Nahi Rahe Hain Hume Jarur Is Baat Ko Manata Hoon Ki India Ne Apne Apne Jo Sambandh Mein Letter English Anuvad Country Se Bahut Jyada Ki Hai Dil Ki Baat Karun America Ki Pak Match List Kantris Mein Ki Baat Karun Jahan Se Hum Lagbhag 80% Vote Karte Hain To Wahan India Ne Apne Relation Hai Lekin Main Is Baat Ko Nahi Manata Ke Rasiya Se Relation Hamari Kharab Abhi Shayad Aapko Pata Hoga 39 Saal Crore Ka S4 Indian Missile System Par Jo Til Hone Wali Hai Wah Se Hamari Rasiya Se Hai Aur Hum Usko Kharidne Wale Hain Jisko Dono Logon Indian Defence Minister Chaurasia Ke Counter Par Jo Gulashan Counter Par Unhone Is Ko Dil Ko Final Final Eyes Kiya Hai To Yeh Kehna Galat Hai Ki Rashiya Se Sambandh Kharab Huye Aaj Bhi Hamare Mooh Se Missile System Ho Rasiya Bramhos Ki Baat Karen To Aisa Nahi Hai Ki Rashiya Sambandh Kharab Huye Haan Main Yeh Jarur Kahata Hoon Ki Humne Jo Apne Sambandh Hain Wah Other Country Se Bhi Improve Kiya Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और रूस हमेशा से मित्र देख रहे हैं और जब भी भारत को संकट में उसकी आवश्यकता थी उसने मदद की है 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के समय में भी मामू ने नई दिल्ली को राजनीतिक कूटनीतिक आर्थिक और सबसे ब...जवाब पढ़िये
भारत और रूस हमेशा से मित्र देख रहे हैं और जब भी भारत को संकट में उसकी आवश्यकता थी उसने मदद की है 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के समय में भी मामू ने नई दिल्ली को राजनीतिक कूटनीतिक आर्थिक और सबसे बढ़कर सैन्य समर्थन दिया था सोवियत संघ ने बीजिंग को भारत-पाक युद्ध में हस्तक्षेप नहीं करने की चेतावनी भी दी उसके बाद ही अमेरिका को अपना सातवां बेड़ा बीच में रुकना पड़ा था और ब्रिटेन को भी अपने नौसैनिक मेरे को वापस लौटना पड़ा था लेकिन आज हालात बदल गए हैं अमेरिका और भारत की नजदीकियां बढ़ रही है रूस और भारत की अर्थव्यवस्था में भी एक दूसरे से काफी दूर हो गई है भारत अमेरिका के काफी करीब आ गया है और भारत ने हथियार आयात में भी रूप की जगह अमेरिका पर निर्भरता कर ली है और दूसरी अभी इनके साथ अपनी मित्रता को बढ़ा रहा है भारत रूस संबंधों के मुख्य आधार स्तंभ सामरिक सामंजस्य रक्षा सौदे परमाणु क्षमता और हाइड्रोकार्बन रहे हैं वृक्ष के लाभ और उसको हाइड्रोकार्बन और परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में भी बढ़त हासिल है और दोनों ही क्षेत्रों में भारत ने उसे अच्छा कारोबार दिया है भारत ने यूक्रेन मुद्दे पर एक संतुलित रुप अपनाया नई दिल्ली Nagina पश्चिमी देशों की प्रतिबंध का समर्थन किया और संयुक्त राष्ट्र महासभा में युक्रेन प्रस्ताव पर वोटिंग के समय भी भारत अनुपस्थित था हालांकि मास्को चाहता था कि भारत के खिलाफ वोट करें भारत और रूस विपक्षी कारोबारी संबंधों में शीतल की चिंता अभी आई है लेकिन दोनों में ही मुद्रा में कारोबार को पुनर्जीवित करने की बात हो रही है परिवहन संबंधी समस्याओं को भी दूर किया जा रहा हैBharat Aur Rus Hamesha Se Mitra Dekh Rahe Hain Aur Jab Bhi Bharat Ko Sankat Mein Uski Avashyakta Thi Usne Madad Ki Hai 1971 Ke Bangladesh Mukti Sangram Ke Samay Mein Bhi Mamu Ne Nayi Dilli Ko Rajnitik Kutanitik Aarthik Aur Sabse Badhkar Sainya Samarthan Diya Tha Soviet Sangh Ne Beijing Ko Bharat Pak Yudh Mein Hastakshep Nahi Karne Ki Chetavani Bhi Di Uske Baad Hi America Ko Apna Satvaan Beda Bich Mein Rukna Pada Tha Aur Britain Ko Bhi Apne Nausainik Mere Ko Wapas Lautna Pada Tha Lekin Aaj Halaat Badal Gaye Hain America Aur Bharat Ki Najadikiyan Badh Rahi Hai Rus Aur Bharat Ki Arthavyavastha Mein Bhi Ek Dusre Se Kafi Dur Ho Gayi Hai Bharat America Ke Kafi Karib Aa Gaya Hai Aur Bharat Ne Hathiyar Aayaat Mein Bhi Roop Ki Jagah America Par Nirbharta Kar Lee Hai Aur Dusri Abhi Inke Saath Apni Mitrata Ko Badha Raha Hai Bharat Rus Sambandho Ke Mukhya Aadhar Stambh Samarik Samanjasya Raksha Saude Parmanu Kshamta Aur Hydrocarbon Rahe Hain Vriksh Ke Labh Aur Usko Hydrocarbon Aur Parmanu Urja Ke Kshetra Mein Bhi Badhat Hasil Hai Aur Dono Hi Kshetro Mein Bharat Ne Use Accha Karobaar Diya Hai Bharat Ne Ukraine Mudde Par Ek Santulit Roop Apnaya Nayi Dilli Nagina Pashchimi Deshon Ki Pratibandh Ka Samarthan Kiya Aur Sanyukt Rashtra Mahasabha Mein Yukren Prastaav Par Voting Ke Samay Bhi Bharat Anupasthit Tha Halanki Maasko Chahta Tha Ki Bharat Ke Khilaf Vote Karen Bharat Aur Rus Vipakshi Kaarobari Sambandho Mein Shital Ki Chinta Abhi Eye Hai Lekin Dono Mein Hi Mudra Mein Karobaar Ko Punarjivit Karne Ki Baat Ho Rahi Hai Parivahan Sambandhi Samasyaon Ko Bhi Dur Kiya Ja Raha Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत का पड़ोसी मुल्क है भरोसेमंद मित्र रसिया रसिया विरोधाभास खजुरिया पसंद नहीं आया अच्छी बनानी चाहिए...जवाब पढ़िये
भारत का पड़ोसी मुल्क है भरोसेमंद मित्र रसिया रसिया विरोधाभास खजुरिया पसंद नहीं आया अच्छी बनानी चाहिएBharat Ka Padoshi Mulk Hai Bharosemand Mitra Rasiya Rasiya Virodhabhas Khajuriya Pasand Nahi Aaya Acchi Banani Chahiye
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Apne Purane Aur Bharosemand Mitra Rus (Russia) Ka Saath Kho Raha Hai

vokalandroid