आपके अपने शिक्षक के साथ बिताए सबसे शर्मनाक क्षण क्या र है हैं? कोई वाक़या बताएँ ँ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्कूल के दिन होते ही ऐसे हैं जिसमें ऐसे बहुत से बात किया और इन तुम से सोते हैं जो कि बाद में उनके बारे में हम उन्हें याद करते हैं तो हमें हंसी आती है लेकिन उस टाइम पर जब वह चोरी हो रहे होते हैं तो काफी डर भी लगता है और जैसे के सवाल है शर्मनाक चीज होते हैं उस टाइम पर तू मेरे साथ भी ऐसे बहुत से इंश्योरेंस हो चुके हैं जिनमें से एक जो मुझे अब याद आ रहा है वह यह है कि जब इलेवंथ क्लास में थे तो हमारी क्लास स्कूल के ग्राउंड फ्लोर पर होती थी और हमारी क्लास प्रिंसिपल के ऑफिस के बहुत पास थी तो ऐसी थर्ड पीरियड स्टार्ट होने वाला था जो कि हमारे केमिस्ट्री का पीरियड था सुनाई जो केमिस्ट्री की टीचर थी वह नहीं आई थी और हमें वह बिल्कुल भी पसंद नहीं थी तो मैंने और मेरे मेरी दो फ्रेंड्स ने यह प्लान बनाया कि हम क्लास बंद करेंगे और अपना बैग लेकर हम पूरा दिन अपने स्कूल के ग्राउंड के पीछे बैक साइट पर बताएंगे तो हमने पहले अपने बैग्स खिड़की से बाहर से आंखे सिर्फ खुद खिड़की के बाहर चढ़कर हम नीचे जप करें ऐसे ही हमने नजम करा हमने देखा कि वही केमिस्ट्री टीचर वहां खड़ी हुई है उनके एक हाथ उनके सिर के ऊपर था और दूसरा हाथ उन्होंने नीचे से रखा हुआ था जैसे उन्होंने हम तीनों को नीचे काम करते हुए देखा तो उनको यह पता चल गया कि हम तीनों क्लास बंद करने वाले थे और पता नहीं हमको हमारे भाई जोर से लगा होगा थैंक गॉड नहीं होते थे तो इस हिसाब से शायद बच गई प्रिंस स्कूल का ऑफिस पर कमाई क्लास के साथ था तो ग्राउंड में टाइम बताने की बजाय हमने बाकी का पूरा दिन संक्षिप्त नाम के ऑफिस में बिताया और हमको 2 दिन के लिए स्कूल से मतलब भी किया गया था हमको बोला गया कि नहीं आना स्कूल तो वह काफी अब तो हमसे मिलते हैं दोस्तों हंसते हैं उसके बारे में उस टाइम पर है वो काफी ज्यादा शर्मनाक इन सरिता दी उसके बाद सारी केमिस्ट्री क्लासेस में बैठना बहुत मुश्किल हो गया था
स्कूल के दिन होते ही ऐसे हैं जिसमें ऐसे बहुत से बात किया और इन तुम से सोते हैं जो कि बाद में उनके बारे में हम उन्हें याद करते हैं तो हमें हंसी आती है लेकिन उस टाइम पर जब वह चोरी हो रहे होते हैं तो काफी डर भी लगता है और जैसे के सवाल है शर्मनाक चीज होते हैं उस टाइम पर तू मेरे साथ भी ऐसे बहुत से इंश्योरेंस हो चुके हैं जिनमें से एक जो मुझे अब याद आ रहा है वह यह है कि जब इलेवंथ क्लास में थे तो हमारी क्लास स्कूल के ग्राउंड फ्लोर पर होती थी और हमारी क्लास प्रिंसिपल के ऑफिस के बहुत पास थी तो ऐसी थर्ड पीरियड स्टार्ट होने वाला था जो कि हमारे केमिस्ट्री का पीरियड था सुनाई जो केमिस्ट्री की टीचर थी वह नहीं आई थी और हमें वह बिल्कुल भी पसंद नहीं थी तो मैंने और मेरे मेरी दो फ्रेंड्स ने यह प्लान बनाया कि हम क्लास बंद करेंगे और अपना बैग लेकर हम पूरा दिन अपने स्कूल के ग्राउंड के पीछे बैक साइट पर बताएंगे तो हमने पहले अपने बैग्स खिड़की से बाहर से आंखे सिर्फ खुद खिड़की के बाहर चढ़कर हम नीचे जप करें ऐसे ही हमने नजम करा हमने देखा कि वही केमिस्ट्री टीचर वहां खड़ी हुई है उनके एक हाथ उनके सिर के ऊपर था और दूसरा हाथ उन्होंने नीचे से रखा हुआ था जैसे उन्होंने हम तीनों को नीचे काम करते हुए देखा तो उनको यह पता चल गया कि हम तीनों क्लास बंद करने वाले थे और पता नहीं हमको हमारे भाई जोर से लगा होगा थैंक गॉड नहीं होते थे तो इस हिसाब से शायद बच गई प्रिंस स्कूल का ऑफिस पर कमाई क्लास के साथ था तो ग्राउंड में टाइम बताने की बजाय हमने बाकी का पूरा दिन संक्षिप्त नाम के ऑफिस में बिताया और हमको 2 दिन के लिए स्कूल से मतलब भी किया गया था हमको बोला गया कि नहीं आना स्कूल तो वह काफी अब तो हमसे मिलते हैं दोस्तों हंसते हैं उसके बारे में उस टाइम पर है वो काफी ज्यादा शर्मनाक इन सरिता दी उसके बाद सारी केमिस्ट्री क्लासेस में बैठना बहुत मुश्किल हो गया था
Likes  18  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

ques_icon

ques_icon

ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने शिक्षक के साथ बिताएंगे सबसे शर्मनाक क्षण कौन है जगजीत के कर आते हैं और एक फार्मूला पूछते हैं और हम नहीं बता पाते हैं उस वक्त बहुत शर्मनाक पीली होती है
Romanized Version
अपने शिक्षक के साथ बिताएंगे सबसे शर्मनाक क्षण कौन है जगजीत के कर आते हैं और एक फार्मूला पूछते हैं और हम नहीं बता पाते हैं उस वक्त बहुत शर्मनाक पीली होती हैApne Shikshak Ke Saath Bitaenge Sabse Sharmnaak Kshan Kaun Hai Jagjeet Ke Kar Aate Hain Aur Ek Formula Poochhte Hain Aur Hum Nahi Bata Paate Hain Us Waqt Bahut Sharmnaak Pili Hoti Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं शर्मनाक संतो कोई था नहीं लेकिन हां जितने भी टीचर्स दुखते हो सब बहुत ही अच्छे थे और वह टीचर थे और उन्होंने उनकी पूरी भूमिकाएं निभाई है तो आई लव माय ऑल टीचर किसी ने मुझे सब कुछ सीखा है और मैं उनके ही टीचिंग से उनके ही मार्गदर्शन से आगे बढ़ा हूं
Romanized Version
जी नहीं शर्मनाक संतो कोई था नहीं लेकिन हां जितने भी टीचर्स दुखते हो सब बहुत ही अच्छे थे और वह टीचर थे और उन्होंने उनकी पूरी भूमिकाएं निभाई है तो आई लव माय ऑल टीचर किसी ने मुझे सब कुछ सीखा है और मैं उनके ही टीचिंग से उनके ही मार्गदर्शन से आगे बढ़ा हूंJi Nahi Sharmnaak Santo Koi Tha Nahi Lekin Haan Jitne Bhi Teachers Dukhate Ho Sab Bahut Hi Acche The Aur Wah Teacher The Aur Unhone Unki Puri Bhumikayen Nibhaai Hai Toh I Love My All Teacher Kisi Ne Mujhe Sab Kuch Seekha Hai Aur Main Unke Hi Teaching Se Unke Hi Margdarshan Se Aage Badha Hoon
Likes  8  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं शर्मा पलता मेरे जीवन में दो चाहिए जैसे कि आपने कहा है कि आप अपने शिक्षक के साथ बिताए सबसे शर्मा चमका रहे है कोई वाक्य बताइए मैंने नरेश शिक्षा के नए रसिया टीचर गई है सरकार और एक मखदूम कमल तुमको प्यार से ना बंटी बंटी मिलाकर को और लड़की छेड़ने और वह सर ने इतना पीटा था मेरे सभी दोस्तों को और साथ में मुझे भी खड़ा किया था फिर भी मेरा रोजा होने के कारण मुझे उसने कुछ नहीं चाहता है मतलब मसला यह कहा कि उन्होंने जो मूंगफली आती है उसके जो खाने के बाद ऊपर का तो चलता रहता है ना वह छलका उन्होंने ऐसा एक दूसरे पर फेंक कर मार डाला के मारे मेरा तक मैंने खाया नहीं इतना बता मैंने खाया नहीं है उस वजह से सर ने मुझे माफ कर दो बस बाकी सब को इतना मारा इतना मारा पूछिए गाना
Romanized Version
मैं शर्मा पलता मेरे जीवन में दो चाहिए जैसे कि आपने कहा है कि आप अपने शिक्षक के साथ बिताए सबसे शर्मा चमका रहे है कोई वाक्य बताइए मैंने नरेश शिक्षा के नए रसिया टीचर गई है सरकार और एक मखदूम कमल तुमको प्यार से ना बंटी बंटी मिलाकर को और लड़की छेड़ने और वह सर ने इतना पीटा था मेरे सभी दोस्तों को और साथ में मुझे भी खड़ा किया था फिर भी मेरा रोजा होने के कारण मुझे उसने कुछ नहीं चाहता है मतलब मसला यह कहा कि उन्होंने जो मूंगफली आती है उसके जो खाने के बाद ऊपर का तो चलता रहता है ना वह छलका उन्होंने ऐसा एक दूसरे पर फेंक कर मार डाला के मारे मेरा तक मैंने खाया नहीं इतना बता मैंने खाया नहीं है उस वजह से सर ने मुझे माफ कर दो बस बाकी सब को इतना मारा इतना मारा पूछिए गानाMain Sharma Palotaa Mere Jeevan Mein Do Chahiye Jaise Ki Aapne Kaha Hai Ki Aap Apne Shikshak Ke Saath Bitae Sabse Sharma Chamka Rahe Hai Koi Vakya Bataiye Maine Naresh Shiksha Ke Naye Rasiya Teacher Gayi Hai Sarkar Aur Ek Makhdoom Kamal Tumko Pyar Se Na Bunty Bunty Milakar Ko Aur Ladki Chedne Aur Wah Sar Ne Itna Pita Tha Mere Sabhi Doston Ko Aur Saath Mein Mujhe Bhi Khada Kiya Tha Phir Bhi Mera Roza Hone Ke Kaaran Mujhe Usne Kuch Nahi Chahta Hai Matlab Masala Yeh Kaha Ki Unhone Jo Mungfaali Aati Hai Uske Jo Khane Ke Baad Upar Ka Toh Chalta Rehta Hai Na Wah Chhalka Unhone Aisa Ek Dusre Par Fenk Kar Maar Dala Ke Maare Mera Tak Maine Khaya Nahi Itna Bata Maine Khaya Nahi Hai Us Wajah Se Sar Ne Mujhe Maaf Kar Do Bus Baki Sab Ko Itna Mara Itna Mara Puchiye Gaana
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे शिक्षक थे वह लोगों को मारते बहुत थे पढ़ाते भी नहीं था थोड़ी थोड़ी बाद में हम लोगों को मारते थे रिश्ता मारते थे कि हम लोगों के शरीर से खून तक निकलने लगता था और वह हम लोगों को टिफिन खा जाते थे चीन चीन के हम लोग को टिफिन खा जाते थे यह सब ना करें
Romanized Version
मेरे शिक्षक थे वह लोगों को मारते बहुत थे पढ़ाते भी नहीं था थोड़ी थोड़ी बाद में हम लोगों को मारते थे रिश्ता मारते थे कि हम लोगों के शरीर से खून तक निकलने लगता था और वह हम लोगों को टिफिन खा जाते थे चीन चीन के हम लोग को टिफिन खा जाते थे यह सब ना करेंMere Shikshak The Wah Logon Ko Marte Bahut The Padhate Bhi Nahi Tha Thodi Thodi Baad Mein Hum Logon Ko Marte The Rishta Marte The Ki Hum Logon Ke Sharir Se Khoon Tak Nikalne Lagta Tha Aur Wah Hum Logon Ko Tiffin Kha Jaate The China China Ke Hum Log Ko Tiffin Kha Jaate The Yeh Sab Na Karein
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने शिक्षक के साथ बिताए हुए शर्मनाक चांद जिस समय मुझे हिंदी भाषा नहीं आती थी तब की बात है मैं सिस्टर को सर बोलती थी उस घड़ी को मुझे याद है कि भाषा के अभाव में मैंने मिस्क जगह सर बोलती थी
Romanized Version
अपने शिक्षक के साथ बिताए हुए शर्मनाक चांद जिस समय मुझे हिंदी भाषा नहीं आती थी तब की बात है मैं सिस्टर को सर बोलती थी उस घड़ी को मुझे याद है कि भाषा के अभाव में मैंने मिस्क जगह सर बोलती थीApne Shikshak Ke Saath Bitae Hue Sharmnaak Chand Jis Samay Mujhe Hindi Bhasha Nahi Aati Thi Tab Ki Baat Hai Main Sister Ko Sar Bolti Thi Us Ghadi Ko Mujhe Yaad Hai Ki Bhasha Ke Abhaav Mein Maine Misk Jagah Sar Bolti Thi
Likes  27  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बात कहूं बार का समय है जब हमारे इंग्लिश के टीचर थे उन्होंने मुझे छोटे वाले अल्फाबेट्स एबीसीडी होते हैं वह लिखना नहीं आता तो उन्होंने मुझे पेड़ से लटका के और काफी नीचे तलवा में उन्होंने मारा मुझे मुझे उसका दुख नहीं क्योंकि मेरे गुरु थे और तब मैंने वह छोटी एबीसीडी सिखा था अपने भाई से एक बड़ा ही मुझे शर्म लगती है पता नहीं इस बात का
एक बात कहूं बार का समय है जब हमारे इंग्लिश के टीचर थे उन्होंने मुझे छोटे वाले अल्फाबेट्स एबीसीडी होते हैं वह लिखना नहीं आता तो उन्होंने मुझे पेड़ से लटका के और काफी नीचे तलवा में उन्होंने मारा मुझे मुझे उसका दुख नहीं क्योंकि मेरे गुरु थे और तब मैंने वह छोटी एबीसीडी सिखा था अपने भाई से एक बड़ा ही मुझे शर्म लगती है पता नहीं इस बात का
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
Likes  7  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं तो यही कहूंगा कि उनके साथ बिता के साथ चलना चाहिए पत्नी अगर आप उन रिस्पेक्ट नहीं करते उनकी नजरों में बुरे हैं और दुनिया की नजरों में बुरे हैं दूसरी बात यह है कि अगर आप अपने शिक्षक की बताई बातों को फॉलो नहीं करेंगे या उनका अपमान करेंगे तो आप लाइफ में कभी भी शिक्षक चीज नहीं हो सकते और तीसरी बात नहीं कहूंगा कि कर आप अपने शिक्षक का रिस्पेक्ट नहीं करते हैं तो यह समझ ले कि रेंट समान करना हो
Romanized Version
मैं तो यही कहूंगा कि उनके साथ बिता के साथ चलना चाहिए पत्नी अगर आप उन रिस्पेक्ट नहीं करते उनकी नजरों में बुरे हैं और दुनिया की नजरों में बुरे हैं दूसरी बात यह है कि अगर आप अपने शिक्षक की बताई बातों को फॉलो नहीं करेंगे या उनका अपमान करेंगे तो आप लाइफ में कभी भी शिक्षक चीज नहीं हो सकते और तीसरी बात नहीं कहूंगा कि कर आप अपने शिक्षक का रिस्पेक्ट नहीं करते हैं तो यह समझ ले कि रेंट समान करना होMain Toh Yahi Kahunga Ki Unke Saath Bita Ke Saath Chalna Chahiye Patni Agar Aap Un Respect Nahi Karte Unki Najaron Mein Bure Hain Aur Duniya Ki Najaron Mein Bure Hain Dusri Baat Yeh Hai Ki Agar Aap Apne Shikshak Ki Batai Baaton Ko Follow Nahi Karenge Ya Unka Apman Karenge Toh Aap Life Mein Kabhi Bhi Shikshak Cheez Nahi Ho Sakte Aur Teesri Baat Nahi Kahunga Ki Kar Aap Apne Shikshak Ka Respect Nahi Karte Hain Toh Yeh Samajh Le Ki Rent Saman Karna Ho
Likes  21  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब कुछ अपने शिक्षक के साथ विचार सबसे शर्मनाक छोड़ के बारे में आप जाना चाहते हैं एक बार कंप्यूटर कोचिंग के लिए एक संस्था में गया था वहां पर माने जब मैं गया तो वहां पर मैडम थी जो पढ़ाती थी बच्चों को या फिर जो भी बच्चों को उच्च शिक्षा देती थी वहां पर उनको माने उनकी भावनाएं मुझे कुछ अच्छी नहीं लगी दो-तीन दिन पढ़ने के बाद एक दिन मुझे थोड़ी देर के लिए रुकने को जम्मू का तुम क्या माने कुछ अलग ही तो भेजा था यह फिर उन्होंने मुझे शरीर को जगह-जगह स्पर्श करने लगी ऐसे में अपने कुछ प्रॉब्लम को लेकर तुरंत ही कहा कि मुझे जल्दी जाना है फिर मुझे कुछ काम है ऐसा कभी प्यार में निकलना चाह रहा था लेकिन उन्होंने मुझे जबरदस्ती चुम्मन करके या फिर मैंने अपने भावनाओं को कुछ उत्तेजित करने लगी जो मुझे सबसे ज्यादा बेकार लगे जो कि मैं लड़की है फिर हर नागरिक को बहुत ही सम्मान देता हूं और मुझे यह बहुत ही गलत लग रहा है कि मैं किसी ऐसी लड़की को पहली बार चुम्मा दे दे रहा हूं क्योंकि मुझे ख्वाब है कि मैं अपनी जिंदगी का सबसे लक्ष्मण अपनी पत्नी या फिर अपनी जीवनशैली को दूं और यह मेरा साथ जो मैंने पहले बात उन्होंने में नहीं कर पाएगी मेरे गाल पर किया था लेकिन मुझे यह काम बहुत ही बुरा लगा इसलिए मेरी जिंदगी का टीचर के साथ मारे कोई भी गुरु के साथ सबसे विचारों सबसे शर्मनाक चर्चा ओके बाय फ्रेंड
अब कुछ अपने शिक्षक के साथ विचार सबसे शर्मनाक छोड़ के बारे में आप जाना चाहते हैं एक बार कंप्यूटर कोचिंग के लिए एक संस्था में गया था वहां पर माने जब मैं गया तो वहां पर मैडम थी जो पढ़ाती थी बच्चों को या फिर जो भी बच्चों को उच्च शिक्षा देती थी वहां पर उनको माने उनकी भावनाएं मुझे कुछ अच्छी नहीं लगी दो-तीन दिन पढ़ने के बाद एक दिन मुझे थोड़ी देर के लिए रुकने को जम्मू का तुम क्या माने कुछ अलग ही तो भेजा था यह फिर उन्होंने मुझे शरीर को जगह-जगह स्पर्श करने लगी ऐसे में अपने कुछ प्रॉब्लम को लेकर तुरंत ही कहा कि मुझे जल्दी जाना है फिर मुझे कुछ काम है ऐसा कभी प्यार में निकलना चाह रहा था लेकिन उन्होंने मुझे जबरदस्ती चुम्मन करके या फिर मैंने अपने भावनाओं को कुछ उत्तेजित करने लगी जो मुझे सबसे ज्यादा बेकार लगे जो कि मैं लड़की है फिर हर नागरिक को बहुत ही सम्मान देता हूं और मुझे यह बहुत ही गलत लग रहा है कि मैं किसी ऐसी लड़की को पहली बार चुम्मा दे दे रहा हूं क्योंकि मुझे ख्वाब है कि मैं अपनी जिंदगी का सबसे लक्ष्मण अपनी पत्नी या फिर अपनी जीवनशैली को दूं और यह मेरा साथ जो मैंने पहले बात उन्होंने में नहीं कर पाएगी मेरे गाल पर किया था लेकिन मुझे यह काम बहुत ही बुरा लगा इसलिए मेरी जिंदगी का टीचर के साथ मारे कोई भी गुरु के साथ सबसे विचारों सबसे शर्मनाक चर्चा ओके बाय फ्रेंड
Likes  16  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए एक वक्त जब स्कूल में पढ़ते थे उस वक्त में जब हम होमवर्क को करके नहीं लाते थे तो जो हमारे टीचर से तुम हमें क्लास में ही खड़ा कर देते थे या कान पकड़ के कान पकड़कर टैक्स को पर खड़ा कर देते तो यह छड़ी से मारते थे मगर एक दिन की बात है कि पेपर करीब थे और जो क्वेश्चन आंसर सर ने हमें याद करने के लिए दिए थे मोहनी आदमी की है तो उन्होंने क्या किया तू कुछ क्लास की जो बच्चे थे उसमें मैं भी शामिल था उन्होंने हमें क्लास में सजाना दे कपीस ग्राउंड के अंदर में बीज ग्राउंड में हमें कुछ ने टिकवा किए थे जब लंच हुआ तो सब बच्चे हमें देख कर हंस रहे थे उस वक्त में यह हमारी एक बड़ी एक बड़ी शर्म महसूस हो रही थी उस वक्त में कि लोग क्या सोच रहे होंगे कि उन्होंने क्या किया है ऐसा कौन सा काम किया जिसकी वजह से बीच ग्राउंड में घुटने टेके यह चीज हमारी हालांकि बहुत अच्छा उदाहरण थी कि हमें पढ़ाई करना हमारे लिए कितना जरूरी है और हमारे जो सारे मालिक क्या सोच रहे हैं उनका को सजा देना गलत नहीं था गलती हमारी थी कि हमने उनकी बात पर अमल नहीं किया उनकी बात भी ध्यान नहीं दिया तो यह कैसा पल था जो हमारे लिए पढ़ाई हमको बीजेपी उस वक्त महसूस हुई शर्मनाक भोपाल गुजरात हमारे लिए
देखिए एक वक्त जब स्कूल में पढ़ते थे उस वक्त में जब हम होमवर्क को करके नहीं लाते थे तो जो हमारे टीचर से तुम हमें क्लास में ही खड़ा कर देते थे या कान पकड़ के कान पकड़कर टैक्स को पर खड़ा कर देते तो यह छड़ी से मारते थे मगर एक दिन की बात है कि पेपर करीब थे और जो क्वेश्चन आंसर सर ने हमें याद करने के लिए दिए थे मोहनी आदमी की है तो उन्होंने क्या किया तू कुछ क्लास की जो बच्चे थे उसमें मैं भी शामिल था उन्होंने हमें क्लास में सजाना दे कपीस ग्राउंड के अंदर में बीज ग्राउंड में हमें कुछ ने टिकवा किए थे जब लंच हुआ तो सब बच्चे हमें देख कर हंस रहे थे उस वक्त में यह हमारी एक बड़ी एक बड़ी शर्म महसूस हो रही थी उस वक्त में कि लोग क्या सोच रहे होंगे कि उन्होंने क्या किया है ऐसा कौन सा काम किया जिसकी वजह से बीच ग्राउंड में घुटने टेके यह चीज हमारी हालांकि बहुत अच्छा उदाहरण थी कि हमें पढ़ाई करना हमारे लिए कितना जरूरी है और हमारे जो सारे मालिक क्या सोच रहे हैं उनका को सजा देना गलत नहीं था गलती हमारी थी कि हमने उनकी बात पर अमल नहीं किया उनकी बात भी ध्यान नहीं दिया तो यह कैसा पल था जो हमारे लिए पढ़ाई हमको बीजेपी उस वक्त महसूस हुई शर्मनाक भोपाल गुजरात हमारे लिए
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी स्कूल लाइफ के दिन होते ही इस प्रकार के हैं कि कभी कबार हमारा जो समय है वह अच्छा जाता है दिन अच्छे जाते हैं और हमें काफी खुशी महसूस होती है लेकिन कभी-कभार ऐसा लगता है जैसे हमारे लिए 3 दिन तक खराब गया क्योंकि उस दिन कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती है जो हमें हमेशा याद रहती हैं और फिर बाद में हुई याद करके हमें अफसोस भी उतार कभी कबार हंसी भी आती है तो एक इंस्टेंट जो आप ने सवाल पूछा किस से खराब इंसेंट कौन सा रहा कुल लाइक कर उनके ईद का तो मैं जब ट्वेल्थ क्लास में था और ग्वालियर में रहता था तो मेरे एक जूनियर क्लास में था उसके भाई ने मुझे ए चीटिंग किया था कि वह मुझे मतलब स्कूल में आकर मारेगा तो मुझे जाकर डर लग गया इस बात को लेकर मैंने यह बात अपनी सबसे फेवरेट टीचर से शेर की क्योंकि जो पॉलिटिकल साइंस में पढ़ाती थी वह सबसे मेरी सबसे प्रबल टीचर थी मैंने बहुत तरक्की में स्कूल में किसी को जानता नहीं था तो उनको मैंने बताया और प्रिंसिपल में जब स्कूल में क्लास में राउंडअप लेने आए क्योंकि पल साथ में हमारी पृथ्वी हमारे साथ हमेशा ट्वेल्थ क्लास वालों के लिए के क्रांति के बच्चे कैसे हैं तो मैंने उनको भी यह बात बता दी थी उस इंसान को तो उन बच्चों को दिल से भुला लेकिन साथ में जो हमारी जो टीचर सिंपल साइंस तुमको भुला दिया और नाम को बहुत डांट पड़ी मेरी वजह से तुझ पर नाम से उन्हें काफी क्या आपके सामने आपके साथ में स्टूडेंट के साथ ऐसा इंस्टेंट हो जाता और आप मुझे बताते नहीं हो यह तो बहुत गलत बात ही सलमान ने उन्हें पॉलिटिकल साइंस की पिक्चर और उससे भी ज्यादा आपको पता नहीं कि सामने क्या बोलना चाहिए आपने मुझे पता तो फिर क्यों बता दिया यह हादसा तो मुझे बहुत इंसल्ट फील होता और मुझे इस बात से भी बुरा लगा कि मेरी वजह से किसी तीसरे को डांट खानी पड़ी तो यह आज मुझे जब मैं याद करता हूं तो नाम को मन में मैंने नाम के सामने सॉरी बोलता लेकिन मेरा मन में भी हमेशा आज मैं तुमको सॉरी बोलता हूं तो कभी कम कभी कबार मतलब जो है उसे मिलाने की हिम्मत नहीं हो पाती अपने आप से मुझे भी आपसे बहुत-बहुत रिक्वेस्ट की मांग को मेरी व्हाट्सएप वाला था लेकिन नाम तो भूल गई लेकिन मैं आज तक कभी नहीं भूल पाऊंगा मेरे ख्याल से पूरी लाइफ टाइम में जो मैंने नाम के साथ में मैं कभी भूल नहीं पाऊंगा लेकिन वो टीचर मेरी फिर भी टीचर आज भी और उन्हें उनसे बातचीत होती है तब इनका जब भी मैं बहुत लॉस फॉर बॉल में लाइव
देखी स्कूल लाइफ के दिन होते ही इस प्रकार के हैं कि कभी कबार हमारा जो समय है वह अच्छा जाता है दिन अच्छे जाते हैं और हमें काफी खुशी महसूस होती है लेकिन कभी-कभार ऐसा लगता है जैसे हमारे लिए 3 दिन तक खराब गया क्योंकि उस दिन कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती है जो हमें हमेशा याद रहती हैं और फिर बाद में हुई याद करके हमें अफसोस भी उतार कभी कबार हंसी भी आती है तो एक इंस्टेंट जो आप ने सवाल पूछा किस से खराब इंसेंट कौन सा रहा कुल लाइक कर उनके ईद का तो मैं जब ट्वेल्थ क्लास में था और ग्वालियर में रहता था तो मेरे एक जूनियर क्लास में था उसके भाई ने मुझे ए चीटिंग किया था कि वह मुझे मतलब स्कूल में आकर मारेगा तो मुझे जाकर डर लग गया इस बात को लेकर मैंने यह बात अपनी सबसे फेवरेट टीचर से शेर की क्योंकि जो पॉलिटिकल साइंस में पढ़ाती थी वह सबसे मेरी सबसे प्रबल टीचर थी मैंने बहुत तरक्की में स्कूल में किसी को जानता नहीं था तो उनको मैंने बताया और प्रिंसिपल में जब स्कूल में क्लास में राउंडअप लेने आए क्योंकि पल साथ में हमारी पृथ्वी हमारे साथ हमेशा ट्वेल्थ क्लास वालों के लिए के क्रांति के बच्चे कैसे हैं तो मैंने उनको भी यह बात बता दी थी उस इंसान को तो उन बच्चों को दिल से भुला लेकिन साथ में जो हमारी जो टीचर सिंपल साइंस तुमको भुला दिया और नाम को बहुत डांट पड़ी मेरी वजह से तुझ पर नाम से उन्हें काफी क्या आपके सामने आपके साथ में स्टूडेंट के साथ ऐसा इंस्टेंट हो जाता और आप मुझे बताते नहीं हो यह तो बहुत गलत बात ही सलमान ने उन्हें पॉलिटिकल साइंस की पिक्चर और उससे भी ज्यादा आपको पता नहीं कि सामने क्या बोलना चाहिए आपने मुझे पता तो फिर क्यों बता दिया यह हादसा तो मुझे बहुत इंसल्ट फील होता और मुझे इस बात से भी बुरा लगा कि मेरी वजह से किसी तीसरे को डांट खानी पड़ी तो यह आज मुझे जब मैं याद करता हूं तो नाम को मन में मैंने नाम के सामने सॉरी बोलता लेकिन मेरा मन में भी हमेशा आज मैं तुमको सॉरी बोलता हूं तो कभी कम कभी कबार मतलब जो है उसे मिलाने की हिम्मत नहीं हो पाती अपने आप से मुझे भी आपसे बहुत-बहुत रिक्वेस्ट की मांग को मेरी व्हाट्सएप वाला था लेकिन नाम तो भूल गई लेकिन मैं आज तक कभी नहीं भूल पाऊंगा मेरे ख्याल से पूरी लाइफ टाइम में जो मैंने नाम के साथ में मैं कभी भूल नहीं पाऊंगा लेकिन वो टीचर मेरी फिर भी टीचर आज भी और उन्हें उनसे बातचीत होती है तब इनका जब भी मैं बहुत लॉस फॉर बॉल में लाइव
Likes  28  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केमिस्ट्री का रिजल्ट लिखकर सर ने कमरे में प्रवेश किया नाइंथ क्लास के केमिस्ट्री के पेपर में 18 नंबर मिलना जरूरी मुझे उत्तर तो पूरे आते थे लेकिन एक समस्या मेरे सामने थी और वह थी कि मैं कुल 2 सवाल हल कर पाया था आत्मविश्वास की कमी थी क्योंकि 2 सवाल में मुझे 16 नंबर मिल गए थे जबकि पासिंग मार्क्स होने चाहिए अट्ठारह नंबर लेकिन मुझे अचानक ध्यान आया की उस उत्तर पुस्तिका के तीन पन्ने और शेष है खाली है तो मैंने उत्तर प्रमाण के एक और दो के भारतीय पन्ना छोड़ते हुए बहुत जल्दी में उत्तर नंबर 5 लिख दिया जो मुझे कल फिडेन से मालूम था उत्तर प्रमाण पांच लिखने के बाद मैंने कल्पना की कि सर से अब मैं आठ नंबर और वसूल लूंगा इस तरह आरतियां 24 मार्च मुझे मिल जाएंगे और मैं पास हो जाऊंगा लेकिन कहते हैं ना कि चोर की बुद्धि बहुत छोटी होती है मैंने प्रथम और द्वितीय प्रश्न के उत्तर देते समय प्रश्न को लाल स्याही से लिखा था लेकिन पांचवी उत्तर को जो मैंने कॉपी प्राप्त होने के बाद लिखा था उसमें केवल नीली स्याही का प्रयोग किया था प्रश्न में भी और उसके उत्तर में भी और सर ने जब यह बात पकड़ी तो मुझे बहुत शर्म आई और मैंने उनसे हाथ जोड़कर ऊंचे स्वर में क्षमा याचना की ताकि सभी बच्चों को यह महसूस हो कि हां मैंने भी गलती की और मैं उसके लिए माफी मांग रहा हूं और ऐसी स्थिति में मुझे शर्म का सामना भी करना पड़ा था
केमिस्ट्री का रिजल्ट लिखकर सर ने कमरे में प्रवेश किया नाइंथ क्लास के केमिस्ट्री के पेपर में 18 नंबर मिलना जरूरी मुझे उत्तर तो पूरे आते थे लेकिन एक समस्या मेरे सामने थी और वह थी कि मैं कुल 2 सवाल हल कर पाया था आत्मविश्वास की कमी थी क्योंकि 2 सवाल में मुझे 16 नंबर मिल गए थे जबकि पासिंग मार्क्स होने चाहिए अट्ठारह नंबर लेकिन मुझे अचानक ध्यान आया की उस उत्तर पुस्तिका के तीन पन्ने और शेष है खाली है तो मैंने उत्तर प्रमाण के एक और दो के भारतीय पन्ना छोड़ते हुए बहुत जल्दी में उत्तर नंबर 5 लिख दिया जो मुझे कल फिडेन से मालूम था उत्तर प्रमाण पांच लिखने के बाद मैंने कल्पना की कि सर से अब मैं आठ नंबर और वसूल लूंगा इस तरह आरतियां 24 मार्च मुझे मिल जाएंगे और मैं पास हो जाऊंगा लेकिन कहते हैं ना कि चोर की बुद्धि बहुत छोटी होती है मैंने प्रथम और द्वितीय प्रश्न के उत्तर देते समय प्रश्न को लाल स्याही से लिखा था लेकिन पांचवी उत्तर को जो मैंने कॉपी प्राप्त होने के बाद लिखा था उसमें केवल नीली स्याही का प्रयोग किया था प्रश्न में भी और उसके उत्तर में भी और सर ने जब यह बात पकड़ी तो मुझे बहुत शर्म आई और मैंने उनसे हाथ जोड़कर ऊंचे स्वर में क्षमा याचना की ताकि सभी बच्चों को यह महसूस हो कि हां मैंने भी गलती की और मैं उसके लिए माफी मांग रहा हूं और ऐसी स्थिति में मुझे शर्म का सामना भी करना पड़ा था
Likes  29  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देवेंद्र शर्मा जो हमें इंग्लिश पढ़ाते थे एक बार सेंटेंस याद करके नया सबसे शर्मनाक क्षण मेरा वही था
Romanized Version
देवेंद्र शर्मा जो हमें इंग्लिश पढ़ाते थे एक बार सेंटेंस याद करके नया सबसे शर्मनाक क्षण मेरा वही थाDevendra Sharma Jo Humein English Padhate The Ek Baar Sentence Yaad Karke Naya Sabse Sharmnaak Kshan Mera Wahi Tha
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षक के साथ बिताए गए शर्म ना चलते हुए कहना चाहता हूं कि मैं मेल स्कूल को बहुत-बहुत प्रणाम जैसलमेर 12ml सूरत गवर्नमेंट स्कूल 7th की बातें क्यों हुआ कि तूने हमें बहुत मारा था इन पीटा था सारे बॉयस को तो मुर्गा बना देता वह सारी गर्ल्स को हाथ खड़े हो करवा देते मतलब गलती पूरी स्कूल में से हमारी भी नहीं थी और भी स्कूल क्लासेस थी तो हमने सोचा कि कल से चलूंगा हमारी प्लस नहीं सोचा कल हमें स्कूल नहीं आना पूरे कुछ उलझन ने चैन बना दिया दूसरे दिन हम कोई भी स्कूल नहीं गए उस दिन कोई चेकिंग वगैरह गए थे रजिस्टर बगैरा देखी चेकिंग नेकाब मतलब बच्चे कहां हैं पूरे असंत 12 एक्सेप्शन सारे के सारे फ्रेंड कैसे हुए ऑफिस में कुछ बगैर बात हुई फिर वापस संभालकर पर कॉल आया उसके 30 दिनों में बुलाया गया था सब कुछ सामने पैर के प्रेयर में सबके सामने खड़ा कर देता मुझे इतनी हंसी आ रही टीना पूछो मस्त हंसी मुझे आ रही थी कि पूरी मतलब पूरी स्कूल के सामने बैठा जा रहा था मुझे अब यह कभी कोई बात याद कर लो तुम बोल मुझे से आती है और संतों आती है
Romanized Version
शिक्षक के साथ बिताए गए शर्म ना चलते हुए कहना चाहता हूं कि मैं मेल स्कूल को बहुत-बहुत प्रणाम जैसलमेर 12ml सूरत गवर्नमेंट स्कूल 7th की बातें क्यों हुआ कि तूने हमें बहुत मारा था इन पीटा था सारे बॉयस को तो मुर्गा बना देता वह सारी गर्ल्स को हाथ खड़े हो करवा देते मतलब गलती पूरी स्कूल में से हमारी भी नहीं थी और भी स्कूल क्लासेस थी तो हमने सोचा कि कल से चलूंगा हमारी प्लस नहीं सोचा कल हमें स्कूल नहीं आना पूरे कुछ उलझन ने चैन बना दिया दूसरे दिन हम कोई भी स्कूल नहीं गए उस दिन कोई चेकिंग वगैरह गए थे रजिस्टर बगैरा देखी चेकिंग नेकाब मतलब बच्चे कहां हैं पूरे असंत 12 एक्सेप्शन सारे के सारे फ्रेंड कैसे हुए ऑफिस में कुछ बगैर बात हुई फिर वापस संभालकर पर कॉल आया उसके 30 दिनों में बुलाया गया था सब कुछ सामने पैर के प्रेयर में सबके सामने खड़ा कर देता मुझे इतनी हंसी आ रही टीना पूछो मस्त हंसी मुझे आ रही थी कि पूरी मतलब पूरी स्कूल के सामने बैठा जा रहा था मुझे अब यह कभी कोई बात याद कर लो तुम बोल मुझे से आती है और संतों आती हैShikshak Ke Saath Bitae Gaye Sharm Na Chalte Hue Kehna Chahta Hoon Ki Main Male School Ko Bahut Bahut Pranam Jaisalmer 12ml Surat Government School 7th Ki Batein Kyon Hua Ki Tune Humein Bahut Mara Tha In Pita Tha Saare Bias Ko Toh Murga Bana Deta Wah Saree Girls Ko Hath Khade Ho Karva Dete Matlab Galti Puri School Mein Se Hamari Bhi Nahi Thi Aur Bhi School Classes Thi Toh Humne Socha Ki Kal Se Chalunga Hamari Plus Nahi Socha Kal Humein School Nahi Aana Poore Kuch Uljhan Ne Chain Bana Diya Dusre Din Hum Koi Bhi School Nahi Gaye Us Din Koi Checking Vagairah Gaye The Register Bagera Dekhi Checking Nekab Matlab Bacche Kahaan Hain Poore Asat 12 Exception Saare Ke Saare Friend Kaise Hue Office Mein Kuch Bagair Baat Hui Phir Wapas Sambhalakar Par Call Aaya Uske 30 Dinon Mein Bulaya Gaya Tha Sab Kuch Saamne Pair Ke Prayer Mein Sabke Saamne Khada Kar Deta Mujhe Itni Hansi Aa Rahi Tina Pucho Mast Hansi Mujhe Aa Rahi Thi Ki Puri Matlab Puri School Ke Saamne Baitha Ja Raha Tha Mujhe Ab Yeh Kabhi Koi Baat Yaad Kar Lo Tum Bol Mujhe Se Aati Hai Aur Santo Aati Hai
Likes  3  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां बिल्कुल मेरे साथ एक ऐसा इंसिडेंट हुआ था जो मतलब अभी अपूर्व में सोचता हूं तो बहुत हंसी आती है लेकिन उस वक्त मतलब दिल निकल गया था उतना डर लगा था क्योंकि टीचर्स कम एक देनी चाहिए और यह मैटर है कुछ साल पहले कि जब मैं शेडूल स्टैंडर्ड में था शायद नहीं कंफर्म तुलसी था तो उस पर में क्या हो रहा था तो बहुत हल्ला हो रहे थे क्लास में बहुत हल्ला नॉइस करें तो सब लड़के लोग तो मैंने सुन लिया तो मैंने बोला कि ठीक है मैं तुम लोगों 5 मिनट का टाइम देता हूं तब तक हल्ला करो उसके बाद तुम लोग पढ़ाई करना तो मैंने मजाक ले ले लिया था मैंने सीरियसली ले लिया था ठीक है मैं अलग नहीं कर रहा था मैंने उल्लू को बोल दिया कि तुम लोग मैंने 5 मिनट का टाइम दिया है तब तक तुम लोग चला कर सकते हो तो ऐसे ही से मैंने हम लोग बात सुन लिया तो उस लड़की को मैं रखा गया और बोला तुम लोगों को शर्म नहीं आ रहा है मजाक की बात कर रहे हो तो उस लड़के ने बोल दिया कि नहीं मैं इसने मुझे बात करने का बोला था तुम मेरे तो मतलब मैंने तो बना ही सोचा था उसके लिए मैंने 5 मिनट दिया है इससे बात कर लो क्लास में डिस्टर्ब मत करो लेकिन मैम को बुरा लगा उसके बाद मैंने मुझे उठाया प्रिंसिपल के पास लेकर गया मैं पूरा स्कूल दौड़ा भागा और मेरे प्रिंसिपल ने मुझे लेकर गया और मुझे निकालने का बात हो रहा था सबके सामने तो मैं बहुत डर गया था उसके अंदर गया अंडरस्टैंड थे प्रिंसिपल ने सिखाया बताया कि वह लड़का वह चाहिए मिनट तक दोस्ती मत करो ऐसा मत करो मुझे अपने इतना शर्म कितना वोट पड़ा था कि हकीकत में कितने अच्छे होते हैं सबके सामने ने मुझे डांटा था कि सबके सामने मैं वह सब लेकिन अंदर जाकर उन्हें मुझे एक बात भी नहीं डांटा वाक्य मुझे सॉरी बोला उन्होंने कि मैंने तुमसे किया ताकि वह बुरा था ताकि अबू तुमसे दोस्ती ना करें और आज के बाद वह मुझसे नाम दोस्ती कर रहा है ना बात कर रहा है आज मैं किधर से पढ़ रहा हूं यह बजा है मेरे मेरे प्रिंसिपल की वजह से मतलब
हां बिल्कुल मेरे साथ एक ऐसा इंसिडेंट हुआ था जो मतलब अभी अपूर्व में सोचता हूं तो बहुत हंसी आती है लेकिन उस वक्त मतलब दिल निकल गया था उतना डर लगा था क्योंकि टीचर्स कम एक देनी चाहिए और यह मैटर है कुछ साल पहले कि जब मैं शेडूल स्टैंडर्ड में था शायद नहीं कंफर्म तुलसी था तो उस पर में क्या हो रहा था तो बहुत हल्ला हो रहे थे क्लास में बहुत हल्ला नॉइस करें तो सब लड़के लोग तो मैंने सुन लिया तो मैंने बोला कि ठीक है मैं तुम लोगों 5 मिनट का टाइम देता हूं तब तक हल्ला करो उसके बाद तुम लोग पढ़ाई करना तो मैंने मजाक ले ले लिया था मैंने सीरियसली ले लिया था ठीक है मैं अलग नहीं कर रहा था मैंने उल्लू को बोल दिया कि तुम लोग मैंने 5 मिनट का टाइम दिया है तब तक तुम लोग चला कर सकते हो तो ऐसे ही से मैंने हम लोग बात सुन लिया तो उस लड़की को मैं रखा गया और बोला तुम लोगों को शर्म नहीं आ रहा है मजाक की बात कर रहे हो तो उस लड़के ने बोल दिया कि नहीं मैं इसने मुझे बात करने का बोला था तुम मेरे तो मतलब मैंने तो बना ही सोचा था उसके लिए मैंने 5 मिनट दिया है इससे बात कर लो क्लास में डिस्टर्ब मत करो लेकिन मैम को बुरा लगा उसके बाद मैंने मुझे उठाया प्रिंसिपल के पास लेकर गया मैं पूरा स्कूल दौड़ा भागा और मेरे प्रिंसिपल ने मुझे लेकर गया और मुझे निकालने का बात हो रहा था सबके सामने तो मैं बहुत डर गया था उसके अंदर गया अंडरस्टैंड थे प्रिंसिपल ने सिखाया बताया कि वह लड़का वह चाहिए मिनट तक दोस्ती मत करो ऐसा मत करो मुझे अपने इतना शर्म कितना वोट पड़ा था कि हकीकत में कितने अच्छे होते हैं सबके सामने ने मुझे डांटा था कि सबके सामने मैं वह सब लेकिन अंदर जाकर उन्हें मुझे एक बात भी नहीं डांटा वाक्य मुझे सॉरी बोला उन्होंने कि मैंने तुमसे किया ताकि वह बुरा था ताकि अबू तुमसे दोस्ती ना करें और आज के बाद वह मुझसे नाम दोस्ती कर रहा है ना बात कर रहा है आज मैं किधर से पढ़ रहा हूं यह बजा है मेरे मेरे प्रिंसिपल की वजह से मतलब
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे लिए सबसे ज्यादा टीचर और मेरे बीच में जो शर्मनाक टाइम था वह यह था कि जो मस्जिद स्कूल में पढ़ने जाता था जो टीचर थे जो मुझे स्कूल में पढ़ाते थे उन्हीं के पास में ट्यूशन रिपोर्ट नहीं जाता था जब ट्यूशन पढ़ लिया गया 1 साल इसके बाद जब जाने का 10 दिन बचा था तब मैं वहां से छोड़ दिया उसके पश्चात जो जितना भी टाइम ट्यूशन गया था उनका फिक्स में नहीं दिया था सर को नहीं दिया था उस सब का पीस उसके पास 4:00 बजे पढ़ने के लिए स्कूल आया और जो सर के केबिन में जब मैं बैठा उस टाइम मैं नजर नहीं मिला पा रहा था तो लगता है मुझे कि यही मेरा सबसे ऊंची मतलब एट द पॉइंट उस समय का सबसे बड़ा फल टाइम था मेरे लिए
Romanized Version
मेरे लिए सबसे ज्यादा टीचर और मेरे बीच में जो शर्मनाक टाइम था वह यह था कि जो मस्जिद स्कूल में पढ़ने जाता था जो टीचर थे जो मुझे स्कूल में पढ़ाते थे उन्हीं के पास में ट्यूशन रिपोर्ट नहीं जाता था जब ट्यूशन पढ़ लिया गया 1 साल इसके बाद जब जाने का 10 दिन बचा था तब मैं वहां से छोड़ दिया उसके पश्चात जो जितना भी टाइम ट्यूशन गया था उनका फिक्स में नहीं दिया था सर को नहीं दिया था उस सब का पीस उसके पास 4:00 बजे पढ़ने के लिए स्कूल आया और जो सर के केबिन में जब मैं बैठा उस टाइम मैं नजर नहीं मिला पा रहा था तो लगता है मुझे कि यही मेरा सबसे ऊंची मतलब एट द पॉइंट उस समय का सबसे बड़ा फल टाइम था मेरे लिएMere Liye Sabse Zyada Teacher Aur Mere Beech Mein Jo Sharmnaak Time Tha Wah Yeh Tha Ki Jo Masjid School Mein Padhne Jata Tha Jo Teacher The Jo Mujhe School Mein Padhate The Unhin Ke Paas Mein Tuition Report Nahi Jata Tha Jab Tuition Padh Liya Gaya 1 Saal Iske Baad Jab Jaane Ka 10 Din Bacha Tha Tab Main Wahan Se Chhod Diya Uske Pashchat Jo Jitna Bhi Time Tuition Gaya Tha Unka Fix Mein Nahi Diya Tha Sar Ko Nahi Diya Tha Us Sab Ka Peace Uske Paas 4:00 Baje Padhne Ke Liye School Aaya Aur Jo Sar Ke Cabin Mein Jab Main Baitha Us Time Main Nazar Nahi Mila Pa Raha Tha Toh Lagta Hai Mujhe Ki Yahi Mera Sabse Unchi Matlab Ate The Point Us Samay Ka Sabse Bada Fal Time Tha Mere Liye
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने अपने शिक्षक के साथ और सकारात्मक चंद बहुत अच्छे से बिताया उन्होंने हमें हर पल जब भी उन्हें अपनी टाइम मिलता था तो हमें मोटिवेशनल स्पीच ना कहीं इंस्पायर किया करते थे उन्हीं के आज बदौलत हम आज एजुकेशन प्राप्त किए वह मैं हमेशा सारे के साथ मिलजुल कर रहने के लिए और साथ बिताने को कहते थे उन्होंने हमेशा हमें अच्छे बात ही सीखा है मैंने हमेशा दूसरों की मदद करना सिखाए और वही अच्छे टीचर का है
Romanized Version
मैंने अपने शिक्षक के साथ और सकारात्मक चंद बहुत अच्छे से बिताया उन्होंने हमें हर पल जब भी उन्हें अपनी टाइम मिलता था तो हमें मोटिवेशनल स्पीच ना कहीं इंस्पायर किया करते थे उन्हीं के आज बदौलत हम आज एजुकेशन प्राप्त किए वह मैं हमेशा सारे के साथ मिलजुल कर रहने के लिए और साथ बिताने को कहते थे उन्होंने हमेशा हमें अच्छे बात ही सीखा है मैंने हमेशा दूसरों की मदद करना सिखाए और वही अच्छे टीचर का हैMaine Apne Shikshak Ke Saath Aur Sakaratmak Chand Bahut Acche Se Bitaya Unhone Humein Har Pal Jab Bhi Unhein Apni Time Milta Tha Toh Humein Motivational Speech Na Kahin Inspire Kiya Karte The Unhin Ke Aaj Badaulat Hum Aaj Education Prapt Kiye Wah Main Hamesha Saare Ke Saath Miljul Kar Rehne Ke Liye Aur Saath Bitane Ko Kehte The Unhone Hamesha Humein Acche Baat Hi Seekha Hai Maine Hamesha Dusron Ki Madad Karna Sikhaye Aur Wahi Acche Teacher Ka Hai
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में सभी के जीवन में कुछ ना कुछ जानना क्षण होते हैं और संरक्षण होते हैं जब आपको किसी आपकी कोई गलती हो उसको आपका कुछ कार्य सही ढंग से कर ना पाए वापी शिक्षक में आपको दिया ओ रब्बा कार्य एकदम से ना कर पाए हो तो आपके जीवन के संरक्षण में गिने जाते हैं तुम मेरे साथ जो वाकया हुआ था मैथमेटिक्स की में टीचर थी उन्होंने कुछ पूरी क्लास को कुछ दिया था करने को हम लोग नहीं कर पाए थे उनमें से कुछ लोग तो ₹15 के हम लोगों के हाथ पर उन्होंने मारी थी हम लोगों के लिए सबसे आसान एक्वाकेयर रहा था जो मैं सेंड सेंड में था
Romanized Version
जीवन में सभी के जीवन में कुछ ना कुछ जानना क्षण होते हैं और संरक्षण होते हैं जब आपको किसी आपकी कोई गलती हो उसको आपका कुछ कार्य सही ढंग से कर ना पाए वापी शिक्षक में आपको दिया ओ रब्बा कार्य एकदम से ना कर पाए हो तो आपके जीवन के संरक्षण में गिने जाते हैं तुम मेरे साथ जो वाकया हुआ था मैथमेटिक्स की में टीचर थी उन्होंने कुछ पूरी क्लास को कुछ दिया था करने को हम लोग नहीं कर पाए थे उनमें से कुछ लोग तो ₹15 के हम लोगों के हाथ पर उन्होंने मारी थी हम लोगों के लिए सबसे आसान एक्वाकेयर रहा था जो मैं सेंड सेंड में थाJeevan Mein Sabhi Ke Jeevan Mein Kuch Na Kuch Janana Kshan Hote Hain Aur Sanrakshan Hote Hain Jab Aapko Kisi Aapki Koi Galti Ho Usko Aapka Kuch Karya Sahi Dhang Se Kar Na Paye Vaapee Shikshak Mein Aapko Diya O Rabba Karya Ekdam Se Na Kar Paye Ho Toh Aapke Jeevan Ke Sanrakshan Mein Gine Jaate Hain Tum Mere Saath Jo Vakaya Hua Tha Mathematics Ki Mein Teacher Thi Unhone Kuch Puri Class Ko Kuch Diya Tha Karne Ko Hum Log Nahi Kar Paye The Unmen Se Kuch Log Toh Rs Ke Hum Logon Ke Hath Par Unhone Mari Thi Hum Logon Ke Liye Sabse Aasaan Ekwakeyar Raha Tha Jo Main Send Send Mein Tha
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मेरे साथ भी एक दिन था टीचर के जो कि 1 दिन पहले मुझे फिर याद आया था और 810 भाग भी दिए थे मैंने कर ली मैंने बात नहीं बनाया मैंने बोल दिया सर मैंने नहीं बनाया उस कंडीशन में हम तीन फ्रेंड से तो तीनों से उन्होंने एक ही शब्द का क्या आपको गांधीजी के बंदर हो तीनो वह दिन मुझे बहुत शर्मनाक पैदा हुआ मैंने कुछ कहा तो नहीं सका मिस टीचर का नाम ओपन तो नहीं कर सकता हूं अभी मेरे लिए तो गुरु है
Romanized Version
हां मेरे साथ भी एक दिन था टीचर के जो कि 1 दिन पहले मुझे फिर याद आया था और 810 भाग भी दिए थे मैंने कर ली मैंने बात नहीं बनाया मैंने बोल दिया सर मैंने नहीं बनाया उस कंडीशन में हम तीन फ्रेंड से तो तीनों से उन्होंने एक ही शब्द का क्या आपको गांधीजी के बंदर हो तीनो वह दिन मुझे बहुत शर्मनाक पैदा हुआ मैंने कुछ कहा तो नहीं सका मिस टीचर का नाम ओपन तो नहीं कर सकता हूं अभी मेरे लिए तो गुरु हैHaan Mere Saath Bhi Ek Din Tha Teacher Ke Jo Ki 1 Din Pehle Mujhe Phir Yaad Aaya Tha Aur 810 Bhag Bhi Diye The Maine Kar Li Maine Baat Nahi Banaya Maine Bol Diya Sar Maine Nahi Banaya Us Condition Mein Hum Teen Friend Se Toh Teenon Se Unhone Ek Hi Shabd Ka Kya Aapko Gandhiji Ke Bandar Ho Teeno Wah Din Mujhe Bahut Sharmnaak Paida Hua Maine Kuch Kaha Toh Nahi Saka Miss Teacher Ka Naam Open Toh Nahi Kar Sakta Hoon Abhi Mere Liye Toh Guru Hai
Likes  22  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने मेरे शिक्षक के साथ बिताए सबसे शर्मनाक जानिए देगी मैं जब 12th में था तो आप ईयरली के प्रैक्टिकल लग रहे थे तो मुझे मेरे शिक्षक ने कहा कि तुम कॉफी में कुछ मत लिखो मैं बता दूंगा उसके बाद तुम कर लेना अपन निकले टैलेंट अपन वह लेकर गए थे रुचि आपूर्ति से जाकर जैसे ही मास्टर बाहर गए लैब से अपने सब कुछ आप दिया आपने एक बार जैसे टीचर आया क्लास में उसने सबकी कॉफी देगी और कॉफी देखी तो अपन तो काम कर के रेडी बैठे थे तो उस दिन मेरी इतनी धुनाई की लात घूसे इतने मर जाए मेरे ऊपर बहुत जबरदस्त यह बात जो मैं मेरी जिंदगी भर नहीं भूल पाऊंगा
Romanized Version
मैंने मेरे शिक्षक के साथ बिताए सबसे शर्मनाक जानिए देगी मैं जब 12th में था तो आप ईयरली के प्रैक्टिकल लग रहे थे तो मुझे मेरे शिक्षक ने कहा कि तुम कॉफी में कुछ मत लिखो मैं बता दूंगा उसके बाद तुम कर लेना अपन निकले टैलेंट अपन वह लेकर गए थे रुचि आपूर्ति से जाकर जैसे ही मास्टर बाहर गए लैब से अपने सब कुछ आप दिया आपने एक बार जैसे टीचर आया क्लास में उसने सबकी कॉफी देगी और कॉफी देखी तो अपन तो काम कर के रेडी बैठे थे तो उस दिन मेरी इतनी धुनाई की लात घूसे इतने मर जाए मेरे ऊपर बहुत जबरदस्त यह बात जो मैं मेरी जिंदगी भर नहीं भूल पाऊंगाMaine Mere Shikshak Ke Saath Bitae Sabse Sharmnaak Janiye Degi Main Jab 12th Mein Tha Toh Aap Iyarali Ke Practical Lag Rahe The Toh Mujhe Mere Shikshak Ne Kaha Ki Tum Coffee Mein Kuch Mat Likho Main Bata Dunga Uske Baad Tum Kar Lena Apan Nikle Talent Apan Wah Lekar Gaye The Ruchi Aapurti Se Jaakar Jaise Hi Master Bahar Gaye Lab Se Apne Sab Kuch Aap Diya Aapne Ek Baar Jaise Teacher Aaya Class Mein Usne Sabaki Coffee Degi Aur Coffee Dekhi Toh Apan Toh Kaam Kar Ke Ready Baithe The Toh Us Din Meri Itni Dhunai Ki Laat Ghuse Itne Mar Jaye Mere Upar Bahut Jabardast Yeh Baat Jo Main Meri Zindagi Bhar Nahi Bhul Paunga
Likes  13  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे शिक्षा तो हमारे लिए बहुत बहुत बहुत अच्छे रहते थे और मैं उनका मन से धन्यवाद बोलना चाहूंगा क्योंकि हमारी जो शिक्षक चाहते थे वह में मारपीट के विदेश में प्यार भी करते थे अब वह आगे क्या करें हमें तो नहीं पता लेकिन हमारे लिए तो हमारे भगवान हैं
Romanized Version
हमारे शिक्षा तो हमारे लिए बहुत बहुत बहुत अच्छे रहते थे और मैं उनका मन से धन्यवाद बोलना चाहूंगा क्योंकि हमारी जो शिक्षक चाहते थे वह में मारपीट के विदेश में प्यार भी करते थे अब वह आगे क्या करें हमें तो नहीं पता लेकिन हमारे लिए तो हमारे भगवान हैंHamare Shiksha Toh Hamare Liye Bahut Bahut Bahut Acche Rehte The Aur Main Unka Man Se Dhanyavad Bolna Chahunga Kyonki Hamari Jo Shikshak Chahte The Wah Mein Maar Peet Ke Videsh Mein Pyar Bhi Karte The Ab Wah Aage Kya Karein Humein Toh Nahi Pata Lekin Hamare Liye Toh Hamare Bhagwan Hain
Likes  16  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षक और स्टूडेंट के बीच उस समय पर होते हैं जब कोई क्लास के स्टूडेंट को क्वेश्चन पूछता है और स्टूडेंट क्वेश्चन पेपर नहीं आता राहु स्टूडेंट पेपर दसवीं क्लास सीता मुझे लगता है कि वह शर्मा शो
Romanized Version
शिक्षक और स्टूडेंट के बीच उस समय पर होते हैं जब कोई क्लास के स्टूडेंट को क्वेश्चन पूछता है और स्टूडेंट क्वेश्चन पेपर नहीं आता राहु स्टूडेंट पेपर दसवीं क्लास सीता मुझे लगता है कि वह शर्मा शोShikshak Aur Student Ke Beech Us Samay Par Hote Hain Jab Koi Class Ke Student Ko Question Poochta Hai Aur Student Question Paper Nahi Aata Rahu Student Paper Dasavi Class Sita Mujhe Lagta Hai Ki Wah Sharma Show
Likes  22  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने शिक्षक के साथ बिताए सरवन आखिर वह में बहुत मारते थे यही मेरे को बहुत शर्मनाक लगा
Romanized Version
अपने शिक्षक के साथ बिताए सरवन आखिर वह में बहुत मारते थे यही मेरे को बहुत शर्मनाक लगाApne Shikshak Ke Saath Bitae Sarvan Aakhir Wah Mein Bahut Marte The Yahi Mere Ko Bahut Sharmnaak Laga
Likes  16  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टीचर का दिया हुआ होमवर्क आकर के ना लाना
Romanized Version
टीचर का दिया हुआ होमवर्क आकर के ना लानाTeacher Ka Diya Hua Homework Aakar Ke Na Lana
Likes  18  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे टीचर मेरे को हमेशा ही बोलते थे कि बेटे पढ़ाई कर ले कुछ बन जाएगा ऐसा कर देगा वैसा कर देगा लेकिन हमने कभी ध्यान नहीं दिया हम टीचर को गलत समझते थे कि टीचर आप गलत है टीचर के लाते हैं लेकिन आज 5 साल बाद मैंने पढ़ाई छोड़ दी तो पता चला कि टीचर गलत नहीं थे अपन गलत तेज टाइम पर और वही आज मेरे को सबसे शर्मनाक बात लगती है मेरे को कि मैं उस टाइम टीचर की बात नहीं मानता या रोज टीचर पीटते थे इसके लिए
Romanized Version
मेरे टीचर मेरे को हमेशा ही बोलते थे कि बेटे पढ़ाई कर ले कुछ बन जाएगा ऐसा कर देगा वैसा कर देगा लेकिन हमने कभी ध्यान नहीं दिया हम टीचर को गलत समझते थे कि टीचर आप गलत है टीचर के लाते हैं लेकिन आज 5 साल बाद मैंने पढ़ाई छोड़ दी तो पता चला कि टीचर गलत नहीं थे अपन गलत तेज टाइम पर और वही आज मेरे को सबसे शर्मनाक बात लगती है मेरे को कि मैं उस टाइम टीचर की बात नहीं मानता या रोज टीचर पीटते थे इसके लिएMere Teacher Mere Ko Hamesha Hi Bolte The Ki Bete Padhai Kar Le Kuch Ban Jayega Aisa Kar Dega Waisa Kar Dega Lekin Humne Kabhi Dhyan Nahi Diya Hum Teacher Ko Galat Samajhte The Ki Teacher Aap Galat Hai Teacher Ke Late Hain Lekin Aaj 5 Saal Baad Maine Padhai Chhod Di Toh Pata Chala Ki Teacher Galat Nahi The Apan Galat Tez Time Par Aur Wahi Aaj Mere Ko Sabse Sharmnaak Baat Lagti Hai Mere Ko Ki Main Us Time Teacher Ki Baat Nahi Manata Ya Roj Teacher Pitate The Iske Liye
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप कैसे हो विचार हम लोग का कैसा है
Romanized Version
आप कैसे हो विचार हम लोग का कैसा हैAap Kaise Ho Vichar Hum Log Ka Kaisa Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच बताएं तो भाई बचपन में जब गुरुजी ओम रख देते थे और हम अपना होमवर्क पूरा नहीं कर पाते थे तब दूसरे दिन पूरे स्कूल में हमारी बेइज्जती होती थी क्योंकि हम झूठ बोल देते थे की कॉपी घर पर रह गई है और कॉपी किसी दूसरे साथी के बैग में छुपा कर रख देते थे तब हमारी बेइज्जती पुरी स्कूल के सामने होती थी तब हमें बहुत शर्म आती थी
Romanized Version
सच बताएं तो भाई बचपन में जब गुरुजी ओम रख देते थे और हम अपना होमवर्क पूरा नहीं कर पाते थे तब दूसरे दिन पूरे स्कूल में हमारी बेइज्जती होती थी क्योंकि हम झूठ बोल देते थे की कॉपी घर पर रह गई है और कॉपी किसी दूसरे साथी के बैग में छुपा कर रख देते थे तब हमारी बेइज्जती पुरी स्कूल के सामने होती थी तब हमें बहुत शर्म आती थीSach Bataye Toh Bhai Bachpan Mein Jab Guruji Om Rakh Dete The Aur Hum Apna Homework Pura Nahi Kar Paate The Tab Dusre Din Poore School Mein Hamari Bejjati Hoti Thi Kyonki Hum Jhuth Bol Dete The Ki Copy Ghar Par Reh Gayi Hai Aur Copy Kisi Dusre Sathi Ke Bag Mein Chhupa Kar Rakh Dete The Tab Hamari Bejjati Puri School Ke Saamne Hoti Thi Tab Humein Bahut Sharm Aati Thi
Likes  22  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप कॉलेज जाए स्कूल जेड जाते हो तो सबसे शर्मनाक वह क्षण होता है जब आपको टीचर के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है और यदि आप पढ़ाई में लोहे और आप टेस्ट में नहीं नंबर ला पाते तो आपको टीचर के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है यदि आप पढ़ाई नहीं करते हो तो इसका रीजन है कि आपका जो ध्यान है वह कहीं और है यदि आप ध्यान लगाकर के केंद्र दिमाग से पड़ेंगे तो आप अवश्य ना कभी शर्म हो ना कभी आप फेल होंगे ना कभी आपको शर्म आएगी
Romanized Version
जब आप कॉलेज जाए स्कूल जेड जाते हो तो सबसे शर्मनाक वह क्षण होता है जब आपको टीचर के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है और यदि आप पढ़ाई में लोहे और आप टेस्ट में नहीं नंबर ला पाते तो आपको टीचर के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है यदि आप पढ़ाई नहीं करते हो तो इसका रीजन है कि आपका जो ध्यान है वह कहीं और है यदि आप ध्यान लगाकर के केंद्र दिमाग से पड़ेंगे तो आप अवश्य ना कभी शर्म हो ना कभी आप फेल होंगे ना कभी आपको शर्म आएगीJab Aap College Jaye School Z Jaate Ho Toh Sabse Sharmnaak Wah Kshan Hota Hai Jab Aapko Teacher Ke Saamne Sarminda Hona Padta Hai Aur Yadi Aap Padhai Mein Lohe Aur Aap Test Mein Nahi Number La Paate Toh Aapko Teacher Ke Saamne Sarminda Hona Padta Hai Yadi Aap Padhai Nahi Karte Ho Toh Iska Reason Hai Ki Aapka Jo Dhyan Hai Wah Kahin Aur Hai Yadi Aap Dhyan Lagakar Ke Kendra Dimag Se Padenge Toh Aap Avashya Na Kabhi Sharm Ho Na Kabhi Aap Fail Honge Na Kabhi Aapko Sharm Aayegi
Likes  18  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aapke Apne Shikshak Ke Saath Bitae Sabse Sharmnaak Kshan Kya Rahe Hain Koi Vakya Bataen ,


vokalandroid