सबसे पुरानी पुस्तक कौन सी है? ...

दुनिया की प्रथम पुस्तक होने का गौरव प्राप्त है ऋग्वेद को। भारत में अध्यात्म और रहस्यमयी ज्ञान की खोज ऋग्वेद काल से ही हो रही है जिसके चलते यहां ऐसे संत, दार्शनिक और लेखक हुए हैं जिनके लिखे हुए का तोड़ दुनिया में और कहीं नहीं मिलेगा। उन्होंने जो लिख दिया वह अमर हो गया। उनकी ही लिखी हुई बातों को 2री और 12वीं शताब्दी के बीच अरब, यूनान, रोम और चीन ले जाया गया, रूपांतरण किया गया और फिर उसे दुनिया के सामने नए सिरे से प्रस्तुत कर दिया गया।
Romanized Version
दुनिया की प्रथम पुस्तक होने का गौरव प्राप्त है ऋग्वेद को। भारत में अध्यात्म और रहस्यमयी ज्ञान की खोज ऋग्वेद काल से ही हो रही है जिसके चलते यहां ऐसे संत, दार्शनिक और लेखक हुए हैं जिनके लिखे हुए का तोड़ दुनिया में और कहीं नहीं मिलेगा। उन्होंने जो लिख दिया वह अमर हो गया। उनकी ही लिखी हुई बातों को 2री और 12वीं शताब्दी के बीच अरब, यूनान, रोम और चीन ले जाया गया, रूपांतरण किया गया और फिर उसे दुनिया के सामने नए सिरे से प्रस्तुत कर दिया गया। Duniya Ki Pratham Pustak Hone Ka Gaurav Prapt Hai Rigved Ko Bharat Mein Adhyaatm Aur Rahasyamayi Gyaan Ki Khoj Rigved Kaal Se Hi Ho Rahi Hai Jiske Chalte Yahan Aise Sant Darshnik Aur Lekhak Huye Hain Jinke Likhe Huye Ka Tod Duniya Mein Aur Kahin Nahi Milega Unhone Jo Likh Diya Wah Amar Ho Gaya Unki Hi Likhi Hui Baaton Ko Ri Aur Vi Shatabdi Ke Bich Arab Yunaan Roam Aur Chin Le Jaaya Gaya Rupantaran Kiya Gaya Aur Phir Use Duniya Ke Samane Naye Sire Se Prastut Kar Diya Gaya
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Sabse Purani Pustak Kaun Si Hai, दुनिया की सबसे पुरानी पुस्तक

vokalandroid