आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम अपने पूर्वजों की जैसी चुस्ती व स्वास्थ कैसे उत्पन कर सकते हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल हमारी जिंदगी बहुत ज्यादा व्यस्त हो गई है और इसका कारण है पैसे कमाने की होड़ सभी लोग ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाना चाहते हैं और इसके लिए उन्हें अतिरिक्त काम करना पड़ता है तो इस भाग दौड़ में वह अपने ...जवाब पढ़िये
आजकल हमारी जिंदगी बहुत ज्यादा व्यस्त हो गई है और इसका कारण है पैसे कमाने की होड़ सभी लोग ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाना चाहते हैं और इसके लिए उन्हें अतिरिक्त काम करना पड़ता है तो इस भाग दौड़ में वह अपने शरीर का प्रॉपर ध्यान नहीं दे पाते जिसकी वजह से वह ज्यादा बीमार पड़ते हैं और धीरे-धीरे उन्हें तरह-तरह की बीमारियां भी होती रहती हैं तो इन सारी चीजों से अगर हम निजात पाना चाहते हैं या फिर बचना चाहते हैं तो हमें अपने पूर्वजों से कई चीजें सीखने की आवश्यकता है सबसे पहले तू खानपान के बारे में हमारे पूर्वजों का खानपान काफी सिंपल हुआ करता था क्योंकि वह ज्यादातर घर में ही खाना खाना प्रिफर करते थे लेकिन आज हम बाहर की चीज है यानी कि जंक फूड पर बहुत ज्यादा डिपेंडेंट हो गए हैं और जब भी भूख लगती है तो तुरंत कहीं से आर्डर करके कुछ भी ऐसी चीज खा लेते हैं जो हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालती है इसके अलावा हमारे पूर्वजों की जो जीवन शैली थी उसका एक महत्वपूर्ण अंग यह था कि वह सही टाइम टेबल कॉल करते थे यानी कि सुबह जल्दी जगना और रात को जल्दी सोना लेकिन आज इंटरनेट और मोबाइल के आने के वजह से लोग देर रात तक सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं इधर-उधर की बातें करते रहते हैं और YouTube पर बहुत सारे वीडियोस देखने में अपना समय नष्ट करते हैं तो उन्हें सोने के लिए प्रॉपर टाइम नहीं मिल पाता और उसके बाद सुबह होने जल्दी ऑफिस भी जाना रहता है तू इस चक्कर में वह अपने शरीर को जरूरत से ज्यादा ही काम करवाते हैं और इसका परिणाम यह निकलता है कि वह जल्दी बीमार पड़ जाते हैं तो यह सारी चीजें अगर हम अपने पूर्वजों से सीखते हैं वह मोदी चलकर हमें ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा और हम काफी स्वस्थ भी रहेंगे और चुस्त-दुरुस्त भी रहेंगेAajkal Hamari Zindagi Bahut Jyada Vyasta Ho Gayi Hai Aur Iska Kaaran Hai Paise Kamane Ki Hod Sabhi Log Jyada Se Jyada Paise Kamana Chahte Hain Aur Iske Liye Unhen Atirikt Kaam Karna Padata Hai To Is Bhag Daudh Mein Wah Apne Sharir Ka Proper Dhyan Nahi De Paate Jiski Wajah Se Wah Jyada Bimar Padate Hain Aur Dhire Dhire Unhen Tarah Tarah Ki Bimariyan Bhi Hoti Rehti Hain To In Saree Chijon Se Agar Hum Nijat Pana Chahte Hain Ya Phir Bachana Chahte Hain To Hume Apne Purwaajon Se Kai Cheezen Seekhne Ki Avashyakta Hai Sabse Pehle Tu Khanpan Ke Bare Mein Hamare Purwaajon Ka Khanpan Kafi Simple Hua Karta Tha Kyonki Wah Jyadatar Ghar Mein Hi Khana Khana Prefer Karte The Lekin Aaj Hum Bahar Ki Cheez Hai Yani Ki Junk Food Par Bahut Jyada Dependent Ho Gaye Hain Aur Jab Bhi Bhukh Lagti Hai To Turant Kahin Se Order Karke Kuch Bhi Aisi Cheez Kha Lete Hain Jo Hamare Swasthya Par Nakaratmak Prabhav Daalti Hai Iske Alava Hamare Purwaajon Ki Jo Jeevan Shaili Thi Uska Ek Mahatvapurna Ang Yeh Tha Ki Wah Sahi Time Table Call Karte The Yani Ki Subah Jaldi Jagana Aur Raat Ko Jaldi Sona Lekin Aaj Internet Aur Mobile Ke Aane Ke Wajah Se Log Der Raat Tak Social Media Par Active Rehte Hain Idhar Udhar Ki Batein Karte Rehte Hain Aur YouTube Par Bahut Sare Videos Dekhne Mein Apna Samay Nasht Karte Hain To Unhen Sone Ke Liye Proper Time Nahi Mil Pata Aur Uske Baad Subah Hone Jaldi Office Bhi Jana Rehta Hai Tu Is Chakkar Mein Wah Apne Sharir Ko Zaroorat Se Jyada Hi Kaam Karwaate Hain Aur Iska Parinam Yeh Nikalta Hai Ki Wah Jaldi Bimar Padh Jaate Hain To Yeh Saree Cheezen Agar Hum Apne Purwaajon Se Sikhate Hain Wah Modi Chalkar Hume Jyada Dikkaton Ka Samana Nahi Karna Padega Aur Hum Kafi Swasth Bhi Rahenge Aur Chust Durust Bhi Rahenge
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल की भागदौड़ के जीवन में और जिंदगी में अगर हमें पूर्वजों से ही सुखी और स्वस्थ स्वास्थ्य लेकर आना है तो उसके लिए हमें बहुत मेहनत करनी पड़ेगी और मैं हार्ड वर्क करना पड़ेगा वह हार्ड वर्क कैसे होगा हमे...जवाब पढ़िये
आजकल की भागदौड़ के जीवन में और जिंदगी में अगर हमें पूर्वजों से ही सुखी और स्वस्थ स्वास्थ्य लेकर आना है तो उसके लिए हमें बहुत मेहनत करनी पड़ेगी और मैं हार्ड वर्क करना पड़ेगा वह हार्ड वर्क कैसे होगा हमें एक्सरसाइज करने होंगे हमें योगा प्रणाम करना होगा मैं अपने खाने के तरीके को बदलना होगा उस समय कैसे लोग थे और ज्ञान सब ज्ञान लेते थे तो बहुत बदलाव हमें हमारी जिंदगी में मुश्किल भी होंगे कम कम आपको खाना आपको कम खाना पड़ेगा जौनपुर बाहर का खाना कम खाना पड़ेगा कि खुद देखना क्या आपको इन बदलावों की आदत पड़ जाएगी आपको आप घर जाएंगे इसमें और उसके बाद जो आपको फायदा होगा वह आपको आपको अलग है क्या पीने से और आपकी ज़िंदगी भी बड़ाAajkal Ki Bhagdaud Ke Jeevan Mein Aur Zindagi Mein Agar Hume Purwaajon Se Hi Sukhi Aur Swasth Swasthya Lekar Aana Hai To Uske Liye Hume Bahut Mehnat Karni Padegi Aur Main Hard Work Karna Padega Wah Hard Work Kaise Hoga Hume Exercise Karne Honge Hume Yoga Pranam Karna Hoga Main Apne Khane Ke Tarike Ko Badalna Hoga Us Samay Kaise Log The Aur Gyaan Sab Gyaan Lete The To Bahut Badlav Hume Hamari Zindagi Mein Mushkil Bhi Honge Kam Kam Aapko Khana Aapko Kam Khana Padega Jaunpur Bahar Ka Khana Kam Khana Padega Ki Khud Dekhna Kya Aapko In Badlaon Ki Aadat Padh Jayegi Aapko Aap Ghar Jaenge Isme Aur Uske Baad Jo Aapko Fayda Hoga Wah Aapko Aapko Alag Hai Kya Peene Se Aur Aapki Zindagi Bhi Bada
Likes  2  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में जो एक स्फूर्ति जो चुस्ती और जो स्वास्थ्य मारा होना चाहिए वह सब कुछ भी नहीं बचा है हमारे दिन की शुरुआत हमारे फोन से होती है और हमारा दिन अपने फोन पर ही खत्म हो जाता है जो...जवाब पढ़िये
आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में जो एक स्फूर्ति जो चुस्ती और जो स्वास्थ्य मारा होना चाहिए वह सब कुछ भी नहीं बचा है हमारे दिन की शुरुआत हमारे फोन से होती है और हमारा दिन अपने फोन पर ही खत्म हो जाता है जो टाइम हमारे पूर्वज एक्सरसाइज करने में व्यायाम करने में या योगा करने में निकाल देते हम लोगों फोन यूज करने में और टाइप करने में निकाल देते हैं अगर हम चाहते हैं कि हमारे पूर्वजों जैसे स्फूर्ति और शास्त्र में मिले तो थोड़ा सा अपने दिनचर्या में हमें चेंज लाना पड़ेगा हम लोगों को बहुत लेट सोने की आदत हो गई इसकी वजह से हमारी नींद पूरी नहीं होती फिर पूरा दिन हम थके रहते हैं ना तो हम काम कर पाते हैं अच्छे से नहीं हमारा जो श्रेष्ठ है वह हो पाता है तो बैटरी की कोशिश करें एकदम से नहीं आऊंगा फिर कोशिश करें कि टाइम पर सो जाते टाइम पर उठे और उठकर अगर बहुत देर नहीं निकाल सकते तो फिर थोड़ी देर के लिए कोई व्यायाम योग्य कुछ कैसे करें और आज का जम कल से बहुत ज्यादा बढ़ गया है लेकिन जो फ्रेशनेस और जो स्वास्थ्य विधि आप की खुली हवा में किस करने से होगी वह जगह में जाकर नहीं हो सकती थोड़ा सा पढ़ाई करना पड़ेगा ऐसा डालने पड़ेंगे पर चेंजेस जरूर आएंगेAajkal Ki Bhagdaud Bhari Zindagi Mein Jo Ek Sfurti Jo Chusti Aur Jo Swasthya Mara Hona Chahiye Wah Sab Kuch Bhi Nahi Bacha Hai Hamare Din Ki Shuruvat Hamare Phone Se Hoti Hai Aur Hamara Din Apne Phone Par Hi Khatam Ho Jata Hai Jo Time Hamare Poorvaj Exercise Karne Mein Vyayam Karne Mein Ya Yoga Karne Mein Nikal Dete Hum Logon Phone Use Karne Mein Aur Type Karne Mein Nikal Dete Hain Agar Hum Chahte Hain Ki Hamare Purwaajon Jaise Sfurti Aur Shastra Mein Mile To Thoda Sa Apne Dinacharya Mein Hume Change Lana Padega Hum Logon Ko Bahut Let Sone Ki Aadat Ho Gayi Iski Wajah Se Hamari Neend Puri Nahi Hoti Phir Pura Din Hum Thake Rehte Hain Na To Hum Kaam Kar Paate Hain Acche Se Nahi Hamara Jo Shreshtha Hai Wah Ho Pata Hai To Battery Ki Koshish Karen Ekdam Se Nahi Aaunga Phir Koshish Karen Ki Time Par So Jaate Time Par Uthe Aur Uthakar Agar Bahut Der Nahi Nikal Sakte To Phir Thodi Der Ke Liye Koi Vyayam Yogya Kuch Kaise Karen Aur Aaj Ka Jam Kal Se Bahut Jyada Badh Gaya Hai Lekin Jo Freshness Aur Jo Swasthya Vidhi Aap Ki Khuli Hawa Mein Kis Karne Se Hogi Wah Jagah Mein Jaakar Nahi Ho Sakti Thoda Sa Padhai Karna Padega Aisa Dalne Padenge Par Changes Jarur Aayenge
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Aajkal Ki Bhagdaud Bhari Zindagi Mein Hum Apne Purwaajon Ki Jaisi Chusti V Swaasth Kaise Utpan Kar Sakte Hain

vokalandroid