प्रकृति का अत्यधिक दोहन क्या हमारे विनाश का कारण बनेगा? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिलीप अगर हम बात करें प्रकृति की जो प्रकृति में हमारे बहुत कुछ जो है आजकल छेड़छाड़ हो रहे हैं जो हमारे मनुष्य के द्वारा होने की समस्या है अभी लखनऊ टू का वन जो गैस की 10 + जो नजर में परत में छेद होना इ ...जवाब पढ़िये

दिलीप अगर हम बात करें प्रकृति की जो प्रकृति में हमारे बहुत कुछ जो है आजकल छेड़छाड़ हो रहे हैं जो हमारे मनुष्य के द्वारा होने की समस्या है अभी लखनऊ टू का वन जो गैस की 10 + जो नजर में परत में छेद होना इसकी जान जवाल जवाल Exide बैटरी हमारे साथी पर आएंगे बीमारियां हो सकती है बिल्कुल से विनाश का कारण बन सकता है प्रकृति का जैकेट देखी प्रकृति का मीन मकसद है कि व्यक्ति को उसके साहसी कोई हार्मफुल होगा हमारी आने वाली भविष्य को और पूछो हम अच्छे प्राकृतिक देखने जाएंगे मतलब जो हमें हमारे पूर्वजों मिलेंगेDilip Agar Hum Baat Karen Prakriti Ki Jo Prakriti Mein Hamare Bahut Kuch Jo Hai Aajkal Chedchad Ho Rahe Hain Jo Hamare Manushya Ke Dwara Hone Ki Samasya Hai Abhi Lucknow To Ka Van Jo Gas Ki 10 + Jo Nazar Mein Parat Mein Chhed Hona Iski Jaan Javal Javal Exide Battery Hamare Sathi Par Aayenge Bimariyan Ho Sakti Hai Bilkul Se Vinash Ka Kaaran Ban Sakta Hai Prakriti Ka Jacket Dekhi Prakriti Ka Mean Maksad Hai Ki Vyakti Ko Uske Sahasi Koi Harmaful Hoga Hamari Aane Wali Bhavishya Ko Aur Pucho Hum Acche Prakritik Dekhne Jaenge Matlab Jo Hume Hamare Purwaajon Milenge
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Prakriti Ka Atyadhik Dohan Kya Hamare Vinash Ka Kaaran Banega, Will Excessive Tapping Of Nature Cause Our Destruction?