चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसमें जो महंगाई का कारण है वह बहुत सारा चीज हो सकता है जैसे कि हर साल नगर वहां से फसलों का नाश होता है यह महंगाई के कारण है तो महंगाई का कारण दूसरा जो है पापुलेशन हमारे पास इतना पॉपुलेशन की अनाज हमारे पास वह प्रॉपर पूरा नहीं पढ़ पाता है हर किसी को मुहैया कराने के लिए इसे कम अगर चीज है अगर किसी चीज का प्रोडक्शन कम होगा डिमांड ज्यादा है तो असली जो है वह में मैसेज दो बार बड़ी जाती है तीसरी जी से कि जब बगैर प्रोडक्शन ही कम है तो कहीं ना कहीं से सबको फिर तो करना है तो उसके लिए जाना जाता है वह आवाज कहां से आता है फॉरेन से आता है हम लोग इंपोर्ट करते हैं तो उसमें फिर मैं पैसे लगते हैं इसलिए के लिए इसलिए जो है महंगाई है वह ज्यादा है इतनी सी चीज जो अनाज हमारे पास होता है उसमें भी हम बहुत सारा नाराज है वह लौट कर देते जो गरीब लोग हैं निकले वर्ग हैं जिनका सैलरी बहुत कम है जो खरीद नहीं सकते हैं उनकी ₹1 में चावल दूर करने गेहूं मिलता है आधा नाच वहां पर भी चला जाता तो बहुत सारे कारण है जिसके लिए महंगाई हमारे देश में इतनी ज्यादा है
Romanized Version
देखिए इसमें जो महंगाई का कारण है वह बहुत सारा चीज हो सकता है जैसे कि हर साल नगर वहां से फसलों का नाश होता है यह महंगाई के कारण है तो महंगाई का कारण दूसरा जो है पापुलेशन हमारे पास इतना पॉपुलेशन की अनाज हमारे पास वह प्रॉपर पूरा नहीं पढ़ पाता है हर किसी को मुहैया कराने के लिए इसे कम अगर चीज है अगर किसी चीज का प्रोडक्शन कम होगा डिमांड ज्यादा है तो असली जो है वह में मैसेज दो बार बड़ी जाती है तीसरी जी से कि जब बगैर प्रोडक्शन ही कम है तो कहीं ना कहीं से सबको फिर तो करना है तो उसके लिए जाना जाता है वह आवाज कहां से आता है फॉरेन से आता है हम लोग इंपोर्ट करते हैं तो उसमें फिर मैं पैसे लगते हैं इसलिए के लिए इसलिए जो है महंगाई है वह ज्यादा है इतनी सी चीज जो अनाज हमारे पास होता है उसमें भी हम बहुत सारा नाराज है वह लौट कर देते जो गरीब लोग हैं निकले वर्ग हैं जिनका सैलरी बहुत कम है जो खरीद नहीं सकते हैं उनकी ₹1 में चावल दूर करने गेहूं मिलता है आधा नाच वहां पर भी चला जाता तो बहुत सारे कारण है जिसके लिए महंगाई हमारे देश में इतनी ज्यादा हैDekhie Isme Jo Mahangai Ka Kaaran Hai Wah Bahut Saara Cheez Ho Sakta Hai Jaise Ki Har Saal Nagar Wahan Se Fasalon Ka Nash Hota Hai Yeh Mahangai Ke Kaaran Hai To Mahangai Ka Kaaran Doosra Jo Hai Population Hamare Paas Itna Population Ki Anaaj Hamare Paas Wah Proper Pura Nahi Padh Pata Hai Har Kisi Ko Muhaiya Karane Ke Liye Ise Kam Agar Cheez Hai Agar Kisi Cheez Ka Production Kam Hoga Demand Jyada Hai To Asli Jo Hai Wah Mein Massage Do Bar Badi Jati Hai Teesri Ji Se Ki Jab Bagair Production Hi Kam Hai To Kahin Na Kahin Se Sabko Phir To Karna Hai To Uske Liye Jana Jata Hai Wah Aawaj Kahan Se Aata Hai Foreign Se Aata Hai Hum Log Import Karte Hain To Usamen Phir Main Paise Lagte Hain Isliye Ke Liye Isliye Jo Hai Mahangai Hai Wah Jyada Hai Itni Si Cheez Jo Anaaj Hamare Paas Hota Hai Usamen Bhi Hum Bahut Saara Naaraj Hai Wah Lot Kar Dete Jo Garib Log Hain Nikale Varg Hain Jinka Salary Bahut Kam Hai Jo Kharid Nahi Sakte Hain Unki ₹1 Mein Chawal Dur Karne Gehun Milta Hai Aadha Nach Wahan Par Bhi Chala Jata To Bahut Sare Kaaran Hai Jiske Liye Mahangai Hamare Desh Mein Itni Jyada Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

इतना पैसा जमा होने के बावजूद भी आज भी महंगाई की दर बढ़ती जा रही है क्या कारण है ? ...

इतना पैसा जमा होने के बावजूद भी आज महंगाई का दर्द बढ़ता जा रहा है इसका क्या कारण है लेकिन महंगाई का दर्द बढ़ने का कारण जो है पैसा जमा नहीं होता है जैसे कि आज की डेट में तेल का रेट बता तू भी तो हो सकतीजवाब पढ़िये
ques_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Mehengayi Ke Mukhya Kaaran,


vokalandroid