हमें गुस्सा किस हद तक आ सकता हैं ? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखने पर करता है इंसान से इंसान पर किसी किसी को इतना गुस्सा आता है छोटी-छोटी बातों पर कि वह बहुत कुछ उलट-पुलट कर देते हैं और कुछ लोग बहुत बड़ी बात पर भी गुस्सा करते हैं लेकिन इस तरीके से किया उसका कुछ ज्यादा असर नहीं होता यह उसी समय तक रहता है उससे ज्यादा नहीं तू ही निर्भर करता है इंसान के ऊपर कि वह कितना खून रहता है जब वह गुस्से में भी होता है और यकीन मानिए वह बहुत मुश्किल से मिलते हैं जो गुस्सा करते वक्त ही अपने आप को खुश रख सके या वह कुछ बात भी करते हैं पर उसमें कि इसको कोई अपना अक्सर गुस्से में ना करें जिससे बाद में उड़े ग्रेट करें कि उन्होंने क्या कर दिया तो ऐसे लोग मिल पाना बहुत मुश्किल है बट आ सकता है कहां तक आ सकता है कई लोग जिंदगी बर्बाद कर देते हैं इतना भी आ जाता है ब्लैक करने का ही लोग होते हैं जो इतना खून रहते हैं कि वह सब चीजों को ठीक करने आते हैं दोनों ही तरीकों के इंसान में और दोनों ही अपनी जगह इंटेंट को लेकर साफ होते हैं लेकिन रिजल्ट दोनों के अलग अलग होते हैं
Romanized Version
लिखने पर करता है इंसान से इंसान पर किसी किसी को इतना गुस्सा आता है छोटी-छोटी बातों पर कि वह बहुत कुछ उलट-पुलट कर देते हैं और कुछ लोग बहुत बड़ी बात पर भी गुस्सा करते हैं लेकिन इस तरीके से किया उसका कुछ ज्यादा असर नहीं होता यह उसी समय तक रहता है उससे ज्यादा नहीं तू ही निर्भर करता है इंसान के ऊपर कि वह कितना खून रहता है जब वह गुस्से में भी होता है और यकीन मानिए वह बहुत मुश्किल से मिलते हैं जो गुस्सा करते वक्त ही अपने आप को खुश रख सके या वह कुछ बात भी करते हैं पर उसमें कि इसको कोई अपना अक्सर गुस्से में ना करें जिससे बाद में उड़े ग्रेट करें कि उन्होंने क्या कर दिया तो ऐसे लोग मिल पाना बहुत मुश्किल है बट आ सकता है कहां तक आ सकता है कई लोग जिंदगी बर्बाद कर देते हैं इतना भी आ जाता है ब्लैक करने का ही लोग होते हैं जो इतना खून रहते हैं कि वह सब चीजों को ठीक करने आते हैं दोनों ही तरीकों के इंसान में और दोनों ही अपनी जगह इंटेंट को लेकर साफ होते हैं लेकिन रिजल्ट दोनों के अलग अलग होते हैंLikhne Par Karta Hai Insaan Se Insaan Par Kisi Kisi Ko Itna Gussa Aata Hai Choti Choti Baaton Par Ki Wah Bahut Kuch Ulat Pulat Kar Dete Hain Aur Kuch Log Bahut Badi Baat Par Bhi Gussa Karte Hain Lekin Is Tarike Se Kiya Uska Kuch Jyada Asar Nahi Hota Yeh Ussi Samay Tak Rehta Hai Usse Jyada Nahi Tu Hi Nirbhar Karta Hai Insaan Ke Upar Ki Wah Kitna Khoon Rehta Hai Jab Wah Gusse Mein Bhi Hota Hai Aur Yakin Maaniye Wah Bahut Mushkil Se Milte Hain Jo Gussa Karte Waqt Hi Apne Aap Ko Khush Rakh Sake Ya Wah Kuch Baat Bhi Karte Hain Par Usamen Ki Isko Koi Apna Aksar Gusse Mein Na Karen Jisse Baad Mein Ude Great Karen Ki Unhone Kya Kar Diya To Aise Log Mil Pana Bahut Mushkil Hai But Aa Sakta Hai Kahan Tak Aa Sakta Hai Kai Log Zindagi Barbad Kar Dete Hain Itna Bhi Aa Jata Hai Black Karne Ka Hi Log Hote Hain Jo Itna Khoon Rehte Hain Ki Wah Sab Chijon Ko Theek Karne Aate Hain Dono Hi Trikon Ke Insaan Mein Aur Dono Hi Apni Jagah Intent Ko Lekar Saaf Hote Hain Lekin Result Dono Ke Alag Alag Hote Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

मेरे सीनियर है मेरे ऊपर गुस्सा करते रहते हैं ऐसा क्यों होता है कोई भी काम गलत नहीं भी करते तब भी गुस्सा करते रहते हैं? ...

हेलो फ्रेंड्स देखिए अगर आपके सीनियर आपके ऊपर गुस्सा कर रहे हैं और आपको लगता है कि आप कोई गलती नहीं कर रहे हैं बेवजह का गुस्सा है बार-बार वह आपको अंडरस्टैंड नहीं कर रहे हैं कुछ भी आपको कहीं भी बोल देतेजवाब पढ़िये
ques_icon

मैं जब भी कोई गलत काम देखता हूँ मुझे बहुत तेज गुस्सा आता है में इसे कैसे कंट्रोल करूं? ...

जब भी आपको गलत काम हो तो देखो तो आपको बहुत गुस्सा आता है तो उसको कैसे कंट्रोल करें देखी कंट्रोल करने की जरूरत नहीं है गर्मी काम हो रहा है ऐसा कुछ गलत उसको आप जाकर उस पर पोस्ट कीजिए बहुत अच्छी बात है बजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तेरी डिपेंड करता है गुस्सा कौन सी है तक आ सकता है कि क्या काम हुआ है और कभी का अब देखते हैं कि गुस्से में इंसान या तो अपना पूरा कर लेता है या फिर दूसरे का बहुत कुछ बुरा कर देता है बहुत सारे गुस्से में खून मर्डर यहां तक हो जाते हैं तो इसको परम सीमा कहेंगे परम छोटी कहेंगे किसी भी गुस्से की किससे आगे इंसान और कर ही क्या सकता है अगर वह किसी जान पहचान वाली की स्थिति जान जान की हत्या कर दे रहा है अपनी कॉपी नुकसान पहुंचा लगाती गुस्सा की चरम सीमा ही है
Romanized Version
तेरी डिपेंड करता है गुस्सा कौन सी है तक आ सकता है कि क्या काम हुआ है और कभी का अब देखते हैं कि गुस्से में इंसान या तो अपना पूरा कर लेता है या फिर दूसरे का बहुत कुछ बुरा कर देता है बहुत सारे गुस्से में खून मर्डर यहां तक हो जाते हैं तो इसको परम सीमा कहेंगे परम छोटी कहेंगे किसी भी गुस्से की किससे आगे इंसान और कर ही क्या सकता है अगर वह किसी जान पहचान वाली की स्थिति जान जान की हत्या कर दे रहा है अपनी कॉपी नुकसान पहुंचा लगाती गुस्सा की चरम सीमा ही हैTeri Depend Karta Hai Gussa Kaun Si Hai Tak Aa Sakta Hai Ki Kya Kaam Hua Hai Aur Kabhi Ka Ab Dekhte Hain Ki Gusse Mein Insaan Ya To Apna Pura Kar Leta Hai Ya Phir Dusre Ka Bahut Kuch Bura Kar Deta Hai Bahut Sare Gusse Mein Khoon Murder Yahan Tak Ho Jaate Hain To Isko Param Seema Kahenge Param Choti Kahenge Kisi Bhi Gusse Ki Kisse Aage Insaan Aur Kar Hi Kya Sakta Hai Agar Wah Kisi Jaan Pehchaan Wali Ki Sthiti Jaan Jaan Ki Hatya Kar De Raha Hai Apni Copy Nuksan Pahuncha Lagati Gussa Ki Charam Seema Hi Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Humein Gussa Kis Had Tak Aa Sakta Hain ?,


vokalandroid