महात्मा बुद्ध के विषय में जानकारी दीजिये? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी ने गौतम बुध के नाम से जाना जाता है गौतम बुद्ध का जन्म किस साल से 563 साल पहले जब कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी अपने नेहा देवता जा रही थी तो रास्ते में लुंबिनी वन में हुआ इंतजार तो यह सर नेपाल के तराई क्षेत्र न कपिलवस्तु देवता के बीच नौतनवा स्टेशन से 8 मील दूर पश्चिम में रुक मंदिर नामक स्थान है वहां तक जाने की उम्मीद इन आम का बांदा ग्राम सिद्धार्थ रखा गया उनके पिता का नाम से तरनतारन के साथ दिन बाद ही मां का देहांत हो गया सीता की मौसी गौतमी ने उनका विद्यार्थी मौसी गौतमी नियम का पालन लालन पालन किया था
Romanized Version
महात्मा गांधी ने गौतम बुध के नाम से जाना जाता है गौतम बुद्ध का जन्म किस साल से 563 साल पहले जब कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी अपने नेहा देवता जा रही थी तो रास्ते में लुंबिनी वन में हुआ इंतजार तो यह सर नेपाल के तराई क्षेत्र न कपिलवस्तु देवता के बीच नौतनवा स्टेशन से 8 मील दूर पश्चिम में रुक मंदिर नामक स्थान है वहां तक जाने की उम्मीद इन आम का बांदा ग्राम सिद्धार्थ रखा गया उनके पिता का नाम से तरनतारन के साथ दिन बाद ही मां का देहांत हो गया सीता की मौसी गौतमी ने उनका विद्यार्थी मौसी गौतमी नियम का पालन लालन पालन किया थाMahatma Gandhi Ne Gautam Buddha Ke Naam Se Jana Jata Hai Gautam Buddha Ka Janm Kis Saal Se 563 Saal Pehle Jab Kapilvastu Ki Maharani Mahamaya Devi Apne Neha Devta Ja Rahi Thi To Raste Mein Lumbini Van Mein Hua Intejar To Yeh Sar Nepal Ke Tarai Shetra N Kapilvastu Devta Ke Bich Nautanwa Station Se 8 Meal Dur Paschim Mein Ruk Mandir Namak Sthan Hai Wahan Tak Jaane Ki Ummid In Aam Ka Banda Gram Siddharth Rakha Gaya Unke Pita Ka Naam Se Taranataran Ke Saath Din Baad Hi Maa Ka Dehant Ho Gaya Sita Ki Mausi Gautami Ne Unka Vidyarthi Mausi Gautami Niyam Ka Palan Lalani Palan Kiya Tha
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गौतम बुद्ध इनका जन्म 5 सूत्री सर ईसा पूर्व में दादा हिंदी में क्यों 483 ईसा पूर्व में हुए एकदम इंजॉय के समर्थन की शिक्षाओं पर बौद्ध धर्म का प्रचलन हुआ गजेंद्र लुंबिनी नेपाल में हुआ था तथा इनका निगम कुशीनगर भारत में हुआ उनकी पत्नी का नाम राजकुमारी यशोधरा था इनकी माता माता माता जी का नाम आया था जो खोलिए वंश से थे जिन का इंतजार में के साथ बाद ही निधन हो गया था इनका पालन महारानी की छोटी सगी बहन मां प्रजापति गौतमी ने किया सिद्धार्थ विवाह का एकमात्र प्रथम नवजात शिशु राहुल और पत्नी यशोधरा को त्याग कर संसार में जरा मरण दुखों से मुक्ति दिलाने की मांग की तलाश एवं सत्यदेव विज्ञान खोज में राजपाट छोड़कर जंगल चले गए वशीकरण साधना के बाद बोधगया बिहार में बोधि वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ और वे सिद्धार्थ गौतम से बुद्ध बन गए हैं
Romanized Version
गौतम बुद्ध इनका जन्म 5 सूत्री सर ईसा पूर्व में दादा हिंदी में क्यों 483 ईसा पूर्व में हुए एकदम इंजॉय के समर्थन की शिक्षाओं पर बौद्ध धर्म का प्रचलन हुआ गजेंद्र लुंबिनी नेपाल में हुआ था तथा इनका निगम कुशीनगर भारत में हुआ उनकी पत्नी का नाम राजकुमारी यशोधरा था इनकी माता माता माता जी का नाम आया था जो खोलिए वंश से थे जिन का इंतजार में के साथ बाद ही निधन हो गया था इनका पालन महारानी की छोटी सगी बहन मां प्रजापति गौतमी ने किया सिद्धार्थ विवाह का एकमात्र प्रथम नवजात शिशु राहुल और पत्नी यशोधरा को त्याग कर संसार में जरा मरण दुखों से मुक्ति दिलाने की मांग की तलाश एवं सत्यदेव विज्ञान खोज में राजपाट छोड़कर जंगल चले गए वशीकरण साधना के बाद बोधगया बिहार में बोधि वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ और वे सिद्धार्थ गौतम से बुद्ध बन गए हैंGautam Buddha Inka Janm 5 Sutri Sar Isa Purv Mein Dada Hindi Mein Kyon 483 Isa Purv Mein Huye Ekdam Enjoy Ke Samarthan Ki Shikshaon Par Baudh Dharm Ka Parchalan Hua Gajendra Lumbini Nepal Mein Hua Tha Tatha Inka Nigam Kushinagar Bharat Mein Hua Unki Patni Ka Naam Rajkumari Yashodhara Tha Inki Mata Mata Mata G Ka Naam Aaya Tha Jo Kholie Vansh Se The Jin Ka Intejar Mein Ke Saath Baad Hi Nidhan Ho Gaya Tha Inka Palan Maharani Ki Choti Sagi Behen Maa Prajapati Gautami Ne Kiya Siddharth Vivah Ka Ekmatr Pratham Navjat Shishu Rahul Aur Patni Yashodhara Ko Tyag Kar Sansar Mein Jara Maran Dukhon Se Mukti Dilaane Ki Maang Ki Talash Evam Satyadev Vigyan Khoj Mein Raajpat Chodkar Jungle Chale Gaye Vashikaran Sadhna Ke Baad Bodhgaya Bihar Mein Bodhee Vriksh Ke Neeche Gyaan Prapt Hua Aur Ve Siddharth Gautam Se Buddha Ban Gaye Hain
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Mahatma Buddha Ke Vishay Mein Jankari Dijiye,


vokalandroid