आपने जो सबसे अच्छी गलती की है वह क्या है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरा एक सिद्धांत है कि मैं एक गलती एक ही बार करता हूं दूसरे शब्दों में कहें तुम्हें एक सबक एक बार में ही सीख जाता हूं चुकी आप का कहना है आपका पूछना है बल्कि की ऐसी कौन सी गलती मैंने करी जो आगे चलकर बहुत अच्छी साबित हुई तो आप जान लीजिए कि जानबूझकर ऐसी गलती कभी नहीं सकते गलती की परिभाषा ही वह नहीं है यह विधि का जरूर होता है कि आपने जल्दी करें और वह आगे जाकर काफी सलाम गीत हुआ तो अगर मैं अपने अतीत में जाकर आगे कुछ ढूंढता हूं तो बस एक ही चीज ऐसी दिखती है जिसे आप कह सकते हैं कि मैंने एक निर्णय लिया और आज मुस्लिम ने को लेकर खुश हूं पसंद बनाया था मैं बिजनेस छोड़कर प्राइवेट जॉब में आ जाओ जी एक समय था जब मैं बिहार के एक छोटे से गांव में एक दुकान चलाया करता था काफी अच्छी दुकान में भी चलती थी बस आप ऐसा सोचे कि मैं दुकान से 1 दिन में कितना कमा लेता था जितना भी प्रों ने मुझे अपनी पहली सैलरी दी थी 1 महीने में 20 ₹25000 जो भी हो इतना मैं 1 दिन में कमाल का था वैसा के दिनों में इतने पैसे छोड़ कर मैं आया था कॉरपोरेट में लेकिन आज जब पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे या लाइफ अच्छी लगती है क्योंकि मैंने 1012 स्टेट में घूमना हुआ कल को बाहर जाना होगा इसलिए
देखिए मेरा एक सिद्धांत है कि मैं एक गलती एक ही बार करता हूं दूसरे शब्दों में कहें तुम्हें एक सबक एक बार में ही सीख जाता हूं चुकी आप का कहना है आपका पूछना है बल्कि की ऐसी कौन सी गलती मैंने करी जो आगे चलकर बहुत अच्छी साबित हुई तो आप जान लीजिए कि जानबूझकर ऐसी गलती कभी नहीं सकते गलती की परिभाषा ही वह नहीं है यह विधि का जरूर होता है कि आपने जल्दी करें और वह आगे जाकर काफी सलाम गीत हुआ तो अगर मैं अपने अतीत में जाकर आगे कुछ ढूंढता हूं तो बस एक ही चीज ऐसी दिखती है जिसे आप कह सकते हैं कि मैंने एक निर्णय लिया और आज मुस्लिम ने को लेकर खुश हूं पसंद बनाया था मैं बिजनेस छोड़कर प्राइवेट जॉब में आ जाओ जी एक समय था जब मैं बिहार के एक छोटे से गांव में एक दुकान चलाया करता था काफी अच्छी दुकान में भी चलती थी बस आप ऐसा सोचे कि मैं दुकान से 1 दिन में कितना कमा लेता था जितना भी प्रों ने मुझे अपनी पहली सैलरी दी थी 1 महीने में 20 ₹25000 जो भी हो इतना मैं 1 दिन में कमाल का था वैसा के दिनों में इतने पैसे छोड़ कर मैं आया था कॉरपोरेट में लेकिन आज जब पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे या लाइफ अच्छी लगती है क्योंकि मैंने 1012 स्टेट में घूमना हुआ कल को बाहर जाना होगा इसलिए
Likes  63  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

आज के जमाने का इंसान गलती करने के बाद में अपनी गलती क्यों नहीं मानता है क्यों दूसरे के ऊपर छोड़ देता है अपनी गलती ? ...

दिव्या का क्वेश्चन है कि जो आज का इंसान है वह गलती करने के बाद में भी अपनी गलती क्यों नहीं मानता है बल्कि दूसरों पर थोप देता है क्योंकि आजकल का जो इंसान है उसमें बहुत ज्यादा इगो की भावना है या फिर उसनजवाब पढ़िये
ques_icon

हम किसी को कैसे उसी की गलती बताए बिना उसको उसकी गलती का एहसास करा सकते हैं? ...

हिंदी किसी से कोई गलती हुई है और आप नहीं जानते हैं कि आप उस गलती को सीधे-सीधे बताया तो आप अलग-अलग भुजरियों से कोशिश कर सकते हैं या तो आप उस गलती से होने वाले दुष्परिणाम है वह दिन आ सकते हैं और इस तरीकजवाब पढ़िये
ques_icon

एक की गलती की सजा हम दूसरे को क्यों देते हैं जैसा कि दंगों में देखने को मिलता है ? ...

आप सही कह रहे हैं शाहनवाज जी अक्सर ऐसा दंगों में देखा जाता है गलती कोई और करता है और भोगते कोई और है दर्शन हमारे को जो पुलिस प्रशासन एक बहुत ही गलत है क्योंकि इन में मुल्ले नाम की नैतिकता नाम की कोई चजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देशों के बारे में सोचता नहीं हूं क्योंकि पहली बात तो यह जो मैं जानबूझकर कोई गलती करता नहीं हूं मैं जब भी कोई डिसीजन लेता हूं तो हमेशा सोच समझ कर लेता हूं हालांकि ऐसे बहुत सारे हमारे होते हैं जो कि गलत साबित होते हैं समय के साथ में आप जैसे आपने मालियों की जमीन जायदाद खरीदी इस उम्मीद में कि उस में बढ़ोतरी होगी और ऐश्वर्या उसके रेट कम हो गए इस चक्कर में आपने फाइनल डिसीजन लिया जो कि गलत हो गया किसी से दोस्ती करके आपने अपने हिसाब से बस्ती से कर लिया और बहुत सारे ऐसे होते हैं जो हमारे डिसीजन को सही बनाते हैं या गलत बनाते हैं हमें अपनी गलतियों से सीखना चाहिए अगर हमने कोई ऐसी गलती की है हमें ऐसा लगता है कि इसका दूसरा पहलू ज्यादा अच्छा था तो हमें सीखना चाहिए और उसे आगे बढ़ जाना चाहिए और कभी भी मैं गलतियों के बारे में सोचता नहीं हूं क्योंकि गलतियों के बारे में सोचेंगे तो हमेशा दुख को पाएंगे और आप कभी भी अपने पास को तो बदल नहीं सकते जो हो गया उसको भी आप कभी बदल नहीं सकते तो ऐसे लोगों के बारे में सोचने ऐसी चीजों के बारे में सोचने जो सिर्फ आपको तकलीफ देती है और मैं सोचता हूं कि ऐसी चीजों से हमें बचना चाहिए
Romanized Version
देशों के बारे में सोचता नहीं हूं क्योंकि पहली बात तो यह जो मैं जानबूझकर कोई गलती करता नहीं हूं मैं जब भी कोई डिसीजन लेता हूं तो हमेशा सोच समझ कर लेता हूं हालांकि ऐसे बहुत सारे हमारे होते हैं जो कि गलत साबित होते हैं समय के साथ में आप जैसे आपने मालियों की जमीन जायदाद खरीदी इस उम्मीद में कि उस में बढ़ोतरी होगी और ऐश्वर्या उसके रेट कम हो गए इस चक्कर में आपने फाइनल डिसीजन लिया जो कि गलत हो गया किसी से दोस्ती करके आपने अपने हिसाब से बस्ती से कर लिया और बहुत सारे ऐसे होते हैं जो हमारे डिसीजन को सही बनाते हैं या गलत बनाते हैं हमें अपनी गलतियों से सीखना चाहिए अगर हमने कोई ऐसी गलती की है हमें ऐसा लगता है कि इसका दूसरा पहलू ज्यादा अच्छा था तो हमें सीखना चाहिए और उसे आगे बढ़ जाना चाहिए और कभी भी मैं गलतियों के बारे में सोचता नहीं हूं क्योंकि गलतियों के बारे में सोचेंगे तो हमेशा दुख को पाएंगे और आप कभी भी अपने पास को तो बदल नहीं सकते जो हो गया उसको भी आप कभी बदल नहीं सकते तो ऐसे लोगों के बारे में सोचने ऐसी चीजों के बारे में सोचने जो सिर्फ आपको तकलीफ देती है और मैं सोचता हूं कि ऐसी चीजों से हमें बचना चाहिएDeshon Ke Bare Mein Sochta Nahi Hoon Kyonki Pehli Baat To Yeh Jo Main Janbujhkar Koi Galti Karta Nahi Hoon Main Jab Bhi Koi Decision Leta Hoon To Hamesha Soch Samajh Kar Leta Hoon Halanki Aise Bahut Sare Hamare Hote Hain Jo Ki Galat Saabit Hote Hain Samay Ke Saath Mein Aap Jaise Aapne Maliyon Ki Jameen Jaydaad Kharidi Is Ummid Mein Ki Us Mein Badhotari Hogi Aur Aishwarya Uske Rate Kam Ho Gaye Is Chakkar Mein Aapne Final Decision Liya Jo Ki Galat Ho Gaya Kisi Se Dosti Karke Aapne Apne Hisab Se Basti Se Kar Liya Aur Bahut Sare Aise Hote Hain Jo Hamare Decision Ko Sahi Banate Hain Ya Galat Banate Hain Hume Apni Galatiyon Se Sikhna Chahiye Agar Humne Koi Aisi Galti Ki Hai Hume Aisa Lagta Hai Ki Iska Doosra Pahaloo Zyada Accha Tha To Hume Sikhna Chahiye Aur Use Aage Badh Jana Chahiye Aur Kabhi Bhi Main Galatiyon Ke Bare Mein Sochta Nahi Hoon Kyonki Galatiyon Ke Bare Mein Sochenge To Hamesha Dukh Ko Payenge Aur Aap Kabhi Bhi Apne Paas Ko To Badal Nahi Sakte Jo Ho Gaya Usko Bhi Aap Kabhi Badal Nahi Sakte To Aise Logon Ke Bare Mein Sochne Aisi Chijon Ke Bare Mein Sochne Jo Sirf Aapko Takleef Deti Hai Aur Main Sochta Hoon Ki Aisi Chijon Se Hume Bachana Chahiye
Likes  23  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय फ्रेंड देखी मैंने सबसे अच्छी जो गलती की थी वह था मेरा जॉब छोड़ना मैंने 2016 में जॉब छोड़ा था उस समय मैं जॉब छोड़ कर घर आ गया था क्योंकि उस समय मेरी जुबां थी वह काफी बीमार रहती थी और उस वक्त सहारे की जरूरत थी एक मां बाप अपने बच्चों को पैदा करता है उसे पूरी उम्र जिंदगी भर उसका पालन-पोषण करता है उसे आगे बढ़ाता है और उससे और सब कुछ देता है तो एक बच्चे का भी एक जो भी है बच्चा है या बच्ची है तो उसका यह नैतिक दायित्व बन जाता है कि वह अपने मां बाप के बुरे वक्त में साथ दें यही दुआ मेरे साथ जब मैं घर पर आए तो मैंने मां को बहुत ही बीमार देखा तो मैंने यह फैसला किया कि अब मैं जॉब पर नहीं जाऊंगा और उनकी पूरी सेवा करूंगा हालांकि एक डेढ़ साल सेवा करने के बाद उनका निधन हो गया बहुत ही तकलीफ हुई उनके जाने के बाद लेकिन एक तसल्ली है कहीं ना कहीं एक तसल्ली है अगर मैं जॉब करता रह जाता तो मां की सेवा नहीं कर पाता आखिरी दिनों में उनकी जरूरत ही बन पाता उनका सहारा नहीं बन पाता जो कि मैं पूरी जिंदगी इस बात को लेकर तकलीफ में रहता और अपने आप से कभी नजर नहीं मिला सकता तो यह सारी चीजें हुई मेरी जिंदगी में तो मुझे लगता है कि वह मेरी सबसे अच्छी गलती थी आज बहुत सारी चीजें हैं जो मेरे विरुद्ध विरुद्ध है लेकिन फिर भी मैं खुश हूं क्योंकि आज मुझे यह तसल्ली है कि मैंने मां की सेवा की धन्यवाद
हाय फ्रेंड देखी मैंने सबसे अच्छी जो गलती की थी वह था मेरा जॉब छोड़ना मैंने 2016 में जॉब छोड़ा था उस समय मैं जॉब छोड़ कर घर आ गया था क्योंकि उस समय मेरी जुबां थी वह काफी बीमार रहती थी और उस वक्त सहारे की जरूरत थी एक मां बाप अपने बच्चों को पैदा करता है उसे पूरी उम्र जिंदगी भर उसका पालन-पोषण करता है उसे आगे बढ़ाता है और उससे और सब कुछ देता है तो एक बच्चे का भी एक जो भी है बच्चा है या बच्ची है तो उसका यह नैतिक दायित्व बन जाता है कि वह अपने मां बाप के बुरे वक्त में साथ दें यही दुआ मेरे साथ जब मैं घर पर आए तो मैंने मां को बहुत ही बीमार देखा तो मैंने यह फैसला किया कि अब मैं जॉब पर नहीं जाऊंगा और उनकी पूरी सेवा करूंगा हालांकि एक डेढ़ साल सेवा करने के बाद उनका निधन हो गया बहुत ही तकलीफ हुई उनके जाने के बाद लेकिन एक तसल्ली है कहीं ना कहीं एक तसल्ली है अगर मैं जॉब करता रह जाता तो मां की सेवा नहीं कर पाता आखिरी दिनों में उनकी जरूरत ही बन पाता उनका सहारा नहीं बन पाता जो कि मैं पूरी जिंदगी इस बात को लेकर तकलीफ में रहता और अपने आप से कभी नजर नहीं मिला सकता तो यह सारी चीजें हुई मेरी जिंदगी में तो मुझे लगता है कि वह मेरी सबसे अच्छी गलती थी आज बहुत सारी चीजें हैं जो मेरे विरुद्ध विरुद्ध है लेकिन फिर भी मैं खुश हूं क्योंकि आज मुझे यह तसल्ली है कि मैंने मां की सेवा की धन्यवाद
Likes  10  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aapne Jo Sabse Acchi Galti Ki Hai Wah Kya Hai,


vokalandroid