क्या राहुल गाँधी के द्वारा 72000 सालाना देने से भारत में ग़रीबी हट जायेगी? ...

500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

राहुल गाँधी ने हर गरीब को सालाना 72 हज़ार देने का वादा किया है, ये बात कहाँ तक सही है? ...

बात करें कि राहुल गांधी ने जो है वह हर गरीब को अगर सालाना ₹72000 देने का वादा किया है तू ही बात कहां तक ठीक है तू जब जब बोले कि एक्शन आते हैं तो नेता जो है वैसे ही झूठे वादे करते हैं जिनके पीछे कोई सचजवाब पढ़िये
ques_icon

प्रियंका गाँधी राहुल गाँधी और नरेंद्र मोदी में सबसे ज्यादा लोकप्रिय कौन है? ...

नबी के जितने भी जो फेस है जो नेता है मैं देखा जाए तो सबसे ज्यादा लोकप्रिय नरेंद्र मोदी है प्रियंका गांधी की बात की जाए तो प्रियंका गांधी भी काफी लोकप्रिय है और जब भी कांग्रेस पार्टी को जरूरत होती है वजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राहुल गांधी ने क्या कहा है आज के विचार करने से पहले एक बार विचार कर लीजिए 72000 पुणे रावरी ने जितने भी लोगों को अगर 50000000 10 करोड़ 25 करोड़ लोगों को यह देने की बात कही है तो आप 72000 को इतने करोड़ से अगर अपने 250000000 500000000 जो भी जनसंख्या को उन्होंने देने का वादा किया उसका * ही का अभिजीत पढ़ ले आपको समझ में आ जाएगा कि यह संभव है या नहीं बहुत सिंपल सा बात और आपको जब कोई वादा करते हैं उससे तो आपकी अपनी योजना रखनी चाहिए पैसे कहां से आएंगे किस तरह से आप किसको लोगों को तक पहुंचाएंगे और के किसी के कहने से अगर कोई जनता इतनी भोली भाली है कि संस्था की वो उसको मिल जाए तो यह गलत धारणा है वैसे भी राहुल गांधी की कोई गंभीर राजनेता नहीं और ना ही कह देश की समस्याओं के प्रति उनके पास कोई बहुत अच्छी समझ है उनको तो आज की डेट में जितने भी फीडिंग हो रही है उनको करीब 30 से 50 मैनेजमेंट के लोग या इस तरह के इंटेलेक्चुअल से उनको एडवाइज करते हैं पूरा भी करते हैं तो शायद इस लेवल पर थोड़ा बहुत बात करता है नहीं तो किसी की नहीं है कि आप कोई गंभीर विषय की उम्मीद उनसे कुछ गंभीर विषय पर कोई समाधान क्यों नहीं चेक कीजिए
राहुल गांधी ने क्या कहा है आज के विचार करने से पहले एक बार विचार कर लीजिए 72000 पुणे रावरी ने जितने भी लोगों को अगर 50000000 10 करोड़ 25 करोड़ लोगों को यह देने की बात कही है तो आप 72000 को इतने करोड़ से अगर अपने 250000000 500000000 जो भी जनसंख्या को उन्होंने देने का वादा किया उसका * ही का अभिजीत पढ़ ले आपको समझ में आ जाएगा कि यह संभव है या नहीं बहुत सिंपल सा बात और आपको जब कोई वादा करते हैं उससे तो आपकी अपनी योजना रखनी चाहिए पैसे कहां से आएंगे किस तरह से आप किसको लोगों को तक पहुंचाएंगे और के किसी के कहने से अगर कोई जनता इतनी भोली भाली है कि संस्था की वो उसको मिल जाए तो यह गलत धारणा है वैसे भी राहुल गांधी की कोई गंभीर राजनेता नहीं और ना ही कह देश की समस्याओं के प्रति उनके पास कोई बहुत अच्छी समझ है उनको तो आज की डेट में जितने भी फीडिंग हो रही है उनको करीब 30 से 50 मैनेजमेंट के लोग या इस तरह के इंटेलेक्चुअल से उनको एडवाइज करते हैं पूरा भी करते हैं तो शायद इस लेवल पर थोड़ा बहुत बात करता है नहीं तो किसी की नहीं है कि आप कोई गंभीर विषय की उम्मीद उनसे कुछ गंभीर विषय पर कोई समाधान क्यों नहीं चेक कीजिए
Likes  54  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कि राजनीतिक षड्यंत्र है इसके पहले भी काफी समय से होकर आए हैं और चले गए प्रधानमंत्री ने भी बोला था 15 लाख की तक आएंगे किला का है ना ही कुछ दूर चलते राहुल गांधी काम करने वाले नेता के चक्कर में खुद को लेकर आगे बढ़े सफलता
कि राजनीतिक षड्यंत्र है इसके पहले भी काफी समय से होकर आए हैं और चले गए प्रधानमंत्री ने भी बोला था 15 लाख की तक आएंगे किला का है ना ही कुछ दूर चलते राहुल गांधी काम करने वाले नेता के चक्कर में खुद को लेकर आगे बढ़े सफलता
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सलाना ₹72000 देने से भारत में तो गरीबी नहीं हटेगी बल्कि राहुल गांधी की खुद की गरीबी जरूर हट जाएगी प्रधानमंत्री मोदी के नोट बंदी के निर्णय के बाद अगर सबसे ज्यादा अगर कोई गरीब हुआ है तो कांग्रेस पार्टी करी हुई क्योंकि इस देश में घोटालों का साम्राज्य अगर किसी का था तो वह कांग्रेस पार्टी का था दरबारियों का नंगा तांडव अगर आर्थिक भ्रष्टाचार चलता था तो वह कांग्रेस के दरबारियों का चलता था तो इसलिए अगर सबसे ज्यादा कोई गरीब हुआ है तो वह कांग्रेस पार्टी हुई है और कांग्रेस पार्टी का मुखिया बहुत चिंतित है इस बात से आपको यह बता दें कि कर्ज माफी किसानों की कांग्रेस ने की थी उस कर्ज माफी में भी उसने भ्रष्टाचार किया सरकार की जितनी इसकी में चलाई जाती थी उन सभी स्कूलों का एक मोटा हिस्सा पिछले रास्ते से कांग्रेस के दरबारी खातों में उनके जेब को भरने में चला जाता इसलिए अगर कोई सबसे ज्यादा भी पद करीब हुआ है नोटबंदी के बाद तो वह कांग्रेस पार्टी के सबसे बड़ा संकट कांग्रेस की गरीबी दूर करने का है तो यह योजना ₹72000 प्रतिवर्ष गरीबों के खाते में देने की जो योजना है यह दरअसल 22 को अगर आप समझे तो यह उनकी अपनी खुद की गरीबी को दूर करने की योजना है यदि वह आते हैं सरकार बनाते हैं तो निश्चित रूप से कुछ ही महीनों में उनका यह आर्थिक संकट दूर हो जाएगा और एक बार फिर कांग्रेस के खातों की बल्ले-बल्ले हो जाएगी इसलिए इस गलतफहमी में कोई ना पढ़े कि ₹72000 वह गरीबों को राहुल गांधी देने जा रहे हैं वह दिवास्वप्न है जो कभी संभव नहीं हो पाएगा
सलाना ₹72000 देने से भारत में तो गरीबी नहीं हटेगी बल्कि राहुल गांधी की खुद की गरीबी जरूर हट जाएगी प्रधानमंत्री मोदी के नोट बंदी के निर्णय के बाद अगर सबसे ज्यादा अगर कोई गरीब हुआ है तो कांग्रेस पार्टी करी हुई क्योंकि इस देश में घोटालों का साम्राज्य अगर किसी का था तो वह कांग्रेस पार्टी का था दरबारियों का नंगा तांडव अगर आर्थिक भ्रष्टाचार चलता था तो वह कांग्रेस के दरबारियों का चलता था तो इसलिए अगर सबसे ज्यादा कोई गरीब हुआ है तो वह कांग्रेस पार्टी हुई है और कांग्रेस पार्टी का मुखिया बहुत चिंतित है इस बात से आपको यह बता दें कि कर्ज माफी किसानों की कांग्रेस ने की थी उस कर्ज माफी में भी उसने भ्रष्टाचार किया सरकार की जितनी इसकी में चलाई जाती थी उन सभी स्कूलों का एक मोटा हिस्सा पिछले रास्ते से कांग्रेस के दरबारी खातों में उनके जेब को भरने में चला जाता इसलिए अगर कोई सबसे ज्यादा भी पद करीब हुआ है नोटबंदी के बाद तो वह कांग्रेस पार्टी के सबसे बड़ा संकट कांग्रेस की गरीबी दूर करने का है तो यह योजना ₹72000 प्रतिवर्ष गरीबों के खाते में देने की जो योजना है यह दरअसल 22 को अगर आप समझे तो यह उनकी अपनी खुद की गरीबी को दूर करने की योजना है यदि वह आते हैं सरकार बनाते हैं तो निश्चित रूप से कुछ ही महीनों में उनका यह आर्थिक संकट दूर हो जाएगा और एक बार फिर कांग्रेस के खातों की बल्ले-बल्ले हो जाएगी इसलिए इस गलतफहमी में कोई ना पढ़े कि ₹72000 वह गरीबों को राहुल गांधी देने जा रहे हैं वह दिवास्वप्न है जो कभी संभव नहीं हो पाएगा
Likes  58  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चौधरी बी लाइन भागता है या के पेपर आने की हो जाएगी
चौधरी बी लाइन भागता है या के पेपर आने की हो जाएगी
Likes  55  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राहुल गांधी जी के द्वारा ₹72000 गरीबों को देने की योजना लागू की गई है लागू की जाएगी उससे निश्चित रूप से इस देश में गरीबी हटेगी और इसका गरीब परिवारों को संबल मिलेगा और उनको आगे बढ़ने का रास्ता वह लोग तय करेंगे जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वह गरीबी गरीबों को गरीब ही देखना चाहते हैं जहां तक बड़े उद्योगपतियों को मामला है तो वह लोग इस तरह की योजनाओं को पसंद नहीं करते कुछ लोग कहते हैं कि देश में आर्थिक संकट आ जाएगा आर्थिक शंकर तो इसलिए देश में आया के बहुत सारे देश के पैसे को लूट गए विदेशी ना चले गए उद्योगपति अंबानी जैसे लोगों को इस देश में बड़ा फायदा हुआ है इस देश में सरकार नाम की कोई चीज नहीं रही कंपनी राजस्थान में पिछले 5 साल में स्थापित हो गया है उसका देश में आर्थिक स्थिति पर भारी पड़ा है पहले भी कांग्रेस गवर्नमेंट थी तब क्यों नहीं इस तरह की परिस्थितियां पैदा हुई आज जो हालात पैदा हुए हैं वह सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की सरकार की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक स्थिति की यह स्थिति पैदा हुई है और महंगाई आसमान छू रही है इससे देश को भारी नुकसान हो रहा है राहुल गांधी योजना अच्छी है इस योजना का लाभ निश्चित रूप से लागू करना चाहिए
राहुल गांधी जी के द्वारा ₹72000 गरीबों को देने की योजना लागू की गई है लागू की जाएगी उससे निश्चित रूप से इस देश में गरीबी हटेगी और इसका गरीब परिवारों को संबल मिलेगा और उनको आगे बढ़ने का रास्ता वह लोग तय करेंगे जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वह गरीबी गरीबों को गरीब ही देखना चाहते हैं जहां तक बड़े उद्योगपतियों को मामला है तो वह लोग इस तरह की योजनाओं को पसंद नहीं करते कुछ लोग कहते हैं कि देश में आर्थिक संकट आ जाएगा आर्थिक शंकर तो इसलिए देश में आया के बहुत सारे देश के पैसे को लूट गए विदेशी ना चले गए उद्योगपति अंबानी जैसे लोगों को इस देश में बड़ा फायदा हुआ है इस देश में सरकार नाम की कोई चीज नहीं रही कंपनी राजस्थान में पिछले 5 साल में स्थापित हो गया है उसका देश में आर्थिक स्थिति पर भारी पड़ा है पहले भी कांग्रेस गवर्नमेंट थी तब क्यों नहीं इस तरह की परिस्थितियां पैदा हुई आज जो हालात पैदा हुए हैं वह सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की सरकार की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक स्थिति की यह स्थिति पैदा हुई है और महंगाई आसमान छू रही है इससे देश को भारी नुकसान हो रहा है राहुल गांधी योजना अच्छी है इस योजना का लाभ निश्चित रूप से लागू करना चाहिए
Likes  23  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह खाली जुमले होते हैं जो कि कहते हैं कि हम ₹72000 सालाना देंगे यह खाली जुमले हैं इससे कोई गरीब नहीं हट सकती इससे और अर्थव्यवस्था बिगड़ी जाएगी बिगड़ रही है इसी वजह से तो नरेंद्र इसे राहुल गांधी जी को चुरा ले गया है यह बजे हैक
यह खाली जुमले होते हैं जो कि कहते हैं कि हम ₹72000 सालाना देंगे यह खाली जुमले हैं इससे कोई गरीब नहीं हट सकती इससे और अर्थव्यवस्था बिगड़ी जाएगी बिगड़ रही है इसी वजह से तो नरेंद्र इसे राहुल गांधी जी को चुरा ले गया है यह बजे हैक
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आपका का सवाल है क्या राहुल गांधी के द्वारा समाने 72000 सालाना दी मत भारत से गरीबी अमीरी गरीबी बहुत मुश्किल कर सकती क्योंकि जब पर सरकार ₹72000 लोगों को देगी उसी हिसाब से महंगाई बढ़ेगी महंगाई नहीं बढ़ेगी तो पूछो 72000 देने वाले हैं इनकम कहां से होगी कहां से आएगा इतना पैसा कैसे 72 हजार एक आदमी को दे रही एक परिवार को दे रहे हैं इतना बड़ा जनसंख्या भारत का है कि 72000 के हिसाब से यदि देखा जाए तो कभी इतना पैसा आज नहीं सकता मन 1 साल का कमीशन इतना नहीं होता है या प्रॉफिट ही नहीं होता कि वह 724 दे सकें ऐसे में उनकी सरकार का सबसे बड़ा बेकार घटिया वादा हो गया ऐसे में गरीबी हटाने से दूर बा रूपाली बात गरीबी हटाने के लिए माने लोगों को प्रयास करना चाहिए लोगों को जागरूक किया नौकरी चाहिए गरीबी पैसा का फ्री में दे कर लो आराम से हर कोई मानिक जो कमा भी रहा है वह भी हराम कब खाएगा भारत का मानक सबसे बड़ी बहुत प्रॉब्लम होगी गरीबी हटाने के यहां पर लाचारी और बेकारी फैल जाएगी पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगा गुलामी के तहत अभी चला जाए क्योंकि 72000 दिन के बाद वहां पर पैसा तरह नहीं जाएगा यहां की हर चीज भूखमरी और सब तेरा करके बुला लेगी इसके लिए भारत पूरी तरह से मन एकदम ध्वस्त हो जाएगा ऐसे में बहुत ही मुश्किल है कि किसी को 72000 दिया जा सकता है माशाल्लाह गाना बहुत ही बेकार घटिया और बहुत ही बेकार वादा है
यह आपका का सवाल है क्या राहुल गांधी के द्वारा समाने 72000 सालाना दी मत भारत से गरीबी अमीरी गरीबी बहुत मुश्किल कर सकती क्योंकि जब पर सरकार ₹72000 लोगों को देगी उसी हिसाब से महंगाई बढ़ेगी महंगाई नहीं बढ़ेगी तो पूछो 72000 देने वाले हैं इनकम कहां से होगी कहां से आएगा इतना पैसा कैसे 72 हजार एक आदमी को दे रही एक परिवार को दे रहे हैं इतना बड़ा जनसंख्या भारत का है कि 72000 के हिसाब से यदि देखा जाए तो कभी इतना पैसा आज नहीं सकता मन 1 साल का कमीशन इतना नहीं होता है या प्रॉफिट ही नहीं होता कि वह 724 दे सकें ऐसे में उनकी सरकार का सबसे बड़ा बेकार घटिया वादा हो गया ऐसे में गरीबी हटाने से दूर बा रूपाली बात गरीबी हटाने के लिए माने लोगों को प्रयास करना चाहिए लोगों को जागरूक किया नौकरी चाहिए गरीबी पैसा का फ्री में दे कर लो आराम से हर कोई मानिक जो कमा भी रहा है वह भी हराम कब खाएगा भारत का मानक सबसे बड़ी बहुत प्रॉब्लम होगी गरीबी हटाने के यहां पर लाचारी और बेकारी फैल जाएगी पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगा गुलामी के तहत अभी चला जाए क्योंकि 72000 दिन के बाद वहां पर पैसा तरह नहीं जाएगा यहां की हर चीज भूखमरी और सब तेरा करके बुला लेगी इसके लिए भारत पूरी तरह से मन एकदम ध्वस्त हो जाएगा ऐसे में बहुत ही मुश्किल है कि किसी को 72000 दिया जा सकता है माशाल्लाह गाना बहुत ही बेकार घटिया और बहुत ही बेकार वादा है
Likes  6  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यदि व्यक्ति को ना 11 लाख 1 महीने का मिलता जाए तो भी गरीबी नहीं हटेगी ऑफिस का कारण थोड़ा दिमाग लगाइए और समझिए कि यदि हर गरीब को हर एक व्यक्ति को एक ₹100000 मिलने लगे ना तो फिर आप जो काम करते हैं जो मजदूरी करते हैं पैसे कमाने के लिए तो वह मजबूर कहां से लाएंगे अभी आप घर बनाना चाहते हैं क्योंकि सबके पास एक लाख तो वह सोचेगा कि एक लाख है सब बराबर मिल रही है मिल ही रहा है तो उसकी मांग अधिक हो जाएगी या नहीं वह पैसे की कीमत घट जाएगी जो पैसा होता है क्योंकि सबके पास जाए उतना मिल रहा है तो वह एक आम बात हो गई जैसे आप इस हिसाब से समझ लीजिए कि भगवान ने सब को धरती पर दिया सब कुछ शरीर दिया वह कुछ नहीं दिया यह आपकी पूंजी हो गई अब तो बराबर पूंजी हुई ना जब आप अब व्यक्ति अलग से काम करेगा वह क्लास में शर्म करेगा पैसे कम आयेगा तो वह उसकी अर्जित कुंजी हो गई जिससे वह खर्च करेगा अगर सबको बराबर दिया जाए तो भी उसका विकास नहीं हो सकता बात वही रहेगी
देखिए यदि व्यक्ति को ना 11 लाख 1 महीने का मिलता जाए तो भी गरीबी नहीं हटेगी ऑफिस का कारण थोड़ा दिमाग लगाइए और समझिए कि यदि हर गरीब को हर एक व्यक्ति को एक ₹100000 मिलने लगे ना तो फिर आप जो काम करते हैं जो मजदूरी करते हैं पैसे कमाने के लिए तो वह मजबूर कहां से लाएंगे अभी आप घर बनाना चाहते हैं क्योंकि सबके पास एक लाख तो वह सोचेगा कि एक लाख है सब बराबर मिल रही है मिल ही रहा है तो उसकी मांग अधिक हो जाएगी या नहीं वह पैसे की कीमत घट जाएगी जो पैसा होता है क्योंकि सबके पास जाए उतना मिल रहा है तो वह एक आम बात हो गई जैसे आप इस हिसाब से समझ लीजिए कि भगवान ने सब को धरती पर दिया सब कुछ शरीर दिया वह कुछ नहीं दिया यह आपकी पूंजी हो गई अब तो बराबर पूंजी हुई ना जब आप अब व्यक्ति अलग से काम करेगा वह क्लास में शर्म करेगा पैसे कम आयेगा तो वह उसकी अर्जित कुंजी हो गई जिससे वह खर्च करेगा अगर सबको बराबर दिया जाए तो भी उसका विकास नहीं हो सकता बात वही रहेगी
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

...
...
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या राहुल गांधी के द्वारा मात्र हजार साला ना देने से भारत में गरीबी हट जाएगी तो मुझे ऐसा लगता है कि यह तो असंभव है देखें पिछले 4 सालों में हमारे देश के ऊपर 49% से से ज्यादा कर बढ़ चुका है जो कि पिछले 50 सालों में भी इतना नहीं बड़ा था पिछले 5 सालों में बढ़ चुका है आता राधा तो बहुत कम रकम है उसका सही लेकिन ना जो हमारे अभी के जो पीएम है उन्होंने 15 लाख की रकम का आरती तो उस हिसाब से तो मुझे लगता है कि बात राधा ठीक-ठाक रकम है आम आदमी को भी हजार के आंकड़े स्टाक रखते लाख-लाख वैसे भी सुनने में ही गलत लगता है लेकिन आपका जो सवाल है कि भारत क्या भाड़ा 10000 से भारत में गरीबी हट हट जाएगी तो मुझे ऐसा लगता है कि यह कोई बात तरह दार का खेल नहीं है और ना ही इसे कुछ काम बनेगा देखिए जितना भी पिछले 4 सालों में प्रत्येक आदमी पर जितना भी कर बढ़ चुका है उससे बात तरह दार से काम नहीं चलेगा गरीबी हटाने के लिए ज्यादा से ज्यादा मजबूत प्लानिंग की जरूरत है जो कि अभी के सरकार सरकार के पास नहीं है नोटबंदी के बाद जितना काला धन वापस आना जाना चाहिए था उससे कहीं ज्यादा नोटबंदी के बाद भी बैंकों में जमा हो चुका है यह सच्चाई आपको अखबारों में नहीं दिखाई जाएगी दिखाई जाएगी तो देखिए इस रकम से तो गरीबी नहीं हटाए जा सकती ऐसा मुझे लगता है
क्या राहुल गांधी के द्वारा मात्र हजार साला ना देने से भारत में गरीबी हट जाएगी तो मुझे ऐसा लगता है कि यह तो असंभव है देखें पिछले 4 सालों में हमारे देश के ऊपर 49% से से ज्यादा कर बढ़ चुका है जो कि पिछले 50 सालों में भी इतना नहीं बड़ा था पिछले 5 सालों में बढ़ चुका है आता राधा तो बहुत कम रकम है उसका सही लेकिन ना जो हमारे अभी के जो पीएम है उन्होंने 15 लाख की रकम का आरती तो उस हिसाब से तो मुझे लगता है कि बात राधा ठीक-ठाक रकम है आम आदमी को भी हजार के आंकड़े स्टाक रखते लाख-लाख वैसे भी सुनने में ही गलत लगता है लेकिन आपका जो सवाल है कि भारत क्या भाड़ा 10000 से भारत में गरीबी हट हट जाएगी तो मुझे ऐसा लगता है कि यह कोई बात तरह दार का खेल नहीं है और ना ही इसे कुछ काम बनेगा देखिए जितना भी पिछले 4 सालों में प्रत्येक आदमी पर जितना भी कर बढ़ चुका है उससे बात तरह दार से काम नहीं चलेगा गरीबी हटाने के लिए ज्यादा से ज्यादा मजबूत प्लानिंग की जरूरत है जो कि अभी के सरकार सरकार के पास नहीं है नोटबंदी के बाद जितना काला धन वापस आना जाना चाहिए था उससे कहीं ज्यादा नोटबंदी के बाद भी बैंकों में जमा हो चुका है यह सच्चाई आपको अखबारों में नहीं दिखाई जाएगी दिखाई जाएगी तो देखिए इस रकम से तो गरीबी नहीं हटाए जा सकती ऐसा मुझे लगता है
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी 72000 देने से देश में गरीबी नहीं हट जाएगी देश में गरीबी हटाने के लिए रोजगार के संसाधन अधिक से अधिक बनाने के लिए बेहतर जान मात्र तो एक लुभावनी बात कही गई है यह अधिक से अधिक वोट बटोरने के लिए तो मुझे नहीं लगता कि बेहतर 1000 से देसी गरीबी हटेगी
देखी 72000 देने से देश में गरीबी नहीं हट जाएगी देश में गरीबी हटाने के लिए रोजगार के संसाधन अधिक से अधिक बनाने के लिए बेहतर जान मात्र तो एक लुभावनी बात कही गई है यह अधिक से अधिक वोट बटोरने के लिए तो मुझे नहीं लगता कि बेहतर 1000 से देसी गरीबी हटेगी
Likes  10  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं हट पाएगी क्योंकि हमारी जरूरत है उसी हिसाब से बढ़ जाते हैं इच्छाएं कभी खत्म नहीं होती इंसान की तू किसी के 72000 देने से गरीबी नहीं हट पाएगी जब तक आप खुद मेहनत नहीं करोगे खुद कमाओ गे नहीं खुद स्टैंड नहीं लोगे कि आप क्या कर सकते हो तो खुद मेहनत कीजिए खुद अपने लिए कम आइए थोड़ा कमाइए थोड़े में खुश रहिए जितनी चादर उतने पैर फैलाए आपकी जिंदगी अच्छी कटेगी
नहीं हट पाएगी क्योंकि हमारी जरूरत है उसी हिसाब से बढ़ जाते हैं इच्छाएं कभी खत्म नहीं होती इंसान की तू किसी के 72000 देने से गरीबी नहीं हट पाएगी जब तक आप खुद मेहनत नहीं करोगे खुद कमाओ गे नहीं खुद स्टैंड नहीं लोगे कि आप क्या कर सकते हो तो खुद मेहनत कीजिए खुद अपने लिए कम आइए थोड़ा कमाइए थोड़े में खुश रहिए जितनी चादर उतने पैर फैलाए आपकी जिंदगी अच्छी कटेगी
Likes  11  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं राहुल गांधी के द्वारा ₹72000 सालाना देने से भारत में गरीबी कभी नहीं हो सकती क्योंकि यह जो ₹72000 देंगे यह भारत के कोषागार से ही देंगे और इसकी करनी होगी क्योंकि भारत में ₹72000 सालाना देने से एक बहुत बड़ा दबाव भारत के आए पड़ेगा जिससे मुद्रास्फीति दर बढ़ जाएगी और यह वर्तमान परिवेश के हिसाब से उचित नहीं होगा
जी नहीं राहुल गांधी के द्वारा ₹72000 सालाना देने से भारत में गरीबी कभी नहीं हो सकती क्योंकि यह जो ₹72000 देंगे यह भारत के कोषागार से ही देंगे और इसकी करनी होगी क्योंकि भारत में ₹72000 सालाना देने से एक बहुत बड़ा दबाव भारत के आए पड़ेगा जिससे मुद्रास्फीति दर बढ़ जाएगी और यह वर्तमान परिवेश के हिसाब से उचित नहीं होगा
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे अगर हर परिवार को ₹72000 गरीब परिवार को मिले तो यह कोई कम बात नहीं है अब रही बात बहुत तैयारी एक परिवार के लिए आए कहां से इसके राज और किसी ने किसी घोटाले कर रहा होगा या फिर पहले से घोटाले किए गए होंगे आप इस बात पर ध्यान रखिएगा ध्यान रहे आपका कीमती वोट मोदी को दीजिए क्योंकि और सारे सब चोर हैं
लिखे अगर हर परिवार को ₹72000 गरीब परिवार को मिले तो यह कोई कम बात नहीं है अब रही बात बहुत तैयारी एक परिवार के लिए आए कहां से इसके राज और किसी ने किसी घोटाले कर रहा होगा या फिर पहले से घोटाले किए गए होंगे आप इस बात पर ध्यान रखिएगा ध्यान रहे आपका कीमती वोट मोदी को दीजिए क्योंकि और सारे सब चोर हैं
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

और करें भी आ जाएगी क्योंकि सभी लोग उसी पर लेकर आ जाइए कोई काम या पढ़ाई लिखाई नहीं करें
और करें भी आ जाएगी क्योंकि सभी लोग उसी पर लेकर आ जाइए कोई काम या पढ़ाई लिखाई नहीं करें
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए 72000 सालाना देने से गरीबी दूर नहीं हो सकती है हमें इसके मूल कारणों को जानना होगा और मूल कारणों पर काम करना होगा यह तो दिल को पकड़ने के लिए जनसंख्या को पकड़ने के लिए हर एक परिवार का हर एक व्यक्ति पकड़ जाए बोर्ड बन जाए बोर्ड बनाने के लिए यह नीति है वास्तविक में यह देश की तरक्की का कोई नीति नहीं है रीजन में जानना होगा किन कारणों से हम गरीब है हमारी उपज कम होती है खेती करने की संसाधनों को गवर्नमेंट को अच्छी तरीके से उस पर ध्यान देना चोर काम करना चाहिए दूसरी चीज शिक्षा पर मटकी प्रगति से काम होना चाहिए जैसा कि ग्रामीण अंचल की छुट्टी स्कूल है वहां पर शिक्षा का स्तर एकदम नहीं ठीक है वह सही होना चाहिए तीसरी बार सबसे बड़ी बात जनसंख्या वृद्धि पर रोक लगनी चाहिए कानून बनना चाहिए तो यह कांग्रेस या अन्य कोई दल इन सब अच्छे मुद्दों पर जो देश हित के लिए लाखों साल तक जो देश के लिए हितकर फैसले हैं उस पर उनकी हिम्मत नहीं आती है रीजन की विपक्षी दल किसी भी एक इशू बना लेगा अरुण ऊपर आकर चक्का जाम करेगा और जो सरकार इस पर कदम उठाएगी उसका विरोध करेगा तोशी क्या होगा वह सरकार गिर जाएगी अपनी सरकार बचाने के लिए यह लोग ऐसे फैसले नहीं लेते धन्यवाद
देखिए 72000 सालाना देने से गरीबी दूर नहीं हो सकती है हमें इसके मूल कारणों को जानना होगा और मूल कारणों पर काम करना होगा यह तो दिल को पकड़ने के लिए जनसंख्या को पकड़ने के लिए हर एक परिवार का हर एक व्यक्ति पकड़ जाए बोर्ड बन जाए बोर्ड बनाने के लिए यह नीति है वास्तविक में यह देश की तरक्की का कोई नीति नहीं है रीजन में जानना होगा किन कारणों से हम गरीब है हमारी उपज कम होती है खेती करने की संसाधनों को गवर्नमेंट को अच्छी तरीके से उस पर ध्यान देना चोर काम करना चाहिए दूसरी चीज शिक्षा पर मटकी प्रगति से काम होना चाहिए जैसा कि ग्रामीण अंचल की छुट्टी स्कूल है वहां पर शिक्षा का स्तर एकदम नहीं ठीक है वह सही होना चाहिए तीसरी बार सबसे बड़ी बात जनसंख्या वृद्धि पर रोक लगनी चाहिए कानून बनना चाहिए तो यह कांग्रेस या अन्य कोई दल इन सब अच्छे मुद्दों पर जो देश हित के लिए लाखों साल तक जो देश के लिए हितकर फैसले हैं उस पर उनकी हिम्मत नहीं आती है रीजन की विपक्षी दल किसी भी एक इशू बना लेगा अरुण ऊपर आकर चक्का जाम करेगा और जो सरकार इस पर कदम उठाएगी उसका विरोध करेगा तोशी क्या होगा वह सरकार गिर जाएगी अपनी सरकार बचाने के लिए यह लोग ऐसे फैसले नहीं लेते धन्यवाद
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए बोलना बहुत आसान है करना बहुत कठिन है राहुल गांधी जी तो 72 करोड़ की भी बात कर देंगे क्योंकि उन्हें पता है कि चुनाव हार गई हार रही है कांग्रेस पार्टी तो पातर हजार कर दे देंगे तो क्या बात पर 1000 से मारा पूरे जीवन चलेगा बहुत ऐसे परिवार हैं उनको आप रोजगार दीजिए आप कुछ इंडस्ट्रीज लगाइए कुछ कार्य करिए जिससे रोजगार प्राप्त हो अब बात पर जोर देने की बात करते हैं इकोनॉमिकल कंडीशन पर क्या असर पड़ेगा उसका आज जो 5 सालों में हमारे देश की स्थिति अच्छी हुई है फिर से वो स्थिति खराब हो जाएगी तू दिखे कांग्रेस पार्टी को सत्ता में 2050 तक नहीं आने वाली है अभी थोड़े की जरूरत नहीं है चाहे 72000 की बात करें 472 करूंगा कि बात करें इनको बात करने दीजिए हमें तो अपना वोट कमल के फूल पर करना है देखे चुनाव का चुनाव चल रहा है पूरे देश में हम सभी लोगों से निवेदन करना चाहते हैं आप अपना वोट बिना भरनी भारतीय जनता पार्टी को करिए और देश का देश के विकास में अपना एक छोटा सा महत्वपूर्ण योगदान दीजिए धन्यवाद
देखिए बोलना बहुत आसान है करना बहुत कठिन है राहुल गांधी जी तो 72 करोड़ की भी बात कर देंगे क्योंकि उन्हें पता है कि चुनाव हार गई हार रही है कांग्रेस पार्टी तो पातर हजार कर दे देंगे तो क्या बात पर 1000 से मारा पूरे जीवन चलेगा बहुत ऐसे परिवार हैं उनको आप रोजगार दीजिए आप कुछ इंडस्ट्रीज लगाइए कुछ कार्य करिए जिससे रोजगार प्राप्त हो अब बात पर जोर देने की बात करते हैं इकोनॉमिकल कंडीशन पर क्या असर पड़ेगा उसका आज जो 5 सालों में हमारे देश की स्थिति अच्छी हुई है फिर से वो स्थिति खराब हो जाएगी तू दिखे कांग्रेस पार्टी को सत्ता में 2050 तक नहीं आने वाली है अभी थोड़े की जरूरत नहीं है चाहे 72000 की बात करें 472 करूंगा कि बात करें इनको बात करने दीजिए हमें तो अपना वोट कमल के फूल पर करना है देखे चुनाव का चुनाव चल रहा है पूरे देश में हम सभी लोगों से निवेदन करना चाहते हैं आप अपना वोट बिना भरनी भारतीय जनता पार्टी को करिए और देश का देश के विकास में अपना एक छोटा सा महत्वपूर्ण योगदान दीजिए धन्यवाद
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राहुल गांधी के द्वारा 72 हजार साला ना देने पर भारत की गरीबी हटेगी या नहीं यह तो मैं नहीं कह सकता कि द्वारा 72000 सालाना देखना राहुल गांधी खुद गरीब हो जाएंगे आने के लाले पड़ जाएंगे उनको
राहुल गांधी के द्वारा 72 हजार साला ना देने पर भारत की गरीबी हटेगी या नहीं यह तो मैं नहीं कह सकता कि द्वारा 72000 सालाना देखना राहुल गांधी खुद गरीब हो जाएंगे आने के लाले पड़ जाएंगे उनको
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन इस बात से सहमत नहीं हूं कि की बात पर चढ़कर लाख रुपए भी देने पर गरीबी नहीं है ठीक है क्योंकि इसका मेन कारण क्या आप मुझे पहचानते हैं इसके अलावा उसे रोजगार मिल जाएगा तो उससे कह कि उसे वह तीन टाइम खाना खा सकते हैं वह 10 टाइम तो खाना तो खा सकते हैं पर इससे बात ततारी अलार्म भी देने पर है ना वह कम से कम साल भर थोड़ी ना पाएंगे पहले से बेटर है कि उसे रोजगार की फैसिलिटी देना चाहिए कि कि वह 72 हजार के नोकरी पर भेज दीजिएगा वह खत्म हुई देखना एक दिन खत्म हो जाएगा लेकिन रोजगार मिलता है तो वह अपने परिवार का सेवन कर सकते हैं
लेकिन इस बात से सहमत नहीं हूं कि की बात पर चढ़कर लाख रुपए भी देने पर गरीबी नहीं है ठीक है क्योंकि इसका मेन कारण क्या आप मुझे पहचानते हैं इसके अलावा उसे रोजगार मिल जाएगा तो उससे कह कि उसे वह तीन टाइम खाना खा सकते हैं वह 10 टाइम तो खाना तो खा सकते हैं पर इससे बात ततारी अलार्म भी देने पर है ना वह कम से कम साल भर थोड़ी ना पाएंगे पहले से बेटर है कि उसे रोजगार की फैसिलिटी देना चाहिए कि कि वह 72 हजार के नोकरी पर भेज दीजिएगा वह खत्म हुई देखना एक दिन खत्म हो जाएगा लेकिन रोजगार मिलता है तो वह अपने परिवार का सेवन कर सकते हैं
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं हो पाएगी ₹72000 सालाना यानी ₹6000 महीने तो आजकल इतनी महंगाई के जमाने में ₹6000 में होता क्या अगर व्यक्ति किराए से रहता है तो 4:00 ₹5000 तो किराए की लग जाए इसमें गरीब को रोजगार 9:00 चाहिए ताकि लोग आगे बढ़ सके और हमारा देश तरक्की कर सकें
नहीं हो पाएगी ₹72000 सालाना यानी ₹6000 महीने तो आजकल इतनी महंगाई के जमाने में ₹6000 में होता क्या अगर व्यक्ति किराए से रहता है तो 4:00 ₹5000 तो किराए की लग जाए इसमें गरीब को रोजगार 9:00 चाहिए ताकि लोग आगे बढ़ सके और हमारा देश तरक्की कर सकें
Likes  14  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:72000 Rupee Salana Dene Se Kya Garibi Hut Jegi,72000 Rupees Annually Will Give Up The Poverty?,


vokalandroid