आपके अनुसार ऐसी कौन सी चीज़ ़ें हैं जो हमारे समाज द्वारा स्वीकारित होनी चाहिएँ पर होती नहीं हैं? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सारी चीजें सीखने के बारे में मेरे माथे दुखे पीने दो अगर मैं तो तू कि हमारे समाज में तो हम बात करते हैं तो 1 आदमी लड़कियों को यह समझा जाता है कि पराई होती है और शादी करने के बाद भी हमारे साथ में लड़की को पढ़ाई मानेंगे हम किसी और क्यों को बताइए वह उनका कैसे बनाते हैं
Romanized Version
बहुत सारी चीजें सीखने के बारे में मेरे माथे दुखे पीने दो अगर मैं तो तू कि हमारे समाज में तो हम बात करते हैं तो 1 आदमी लड़कियों को यह समझा जाता है कि पराई होती है और शादी करने के बाद भी हमारे साथ में लड़की को पढ़ाई मानेंगे हम किसी और क्यों को बताइए वह उनका कैसे बनाते हैंBahut Saree Cheezen Seekhne Ke Bare Mein Mere Mathe Dukhe Peene Do Agar Main Toh Tu Ki Hamare Samaaj Mein Toh Hum Baat Karte Hain Toh 1 Aadmi Ladkiyon Ko Yeh Samjha Jata Hai Ki Parai Hoti Hai Aur Shadi Karne Ke Baad Bhi Hamare Saath Mein Ladki Ko Padhai Manenge Hum Kisi Aur Kyon Ko Bataiye Wah Unka Kaise Banate Hain
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

आपके हिसाब से और कौन सी ऐसी हंसती है जिनको बेस्ट शिक्षक का सम्मान मिलना चाहिए? ...

देखिए ऐसी कोई भी हस्ती नहीं है जिसको टीचर का सम्मान मिलना चाहिए क्योंकि देखे हमें जो है टीचर जो होता है वह सिखाता है एक चीज को यानी कि कि कैसे कोई चीज की जाए और मार्गदर्शक अलग होता है वह बस हमें बताताजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे अनुसार जो एक चीज हमारे समाज द्वारा स्वीकार्य होनी चाहिए वह सिर्फ यही है कि हम एक दूसरे को जैसा है वैसा ही स्वीकार करें हम लोगों को बदलने की कोशिश ना करें हम अपने आप को श्रेष्ठ या उच्च या ज्यादा योग्य समझने की भूल ना करें समाज के समाज को लोगों के प्रति जजमेंटल नहीं होना चाहिए जब हम एक दूसरे की आलोचना करते हैं ना तो हम एक दूसरे को खुद से अलग करते हैं कर देते हैं पर हैं तो हम एक ही परमात्मा की संतान हर किसी में कुछ ना कुछ तो श्रेष्ठ है दो दिल एक जैसे थोड़ी ना धड़कते हैं एकदम पर थोड़ी ना धड़कते हैं तो एक्स जजमेंटल सोसायटी है ना वह कभी भी ज्यादा तरक्की नहीं कर सकती
Romanized Version
मेरे अनुसार जो एक चीज हमारे समाज द्वारा स्वीकार्य होनी चाहिए वह सिर्फ यही है कि हम एक दूसरे को जैसा है वैसा ही स्वीकार करें हम लोगों को बदलने की कोशिश ना करें हम अपने आप को श्रेष्ठ या उच्च या ज्यादा योग्य समझने की भूल ना करें समाज के समाज को लोगों के प्रति जजमेंटल नहीं होना चाहिए जब हम एक दूसरे की आलोचना करते हैं ना तो हम एक दूसरे को खुद से अलग करते हैं कर देते हैं पर हैं तो हम एक ही परमात्मा की संतान हर किसी में कुछ ना कुछ तो श्रेष्ठ है दो दिल एक जैसे थोड़ी ना धड़कते हैं एकदम पर थोड़ी ना धड़कते हैं तो एक्स जजमेंटल सोसायटी है ना वह कभी भी ज्यादा तरक्की नहीं कर सकतीMere Anusar Jo Ek Cheez Hamare Samaaj Dwara Svikarya Honi Chahiye Wah Sirf Yahi Hai Ki Hum Ek Dusre Ko Jaisa Hai Waisa Hi Sweekar Karen Hum Logon Ko Badalne Ki Koshish Na Karen Hum Apne Aap Ko Shreshtha Ya Uccha Ya Zyada Yogya Samjhne Ki Bhul Na Karen Samaaj Ke Samaaj Ko Logon Ke Prati Jajamental Nahi Hona Chahiye Jab Hum Ek Dusre Ki Aalochana Karte Hain Na To Hum Ek Dusre Ko Khud Se Alag Karte Hain Kar Dete Hain Par Hain To Hum Ek Hi Paramatma Ki Santan Har Kisi Mein Kuch Na Kuch To Shreshtha Hai Do Dil Ek Jaise Thodi Na Dhadkate Hain Ekdam Par Thodi Na Dhadkate Hain To X Jajamental Sociaty Hai Na Wah Kabhi Bhi Zyada Tarakki Nahi Kar Sakti
Likes  12  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे अनुसार समाज में सबसे ज्यादा स्वीकृत होनी चाहिए जो चीज पर है नहीं वह यह है कि यहां हमारे समाज में बच्चों को वैल्यू नहीं दी जाती है मतलब हम बच्चों को पिंपल करने के लिए वैल्यू देते हैं कि हम उसकी केयर करते हैं उसको चीजें दिलाते हैं लेकिन हम यह स्पेस नहीं देते बच्चे को कि वह भी एक अलग आईडेंटिटी है उसकी भी अपनी वैल्यू है उसकी अपनी फीलिंग है उसके जीने का अलग मकसद है और हम उसको अपने आप से कनेक्ट करके रखते हैं ऐसा मैंने हर घर में देखा है तो मुझे ऐसा लगता है कि समाज में यह चीज और यह चीज आ सकती है अवैध नसे अगर हम एक दूसरे के साथ इस बात को डिस्कस करें शेयर करें कि जब हमारे घर में एक बच्चा आता है तो हम उसको किस चीज से ना जोड़ें कि यह मेरा बेटा है तो यह वह करेगा जो मुझे पसंद होगा मैंने उसको पैदा किया है लेकिन मैं उसकी मालिक नहीं हूं उसका इस धरती पर आने का जरिया में हूं लेकिन वह धरती पर आया है तो वह एक अलग आईडेंटिटी है वह अपनी खुद की पहचान लेकर आया है तो हमें उसको उसकी पहचान के साथ पढ़ने देना चाहिए ऐसा मैं सोचती हूं अगर सारे पेरेंट्स इस बात को समझे तो हमारे समाज में बहुत सारे बदलाव आ जाएंगे और यह सब लोग बहुत खुशी से रह सकेंगे और बच्चों को काफी हद तक काफी सारी चीजों में फ्रीडम मिलेगी उनकी अपनी इच्छा पूरी करने के लिए
Romanized Version
मेरे अनुसार समाज में सबसे ज्यादा स्वीकृत होनी चाहिए जो चीज पर है नहीं वह यह है कि यहां हमारे समाज में बच्चों को वैल्यू नहीं दी जाती है मतलब हम बच्चों को पिंपल करने के लिए वैल्यू देते हैं कि हम उसकी केयर करते हैं उसको चीजें दिलाते हैं लेकिन हम यह स्पेस नहीं देते बच्चे को कि वह भी एक अलग आईडेंटिटी है उसकी भी अपनी वैल्यू है उसकी अपनी फीलिंग है उसके जीने का अलग मकसद है और हम उसको अपने आप से कनेक्ट करके रखते हैं ऐसा मैंने हर घर में देखा है तो मुझे ऐसा लगता है कि समाज में यह चीज और यह चीज आ सकती है अवैध नसे अगर हम एक दूसरे के साथ इस बात को डिस्कस करें शेयर करें कि जब हमारे घर में एक बच्चा आता है तो हम उसको किस चीज से ना जोड़ें कि यह मेरा बेटा है तो यह वह करेगा जो मुझे पसंद होगा मैंने उसको पैदा किया है लेकिन मैं उसकी मालिक नहीं हूं उसका इस धरती पर आने का जरिया में हूं लेकिन वह धरती पर आया है तो वह एक अलग आईडेंटिटी है वह अपनी खुद की पहचान लेकर आया है तो हमें उसको उसकी पहचान के साथ पढ़ने देना चाहिए ऐसा मैं सोचती हूं अगर सारे पेरेंट्स इस बात को समझे तो हमारे समाज में बहुत सारे बदलाव आ जाएंगे और यह सब लोग बहुत खुशी से रह सकेंगे और बच्चों को काफी हद तक काफी सारी चीजों में फ्रीडम मिलेगी उनकी अपनी इच्छा पूरी करने के लिएMere Anusar Samaaj Mein Sabse Zyada Sawikrit Honi Chahiye Jo Cheez Par Hai Nahi Wah Yeh Hai Ki Yahan Hamare Samaaj Mein Bacchon Ko Value Nahi Di Jati Hai Matlab Hum Bacchon Ko Pimple Karne Ke Liye Value Dete Hain Ki Hum Uski Care Karte Hain Usko Cheezen Dilate Hain Lekin Hum Yeh Space Nahi Dete Bacche Ko Ki Wah Bhi Ek Alag Aidentiti Hai Uski Bhi Apni Value Hai Uski Apni Feeling Hai Uske Jeene Ka Alag Maksad Hai Aur Hum Usko Apne Aap Se Connect Karke Rakhate Hain Aisa Maine Har Ghar Mein Dekha Hai To Mujhe Aisa Lagta Hai Ki Samaaj Mein Yeh Cheez Aur Yeh Cheez Aa Sakti Hai Awaidh Nase Agar Hum Ek Dusre Ke Saath Is Baat Ko Discuss Karen Share Karen Ki Jab Hamare Ghar Mein Ek Baccha Aata Hai To Hum Usko Kis Cheez Se Na Joden Ki Yeh Mera Beta Hai To Yeh Wah Karega Jo Mujhe Pasand Hoga Maine Usko Paida Kiya Hai Lekin Main Uski Malik Nahi Hoon Uska Is Dharti Par Aane Ka Jariya Mein Hoon Lekin Wah Dharti Par Aaya Hai To Wah Ek Alag Aidentiti Hai Wah Apni Khud Ki Pehchaan Lekar Aaya Hai To Hume Usko Uski Pehchaan Ke Saath Padhne Dena Chahiye Aisa Main Sochti Hoon Agar Sare Parents Is Baat Ko Samjhe To Hamare Samaaj Mein Bahut Sare Badlav Aa Jaenge Aur Yeh Sab Log Bahut Khushi Se Rah Sakenge Aur Bacchon Ko Kafi Had Tak Kafi Saree Chijon Mein Freedom Milegi Unki Apni Icha Puri Karne Ke Liye
Likes  59  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जिस दिन किसी भी देश के नागरिक अगर अपना अपनी की भावना भूल जाएंगे उस दिन वह देश दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश होगा हमारे देश में या किसी भी देश में लोगों के अंदर अपना अपनी की भावना होती है लोग अपने बच्चे को अपना बच्चा मानते हैं लोग जब अपने बेटे बेटी या अपने माता पिता को दर्द होता है तूने बहुत दर्द होता है लेकिन जब दूसरे को दर्द होता है दूसरा गरीब इंसान है उसे दर्द होता है या वह कुछ कठिन परिश्रम करता है उसकी परेशानी को देखकर किसी को दर्द नहीं होता है देखिए जिंदगी जब हम लोग ट्रैवल करते हैं कहीं भी तो बहुत सारी चीजें देखने को मिलती है कभी-कभी कोई लड़का किसी लड़की को कमेंट करता है तो हम लोग चुपचाप अपने रास्ते से निकल जाते हैं हम लोग कुछ नहीं बोलते हैं वहां पर हमें बोलना चाहिए उसकी लड़ाई लड़नी चाहिए हो सकता है उस टाइम अगर हमारे घर का कोई हो तो हम लोग लड़ जाए मरने के लिए तैयार हो जाएंगे मारने के लिए तैयार हो जाएंगे लेकिन समाज में ऐसा नहीं होता है देखिए किसी के साथ गलत हो सकता है ऐसा नहीं है कभी कुछ भी हो सकता है यह समय आता जाता रहता है धूप छांव में सा आता जाता रहता है जीवन में इसलिए समाज को एक दूसरे के लिए भी लड़ना पड़ेगा तभी जाकर समाज का विकास होगा और अपनों से ज्यादा दूसरों से प्यार करना होगा दूसरों की भावनाओं को समझना होगा दूसरों के दुख दर्द को समझना होगा तभी हमारा देश आगे बढ़ेगा धन्यवाद
Romanized Version
देखिए जिस दिन किसी भी देश के नागरिक अगर अपना अपनी की भावना भूल जाएंगे उस दिन वह देश दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश होगा हमारे देश में या किसी भी देश में लोगों के अंदर अपना अपनी की भावना होती है लोग अपने बच्चे को अपना बच्चा मानते हैं लोग जब अपने बेटे बेटी या अपने माता पिता को दर्द होता है तूने बहुत दर्द होता है लेकिन जब दूसरे को दर्द होता है दूसरा गरीब इंसान है उसे दर्द होता है या वह कुछ कठिन परिश्रम करता है उसकी परेशानी को देखकर किसी को दर्द नहीं होता है देखिए जिंदगी जब हम लोग ट्रैवल करते हैं कहीं भी तो बहुत सारी चीजें देखने को मिलती है कभी-कभी कोई लड़का किसी लड़की को कमेंट करता है तो हम लोग चुपचाप अपने रास्ते से निकल जाते हैं हम लोग कुछ नहीं बोलते हैं वहां पर हमें बोलना चाहिए उसकी लड़ाई लड़नी चाहिए हो सकता है उस टाइम अगर हमारे घर का कोई हो तो हम लोग लड़ जाए मरने के लिए तैयार हो जाएंगे मारने के लिए तैयार हो जाएंगे लेकिन समाज में ऐसा नहीं होता है देखिए किसी के साथ गलत हो सकता है ऐसा नहीं है कभी कुछ भी हो सकता है यह समय आता जाता रहता है धूप छांव में सा आता जाता रहता है जीवन में इसलिए समाज को एक दूसरे के लिए भी लड़ना पड़ेगा तभी जाकर समाज का विकास होगा और अपनों से ज्यादा दूसरों से प्यार करना होगा दूसरों की भावनाओं को समझना होगा दूसरों के दुख दर्द को समझना होगा तभी हमारा देश आगे बढ़ेगा धन्यवादDekhie Jis Din Kisi Bhi Desh Ke Nagarik Agar Apna Apni Ki Bhavna Bhul Jaenge Us Din Wah Desh Duniya Ka Sabse Shaktishaali Desh Hoga Hamare Desh Mein Ya Kisi Bhi Desh Mein Logon Ke Andar Apna Apni Ki Bhavna Hoti Hai Log Apne Bacche Ko Apna Baccha Manate Hain Log Jab Apne Bete Beti Ya Apne Mata Pita Ko Dard Hota Hai Tune Bahut Dard Hota Hai Lekin Jab Dusre Ko Dard Hota Hai Doosra Garib Insaan Hai Use Dard Hota Hai Ya Wah Kuch Kathin Parishram Karta Hai Uski Pareshani Ko Dekhkar Kisi Ko Dard Nahi Hota Hai Dekhie Zindagi Jab Hum Log Treval Karte Hain Kahin Bhi To Bahut Saree Cheezen Dekhne Ko Milti Hai Kabhi Kabhi Koi Ladka Kisi Ladki Ko Comment Karta Hai To Hum Log Chupchap Apne Raste Se Nikal Jaate Hain Hum Log Kuch Nahi Bolte Hain Wahan Par Hume Bolna Chahiye Uski Ladai Ladani Chahiye Ho Sakta Hai Us Time Agar Hamare Ghar Ka Koi Ho To Hum Log Lad Jaye Marne Ke Liye Taiyaar Ho Jaenge Maarne Ke Liye Taiyaar Ho Jaenge Lekin Samaaj Mein Aisa Nahi Hota Hai Dekhie Kisi Ke Saath Galat Ho Sakta Hai Aisa Nahi Hai Kabhi Kuch Bhi Ho Sakta Hai Yeh Samay Aata Jata Rehta Hai Dhoop Chhanv Mein Sa Aata Jata Rehta Hai Jeevan Mein Isliye Samaaj Ko Ek Dusre Ke Liye Bhi Ladana Padega Tabhi Jaakar Samaaj Ka Vikash Hoga Aur Apnon Se Zyada Dusron Se Pyar Karna Hoga Dusron Ki Bhavnao Ko Samajhna Hoga Dusron Ke Dukh Dard Ko Samajhna Hoga Tabhi Hamara Desh Aage Badhega Dhanyavad
Likes  7  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दी कि अगर मैं 2 मिनट के अंदर ही आंसर बताने की कोशिश करो यह इंपॉसिबल भारत में ऐसी बहुत सारी समस्याएं हैं या बहुत ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में डिस्कस करना होता है और भारत में जो है कुछ चीज से कैसे कारी बिल्कुल नहीं है पहली बात तो यह कि हमारे घर में शिकायत नहीं क्या गर्म कोई और को करियर चॉइस अपना करेजा से अगर हमने डॉक्टरी नहीं किया इंजीनियरिंग किया जो है मेन लाइन में नहीं गए और अपना अपना कुछ क्रिएटिव करने की कोशिश की तो जो है समाज हमारे ऊपर खड़ा करता है कहता है कि आज की बस तो बस की तो बात नहीं की तो शादी करवा दो तो यह सारे जो पर्सपेक्टिव है समाज के कई बड़े बुरे हैं अगर कोई दूसरी खेलना चाहता है या म्यूजिक बनाना चाहता है उसके लिए तो कर रहा बहुत ज्यादा कठिन हो जाती है तो यह मानसिकता तो बिल्कुल चेंज होने से फोन किया जिससे प्यार करते हैं अब सोच लीजिए कि वो इंसान किसी और धन के इंसान से प्यार करने लगा है तो फिर उसको उसको गलत नजर से देखेगी और पार्टी करेगी उसके बारे में जो कि काफी ज्यादा प्रॉब्लम क्रिएट कर देते हम सबके लाइफ में यह कोई हो ऐसा जो सेंसेक्स का हुसैन जेंडर कहो और मैं प्यार का जो संबंध है वह होने लगे फिर समाज को है तकलीफ बन जाती है इससे समाज को बहुत ज्यादा तकलीफ है भारत में ऑडियो बाहर की कंट्री में बहुत कम देखा गया कि समाज के अपने काम तो होता नहीं है उनको सिर्फ काम होता है दूसरों पर दूसरों पर जो है उंगली खड़ी करना होम को जो है कंफर्टेबल अनकंफरटेबल बना देना ऐसी चीजें बिल्कुल है और जैसे आधार पर हम जो लड़ने लगते हैं छोटी-छोटी चीजों पर जो हम लगा देते हैं लेकिन दोस्तों है हमारा खुद का होता है के बारे में बहुत बोलना चाहूंगी और स्वीकार्य होनी चाहिए लेकिन नहीं होती
Romanized Version
दी कि अगर मैं 2 मिनट के अंदर ही आंसर बताने की कोशिश करो यह इंपॉसिबल भारत में ऐसी बहुत सारी समस्याएं हैं या बहुत ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में डिस्कस करना होता है और भारत में जो है कुछ चीज से कैसे कारी बिल्कुल नहीं है पहली बात तो यह कि हमारे घर में शिकायत नहीं क्या गर्म कोई और को करियर चॉइस अपना करेजा से अगर हमने डॉक्टरी नहीं किया इंजीनियरिंग किया जो है मेन लाइन में नहीं गए और अपना अपना कुछ क्रिएटिव करने की कोशिश की तो जो है समाज हमारे ऊपर खड़ा करता है कहता है कि आज की बस तो बस की तो बात नहीं की तो शादी करवा दो तो यह सारे जो पर्सपेक्टिव है समाज के कई बड़े बुरे हैं अगर कोई दूसरी खेलना चाहता है या म्यूजिक बनाना चाहता है उसके लिए तो कर रहा बहुत ज्यादा कठिन हो जाती है तो यह मानसिकता तो बिल्कुल चेंज होने से फोन किया जिससे प्यार करते हैं अब सोच लीजिए कि वो इंसान किसी और धन के इंसान से प्यार करने लगा है तो फिर उसको उसको गलत नजर से देखेगी और पार्टी करेगी उसके बारे में जो कि काफी ज्यादा प्रॉब्लम क्रिएट कर देते हम सबके लाइफ में यह कोई हो ऐसा जो सेंसेक्स का हुसैन जेंडर कहो और मैं प्यार का जो संबंध है वह होने लगे फिर समाज को है तकलीफ बन जाती है इससे समाज को बहुत ज्यादा तकलीफ है भारत में ऑडियो बाहर की कंट्री में बहुत कम देखा गया कि समाज के अपने काम तो होता नहीं है उनको सिर्फ काम होता है दूसरों पर दूसरों पर जो है उंगली खड़ी करना होम को जो है कंफर्टेबल अनकंफरटेबल बना देना ऐसी चीजें बिल्कुल है और जैसे आधार पर हम जो लड़ने लगते हैं छोटी-छोटी चीजों पर जो हम लगा देते हैं लेकिन दोस्तों है हमारा खुद का होता है के बारे में बहुत बोलना चाहूंगी और स्वीकार्य होनी चाहिए लेकिन नहीं होतीDi Ki Agar Main 2 Minute Ke Andar Hi Answer Batane Ki Koshish Karo Yeh Impossible Bharat Mein Aisi Bahut Saree Samasyaen Hain Ya Bahut Aisi Cheezen Hain Jinke Bare Mein Discuss Karna Hota Hai Aur Bharat Mein Jo Hai Kuch Cheez Se Kaise Kaari Bilkul Nahi Hai Pehli Baat To Yeh Ki Hamare Ghar Mein Shikayat Nahi Kya Garam Koi Aur Ko Career Choice Apna Kareja Se Agar Humne Doktaree Nahi Kiya Engineering Kiya Jo Hai Main Line Mein Nahi Gaye Aur Apna Apna Kuch Creative Karne Ki Koshish Ki To Jo Hai Samaaj Hamare Upar Khada Karta Hai Kahata Hai Ki Aaj Ki Bus To Bus Ki To Baat Nahi Ki To Shadi Karava Do To Yeh Sare Jo Parsapektiv Hai Samaaj Ke Kai Bade Bure Hain Agar Koi Dusri Khelna Chahta Hai Ya Music Banana Chahta Hai Uske Liye To Kar Raha Bahut Zyada Kathin Ho Jati Hai To Yeh Mansikta To Bilkul Change Hone Se Phone Kiya Jisse Pyar Karte Hain Ab Soch Lijiye Ki Vo Insaan Kisi Aur Dhan Ke Insaan Se Pyar Karne Laga Hai To Phir Usko Usko Galat Nazar Se Dekhenge Aur Party Karegi Uske Bare Mein Jo Ki Kafi Zyada Problem Create Kar Dete Hum Sabke Life Mein Yeh Koi Ho Aisa Jo Sensex Ka Hussain Gender Kaho Aur Main Pyar Ka Jo Sambandh Hai Wah Hone Lage Phir Samaaj Ko Hai Takleef Ban Jati Hai Isse Samaaj Ko Bahut Zyada Takleef Hai Bharat Mein Audio Bahar Ki Country Mein Bahut Kam Dekha Gaya Ki Samaaj Ke Apne Kaam To Hota Nahi Hai Unko Sirf Kaam Hota Hai Dusron Par Dusron Par Jo Hai Ungali Khadi Karna Home Ko Jo Hai Comfortable Anakamfaratebal Bana Dena Aisi Cheezen Bilkul Hai Aur Jaise Aadhar Par Hum Jo Ladane Lagte Hain Choti Choti Chijon Par Jo Hum Laga Dete Hain Lekin Doston Hai Hamara Khud Ka Hota Hai Ke Bare Mein Bahut Bolna Chahungi Aur Svikarya Honi Chahiye Lekin Nahi Hoti
Likes  4  Dislikes      
WhatsApp_icon
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aapke Anusaar Aisi Kaun Si Chizen Hain Jo Hamare Samaaj Dwara Sweekarita Honi Chahiye Par Hoti Nahi Hain,


vokalandroid