भारतीय पुलिस के साथ आपका अनुभव कैसा रहा है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारतीय पुलिस के बारे में अभी तक का जो मेरा अनुभव रहा है बहुत ही गंदा अनुभव मैंने अभी तक महसूस किया है और उमंगों को अगर मैं आपके साथ शेयर करूं तो इसी होली का 2018 में जो होली थी मैं सुबह उठा और मैंने सोचा कि आज की दुकानें बंद होगी और चले देखें कुछ खाने पीने के लिए मिल जाए तो मैं चौराहे पर गया तो वहां एक ठेले वाले ने क्या लगाया था और अंगूर भेज रहा था तो मैंने उससे कहा कि मुझे जूते ले दे दो और अंगूठी तो वहां पहले से पुलिसवाले वहां अकेले खा रहे थे अंगूर खा रहे थे पुलिस वाले थे वहां पर बगल में उसके रेल लेकर तो जब तक वह हमारा सामान दे रहा था तब तक यह पुलिस वाले अपना खड़ा करके वहां से चले गए तो इसने हमें दिया पैसा पैसा लिया और मैंने कहा कि देखे सभी लोगों ने पैसा मुझे नहीं दिया है क्यों नहीं है काकीसा मांगेगे तेरे लोग गलत तरीके से बात करेंगे यह करेंगे वह करेंगे बंद करने की धमकी देंगे तो यह गलत है कमीनी कभी भी अगर हम देखें तो पुलिस से कभी-कभी अपनी पावर की बहुत ही गलत उपयोग करती है तो उस बेचारे की कम से कम अगर पुलिस वाले एक भी 6 पुलिसवाले तेरा 4 किमी कायमगंज 24 केले खा लिए होंगे उसका और दूध के नुकसान हो गया होगा तो यह बता रहा था कि इसी वजह से मैंने नहीं पूछा और मोहन राणा ही सही है तो इस तरह की पुलिस की रोया बहुत गलत है और एक और ऑन हो मेरा है कि मैं आ रहा था तुझे तो ऑटो वाले की जगह में सीट में जगह क्यों नहीं रोका कहा कि नहीं रुकेंगे इसलिए क्योंकि यह पैसा नहीं देखा तो कुछ इस तरह की अनुभव है मेरा पुलिस वालों के साथ और यह गलत है वह अपनी पावर कि गलत उपयोग करती हैं
Romanized Version
देखिए भारतीय पुलिस के बारे में अभी तक का जो मेरा अनुभव रहा है बहुत ही गंदा अनुभव मैंने अभी तक महसूस किया है और उमंगों को अगर मैं आपके साथ शेयर करूं तो इसी होली का 2018 में जो होली थी मैं सुबह उठा और मैंने सोचा कि आज की दुकानें बंद होगी और चले देखें कुछ खाने पीने के लिए मिल जाए तो मैं चौराहे पर गया तो वहां एक ठेले वाले ने क्या लगाया था और अंगूर भेज रहा था तो मैंने उससे कहा कि मुझे जूते ले दे दो और अंगूठी तो वहां पहले से पुलिसवाले वहां अकेले खा रहे थे अंगूर खा रहे थे पुलिस वाले थे वहां पर बगल में उसके रेल लेकर तो जब तक वह हमारा सामान दे रहा था तब तक यह पुलिस वाले अपना खड़ा करके वहां से चले गए तो इसने हमें दिया पैसा पैसा लिया और मैंने कहा कि देखे सभी लोगों ने पैसा मुझे नहीं दिया है क्यों नहीं है काकीसा मांगेगे तेरे लोग गलत तरीके से बात करेंगे यह करेंगे वह करेंगे बंद करने की धमकी देंगे तो यह गलत है कमीनी कभी भी अगर हम देखें तो पुलिस से कभी-कभी अपनी पावर की बहुत ही गलत उपयोग करती है तो उस बेचारे की कम से कम अगर पुलिस वाले एक भी 6 पुलिसवाले तेरा 4 किमी कायमगंज 24 केले खा लिए होंगे उसका और दूध के नुकसान हो गया होगा तो यह बता रहा था कि इसी वजह से मैंने नहीं पूछा और मोहन राणा ही सही है तो इस तरह की पुलिस की रोया बहुत गलत है और एक और ऑन हो मेरा है कि मैं आ रहा था तुझे तो ऑटो वाले की जगह में सीट में जगह क्यों नहीं रोका कहा कि नहीं रुकेंगे इसलिए क्योंकि यह पैसा नहीं देखा तो कुछ इस तरह की अनुभव है मेरा पुलिस वालों के साथ और यह गलत है वह अपनी पावर कि गलत उपयोग करती हैंDekhie Bhartiya Police Ke Baare Mein Abhi Tak Ka Jo Mera Anubhav Raha Hai Bahut Hi Ganda Anubhav Maine Abhi Tak Mahsus Kiya Hai Aur Umangon Ko Agar Main Aapke Saath Share Karun To Isi Holi Ka 2018 Mein Jo Holi Thi Main Subah Utha Aur Maine Socha Ki Aaj Ki Dukane Band Hogi Aur Chale Dekhen Kuch Khane Peene Ke Liye Mil Jaye To Main Chauraahe Par Gaya To Wahan Ek Thele Wale Ne Kya Lagaya Tha Aur Angoor Bhej Raha Tha To Maine Usse Kaha Ki Mujhe Jute Le De Do Aur Anguthi To Wahan Pehle Se Pulisvale Wahan Akele Kha Rahe The Angoor Kha Rahe The Police Wale The Wahan Par Bagal Mein Uske Rail Lekar To Jab Tak Wah Hamara Saamaan De Raha Tha Tab Tak Yeh Police Wale Apna Khada Karke Wahan Se Chale Gaye To Isane Hume Diya Paisa Paisa Liya Aur Maine Kaha Ki Dekhe Sabhi Logon Ne Paisa Mujhe Nahi Diya Hai Kyun Nahi Hai Kakisa Mangege Tere Log Galat Tarike Se Baat Karenge Yeh Karenge Wah Karenge Band Karne Ki Dhamki Denge To Yeh Galat Hai Kamini Kabhi Bhi Agar Hum Dekhen To Police Se Kabhi Kabhi Apni Power Ki Bahut Hi Galat Upyog Karti Hai To Us Bechaare Ki Kum Se Kum Agar Police Wale Ek Bhi 6 Pulisvale Tera 4 Kimi Kayamaganj 24 Kele Kha Liye Honge Uska Aur Dudh Ke Nuksan Ho Gaya Hoga To Yeh Bata Raha Tha Ki Isi Wajah Se Maine Nahi Poocha Aur Mohan Rana Hi Sahi Hai To Is Tarah Ki Police Ki Roya Bahut Galat Hai Aur Ek Aur On Ho Mera Hai Ki Main Aa Raha Tha Tujhe To Auto Wale Ki Jagah Mein Seat Mein Jagah Kyun Nahi Roka Kaha Ki Nahi Rukenge Isliye Kyonki Yeh Paisa Nahi Dekha To Kuch Is Tarah Ki Anubhav Hai Mera Police Walon Ke Saath Aur Yeh Galat Hai Wah Apni Power Ki Galat Upyog Karti Hain
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

क्या कोई ऐसा अन्य देश है जिसमें आधार जैसा कुछ है? उनका अनुभव कैसा रहा है? ...

दुनिया के सभी देश अपने नागरिकों की पहचान के लिए एक खास तरीका काम में लेते हैं भारत में आधार कार्ड पहचान पत्र दस्तावेजों में सबसे प्रमुख है गैस सब्सिडी से लेकर लास्ट तक सबके लिए इसकी जरूरत रहती है जहांजवाब पढ़िये
ques_icon

क्या आपने कभी अपने जीवन में किसी अन्य व्यक्ति को प्रभावित किया है? अपने अनुभव को बताएं। ...

देखिए जहां तक मुझे लगता है कि जब वह मतलब कुछ लोग कहते हैं मतलब कुछ नहीं लगभग सभी लोग कहते हैं कि आगे देखो यार कि अपने बच्चों से दुखी आंखों सी प्यारी सी बच्ची से तो मुझे बहुत अच्छा लगता है लेकिन इसका कजवाब पढ़िये
ques_icon

हम प्रत्येक अपने सभी अनुभवों के के लिए खुद जिम्मेदार हैं, आपका क्या मानना है? ...

अनुभव में कैसे प्राप्त हो तो सबसे पहले जन्नत की जरूरी है जो हम करते हैं इस के बाजू रिएक्शन होता है किसी का भी सिचुएशन का या फिर किसी इंसान का है हमारे अनुभव के रूप में काम करता है जितना भी हमें अनुभव जवाब पढ़िये
ques_icon

क्या एक इंसान को अपने जीवन मे सभी प्रकार के अनुभव लेने चाहिए ताकि मरते समय उसके दिल मे किसी प्रकार का कोई खेद न हो ? ...

मुझे लगता है इंसान को अपनी जिंदगी में सारे अच्छे अनुभवों को अवश्य लेना चाहिए यानी कि जो काम सही है उसे ही करना हमारे लिए उचित होगा क्योंकि दुनिया में बहुत सारे ऐसे एक्सपीरियंस भी हम ले सकते हैं जो हमाजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय पुलिस के साथ मेरा अभी तक का अनुभव तो अच्छा रहा है क्योंकि किसी केस के सिलसिले में मैं भारतीय पुलिस के चक्कर में नहीं पढ़ा हूं और यह मुझे पता नहीं है कि वह हमारा सपोर्ट करेंगे या फिर हमें उलझा देंगे अपने खेत में क्योंकि कई बार ऐसा सुनने को मिलता है कि पुलिस लोगों की मदद नहीं करती है और उनसे रिश्वत वगैरा लेने की कोशिश करती है फ़लक एक बार जब मैं कहीं जा रहा था और मुझे लिफ्ट की जरूरत पड़ी तो मैंने एक पुलिस वाले से लिफ्ट मांगी थी तो उन्होंने तो मुझे लिफ्ट दे दी थी अपनी जो उनके खाने की कार होती है उसमें तो वह एक्सपीरियंस मेरे लिए काफी नया था क्योंकि उसमें वॉकी-टॉकी वगैरा से काफी आवाजें आ रही थी और उस समय मैं स्कूल में पढ़ता था तो उसने मुझे ज्यादा जानकारी नहीं दी सभी चीजों के बारे में तो मुझे काफी एक नया अनुभव रहा था वह मेरे लिए इस वजह से मुझे तो लगता है कि अभी तक का मेरा भारतीय पुलिस के साथ जवानों हो रहा है वह काफी बढ़िया रहा है क्योंकि उन्होंने मेरी मदद की थी और मुझे अपने घर तक ड्रॉप
Romanized Version
भारतीय पुलिस के साथ मेरा अभी तक का अनुभव तो अच्छा रहा है क्योंकि किसी केस के सिलसिले में मैं भारतीय पुलिस के चक्कर में नहीं पढ़ा हूं और यह मुझे पता नहीं है कि वह हमारा सपोर्ट करेंगे या फिर हमें उलझा देंगे अपने खेत में क्योंकि कई बार ऐसा सुनने को मिलता है कि पुलिस लोगों की मदद नहीं करती है और उनसे रिश्वत वगैरा लेने की कोशिश करती है फ़लक एक बार जब मैं कहीं जा रहा था और मुझे लिफ्ट की जरूरत पड़ी तो मैंने एक पुलिस वाले से लिफ्ट मांगी थी तो उन्होंने तो मुझे लिफ्ट दे दी थी अपनी जो उनके खाने की कार होती है उसमें तो वह एक्सपीरियंस मेरे लिए काफी नया था क्योंकि उसमें वॉकी-टॉकी वगैरा से काफी आवाजें आ रही थी और उस समय मैं स्कूल में पढ़ता था तो उसने मुझे ज्यादा जानकारी नहीं दी सभी चीजों के बारे में तो मुझे काफी एक नया अनुभव रहा था वह मेरे लिए इस वजह से मुझे तो लगता है कि अभी तक का मेरा भारतीय पुलिस के साथ जवानों हो रहा है वह काफी बढ़िया रहा है क्योंकि उन्होंने मेरी मदद की थी और मुझे अपने घर तक ड्रॉपBhartiya Police Ke Saath Mera Abhi Tak Ka Anubhav To Accha Raha Hai Kyonki Kisi Case Ke Silsile Mein Main Bhartiya Police Ke Chakkar Mein Nahi Padha Hoon Aur Yeh Mujhe Pata Nahi Hai Ki Wah Hamara Support Karenge Ya Phir Hume Uljha Denge Apne Khet Mein Kyonki Kai Baar Aisa Sunane Ko Milta Hai Ki Police Logon Ki Madad Nahi Karti Hai Aur Unse Rishwat Vagaira Lene Ki Koshish Karti Hai Falak Ek Baar Jab Main Kahin Ja Raha Tha Aur Mujhe Lift Ki Zaroorat Padi To Maine Ek Police Wale Se Lift Maangi Thi To Unhone To Mujhe Lift De Di Thi Apni Jo Unke Khane Ki Car Hoti Hai Usamen To Wah Experience Mere Liye Kafi Naya Tha Kyonki Usamen Vaki Talkie Vagaira Se Kafi Awajen Aa Rahi Thi Aur Us Samay Main School Mein Padhata Tha To Usne Mujhe Jyada Jankari Nahi Di Sabhi Chijon Ke Baare Mein To Mujhe Kafi Ek Naya Anubhav Raha Tha Wah Mere Liye Is Wajah Se Mujhe To Lagta Hai Ki Abhi Tak Ka Mera Bhartiya Police Ke Saath Jawano Ho Raha Hai Wah Kafi Badhiya Raha Hai Kyonki Unhone Meri Madad Ki Thi Aur Mujhe Apne Ghar Tak Drop
Likes  7  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन वैसे तो आज तक भारतीय पुलिस के साथ मेरा कोई इतना पाला नहीं पड़ा है क्योंकि मैंने ऐसा कुछ नहीं किया कि मुझे और डील करना पड़े उनसे लेकिन हां यादव जी की कोई एक झूठ ऑन था और जहां से मुझे तो लगा था मतलब मैंने गलत पढ़ लिया था वह मेरी गलती थी मैं बिल्कुल मानती हूं लेकिन तब भी जा रहे थे वहां से क्योंकि वहां से जो करता बहुत पास पढ़ रहा था वह ट्रैफिक पुलिस से रिलेटेड है ना तुम ने मुझे बोला कि तुम गलत जा रही हो तो मैंने बोला कि मैं सेंड करता है और पुलिस को स्ट्रांग और थोड़ा सा मतलब गुस्से वाला होना जरूरी होता है तभी वह जो गलत लोग हैं जो बुरे इंसान उन लोगों से डील कर सकते हो और आखिर में हमें सेफ रखने में हेल्प हम सुनने को मिल जाएगी पुलिस ने मारपीट किया पुलिस ने कार्रवाई नहीं किया पुलिस करप्ट है तो ऐसा ही होता है इसमें भी कोई दो राय नहीं है
Romanized Version
लेकिन वैसे तो आज तक भारतीय पुलिस के साथ मेरा कोई इतना पाला नहीं पड़ा है क्योंकि मैंने ऐसा कुछ नहीं किया कि मुझे और डील करना पड़े उनसे लेकिन हां यादव जी की कोई एक झूठ ऑन था और जहां से मुझे तो लगा था मतलब मैंने गलत पढ़ लिया था वह मेरी गलती थी मैं बिल्कुल मानती हूं लेकिन तब भी जा रहे थे वहां से क्योंकि वहां से जो करता बहुत पास पढ़ रहा था वह ट्रैफिक पुलिस से रिलेटेड है ना तुम ने मुझे बोला कि तुम गलत जा रही हो तो मैंने बोला कि मैं सेंड करता है और पुलिस को स्ट्रांग और थोड़ा सा मतलब गुस्से वाला होना जरूरी होता है तभी वह जो गलत लोग हैं जो बुरे इंसान उन लोगों से डील कर सकते हो और आखिर में हमें सेफ रखने में हेल्प हम सुनने को मिल जाएगी पुलिस ने मारपीट किया पुलिस ने कार्रवाई नहीं किया पुलिस करप्ट है तो ऐसा ही होता है इसमें भी कोई दो राय नहीं हैLekin Waise To Aaj Tak Bhartiya Police Ke Saath Mera Koi Itna Pala Nahi Pada Hai Kyonki Maine Aisa Kuch Nahi Kiya Ki Mujhe Aur Deal Karna Pade Unse Lekin Haan Yadav Ji Ki Koi Ek Jhuth On Tha Aur Jahan Se Mujhe To Laga Tha Matlab Maine Galat Padh Liya Tha Wah Meri Galti Thi Main Bilkul Maanati Hoon Lekin Tab Bhi Ja Rahe The Wahan Se Kyonki Wahan Se Jo Karta Bahut Paas Padh Raha Tha Wah Traffic Police Se Related Hai Na Tum Ne Mujhe Bola Ki Tum Galat Ja Rahi Ho To Maine Bola Ki Main Send Karta Hai Aur Police Ko Strong Aur Thoda Sa Matlab Gusse Wala Hona Zaroori Hota Hai Tabhi Wah Jo Galat Log Hain Jo Bure Insaan Un Logon Se Deal Kar Sakte Ho Aur Aakhir Mein Hume Safe Rakhne Mein Help Hum Sunane Ko Mil Jayegi Police Ne Marapit Kiya Police Ne Karyawahi Nahi Kiya Police Corrupt Hai To Aisa Hi Hota Hai Isme Bhi Koi Do Rai Nahi Hai
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Bharatiya Police Ke Saath Aapka Anubhav Kaisa Raha Hai,What Is Your Experience With The Indian Police?,


vokalandroid