हमारी देश में अच्छे संस्था ना होने के कारण ही बेरोजगार है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं इस बात से पूरी तरह से सहमत हूं कि हमारे देश में अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है यानी अच्छे संस्था नहीं है और यही कारण है कि बेरोजगारी बढ़ती चली जा रही है क्योंकि देखिए और गारमेंट का काम यही ह ...जवाब पढ़िये

जी हां मैं इस बात से पूरी तरह से सहमत हूं कि हमारे देश में अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है यानी अच्छे संस्था नहीं है और यही कारण है कि बेरोजगारी बढ़ती चली जा रही है क्योंकि देखिए और गारमेंट का काम यही होता है कि वह अच्छे-अच्छे इंफ्रास्ट्रक्चर बनाएं देश में और लोगों को रोजगार करने का मौका दें लेकिन अगर गवर्नमेंट उस चीज को नहीं कर रही है तो कहीं ना कहीं तो प्राइवेट कंपनी से जो इंफ्रास्ट्रक्चर बनाती है वह अच्छे लोगों को यानी जो स्किल्ड लोग होते हैं उनको मौका देती हैं और इसी वजह से जो आप लोग होते हैं वह कहीं ना कहीं बेरोजगार रह जाते हैं तो हम अगर अच्छा संस्था बनेंगे हमारे देश में और आम लोगों को भी मौका दिया जाएगा कि वह बेरोजगारी अपनी हटाकर रोजगार ढूंढ सके तो यह बहुत अच्छा रहेगा और इसी की वजह से हमारे देश में बेरोजगारी खत्म हो पाएगी और मुझे लगता है कि झूठ चीज है और गवर्नमेंट टेंडर के तौर पर दूसरे प्राइवेट कंपनी को देती है बनाने के लिए या फिर काम करवाने के लिए वह कॉमेंट खुद करना चाहिए और उसमें उन लोगों को रोजगार दे गाना चाहिए जो लोड कर जो रोजगार बहुत तक ढूंढ रहे हैं या फिर बहुत समय से बेरोजगार घूम रहे हैं ताकि उन लोगों को भी मौका मिल पाए और वह काम करके अपने परिवार का पालन पोषण कर पाए और कहीं ना कहीं अगर गवर्नमेंट को टेंडर प्राइवेट कंपनी इसको नहीं देगी तो गवर्नमेंट का खुद का भी फायदा होगा और अपने आप काम करने की वजह से अगर कोई जिम्मेदारी लेने वाला होगा तो वह भी कॉमेंट की लेनी होगी और कोई प्राइवेट कंपनी क्या प्राइवेट कंपनी को जिम्मेदारी नहीं लेनी पड़ेगी और इससे हमारे देश को भी काफी हद तक का फायदा पहुंचेगाJi Haan Main Is Baat Se Puri Tarah Se Sahmat Hoon Ki Hamare Desh Mein Accha Infrastructure Nahi Hai Yani Acche Sanstha Nahi Hai Aur Yahi Kaaran Hai Ki Berojgari Badhti Chali Ja Rahi Hai Kyonki Dekhie Aur Garment Ka Kaam Yahi Hota Hai Ki Wah Acche Acche Infrastructure Banaye Desh Mein Aur Logon Ko Rojgar Karne Ka Mauka Dein Lekin Agar Government Us Cheez Ko Nahi Kar Rahi Hai To Kahin Na Kahin To Private Company Se Jo Infrastructure Banati Hai Wah Acche Logon Ko Yani Jo Skilled Log Hote Hain Unko Mauka Deti Hain Aur Isi Wajah Se Jo Aap Log Hote Hain Wah Kahin Na Kahin Berojgar Rah Jaate Hain To Hum Agar Accha Sanstha Banenge Hamare Desh Mein Aur Aam Logon Ko Bhi Mauka Diya Jayega Ki Wah Berojgari Apni Hatakar Rojgar Dhundh Sake To Yeh Bahut Accha Rahega Aur Isi Ki Wajah Se Hamare Desh Mein Berojgari Khatam Ho Payegi Aur Mujhe Lagta Hai Ki Jhuth Cheez Hai Aur Government Tender Ke Taur Par Dusre Private Company Ko Deti Hai Banane Ke Liye Ya Phir Kaam Karwane Ke Liye Wah Cament Khud Karna Chahiye Aur Usamen Un Logon Ko Rojgar De Gaana Chahiye Jo Load Kar Jo Rojgar Bahut Tak Dhundh Rahe Hain Ya Phir Bahut Samay Se Berojgar Ghum Rahe Hain Taki Un Logon Ko Bhi Mauka Mil Paye Aur Wah Kaam Karke Apne Parivar Ka Palan Poshan Kar Paye Aur Kahin Na Kahin Agar Government Ko Tender Private Company Isko Nahi Degi To Government Ka Khud Ka Bhi Fayda Hoga Aur Apne Aap Kaam Karne Ki Wajah Se Agar Koi Jimmedari Lene Wala Hoga To Wah Bhi Cament Ki Leni Hogi Aur Koi Private Company Kya Private Company Ko Jimmedari Nahi Leni Padegi Aur Isse Hamare Desh Ko Bhi Kafi Had Tak Ka Fayda Pahunchega
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखित संस्था अच्छी संस्थान होने का बेहतरीन तरीका नहीं है संस्था बहुत हमारे देश में है ऐसा कोई विकास संस्थान यह जो कि भारत के समय हमारे पास नहीं है हम रेलवे हैं आर्मी एयर डिफेंस लाइन है फिर उसके बाद बै ...जवाब पढ़िये

लिखित संस्था अच्छी संस्थान होने का बेहतरीन तरीका नहीं है संस्था बहुत हमारे देश में है ऐसा कोई विकास संस्थान यह जो कि भारत के समय हमारे पास नहीं है हम रेलवे हैं आर्मी एयर डिफेंस लाइन है फिर उसके बाद बैंक सेक्टर है इसलिए है इंजीनियरिंग है मेडिकल है ऐसी कोई संस्था नहीं है जो हमारे देश में ज्यादा है फिर उसके बाद लोग लेटेस्ट न्यूज़ लेवल के उसके कारण जो हमें हमारे देश में बेरोजगारी हैLikhit Sanstha Acchi Sansthan Hone Ka Behtareen Tarika Nahi Hai Sanstha Bahut Hamare Desh Mein Hai Aisa Koi Vikash Sansthan Yeh Jo Ki Bharat Ke Samay Hamare Paas Nahi Hai Hum Railway Hain Army Air Defence Line Hai Phir Uske Baad Bank Sector Hai Isliye Hai Engineering Hai Medical Hai Aisi Koi Sanstha Nahi Hai Jo Hamare Desh Mein Jyada Hai Phir Uske Baad Log Latest News Level Ke Uske Kaaran Jo Hume Hamare Desh Mein Berojgari Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जो बेरोजगारी की बात करते हैं तो निश्चित तौर पर हम सरकार को पूछ सकते हैं इसके लिए लेकिन सरकार बात की चीज़ है पहले जो सिस्टम पूरा है वह बहुत गलत बना हुआ वह इसके लिए जिम्मेदार की हकीकत यार आज के नंब ...जवाब पढ़िये

लिखे जो बेरोजगारी की बात करते हैं तो निश्चित तौर पर हम सरकार को पूछ सकते हैं इसके लिए लेकिन सरकार बात की चीज़ है पहले जो सिस्टम पूरा है वह बहुत गलत बना हुआ वह इसके लिए जिम्मेदार की हकीकत यार आज के नंबर 150 का दम तोड़ जाएंगे आप कोई कॉलेज खुला हुआ मिल जाएगा वह कॉलेज किसी भी प्रकार का बेटा है क्या डिग्री बीबीए बीए बीकॉम हो सकता है कुल मिलाकर यह कॉलेजों की संख्या इतनी ज्यादा बढ़ गई है बिना किसी स्टैंडर्ड के बन जाते हैं केवल मान्यता नॉर्मल आसान तरीके से मिल जाती है नहीं तो होता क्या है जो बच्चों को डिग्री तो मिल जाती है लेकिन जो एजुकेशन शिक्षा होने मिलनी चाहिए जो 3 साल अगर कोई पोस्ट कर रहे हैं जो वास्तव में जो चीजें सीखनी चाहिए उन चीजों का अभाव है ऐसे बहुत हद तक वोट परसेंटेज में यह जहां हुआ है लगातार हर साल कॉलेज नहीं बन रहा है इस प्रकार के जिम्मे स्टैंडर्ड नहीं है पढ़ाई सही से नहीं होती कोई फेवरेट आते हैं एग्जाम देते हैं यह सब बच्चों में शिक्षा की कमी टैलेंट की कमी नहीं हो रही है लगातार भारत में ऐसा नहीं है सभी ऐसे लेकिन बहुत क्वालिटी बढ़ती जा रही है तो को गहराई डिग्री तो सबको मिल जा रही है लेकिन सबको मिल जा रही है लेकिन नौकरी नहीं मिल पा रही क्योंकि हम तो कैपेबिलिटी नहीं वह है ही नहीं टैलेंट जो कंपनी को चाहिए तो वहीं पर हम बेरोजगारी हो जाती क्योंकि डिग्री है नौकरी नहीं है वह बेरोजगार कि कौन है उस ग्रुप में आते हैं यह बहुत बड़ा कारण है बेरोजगारी बढ़ने का शुरुआत एक्सटेंडेड सेट करने की जिससे इन चीजों की चीजेंLikhe Jo Berojgari Ki Baat Karte Hain To Nishchit Taur Par Hum Sarkar Ko Pooch Sakte Hain Iske Liye Lekin Sarkar Baat Ki Cheese Hai Pehle Jo System Pura Hai Wah Bahut Galat Bana Hua Wah Iske Liye Zimmedar Ki Haqiqat Yaar Aaj Ke Number 150 Ka Dum Tod Jaenge Aap Koi College Khula Hua Mil Jayega Wah College Kisi Bhi Prakar Ka Beta Hai Kya Degree Bba Ba B.COM Ho Sakta Hai Kul Milakar Yeh Collegeon Ki Sankhya Itni Jyada Badh Gayi Hai Bina Kisi Standard Ke Ban Jaate Hain Kewal Manyata Normal Aasan Tarike Se Mil Jati Hai Nahi To Hota Kya Hai Jo Bacchon Ko Degree To Mil Jati Hai Lekin Jo Education Shiksha Hone Milani Chahiye Jo 3 Saal Agar Koi Post Kar Rahe Hain Jo Vaastav Mein Jo Cheezen Sekhani Chahiye Un Chijon Ka Abhaav Hai Aise Bahut Had Tak Vote Percentage Mein Yeh Jahan Hua Hai Lagatar Har Saal College Nahi Ban Raha Hai Is Prakar Ke Jimme Standard Nahi Hai Padhai Sahi Se Nahi Hoti Koi Favourite Aate Hain Exam Dete Hain Yeh Sab Bacchon Mein Shiksha Ki Kami Talent Ki Kami Nahi Ho Rahi Hai Lagatar Bharat Mein Aisa Nahi Hai Sabhi Aise Lekin Bahut Quality Badhti Ja Rahi Hai To Ko Gehrai Degree To Sabko Mil Ja Rahi Hai Lekin Sabko Mil Ja Rahi Hai Lekin Naukri Nahi Mil Pa Rahi Kyonki Hum To Capability Nahi Wah Hai Hi Nahi Talent Jo Company Ko Chahiye To Wahin Par Hum Berojgari Ho Jati Kyonki Degree Hai Naukri Nahi Hai Wah Berojgar Ki Kaun Hai Us Group Mein Aate Hain Yeh Bahut Bada Kaaran Hai Berojgari Badhne Ka Shuruvat Eksatended Set Karne Ki Jisse In Chijon Ki Cheezen
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Hamari Desh Mein Acche Sanstha Na Hone Ke Kaaran Hi Berojgar Hai, Hamari Desh Mein Acche Sanstha No Hone Ke Baharjgar Hai