क्या भारत में आमिर और गरीब के लिए क़ानून एक जैसा है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक लोकतांत्रिक देश है यहां पर सभी लोगों को एक बराबर समझा गया है और एक ही बराबर अधिकार भी दिया गए हैं तो हमारी कानून में यह साफ तौर पर लिखा है कि व्यक्ति अमीर हो या फिर गरीब दोनों को एक बराबर ही अ...जवाब पढ़िये
भारत एक लोकतांत्रिक देश है यहां पर सभी लोगों को एक बराबर समझा गया है और एक ही बराबर अधिकार भी दिया गए हैं तो हमारी कानून में यह साफ तौर पर लिखा है कि व्यक्ति अमीर हो या फिर गरीब दोनों को एक बराबर ही अधिकार हैं और अगर कोई क्राइम किया जाता है चाहे वह अमीर के द्वारा किया जाए या फिर गरीब के द्वारा दोनों को सजा बराबर ही मिलेगी लेकिन आज हमारे समाज में यह जो कानून बनाए गए हैं उनका सही तरीके से पालन नहीं हो रहा है कई बार हम देखते हैं कि जो लोग अमीर हैं या फिर ज्यादा पावरफुल हैं वह अपने पैसों का या फिर अपने पावर का गलत इस्तेमाल करके किसी भी क्राइम को छुपाने की कोशिश करते हैं और कई बार वह कामयाबी हो जाते हैं लेकिन अगर कोई गरीब है तो उसके पास ना तो इतनी फैसिलिटी है ना ही इतना पावर है कि वह अपने क्राइम को छुपा पाए या फिर कानून के शिकंजे से बच पाए और पुलिस वाले भी कई बार अमीर लोगों का ही साथ देते हैं चाहे उनकी ही गलती हो तो मुझे लगता है कि इन सारी चीजों से पुलिस को और हमारे कानून को कुछ सीखना चाहिए और यह कोशिश करनी चाहिए कि सभी लोगों को जो संविधान में समानता का अधिकार दिया है तो उसके हिसाब से ही कानून अपना काम करें और ना ही किसी अमीर व्यक्ति को कुछ छूट मिल जाए और गरीब व्यक्ति पर कानून शक्ति अपनाएं अगर ऐसा होगा तो वह मुझे नहीं लगता कि लोकतंत्र के लिए कोई अच्छी बात हैBharat Ek Loktantrik Desh Hai Yahan Par Sabhi Logon Ko Ek Barabar Samjha Gaya Hai Aur Ek Hi Barabar Adhikaar Bhi Diya Gaye Hain To Hamari Kanoon Mein Yeh Saaf Taur Par Likha Hai Ki Vyakti Amir Ho Ya Phir Garib Dono Ko Ek Barabar Hi Adhikaar Hain Aur Agar Koi Crime Kiya Jata Hai Chahe Wah Amir Ke Dwara Kiya Jaye Ya Phir Garib Ke Dwara Dono Ko Saja Barabar Hi Milegi Lekin Aaj Hamare Samaaj Mein Yeh Jo Kanoon Banaye Gaye Hain Unka Sahi Tarike Se Palan Nahi Ho Raha Hai Kai Bar Hum Dekhte Hain Ki Jo Log Amir Hain Ya Phir Jyada Powerful Hain Wah Apne Paison Ka Ya Phir Apne Power Ka Galat Istemal Karke Kisi Bhi Crime Ko Ki Koshish Karte Hain Aur Kai Bar Wah Kamyabi Ho Jaate Hain Lekin Agar Koi Garib Hai To Uske Paas Na To Itni Facility Hai Na Hi Itna Power Hai Ki Wah Apne Crime Ko Chhupa Paye Ya Phir Kanoon Ke Shikanje Se Bach Paye Aur Police Wale Bhi Kai Bar Amir Logon Ka Hi Saath Dete Hain Chahe Unki Hi Galti Ho To Mujhe Lagta Hai Ki In Saree Chijon Se Police Ko Aur Hamare Kanoon Ko Kuch Sikhna Chahiye Aur Yeh Koshish Karni Chahiye Ki Sabhi Logon Ko Jo Samvidhan Mein Samanata Ka Adhikaar Diya Hai To Uske Hisab Se Hi Kanoon Apna Kaam Karen Aur Na Hi Kisi Amir Vyakti Ko Kuch Chhut Mil Jaye Aur Garib Vyakti Par Kanoon Shakti Apanaen Agar Aisa Hoga To Wah Mujhe Nahi Lagta Ki Loktantra Ke Liye Koi Acchi Baat Hai
Likes  13  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो हमारा देश लोकतांत्रिक देश है और यहां सभी को समीर समान अधिकार दिए गए हैं और कानून व्यवस्था में भी सभी नागरिकों को एक समान न्याय की व्यवस्था है चाहे इंसान अमीर हो चाहे गरीब हो लेकिन कानून व्यवस्...जवाब पढ़िये
वैसे तो हमारा देश लोकतांत्रिक देश है और यहां सभी को समीर समान अधिकार दिए गए हैं और कानून व्यवस्था में भी सभी नागरिकों को एक समान न्याय की व्यवस्था है चाहे इंसान अमीर हो चाहे गरीब हो लेकिन कानून व्यवस्था सभी के लिए समान है लेकिन जब हम व्यवहारिक रूप में से लेते हैं तब हमारी कानून व्यवस्था अमीरों के लिए अलग हो जाती है और गरीबों के लिए अलग हो जाती है क्योंकि अमीरों के पास पैसा है अमीरों के पास होता है अमीरों के पास पावर है सितारों के पास पहले पहुंच जाते हैं और कानून को अपनी तरफ बोलने पर मजबूर कर देते हैं लेकिन गरीब के पास ना तो पैसा है ना वक्त है इसीलिए वह कानून के पास देर से पहुंचता है और उसकी बात बात में सुनी जाती है इसलिए वह हमेशा पीछे रह जाता है तो इस तरह से देखा जाए तो हमारे देश में कानून की गरीबों के लिए अलग है और अमीरों के लिए अलग है हालांकि कानून स्वयं की वर्क नहीं करता है लेकिन कहीं ना कहीं अपने आप ही व्यवहारिक रूप में यह फर्क पैदा हो जाता है और कानून अमीरों के लिए अलग नजरिए से देखने लगता है और गरीबों के लिए अलग नजरिया Facebook आता है और इसीलिए गरीब लोग हमेशा कानून से मात खा जाते हैं और अमीर लोग हमेशा कानून को अपने पास रखकर क्या कानून को अपने पक्ष में लेकर हमेशा बिजी हो जाते हैं और गरीब हमेशा किसी भी कानून व्यवस्था के तहत हार जाता है लेकिन फिर भी कई बार ऐसा भी होता है कि पावरफुल लोग और अमीर लोग भी कानून के शिकंजे में फंसते हैं और उन्हें सजा मिलती है आज के परिपेक्ष में अगर देखा जाए तो कानून व्यवस्था ने अमीरों को भी सजा दी है लालू प्रसाद यादव जो बाबा लोगों को सजा हुई है वह सर्विस के उदाहरणWaise To Hamara Desh Loktantrik Desh Hai Aur Yahan Sabhi Ko Sameer Saman Adhikaar Diye Gaye Hain Aur Kanoon Vyavastha Mein Bhi Sabhi Naagrikon Ko Ek Saman Nyay Ki Vyavastha Hai Chahe Insaan Amir Ho Chahe Garib Ho Lekin Kanoon Vyavastha Sabhi Ke Liye Saman Hai Lekin Jab Hum Vyavharik Roop Mein Se Lete Hain Tab Hamari Kanoon Vyavastha Amiron Ke Liye Alag Ho Jati Hai Aur Garibon Ke Liye Alag Ho Jati Hai Kyonki Amiron Ke Paas Paisa Hai Amiron Ke Paas Hota Hai Amiron Ke Paas Power Hai Sitaron Ke Paas Pehle Pahunch Jaate Hain Aur Kanoon Ko Apni Taraf Bolne Par Majboor Kar Dete Hain Lekin Garib Ke Paas Na To Paisa Hai Na Waqt Hai Isliye Wah Kanoon Ke Paas Der Se Pahunchta Hai Aur Uski Baat Baat Mein Suni Jati Hai Isliye Wah Hamesha Piche Rah Jata Hai To Is Tarah Se Dekha Jaye To Hamare Desh Mein Kanoon Ki Garibon Ke Liye Alag Hai Aur Amiron Ke Liye Alag Hai Halanki Kanoon Swayam Ki Work Nahi Karta Hai Lekin Kahin Na Kahin Apne Aap Hi Vyavharik Roop Mein Yeh Fark Paida Ho Jata Hai Aur Kanoon Amiron Ke Liye Alag Nazariye Se Dekhne Lagta Hai Aur Garibon Ke Liye Alag Najariya Facebook Aata Hai Aur Isliye Garib Log Hamesha Kanoon Se Maat Kha Jaate Hain Aur Amir Log Hamesha Kanoon Ko Apne Paas Rakhakar Kya Kanoon Ko Apne Paksh Mein Lekar Hamesha Busy Ho Jaate Hain Aur Garib Hamesha Kisi Bhi Kanoon Vyavastha Ke Tahat Haar Jata Hai Lekin Phir Bhi Kai Bar Aisa Bhi Hota Hai Ki Powerful Log Aur Amir Log Bhi Kanoon Ke Shikanje Mein Hain Aur Unhen Saja Milti Hai Aaj Ke Mein Agar Dekha Jaye To Kanoon Vyavastha Ne Amiron Ko Bhi Saja Di Hai Lalu Prasad Yadav Jo Baba Logon Ko Saja Hui Hai Wah Service Ke Udaharan
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम अपनी कॉन्स्टिट्यूशन के हिसाब से देखें तो अब भारत एक सेकुलर नेशन है एक डेमोक्रेसी वाला नेशन है यानी लोकतांत्रिक नेशन है और यहां पर अमीर हो या गरीब सभी के लिए सारे रूप सारे अधिकार = दिए गए हैं और...जवाब पढ़िये
अगर हम अपनी कॉन्स्टिट्यूशन के हिसाब से देखें तो अब भारत एक सेकुलर नेशन है एक डेमोक्रेसी वाला नेशन है यानी लोकतांत्रिक नेशन है और यहां पर अमीर हो या गरीब सभी के लिए सारे रूप सारे अधिकार = दिए गए हैं और सारे कानून कानून भी बराबर है अगर कोई अमीर कुछ गलत करता है तो उसको भी वहीं सजा मिलेगी जो एक गरीब को उस गलत थी करने पर मिलती है लेकिन आज हमारे देश में कौन स्टेशन में लिखा हुआ है वह चीज जो कभी कभी हमारे देश में सच साबित नहीं होती है क्योंकि अगर कोई इंसान अमीर है तो वह लोगों को भ्रष्टाचार करके ब्राइट करके उनसे अपने काम आराम से करवा सकते हैं और अपने लिए चीजें आसान बना सकते हैं वही जो गरीब इंसान है वह पैसे नहीं दे पाते हैं या फिर भ्रष्टाचार नहीं कर पाते हैं और इसी वजह से उनको सभी लोग दूध काटते रहते हैं उनके साथ गलत शिकार करते हैं और यही वजह है कि हमारे देश में यह अमीरी गरीबी का जो डिफरेंस है यह बहुत ज्यादा मायने रखता है क्योंकि जो गरीब लोग होते हैं उनकी कोई वैल्यू नहीं होती हमारे देश में और उनको बहुत ज्यादा ऑफिस में हुआ माना जाता है और वही जो अमीर है उसको सब सर उठा कर देखते हैं उसको बहुत अच्छा मानते हैं चाहे वह नेचर वॉइस कितना भी बुरा हो तो यह चीज जो है यह जो डिफरेंस है हम लोगों ने ही करें और यही कारण है कि हमारी वजह से ही जो अमीर हैं और गरीब है उनके लिए जो कानून है वह भी काफी हद तक बदल रहे हैं क्योंकि हमारे देश में भ्रष्टाचार बहुत होता है और अगर आप देश में तू हर अमीर को इज्जत की नजरों से देखा जाएगा वही एक गरीब को बहुत गलत व्यवहार कर आ जाएगा तो यह जो अमीरी गरीबी है वह कॉन्स्टिट्यूशन ने हमें दिखाइए और बराबर हमारे लिए कानून बनाए हैं परंतु हमारे देश के लोगों ने ही उन कानूनों को बदला है और उनको अमीर और गरीब के सबसे अलग अलग एडजस्ट किया हैAgar Hum Apni Constitution Ke Hisab Se Dekhen To Ab Bharat Ek Secular Nation Hai Ek Democracy Wala Nation Hai Yani Loktantrik Nation Hai Aur Yahan Par Amir Ho Ya Garib Sabhi Ke Liye Sare Roop Sare Adhikaar = Diye Gaye Hain Aur Sare Kanoon Kanoon Bhi Barabar Hai Agar Koi Amir Kuch Galat Karta Hai To Usko Bhi Wahin Saja Milegi Jo Ek Garib Ko Us Galat Thi Karne Par Milti Hai Lekin Aaj Hamare Desh Mein Kaun Station Mein Likha Hua Hai Wah Cheez Jo Kabhi Kabhi Hamare Desh Mein Sach Saabit Nahi Hoti Hai Kyonki Agar Koi Insaan Amir Hai To Wah Logon Ko Bhrashtachar Karke Bright Karke Unse Apne Kaam Aaram Se Karava Sakte Hain Aur Apne Liye Cheezen Aasan Bana Sakte Hain Wahi Jo Garib Insaan Hai Wah Paise Nahi De Paate Hain Ya Phir Bhrashtachar Nahi Kar Paate Hain Aur Isi Wajah Se Unko Sabhi Log Dudh Katatey Rehte Hain Unke Saath Galat Shikar Karte Hain Aur Yahi Wajah Hai Ki Hamare Desh Mein Yeh Amiri Garibi Ka Jo Difference Hai Yeh Bahut Jyada Maayne Rakhta Hai Kyonki Jo Garib Log Hote Hain Unki Koi Value Nahi Hoti Hamare Desh Mein Aur Unko Bahut Jyada Office Mein Hua Mana Jata Hai Aur Wahi Jo Amir Hai Usko Sab Sar Utha Kar Dekhte Hain Usko Bahut Accha Manate Hain Chahe Wah Nature Voice Kitna Bhi Bura Ho To Yeh Cheez Jo Hai Yeh Jo Difference Hai Hum Logon Ne Hi Karen Aur Yahi Kaaran Hai Ki Hamari Wajah Se Hi Jo Amir Hain Aur Garib Hai Unke Liye Jo Kanoon Hai Wah Bhi Kafi Had Tak Badal Rahe Hain Kyonki Hamare Desh Mein Bhrashtachar Bahut Hota Hai Aur Agar Aap Desh Mein Tu Har Amir Ko Izzat Ki Najaron Se Dekha Jayega Wahi Ek Garib Ko Bahut Galat Vyavhar Kar Aa Jayega To Yeh Jo Amiri Garibi Hai Wah Constitution Ne Hume Dikhaaiye Aur Barabar Hamare Liye Kanoon Banaye Hain Parantu Hamare Desh Ke Logon Ne Hi Un Kanuno Ko Badla Hai Aur Unko Amir Aur Garib Ke Sabse Alag Alag Adjust Kiya Hai
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BP फिल्म को जैसा मर कंस्टीटूशन है इस पर लिखा गया है कि जो अमीर हो चाहे गरीब हो किसी के पास कितने भी पैसे और कोई कितना भी निर्धन हो सबके लिए कॉन्स्टिट्यूशन जो है एक प्रकार लिखा गया है अगर किसी ने कुछ ज...जवाब पढ़िये
BP फिल्म को जैसा मर कंस्टीटूशन है इस पर लिखा गया है कि जो अमीर हो चाहे गरीब हो किसी के पास कितने भी पैसे और कोई कितना भी निर्धन हो सबके लिए कॉन्स्टिट्यूशन जो है एक प्रकार लिखा गया है अगर किसी ने कुछ जुर्म किया है किसी ने भी कोई काम किया है जो कि कानून से हटकर है कानून के दायरे में नहीं आता है तो जिस तरह उसमें एक सजा अमीर को मिलनी चाहिए उस तरह से गरीब को भी मिलती है तो बिल्कुल भी हमारे कान स्टेशन पर लिखा गया है भीमराव अंबेडकर साहब ने लिखा है वह इस तरह से लिखा है कि एक जुर्म करने पर पड़ी क्लास एजुकेशन में भी जिस तरह से अमीर को सजा मिलेगी उसका से गरीब को ही मिलेगीBP Film Ko Jaisa Mar Constitution Hai Is Par Likha Gaya Hai Ki Jo Amir Ho Chahe Garib Ho Kisi Ke Paas Kitne Bhi Paise Aur Koi Kitna Bhi Nirdhan Ho Sabke Liye Constitution Jo Hai Ek Prakar Likha Gaya Hai Agar Kisi Ne Kuch Jurm Kiya Hai Kisi Ne Bhi Koi Kaam Kiya Hai Jo Ki Kanoon Se Hatakar Hai Kanoon Ke Daayre Mein Nahi Aata Hai To Jis Tarah Usamen Ek Saja Amir Ko Milani Chahiye Us Tarah Se Garib Ko Bhi Milti Hai To Bilkul Bhi Hamare Kaan Station Par Likha Gaya Hai Bhimrao Ambedkar Sahab Ne Likha Hai Wah Is Tarah Se Likha Hai Ki Ek Jurm Karne Par Padi Class Education Mein Bhi Jis Tarah Se Amir Ko Saja Milegi Uska Se Garib Ko Hi Milegi
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Mein Aamir Aur Garib Ke Liye Kanoon Ek Jaisa Hai, Is There A Law For Aamir And The Poor In India?