राजा राम मोहन रॉय के सती सती प्रथा के विरुद्ध पुणे जागरण के बार में बताएँ। ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीके राजा राममोहन राय जो है उनका आज बर्थडे है और यह उनकी 240 सेक्सी बर्थ एनिवर्सरी है इनका जन्म जो हुआ था वह 22 तारीख को 22 मई को 1772 में हुआ था यह इंसल्ट इंडिया के सबसे पहले ऐसे इंसान है जो मैंने सत...
जवाब पढ़िये
डीके राजा राममोहन राय जो है उनका आज बर्थडे है और यह उनकी 240 सेक्सी बर्थ एनिवर्सरी है इनका जन्म जो हुआ था वह 22 तारीख को 22 मई को 1772 में हुआ था यह इंसल्ट इंडिया के सबसे पहले ऐसे इंसान है जो मैंने सती प्रथा को चैलेंज किया था इन्होंने जब इनके अपने बड़े भाई की डेथ हो गई तो उन्होंने अपनी भाभी को जाने की सिस्टर इन लॉ को जौहर की आग में यानी की सती प्रथा जो मनाई जाती है जिसमें कभी किसी का हसबैंड का डेथ हो गया तो उसी आग में उसी चिता की आग में उसकी वाइफ को भी जिंदा जला दिया जाता है इसका विरोध किया था और अपनी भाभी को इस में जाने से मना किया और जाने नहीं दिया था एक्चुअली उसमें आग में जलने नहीं दिया था तभी से एक शुरूआत हुई कि लोग जो हैं और औरतों को धीरे-धीरे तब से नजर मिली SIM चालू हुआ पूरे देश भर में और औरतों को जिंदा जलाने की जोप रखा है वह धीरे-धीरे उस वक्त से कम होने लगी बाद में स्वामी विवेकानंद स्वामी दयानंद इन लोगों ने भी इनका बहुत सारा साथ दिया पूरे देश भर में घूम के इसके इसके बारे में अवेयरनेस फैलाई और तब यह धीरे-धीरे प्रथा हमारे देश में कम होने लगीDice Raja Rammohan Rai Jo Hai Unka Aaj Birthday Hai Aur Yeh Unki 240 Sexy Birth Anniversary Hai Inka Janm Jo Hua Tha Wah 22 Tarikh Ko 22 May Ko 1772 Mein Hua Tha Yeh Insult India Ke Sabse Pehle Aise Insaan Hai Jo Maine Sati Pratha Ko Challenge Kiya Tha Inhone Jab Inke Apne Bade Bhai Ki Death Ho Gayi To Unhone Apni Bhabhi Ko Jaane Ki Sister In Law Ko Jauhar Ki Aag Mein Yani Ki Sati Pratha Jo Manai Jati Hai Jisme Kabhi Kisi Ka Husband Ka Death Ho Gaya To Ussi Aag Mein Ussi Chita Ki Aag Mein Uski Wife Ko Bhi Zinda Jala Diya Jata Hai Iska Virodh Kiya Tha Aur Apni Bhabhi Ko Is Mein Jaane Se Mana Kiya Aur Jaane Nahi Diya Tha Actually Usamen Aag Mein Jalne Nahi Diya Tha Tabhi Se Ek Shuruat Hui Ki Log Jo Hain Aur Auraton Ko Dhire Dhire Tab Se Nazar Mili SIM Chalu Hua Poore Desh Bhar Mein Aur Auraton Ko Zinda Jalaane Ki Zope Rakha Hai Wah Dhire Dhire Us Waqt Se Kum Hone Lagi Baad Mein Swami Vivekananda Swami Dayanad In Logon Ne Bhi Inka Bahut Saara Saath Diya Poore Desh Bhar Mein Ghum Ke Iske Iske Baare Mein Awareness Failai Aur Tab Yeh Dhire Dhire Pratha Hamare Desh Mein Kum Hone Lagi
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Raja Ram Mohan Roy Ke Sati Sati Pratha Ke Viruddh Pune Jagran Ke Baar Mein Bataen , In The Bar Of Pune Jagaran Against The Sati Sati Tradition Of Raja Ram Mohan Roy. , Johar Pratha, Sati Pratha In Hindi, Pratha Pune

vokalandroid