क्या ममता बनर्जी ने पंचायत चुनावों में खुद को शामिल करके सही किया? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिग जहां तक प्रश्न ममता बनर्जी का है तो आज आप देखिए देश के अंदर सबसे बुरी स्थिति और किसी प्रदेश की है तो पश्चिम बंगाल कि आए दिन वहां दंगे होते रहते हैं कभी भी चुनाव होते हैं वह पंचायत का चुनाव बचो चाहे कोई और चुनाव हमेशा वहां दंगे से शुरुआत होती है कभी भी कोई झांकी निकाली जाती तो वहां दंगा होता है रमजान स्टार्ट होता है दंगा होता है किसी भी प्रकार का कोई जुलूस निकलता है वहां दंगा होना निश्चित है आज अगर कानून व्यवस्था की बात की जाए तो मुझे लगता है प्रदेश में सबसे बेहाल स्थिति अगर कहीं की है तो वह पश्चिम बंगाल की ओर जबसे ममता बनर्जी ने जो अपना सेकंड 10 वर्ष चार्ट किया तब से और बुरी स्थिति व हो चुकी है आए दिन वहां दंगे फसाद होता रहता है और बहादुरी ममता बनर्जी का पंचायत चुनाव में अपने आप को शामिल करना क्या सही है या नहीं है तो मुझे लगता है कि यह तो वक्त बताएगा कि सही है या नहीं है लेकिन हां ममता बनर्जी के समय में आज बंगाल पूरी तरह बर्बाद हो चुका है
Romanized Version
बिग जहां तक प्रश्न ममता बनर्जी का है तो आज आप देखिए देश के अंदर सबसे बुरी स्थिति और किसी प्रदेश की है तो पश्चिम बंगाल कि आए दिन वहां दंगे होते रहते हैं कभी भी चुनाव होते हैं वह पंचायत का चुनाव बचो चाहे कोई और चुनाव हमेशा वहां दंगे से शुरुआत होती है कभी भी कोई झांकी निकाली जाती तो वहां दंगा होता है रमजान स्टार्ट होता है दंगा होता है किसी भी प्रकार का कोई जुलूस निकलता है वहां दंगा होना निश्चित है आज अगर कानून व्यवस्था की बात की जाए तो मुझे लगता है प्रदेश में सबसे बेहाल स्थिति अगर कहीं की है तो वह पश्चिम बंगाल की ओर जबसे ममता बनर्जी ने जो अपना सेकंड 10 वर्ष चार्ट किया तब से और बुरी स्थिति व हो चुकी है आए दिन वहां दंगे फसाद होता रहता है और बहादुरी ममता बनर्जी का पंचायत चुनाव में अपने आप को शामिल करना क्या सही है या नहीं है तो मुझे लगता है कि यह तो वक्त बताएगा कि सही है या नहीं है लेकिन हां ममता बनर्जी के समय में आज बंगाल पूरी तरह बर्बाद हो चुका हैBig Jahan Tak Prashna Mamata Banerjee Ka Hai To Aaj Aap Dekhie Desh Ke Andar Sabse Buri Sthiti Aur Kisi Pradesh Ki Hai To Paschim Bengal Ki Aaye Din Wahan Denge Hote Rehte Hain Kabhi Bhi Chunav Hote Hain Wah Panchayat Ka Chunav Bacho Chahe Koi Aur Chunav Hamesha Wahan Denge Se Shuruvat Hoti Hai Kabhi Bhi Koi Jhanki Nikali Jati To Wahan Danga Hota Hai Ramjan Start Hota Hai Danga Hota Hai Kisi Bhi Prakar Ka Koi Julus Nikalta Hai Wahan Danga Hona Nishchit Hai Aaj Agar Kanoon Vyavastha Ki Baat Ki Jaye To Mujhe Lagta Hai Pradesh Mein Sabse Behal Sthiti Agar Kahin Ki Hai To Wah Paschim Bengal Ki Oar Jabse Mamata Banerjee Ne Jo Apna Second 10 Varsh Chart Kiya Tab Se Aur Buri Sthiti V Ho Chuki Hai Aaye Din Wahan Denge Fasad Hota Rehta Hai Aur Bahaduri Mamata Banerjee Ka Panchayat Chunav Mein Apne Aap Ko Shamil Karna Kya Sahi Hai Ya Nahi Hai To Mujhe Lagta Hai Ki Yeh To Waqt Batayega Ki Sahi Hai Ya Nahi Hai Lekin Haan Mamata Banerjee Ke Samay Mein Aaj Bengal Puri Tarah Barbad Ho Chuka Hai
Likes  1  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

ques_icon

ques_icon

ques_icon

ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ममता बनर्जी ने पंचायत चुनाव में खुद को शामिल करके सही नहीं किया क्योंकि इससे जनता के बीच उनकी छवि खराब हुई है और बहुत सारे लोग ऐसा सोच रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस एक हिंसक पार्टी है इस चुनाव की तुलना एक क्रिकेट मैच से की जा सकती है जिसमें एक भी गेंद पर के बिना ही विजेता का फैसला हो गया क्रिकेट के मैदान में ऐसा भले ही संभव नहीं हो लेकिन राजनीति की पिच पर यह संभव नहीं दिख रहा है मिसाल के तौर पर पश्चिम बंगाल में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए वोट तो इस महीने की 14 तारीख को पड़ेंगे लेकिन उससे पहले ही एक तिहाई से ज्यादा सीटों पर विजेता का फैसला हो चुका है इसे महज एक हम सहयोग नहीं कह सकते हैं और पंचायतों की 58692 में से 20076 सीटों पर बिना एक भी वोट पड़े विजेता तय हो गया है क्योंकि नामांकन के दौरान बड़े पैमाने पर हुई हिंसा और अदालती लड़ाई की वजह से यह चुनाव शुरुआत से ही सुर्खियों में रहा है बहुत सारे सीटों पर सिर्फ तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार ही पर्चा भर पाए हैं जिसकी वजह से उनकी जीतते हैं तो मुझे लगता है कि इस तरह की जो भी चीजें हुई है वह लोकतंत्र के लिए सही नहीं है क्योंकि लोकतंत्र में हर एक व्यक्ति को यह अधिकार है कि वह चुनाव लड़ सकता है और तृणमूल कांग्रेस की तरफ से जो यह हिंसक प्रदर्शन या फिर जो भी दबाव डाला गया है अन्य पार्टी के उम्मीदवारों पर वह दिखा रहा है कि पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था बिल्कुल चरमरा गई है और ममता बनर्जी की इससे छवि तो खराब होगी ही आने वाले चुनाव में उन्हें इसका नुक्सान भी सहना पड़ेगा क्योंकि जनता सारी चीजों को देखती है और उन्हें अगर विकल्प नहीं मिलेंगे तो फिर वह हो सकता है किसी भी उम्मीदवार को वोट ना दें लेकिन फिर भी एक वोट भी अगर पड़ता है तो तृणमूल कांग्रेस के जो उम्मीदवार है वह विजई घोषित किए जाएंगे लेकिन यह सही नहीं हो रहा है और ममता बनर्जी को इन सारे चुनाव से अपने आप को दूर रखना चाहिए था
Romanized Version
ममता बनर्जी ने पंचायत चुनाव में खुद को शामिल करके सही नहीं किया क्योंकि इससे जनता के बीच उनकी छवि खराब हुई है और बहुत सारे लोग ऐसा सोच रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस एक हिंसक पार्टी है इस चुनाव की तुलना एक क्रिकेट मैच से की जा सकती है जिसमें एक भी गेंद पर के बिना ही विजेता का फैसला हो गया क्रिकेट के मैदान में ऐसा भले ही संभव नहीं हो लेकिन राजनीति की पिच पर यह संभव नहीं दिख रहा है मिसाल के तौर पर पश्चिम बंगाल में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए वोट तो इस महीने की 14 तारीख को पड़ेंगे लेकिन उससे पहले ही एक तिहाई से ज्यादा सीटों पर विजेता का फैसला हो चुका है इसे महज एक हम सहयोग नहीं कह सकते हैं और पंचायतों की 58692 में से 20076 सीटों पर बिना एक भी वोट पड़े विजेता तय हो गया है क्योंकि नामांकन के दौरान बड़े पैमाने पर हुई हिंसा और अदालती लड़ाई की वजह से यह चुनाव शुरुआत से ही सुर्खियों में रहा है बहुत सारे सीटों पर सिर्फ तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार ही पर्चा भर पाए हैं जिसकी वजह से उनकी जीतते हैं तो मुझे लगता है कि इस तरह की जो भी चीजें हुई है वह लोकतंत्र के लिए सही नहीं है क्योंकि लोकतंत्र में हर एक व्यक्ति को यह अधिकार है कि वह चुनाव लड़ सकता है और तृणमूल कांग्रेस की तरफ से जो यह हिंसक प्रदर्शन या फिर जो भी दबाव डाला गया है अन्य पार्टी के उम्मीदवारों पर वह दिखा रहा है कि पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था बिल्कुल चरमरा गई है और ममता बनर्जी की इससे छवि तो खराब होगी ही आने वाले चुनाव में उन्हें इसका नुक्सान भी सहना पड़ेगा क्योंकि जनता सारी चीजों को देखती है और उन्हें अगर विकल्प नहीं मिलेंगे तो फिर वह हो सकता है किसी भी उम्मीदवार को वोट ना दें लेकिन फिर भी एक वोट भी अगर पड़ता है तो तृणमूल कांग्रेस के जो उम्मीदवार है वह विजई घोषित किए जाएंगे लेकिन यह सही नहीं हो रहा है और ममता बनर्जी को इन सारे चुनाव से अपने आप को दूर रखना चाहिए थाMamata Banerjee Ne Panchayat Chunav Mein Khud Ko Shamil Karke Sahi Nahi Kiya Kyonki Isse Janta Ke Beech Unki Chawi Kharab Hui Hai Aur Bahut Sare Log Aisa Soch Rahe Hain Ki Trinmul Congress Ek Hinsak Party Hai Is Chunav Ki Tulna Ek Cricket Match Se Ki Ja Sakti Hai Jisme Ek Bhi Gend Par Ke Bina Hi Vijeta Ka Faisla Ho Gaya Cricket Ke Maidan Mein Aisa Bhale Hi Sambhav Nahi Ho Lekin Rajneeti Ki Pitch Par Yeh Sambhav Nahi Dikh Raha Hai Misal Ke Taur Par Paschim Bengal Mein Tristariye Panchayat Chunav Ke Liye Vote To Is Mahine Ki 14 Tarikh Ko Padenge Lekin Usse Pehle Hi Ek Tihai Se Jyada Seaton Par Vijeta Ka Faisla Ho Chuka Hai Ise Mahaj Ek Hum Sahyog Nahi Keh Sakte Hain Aur Panchayato Ki 58692 Mein Se 20076 Seaton Par Bina Ek Bhi Vote Pade Vijeta Tay Ho Gaya Hai Kyonki Namankan Ke Dauran Bade Paimane Par Hui Hinsa Aur Adalati Ladai Ki Wajah Se Yeh Chunav Shuruvat Se Hi Surkhiyon Mein Raha Hai Bahut Sare Seaton Par Sirf Trinmul Congress Ke Ummidvar Hi Parcha Bhar Paye Hain Jiski Wajah Se Unki Jitate Hain To Mujhe Lagta Hai Ki Is Tarah Ki Jo Bhi Cheezen Hui Hai Wah Loktantra Ke Liye Sahi Nahi Hai Kyonki Loktantra Mein Har Ek Vyakti Ko Yeh Adhikaar Hai Ki Wah Chunav Lad Sakta Hai Aur Trinmul Congress Ki Taraf Se Jo Yeh Hinsak Pradarshan Ya Phir Jo Bhi Dabaav Dala Gaya Hai Anya Party Ke Ummidwaron Par Wah Dikha Raha Hai Ki Paschim Bengal Mein Kanoon Vyavastha Bilkul Charmara Gayi Hai Aur Mamata Banerjee Ki Isse Chawi To Kharab Hogi Hi Aane Wale Chunav Mein Unhen Iska Nuksan Bhi Sahana Padega Kyonki Janta Saree Chijon Ko Dekhti Hai Aur Unhen Agar Vikalp Nahi Milenge To Phir Wah Ho Sakta Hai Kisi Bhi Ummidvar Ko Vote Na Dein Lekin Phir Bhi Ek Vote Bhi Agar Padata Hai To Trinmul Congress Ke Jo Ummidvar Hai Wah Viggee Ghoshit Kiye Jaenge Lekin Yeh Sahi Nahi Ho Raha Hai Aur Mamata Banerjee Ko In Sare Chunav Se Apne Aap Ko Dur Rakhna Chahiye Tha
Likes  10  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Kya Mamata Banerjee Ne Panchayat Chunavon Mein Khud Ko Shaamil Karke Sahi Kiya,Did Mamata Banerjee Correct Herself By Involving Herself In Panchayat Elections?,


vokalandroid