अधिकांश लोगों के लिए अपने मानसिक विकार को स्वीकार करना कठिन क्यों है?

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रही थी लेकिन पहले से ही जैसे पागल है मानसिक दिमाग नार्मल चीजें इसको दबा कर सकते हैं
रही थी लेकिन पहले से ही जैसे पागल है मानसिक दिमाग नार्मल चीजें इसको दबा कर सकते हैं
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

जब मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे इतने सारे लोगों को प्रभावित करते हैं तो मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे अभी भी इतने कलंकित क्यों हैं?

तिग मा सिटी में भी है और जो बाकी और 20वीं सिटीज एंड टाउंस है या गांव है हमारे देश के वहां पर तो उसकी मां भी दी है और जेल तो फील काम हमारी प्रोफेशन का यह सबसे बड़ा चैलेंज है कि दूसरी बात यह भी है कि वोजवाब पढ़िये
ques_icon

में पता नहीं क्या सोचता हूँ की क्या बन गया हूँ ,तो यह कौनसी मानसिक बीमारी है ? ...

अगर आपको ऐसा लगता है कि आप क्या सोचते हैं और क्या बन गए हैं तो मेरे हिसाब से आपको जो है आम मैं भी कोई मानसिक बीमारी हो सकती है आप ही बताए साइकिल रेस के पास जाकर बजे की जनसभा कोई भी हॉस्पिटल में जो नजदजवाब पढ़िये
ques_icon

हम भारतीयों को हमारी मानसिक बीमारी के लिए और अधिक महत्व क्यों नहीं देते? ...

आज की भारत में मानसिक बीमारी के लिए बहुत सारी अवधारणाएं अलग अलग अलग तरीके से सोचते हैं मानसिक बीमारी के लिए जादू मंत्र टोना स्त्री की चीजें सोचते हैं तो आप प्लीज मदद कीजिए चीजें चल रही है आज से नहीं बजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें इफेक्ट नहीं होता है क्या सोचने लगी है क्या सोचेंगे हम लोग उस पर फोकस करो अपने आप से व्हाट्सएप पर बंद हो जाएगा क्योंकि आप एक्सेप्टेबल इसलिए नहीं कर पा रहे हो अपने आप ही आप जीवन करते हो जहां पर रहते हो उसके फल दोस्तों के बारे में
हमें इफेक्ट नहीं होता है क्या सोचने लगी है क्या सोचेंगे हम लोग उस पर फोकस करो अपने आप से व्हाट्सएप पर बंद हो जाएगा क्योंकि आप एक्सेप्टेबल इसलिए नहीं कर पा रहे हो अपने आप ही आप जीवन करते हो जहां पर रहते हो उसके फल दोस्तों के बारे में
Likes  17  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक तू बहुत बड़ा सोसाइटी में अवेयरनेस मीनिंग ऑफ डिस्क्रिमिनेशन है कि हम खुद भी के पास होते हैं तो हम दूसरों के जो मेंटल कंडीशन होते हैं स्टेटस होते हैं उसको हम चॉकलेट डील नहीं करते उनके लिए भी हम खुद भी हाथ होते हैं तो इस तरीके के चलते हम इस चीज को शेयर नहीं करते हैं और अवशोषण होता ही है क्योंकि जो छोटे गमले में वह बड़े हो जाते हैं और जब टीवी के रूप में दिखने लगते हैं दिखने लगते हैं लोगों को लगता है कि आप आ गया है तब जाकर उनकी फैमिली मेंबर जाकर लंदन प्रोग्राम चल रहा है यहां यह सिचुएटेड होते हैं यहां से कहां तक नहीं होती है और
एक तू बहुत बड़ा सोसाइटी में अवेयरनेस मीनिंग ऑफ डिस्क्रिमिनेशन है कि हम खुद भी के पास होते हैं तो हम दूसरों के जो मेंटल कंडीशन होते हैं स्टेटस होते हैं उसको हम चॉकलेट डील नहीं करते उनके लिए भी हम खुद भी हाथ होते हैं तो इस तरीके के चलते हम इस चीज को शेयर नहीं करते हैं और अवशोषण होता ही है क्योंकि जो छोटे गमले में वह बड़े हो जाते हैं और जब टीवी के रूप में दिखने लगते हैं दिखने लगते हैं लोगों को लगता है कि आप आ गया है तब जाकर उनकी फैमिली मेंबर जाकर लंदन प्रोग्राम चल रहा है यहां यह सिचुएटेड होते हैं यहां से कहां तक नहीं होती है और
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि हर एक इंसान की अलग अलग अलग अलग बीमारी अलग है और हर इंसान की दवाई अलग है और जो ट्रीटमेंट की जो चीज है जो बहुत सारे लोगों ने दी होती है तो उसके लिए हमें कोई एक थेरेपी को भी फॉलो नहीं कर सकते भी हाउ टू मेक लैंड ईज़ी हमें वो दिखाओ के लिए पर वह भी कभी ना कभी अगर देखे तो कहीं ना कहीं अलग पड़ जाते हैं हम जिसको ऐसा कहते किसको एंजाइटी डिसऑर्डर है और उसको पैनिक अटैक भी आता है क्या नहीं समझ में नहीं आता तो उसने भी बहुत तरह के
क्योंकि हर एक इंसान की अलग अलग अलग अलग बीमारी अलग है और हर इंसान की दवाई अलग है और जो ट्रीटमेंट की जो चीज है जो बहुत सारे लोगों ने दी होती है तो उसके लिए हमें कोई एक थेरेपी को भी फॉलो नहीं कर सकते भी हाउ टू मेक लैंड ईज़ी हमें वो दिखाओ के लिए पर वह भी कभी ना कभी अगर देखे तो कहीं ना कहीं अलग पड़ जाते हैं हम जिसको ऐसा कहते किसको एंजाइटी डिसऑर्डर है और उसको पैनिक अटैक भी आता है क्या नहीं समझ में नहीं आता तो उसने भी बहुत तरह के
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसलिए होता है कि उनका सेंटर ज्योतियां तक 59 महीना कौन से टाइम में क्वालिटी करते हैं उन्हें पता ही नहीं होता है कि नुकसान करता है तो दूसरा आदमी रोता भी सकता है क्यों होता है क्यों होते हैं मॉनिटरिंग बैलेंस हो जाते हैं
इसलिए होता है कि उनका सेंटर ज्योतियां तक 59 महीना कौन से टाइम में क्वालिटी करते हैं उन्हें पता ही नहीं होता है कि नुकसान करता है तो दूसरा आदमी रोता भी सकता है क्यों होता है क्यों होते हैं मॉनिटरिंग बैलेंस हो जाते हैं
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए होता है क्या कहना इंडिया में भारत में अभी भी अगर हम दिल्ली में तो कोई मानसिक या नहीं लिखेंगे हमारा कोई सलूशन नहीं हो जो चीज बहुत ही बहुत ज्यादा
देखिए होता है क्या कहना इंडिया में भारत में अभी भी अगर हम दिल्ली में तो कोई मानसिक या नहीं लिखेंगे हमारा कोई सलूशन नहीं हो जो चीज बहुत ही बहुत ज्यादा
Likes  19  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोशल स्टिग्मा है मतलब सोसायटी में बहुत बड़ा भ्रम है कि मानसिक बीमारियां जो है इस बारे में नहीं करते क्योंकि इसको जादू टोने के वीडियो डायलॉग मानसिक बीमारियों को जड़ से हटाना चाहते हैं बताना नहीं चाहते हो सारी बीमारी होती है सी मानसिक बीमारी है तेरे तारीख बीमारी का इलाज होता है ऐसी मानसिक बीमारी का इलाज होता है और कई बार बहुत सारे लोगों की धड़कन है एंजॉय करें उन्होंने भी से खास तौर पर कौन डिप्रेशन डिप्रेशन में बातचीत करें बहुत जरूरी है और पुलिस पर भी मेंटल हेल्थ से जुड़ी हुई बातें इस तरह की समस्याओं पर बोलने में लिखें
सोशल स्टिग्मा है मतलब सोसायटी में बहुत बड़ा भ्रम है कि मानसिक बीमारियां जो है इस बारे में नहीं करते क्योंकि इसको जादू टोने के वीडियो डायलॉग मानसिक बीमारियों को जड़ से हटाना चाहते हैं बताना नहीं चाहते हो सारी बीमारी होती है सी मानसिक बीमारी है तेरे तारीख बीमारी का इलाज होता है ऐसी मानसिक बीमारी का इलाज होता है और कई बार बहुत सारे लोगों की धड़कन है एंजॉय करें उन्होंने भी से खास तौर पर कौन डिप्रेशन डिप्रेशन में बातचीत करें बहुत जरूरी है और पुलिस पर भी मेंटल हेल्थ से जुड़ी हुई बातें इस तरह की समस्याओं पर बोलने में लिखें
Likes  16  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आवंटन स्थिति क्या है कि आज बहुत काम है बात कर लूं तो डब्ल्यूएचओ के हिसाब से हेल्प नो टेंशन मतलब हमारे शरीर में कोई बीमारी ना हो ना तो हम जल्दी नहीं मान सकते लेकिन हम को सबसे अधिक होना बहुत जरूरी है तुझे पति बीमार हम सर्दी जुखाम हो गए फीवर आ गया यह सब कुछ होता रहता है उसी तरह से लोगों को है कि हमारे समाज में कि जो लोग वीक है या फिर काफी डिलीट सिस्टम भी है कि जिन लोगों ने पाप किए हुए हैं यह सारे लोग मन करता है हमारे कर्मों की सजा है वगैरह तो इंडिया के ऐसा कल्चर है कि जहां पर नॉट यू टेल मी अबाउट एजुकेशन नोट्स ओं के लिए बहुत दिलीप सिस्टम एजुकेशन में दोनों के बीच में कहीं ना कहीं की चल रहा है इसी वजह से हमारी सोसाइटी ज्यादातर एक्सेप्ट नहीं करती है कि कोई भी हो सकता है मन बीमार हो सकता है हो सकता है तो मैं मान लूंगा कि लोगों में
आवंटन स्थिति क्या है कि आज बहुत काम है बात कर लूं तो डब्ल्यूएचओ के हिसाब से हेल्प नो टेंशन मतलब हमारे शरीर में कोई बीमारी ना हो ना तो हम जल्दी नहीं मान सकते लेकिन हम को सबसे अधिक होना बहुत जरूरी है तुझे पति बीमार हम सर्दी जुखाम हो गए फीवर आ गया यह सब कुछ होता रहता है उसी तरह से लोगों को है कि हमारे समाज में कि जो लोग वीक है या फिर काफी डिलीट सिस्टम भी है कि जिन लोगों ने पाप किए हुए हैं यह सारे लोग मन करता है हमारे कर्मों की सजा है वगैरह तो इंडिया के ऐसा कल्चर है कि जहां पर नॉट यू टेल मी अबाउट एजुकेशन नोट्स ओं के लिए बहुत दिलीप सिस्टम एजुकेशन में दोनों के बीच में कहीं ना कहीं की चल रहा है इसी वजह से हमारी सोसाइटी ज्यादातर एक्सेप्ट नहीं करती है कि कोई भी हो सकता है मन बीमार हो सकता है हो सकता है तो मैं मान लूंगा कि लोगों में
Likes  14  Dislikes      
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो सड़क में जाने जाते हैं लोग को मानसिक में प्रॉब्लम है तो हम करेंगे
वीडियो सड़क में जाने जाते हैं लोग को मानसिक में प्रॉब्लम है तो हम करेंगे
Likes  15  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:


vokalandroid