सरकार ने gst क्यों लगाया है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं आपको बता दो कि सरकार ने जीएसटी लागू इसलिए किया क्योंकि जीएसटी लागू होने के बाद सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी सर्विस टैक्स एडिशनल कस्टम ड्यूटी स्पेशल एडिशनल ड्यूटी ऑफ कस्टम सेल्स टैक्स सेंट्रल सेल्स टैक्स मनोरंजन टैक्स ऑफ इंडिया एंड इंडस्ट्री टेक्स्ट परचेस टेक्स्ट लग्जरी टैक्स सब खत्म हो जाएगा और यह बस एक ही टैक्स भरना भरा जाएगा
Romanized Version
मैं आपको बता दो कि सरकार ने जीएसटी लागू इसलिए किया क्योंकि जीएसटी लागू होने के बाद सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी सर्विस टैक्स एडिशनल कस्टम ड्यूटी स्पेशल एडिशनल ड्यूटी ऑफ कस्टम सेल्स टैक्स सेंट्रल सेल्स टैक्स मनोरंजन टैक्स ऑफ इंडिया एंड इंडस्ट्री टेक्स्ट परचेस टेक्स्ट लग्जरी टैक्स सब खत्म हो जाएगा और यह बस एक ही टैक्स भरना भरा जाएगाMain Aapko Bata Do Ki Sarkar Ne Gst Laagu Isliye Kiya Kyonki Gst Laagu Hone Ke Baad Central Excise Duty Service Tax Additional Custom Duty Special Additional Duty Of Custom Sales Tax Central Sales Tax Manoranjan Tax Of India End Industry Text Purchase Text Luxury Tax Sab Khatam Ho Jayega Aur Yeh Bus Ek Hi Tax Bharna Bhara Jayega
Likes  0  Dislikes      
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकार का जीएसटी लगाने का कारण यही था कि जो अलग-अलग तरह के टैक्स लोगों से वसूल किए जाते हैं वह करना बंद हो सके क्योंकि आप सभी जानते हैं कि कुछ टेक्स्ट सरकार द्वारा या नीचे कमेंट द्वारा वसूल किए जाते हैं वहीं कुछ टेक्स्ट स्टेट गवर्नमेंट द्वारा लिए जाते तो अलग अलग तरीकों से अलग अलग नाम के टेक्स्ट लिए जाते हैं वह सब करना बंद हो और चीजें सिर्फ एक ही टेक्स्ट के रूप में लिया जाए इसलिए दो टाइप की जीएसटी बनाई गई सेंट्रल जीएसटी जीएसटी जीएसटी कहा जाता है और प्रोस्टेट जीएसटी एसजीएसटी कहा जाता है ताकि और जो टैक्स से टेक्स्ट कीजिए क्लॉक बनाई जा सके और टैक्स में थोड़ा सिंप्लीफिकेशन लाया जा सके और लोग जो है वही समझ पाए कि हां टैक्स को किस तरह से बढ़ रहे हैं कितना बढ़ रहे हैं किस चीज के लिए भर रहें यही चीजों को सफाई करने के लिए टेक्स्ट सुविधा है उसको एंपलीफायर करने के लिए जीएसटी लाया गया था और अलग-अलग स्टेप्स बनाई गई है जीएसटी में जिसमें और चीजों को अलग अलग तरह से रखा गया है अलग-अलग क्लास में रखा गया था उनका सही से आकलन हो सके और चीजों को सही तरह से टैक्स उन पर लिया जा सके तो यह सरकार का काफी अच्छा मूड था क्योंकि टेक्स्ट मेक सिंप्लीफिकेशन लेकर आया और वहीं टैक्स पढ़ना भी अब काफी आसान हो गया है और जीएसटी जो लगा हुआ है जिन भी आइटम से वह काफी इजी होता है उन सभी के लिए देना और काफी वैल्यू उसकी कम भी होती है
Romanized Version
सरकार का जीएसटी लगाने का कारण यही था कि जो अलग-अलग तरह के टैक्स लोगों से वसूल किए जाते हैं वह करना बंद हो सके क्योंकि आप सभी जानते हैं कि कुछ टेक्स्ट सरकार द्वारा या नीचे कमेंट द्वारा वसूल किए जाते हैं वहीं कुछ टेक्स्ट स्टेट गवर्नमेंट द्वारा लिए जाते तो अलग अलग तरीकों से अलग अलग नाम के टेक्स्ट लिए जाते हैं वह सब करना बंद हो और चीजें सिर्फ एक ही टेक्स्ट के रूप में लिया जाए इसलिए दो टाइप की जीएसटी बनाई गई सेंट्रल जीएसटी जीएसटी जीएसटी कहा जाता है और प्रोस्टेट जीएसटी एसजीएसटी कहा जाता है ताकि और जो टैक्स से टेक्स्ट कीजिए क्लॉक बनाई जा सके और टैक्स में थोड़ा सिंप्लीफिकेशन लाया जा सके और लोग जो है वही समझ पाए कि हां टैक्स को किस तरह से बढ़ रहे हैं कितना बढ़ रहे हैं किस चीज के लिए भर रहें यही चीजों को सफाई करने के लिए टेक्स्ट सुविधा है उसको एंपलीफायर करने के लिए जीएसटी लाया गया था और अलग-अलग स्टेप्स बनाई गई है जीएसटी में जिसमें और चीजों को अलग अलग तरह से रखा गया है अलग-अलग क्लास में रखा गया था उनका सही से आकलन हो सके और चीजों को सही तरह से टैक्स उन पर लिया जा सके तो यह सरकार का काफी अच्छा मूड था क्योंकि टेक्स्ट मेक सिंप्लीफिकेशन लेकर आया और वहीं टैक्स पढ़ना भी अब काफी आसान हो गया है और जीएसटी जो लगा हुआ है जिन भी आइटम से वह काफी इजी होता है उन सभी के लिए देना और काफी वैल्यू उसकी कम भी होती हैSarkar Ka Gst Lagane Ka Kaaran Yahi Tha Ki Jo Alag Alag Tarah Ke Tax Logon Se Vasool Kiye Jaate Hain Wah Karna Band Ho Sake Kyonki Aap Sabhi Jante Hain Ki Kuch Text Sarkar Dwara Ya Neeche Comment Dwara Vasool Kiye Jaate Hain Wahin Kuch Text State Government Dwara Liye Jaate To Alag Alag Trikon Se Alag Alag Naam Ke Text Liye Jaate Hain Wah Sab Karna Band Ho Aur Cheezen Sirf Ek Hi Text Ke Roop Mein Liya Jaye Isliye Do Type Ki Gst Banai Gayi Central Gst Gst Gst Kaha Jata Hai Aur Prostate Gst Sgst Kaha Jata Hai Taki Aur Jo Tax Se Text Kijiye Clock Banai Ja Sake Aur Tax Mein Thoda Simplifikeshan Laya Ja Sake Aur Log Jo Hai Wahi Samajh Paye Ki Haan Tax Ko Kis Tarah Se Badh Rahe Hain Kitna Badh Rahe Hain Kis Cheez Ke Liye Bhar Rahen Yahi Chijon Ko Safaai Karne Ke Liye Text Suvidha Hai Usko Amplifier Karne Ke Liye Gst Laya Gaya Tha Aur Alag Alag Steps Banai Gayi Hai Gst Mein Jisme Aur Chijon Ko Alag Alag Tarah Se Rakha Gaya Hai Alag Alag Class Mein Rakha Gaya Tha Unka Sahi Se Aakalan Ho Sake Aur Chijon Ko Sahi Tarah Se Tax Un Par Liya Ja Sake To Yeh Sarkar Ka Kafi Accha Mood Tha Kyonki Text Make Simplifikeshan Lekar Aaya Aur Wahin Tax Padhna Bhi Ab Kafi Aasan Ho Gaya Hai Aur Gst Jo Laga Hua Hai Jin Bhi Item Se Wah Kafi Easy Hota Hai Un Sabhi Ke Liye Dena Aur Kafi Value Uski Kum Bhi Hoti Hai
Likes  2  Dislikes      
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Sarkar Ne Gst Kyon Lagaya Hai,Why Has The Government Gsted Up?,


vokalandroid