आज कल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैन्सर क्यूँ हो जाता है? ...

500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

आज कल की राजनीती इतनी गन्दी की हो रही है की लोग धरम का सहारा ले रहे है? ...

क्या बात बिल्कुल सही है कि आज की राजनीति इतनी ज्यादा बेकार हो चुकी है कि विभिन्न पार्टियों धर्म का सहारा लेकर वोट बैंक की राजनीति करने से भी बाज नहीं आती है कई राजनीतिक पार्टियां है जो हिंदू धर्म को सजवाब पढ़िये
ques_icon

आज कल की दुनिया में जब इतनी बेमानी है तो क्या हमेशा ईमानदार होना अच्छा है? ...

यह बात तो आपने बिल्कुल सही कहिए कि आज कल की दुनिया में इतनी बेईमानी है पर आपके सवाल पर मैं यह कहना चाहूंगी कि यह सवाल आप किसी दूसरे से ना पूछ कर खुद से पूछें और अगर आपका मन ईमानदार होने को कहता है तो जवाब पढ़िये
ques_icon

बॉलीवुड में ऐसा क्यूँ होता है की कम उम्र के अभिनेताओ को ज़्यादा उम्र की अभिनेत्रियों से नहीं जोड़ा जाता है, लेकिन इसका उलटा ज़रूर होता है? ...

यह प्रश्न है बॉलीवुड में क्यों ऐसा होता है कि कम उम्र की जो अभिनेत्रियां हैं उनको बड़े उम्र के अभिनेताओं से जुड़ा जाता है मुझे नहीं लगता है आज की तारीख में प्रियंका चोपड़ा है या या यह मलाइका अरोड़ा औरजवाब पढ़िये
ques_icon

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतनी छोटी उम्र में कैंसर क्यों हो जाते हैं क्योंकि आज और जितने प्रदूषण बहुत बढ़ गया है हवा में प्रदूषण है और अंत में प्रदूषण है दूसरी बात तो बहुत इंपॉर्टेंट है वह है लोगों की सोच ज्यादा नकारात्मक है कैंसर की अनेक रीजन है अभी भी कोई पक्का रीजन ढूंढा नहीं गया है लेकिन आप को पॉजिटिव रहना है खुश रहना है और जितना अच्छा यह ढूंढना है अच्छे लोगों के परिचय में रहना है हेल्दी लाइफ़स्टाइल देखनी है चिंता और नकारात्मक भाव से दूर रहना है यह सब नहीं है इसकी वजह से कैंसर बड़ा है दूसरी बात पहले से ज्यादा डायग्नोसिस के साजन बिगड़ गए तो तेरा कभी पता ही नहीं चलता था कि कैंसर है कि क्या है अब पता चलता है तू जो कैंसर के नाम नहीं हमको पता चलता था और दूसरी चीजों में टाइम वेस्ट करते अभी पता चल जाता है और मिस्टेक हो तो वह 36 साल भर भी हो सकती है लेकिन इसके लिए हल्दी हेल्दी लाइफ टाइम पॉजिटिव अप्रोच टो थे लाइफ अच्छे लोगों के संग अच्छी पुस्तकें पटना और प्रदूषण से जितना हो सके उतना दूर रहना एक्सरसाइज करना यह सब बहुत इंपॉर्टेंट है यह सब नहीं है इसलिए कैंसर बहुत बढ़ रहा है थैंक यू वेरी मच
Romanized Version
इतनी छोटी उम्र में कैंसर क्यों हो जाते हैं क्योंकि आज और जितने प्रदूषण बहुत बढ़ गया है हवा में प्रदूषण है और अंत में प्रदूषण है दूसरी बात तो बहुत इंपॉर्टेंट है वह है लोगों की सोच ज्यादा नकारात्मक है कैंसर की अनेक रीजन है अभी भी कोई पक्का रीजन ढूंढा नहीं गया है लेकिन आप को पॉजिटिव रहना है खुश रहना है और जितना अच्छा यह ढूंढना है अच्छे लोगों के परिचय में रहना है हेल्दी लाइफ़स्टाइल देखनी है चिंता और नकारात्मक भाव से दूर रहना है यह सब नहीं है इसकी वजह से कैंसर बड़ा है दूसरी बात पहले से ज्यादा डायग्नोसिस के साजन बिगड़ गए तो तेरा कभी पता ही नहीं चलता था कि कैंसर है कि क्या है अब पता चलता है तू जो कैंसर के नाम नहीं हमको पता चलता था और दूसरी चीजों में टाइम वेस्ट करते अभी पता चल जाता है और मिस्टेक हो तो वह 36 साल भर भी हो सकती है लेकिन इसके लिए हल्दी हेल्दी लाइफ टाइम पॉजिटिव अप्रोच टो थे लाइफ अच्छे लोगों के संग अच्छी पुस्तकें पटना और प्रदूषण से जितना हो सके उतना दूर रहना एक्सरसाइज करना यह सब बहुत इंपॉर्टेंट है यह सब नहीं है इसलिए कैंसर बहुत बढ़ रहा है थैंक यू वेरी मचItni Choti Umar Mein Cancer Kyon Ho Jaate Hain Kyonki Aaj Aur Jitne Pradushan Bahut Badh Gaya Hai Hawa Mein Pradushan Hai Aur Ant Mein Pradushan Hai Dusri Baat To Bahut Important Hai Wah Hai Logon Ki Soch Zyada Nakaratmak Hai Cancer Ki Anek Reason Hai Abhi Bhi Koi Pakka Reason Dhundha Nahi Gaya Hai Lekin Aap Ko Positive Rehna Hai Khush Rehna Hai Aur Jitna Accha Yeh Dhundhana Hai Acche Logon Ke Parichay Mein Rehna Hai Healthy Laifastail Dekhani Hai Chinta Aur Nakaratmak Bhav Se Dur Rehna Hai Yeh Sab Nahi Hai Iski Wajah Se Cancer Bada Hai Dusri Baat Pehle Se Zyada Diagnosis Ke Sajan Bigad Gaye To Tera Kabhi Pata Hi Nahi Chalta Tha Ki Cancer Hai Ki Kya Hai Ab Pata Chalta Hai Tu Jo Cancer Ke Naam Nahi Hamko Pata Chalta Tha Aur Dusri Chijon Mein Time West Karte Abhi Pata Chal Jata Hai Aur Mistake Ho To Wah 36 Saal Bhar Bhi Ho Sakti Hai Lekin Iske Liye Haldi Healthy Life Time Positive Approach To The Life Acche Logon Ke Sang Acchi Pustakein Patna Aur Pradushan Se Jitna Ho Sake Utana Dur Rehna Exercise Karna Yeh Sab Bahut Important Hai Yeh Sab Nahi Hai Isliye Cancer Bahut Badh Raha Hai Thank You Very Mach
Likes  19  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर होने की सबसे महत्व की वजह है स्ट्रेस बहुत सारी रीजन है उसमें से सोच बहुत महत्वपूर्ण आदेश देने इंसान बहुत सारा स्ट्रेस खुद के सर पर ले लेता है और जूजू उसको जिसको कभी लिखित करना चाहिए या कमी नहीं करना चाहिए वह नहीं करता है तो वह सब कुछ उसके सर पर आ जाता है जरूरी यह है कि छोटी उम्र में इससे बचने के लिए हेल्थ के प्रति ध्यान देना बहुत जरूरी है क्योंकि हेल्थ एक ऐसी चीज है हम किसी को डेलिकेट नहीं कर सकते और उसके लिए फिजिकल मेंटल यह दोनों हेल्थ पर ध्यान देना जरूरी है फिजिकल में दो चीजें जरूरी है हम क्या खाते हैं और कितना खाते हैं और मेंटल में हम मेडिटेशन करते हैं और अच्छे मोटिवेशनल कोट्स एशिया वीडियोस देखते हैं इंसान एक बार का खाना नहीं खाएगा तो चलेगा लेकिन मेंटल हेल्थ के लिए उसको टाइम निकालना ही चाहिए यह अगर यह बहुत छोटी छोटी चीजें है 1 मिनट मेडिटेशन 1 मिनट रीडिंग वन वीडियो क्लिप वंदे स्वीट नहीं खाना ऐसा कुछ कर कर के कर कर के इंसान अपने आप को बैलेंस लग सकता है और कैंसर से दूर रह सकता है थैंक यू
कैंसर होने की सबसे महत्व की वजह है स्ट्रेस बहुत सारी रीजन है उसमें से सोच बहुत महत्वपूर्ण आदेश देने इंसान बहुत सारा स्ट्रेस खुद के सर पर ले लेता है और जूजू उसको जिसको कभी लिखित करना चाहिए या कमी नहीं करना चाहिए वह नहीं करता है तो वह सब कुछ उसके सर पर आ जाता है जरूरी यह है कि छोटी उम्र में इससे बचने के लिए हेल्थ के प्रति ध्यान देना बहुत जरूरी है क्योंकि हेल्थ एक ऐसी चीज है हम किसी को डेलिकेट नहीं कर सकते और उसके लिए फिजिकल मेंटल यह दोनों हेल्थ पर ध्यान देना जरूरी है फिजिकल में दो चीजें जरूरी है हम क्या खाते हैं और कितना खाते हैं और मेंटल में हम मेडिटेशन करते हैं और अच्छे मोटिवेशनल कोट्स एशिया वीडियोस देखते हैं इंसान एक बार का खाना नहीं खाएगा तो चलेगा लेकिन मेंटल हेल्थ के लिए उसको टाइम निकालना ही चाहिए यह अगर यह बहुत छोटी छोटी चीजें है 1 मिनट मेडिटेशन 1 मिनट रीडिंग वन वीडियो क्लिप वंदे स्वीट नहीं खाना ऐसा कुछ कर कर के कर कर के इंसान अपने आप को बैलेंस लग सकता है और कैंसर से दूर रह सकता है थैंक यू
Likes  84  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो फैलती जा रही है कुछ वर्षों पहले जैसे बुखार थी हर घर में होता था किसी ना किसी को आजकल कैंसर वही स्थिति में आ चुकी है अजब जिसके घर में देखे किसी ना किसी को कैंसर हुआ है और किस में किसी की मृत्यु कैंसर की वजह से हुई यह बीमारी का कारण आज से नहीं है रब देखे तो हरित क्रांति हिंदुस्तान में जब से आई है तो उत्तर प्रदेश हरियाणा पंजाब यह कुछ ऐसे स्टेट से जो हरित क्रांति में सबसे आगे रहे और आगे इसलिए रहे क्योंकि पेस्टिसाइड्स इंसेंटिसाइड्स फर्टिलाइजर्स केमिकल्स का प्रयोग बहुत ज्यादा हुआ और इसकी वजह से फसल की पैदावार बढ़ता चला गया इन चीजों का दुष्परिणाम लंबे समय में दिखता है और आज उसका दुष्परिणाम हम देख रहे हैं क्योंकि केंद्रीय जितने भी काम करते हैं इस इशारे हमारे भोजन में आने लगे और भोजन के जरिए हमारे शरीर का हिस्सा बनते चले गए हरी केमिकल्स धीरे धीरे हमारे शरीर में कैंसर के तत्वों को पैदा करने लग गए आज छोटी उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि हमारा खाना हमारा पानी हमारी हवा सब के सब प्रदूषित हैं और कैंसर एक प्रदूषण का ही कारण है कि हमारे शरीर में वही प्रदूषण के कारक जाते हैं और हमारी कोशिकाओं को वह नष्ट कर रहे होते हैं और धीरे-धीरे यह कैंसर हार हमारे सारे कोशिकाओं में फैलता जाता है और शरीर इस से ग्रस्त हो जाता है इस कदर इस को दूर करना है तो हमें फिर से जड़ से शुरू करना होगा जीरो से शुरू करना होगा अपने खान-पान को अपने रहन सहन को बदलना होगा जो कि वाकई में बहुत कठिन कार्य है लेकिन इसको किया जा सकता है ताकि आने वाली पीढ़ियां जो है वह इस महामारी का शिकार ना हो आइए कैंसर से लड़ते हैं एक साथ धन्यवाद
Romanized Version
कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो फैलती जा रही है कुछ वर्षों पहले जैसे बुखार थी हर घर में होता था किसी ना किसी को आजकल कैंसर वही स्थिति में आ चुकी है अजब जिसके घर में देखे किसी ना किसी को कैंसर हुआ है और किस में किसी की मृत्यु कैंसर की वजह से हुई यह बीमारी का कारण आज से नहीं है रब देखे तो हरित क्रांति हिंदुस्तान में जब से आई है तो उत्तर प्रदेश हरियाणा पंजाब यह कुछ ऐसे स्टेट से जो हरित क्रांति में सबसे आगे रहे और आगे इसलिए रहे क्योंकि पेस्टिसाइड्स इंसेंटिसाइड्स फर्टिलाइजर्स केमिकल्स का प्रयोग बहुत ज्यादा हुआ और इसकी वजह से फसल की पैदावार बढ़ता चला गया इन चीजों का दुष्परिणाम लंबे समय में दिखता है और आज उसका दुष्परिणाम हम देख रहे हैं क्योंकि केंद्रीय जितने भी काम करते हैं इस इशारे हमारे भोजन में आने लगे और भोजन के जरिए हमारे शरीर का हिस्सा बनते चले गए हरी केमिकल्स धीरे धीरे हमारे शरीर में कैंसर के तत्वों को पैदा करने लग गए आज छोटी उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि हमारा खाना हमारा पानी हमारी हवा सब के सब प्रदूषित हैं और कैंसर एक प्रदूषण का ही कारण है कि हमारे शरीर में वही प्रदूषण के कारक जाते हैं और हमारी कोशिकाओं को वह नष्ट कर रहे होते हैं और धीरे-धीरे यह कैंसर हार हमारे सारे कोशिकाओं में फैलता जाता है और शरीर इस से ग्रस्त हो जाता है इस कदर इस को दूर करना है तो हमें फिर से जड़ से शुरू करना होगा जीरो से शुरू करना होगा अपने खान-पान को अपने रहन सहन को बदलना होगा जो कि वाकई में बहुत कठिन कार्य है लेकिन इसको किया जा सकता है ताकि आने वाली पीढ़ियां जो है वह इस महामारी का शिकार ना हो आइए कैंसर से लड़ते हैं एक साथ धन्यवादCancer Ek Aisi Bimari Hai Jo Failati Ja Rahi Hai Kuch Varshon Pehle Jaise Bukhar Thi Har Ghar Mein Hota Tha Kisi Na Kisi Ko Aajkal Cancer Wahi Sthiti Mein Aa Chuki Hai Ajab Jiske Ghar Mein Dekhe Kisi Na Kisi Ko Cancer Hua Hai Aur Kis Mein Kisi Ki Mrityu Cancer Ki Wajah Se Hui Yeh Bimari Ka Kaaran Aaj Se Nahi Hai Rub Dekhe To Harit Kranti Hindustan Mein Jab Se I Hai To Uttar Pradesh Haryana Punjab Yeh Kuch Aise State Se Jo Harit Kranti Mein Sabse Aage Rahe Aur Aage Isliye Rahe Kyonki Pesticides Insentisaids Fertilizers Chemicals Ka Prayog Bahut Zyada Hua Aur Iski Wajah Se Phasal Ki Paidavar Badhta Chala Gaya In Chijon Ka Dushparinaam Lambe Samay Mein Dikhta Hai Aur Aaj Uska Dushparinaam Hum Dekh Rahe Hain Kyonki Kendriya Jitne Bhi Kaam Karte Hain Is Ishare Hamare Bhojan Mein Aane Lage Aur Bhojan Ke Jariye Hamare Sharir Ka Hissa Bante Chale Gaye Hari Chemicals Dhire Dhire Hamare Sharir Mein Cancer Ke Tatwon Ko Paida Karne Lag Gaye Aaj Choti Umar Mein Cancer Isliye Ho Raha Hai Kyonki Hamara Khana Hamara Pani Hamari Hawa Sab Ke Sab Pradushit Hain Aur Cancer Ek Pradushan Ka Hi Kaaran Hai Ki Hamare Sharir Mein Wahi Pradushan Ke Kaarak Jaate Hain Aur Hamari Koshikaaon Ko Wah Nasht Kar Rahe Hote Hain Aur Dhire Dhire Yeh Cancer Haar Hamare Sare Koshikaaon Mein Failata Jata Hai Aur Sharir Is Se Grast Ho Jata Hai Is Kadar Is Ko Dur Karna Hai To Hume Phir Se Jad Se Shuru Karna Hoga Zero Se Shuru Karna Hoga Apne Khan Pan Ko Apne Rahan Sahan Ko Badalna Hoga Jo Ki Vaakai Mein Bahut Kathin Karya Hai Lekin Isko Kiya Ja Sakta Hai Taki Aane Wali Peedhiyaan Jo Hai Wah Is Mahamari Ka Shikar Na Ho Aaiye Cancer Se Ladtey Hain Ek Saath Dhanyavad
Likes  93  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी आणि डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं डांसर के बहुत सारे कारण होते हैं उनमें से दिखे बेसिक मीनिंग ऑफ कैंसर जॉब सबसे बेसिक मीनिंग ऑफ साइंटिफिक टर्म्स में यह है जो है मल्टीप्लिकेशन ऑफ सेल्स इन द बॉडी तो अगर वह एक सफल है जितना हमारा बॉडी नहीं संभाल पाता है तो एडमिन लीजन मतलब कैंसिल ट्यूशन यह सब तभी होता है जब हमारा जो बॉडी है वह अच्छे मात्र में गुरु नहीं कर रहा है यानी कि हम देखे दीनी चीजें हैं जिनमें से सबसे इंपॉर्टेंट रेस्ट है बॉडी का फ्री डाइट है अब जो खाना खा रहे हो और उसके बाद एक्सरसाइज है और पता है यह तीनों चीजों को छोड़कर और एक है जो बहुत इंपॉर्टेंट है जिसकी लोग ज्यादा बातें नहीं करते हैं वह है हमारा मेंटल स्टेट ऑफ योर बॉडी द मेंटल हेल्थ तो वह दशरथ ओसियां अकॉर्डिंग टू मेक तुम्हें रिपीट कर देती हूं आपका डाइट आप का रेस्ट एक्सरसाइज एंड मेंटल हेल्थ अभी यह चीज है जो है पुराने जमाने में बहुत ज्यादा लोग यह चारों सीटों में इंवॉल्व थे आज के जमाने में अगर आप देखोगे टेक्नोलॉजी का इंवॉल्वमेंट ज्यादा है हमारे घर में ही हम एक एप्लीकेशन से सब कुछ ऑर्डर कर सकते हैं तो एक्सरसाइज तो वही चला गया खाने में हम लोग सब कुछ रिफाइन खा रहे हैं कोई भी नेचर से जो डायरेक्ट ली जो चीज आता है जैसे भाजी की सब्जी हो गया दाल हो गया फ्रूट सो गए यह सारी चीजों में ध्यान पहुंचने पर मिलावट है खाना जो है यह पुराने टाइम के अकॉर्डिंग नहीं है रेस्ट में हम कम करते हैं ज्यादा फोन से डिक्टेट रहते हैं एंड मेंटल स्टेट हम सब का कंपलीट हो गया है और खराब हो गया है तो कैंसर जो है कैंसर का जो जो कौन है उसको बढ़ाने वाली सब चीजें हम लोग कर रहे हैं इसीलिए आज के जमाने में कैंसर ज्यादा देखा और देखा जा रहा है और पाया जा रहा है थैंक यू
नमस्ते दोस्तों मेरी आणि डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं डांसर के बहुत सारे कारण होते हैं उनमें से दिखे बेसिक मीनिंग ऑफ कैंसर जॉब सबसे बेसिक मीनिंग ऑफ साइंटिफिक टर्म्स में यह है जो है मल्टीप्लिकेशन ऑफ सेल्स इन द बॉडी तो अगर वह एक सफल है जितना हमारा बॉडी नहीं संभाल पाता है तो एडमिन लीजन मतलब कैंसिल ट्यूशन यह सब तभी होता है जब हमारा जो बॉडी है वह अच्छे मात्र में गुरु नहीं कर रहा है यानी कि हम देखे दीनी चीजें हैं जिनमें से सबसे इंपॉर्टेंट रेस्ट है बॉडी का फ्री डाइट है अब जो खाना खा रहे हो और उसके बाद एक्सरसाइज है और पता है यह तीनों चीजों को छोड़कर और एक है जो बहुत इंपॉर्टेंट है जिसकी लोग ज्यादा बातें नहीं करते हैं वह है हमारा मेंटल स्टेट ऑफ योर बॉडी द मेंटल हेल्थ तो वह दशरथ ओसियां अकॉर्डिंग टू मेक तुम्हें रिपीट कर देती हूं आपका डाइट आप का रेस्ट एक्सरसाइज एंड मेंटल हेल्थ अभी यह चीज है जो है पुराने जमाने में बहुत ज्यादा लोग यह चारों सीटों में इंवॉल्व थे आज के जमाने में अगर आप देखोगे टेक्नोलॉजी का इंवॉल्वमेंट ज्यादा है हमारे घर में ही हम एक एप्लीकेशन से सब कुछ ऑर्डर कर सकते हैं तो एक्सरसाइज तो वही चला गया खाने में हम लोग सब कुछ रिफाइन खा रहे हैं कोई भी नेचर से जो डायरेक्ट ली जो चीज आता है जैसे भाजी की सब्जी हो गया दाल हो गया फ्रूट सो गए यह सारी चीजों में ध्यान पहुंचने पर मिलावट है खाना जो है यह पुराने टाइम के अकॉर्डिंग नहीं है रेस्ट में हम कम करते हैं ज्यादा फोन से डिक्टेट रहते हैं एंड मेंटल स्टेट हम सब का कंपलीट हो गया है और खराब हो गया है तो कैंसर जो है कैंसर का जो जो कौन है उसको बढ़ाने वाली सब चीजें हम लोग कर रहे हैं इसीलिए आज के जमाने में कैंसर ज्यादा देखा और देखा जा रहा है और पाया जा रहा है थैंक यू
Likes  95  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतने कम लोग इतने कम उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि ज्ञान सर जो है वह लाइव चल रिलेटेड नॉन कम्युनिकेबल डिजीज है पहले के लोगों को कैंसर कम इसलिए होता था क्योंकि वह अपना लाइफ स्टाइल बहुत हेल्थी तरीके से मेंटेन करते थे योगा करते थे कसरत करते थे सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाते थे बाहर का कम खाते थे अल्कोहलिक हुक्का सिगरेट को यह सब का सेवन वह काफी काम करते थे घर का खाना खाते थे उनकी पाटन होता था फिर सुलगा क्लाइव सेल्फ 114 की सुबह 10:00 बजे काम पर जाएंगे सात आठ नौ दस घर आ जाएंगे फैमिली के साथ टाइम स्पेंड करेंगे आजकल लाइफ सेल का फ्यूचर हो गया है आज का लाइव लाइन है कि आप को सुबह 10:00 बजे से रात्रि 11:00 बजे तक ऑफिस में काम कर रहे हैं एल्कोहल कि आप इन्सुलिन पर ज्यादा रहने लगे हैं सारा टाइम आप परेशान रहते हैं डिप्रेस रहते हैं खुशी नहीं है लोगों के जीवन में और ज्यादा टाइम गर्ल फेसबुक इंटरनेट पर सेंड करो शामली के साथ कम टाइम सेंड कर रहे थे तो यह सर के मेंटल हॉस्पिटल सर्जिकल हॉस्पिटल लाइफ रिलेटेड आज तक ट्रेन सिमुलेटर इफेक्ट है कि आजकल लोगों में बीमारियां चाचा जी ने डायबिटीज कार्डियोवैस्कुलर डिजीज यह सब काफी ज्यादा होने लगे हैं
इतने कम लोग इतने कम उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि ज्ञान सर जो है वह लाइव चल रिलेटेड नॉन कम्युनिकेबल डिजीज है पहले के लोगों को कैंसर कम इसलिए होता था क्योंकि वह अपना लाइफ स्टाइल बहुत हेल्थी तरीके से मेंटेन करते थे योगा करते थे कसरत करते थे सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाते थे बाहर का कम खाते थे अल्कोहलिक हुक्का सिगरेट को यह सब का सेवन वह काफी काम करते थे घर का खाना खाते थे उनकी पाटन होता था फिर सुलगा क्लाइव सेल्फ 114 की सुबह 10:00 बजे काम पर जाएंगे सात आठ नौ दस घर आ जाएंगे फैमिली के साथ टाइम स्पेंड करेंगे आजकल लाइफ सेल का फ्यूचर हो गया है आज का लाइव लाइन है कि आप को सुबह 10:00 बजे से रात्रि 11:00 बजे तक ऑफिस में काम कर रहे हैं एल्कोहल कि आप इन्सुलिन पर ज्यादा रहने लगे हैं सारा टाइम आप परेशान रहते हैं डिप्रेस रहते हैं खुशी नहीं है लोगों के जीवन में और ज्यादा टाइम गर्ल फेसबुक इंटरनेट पर सेंड करो शामली के साथ कम टाइम सेंड कर रहे थे तो यह सर के मेंटल हॉस्पिटल सर्जिकल हॉस्पिटल लाइफ रिलेटेड आज तक ट्रेन सिमुलेटर इफेक्ट है कि आजकल लोगों में बीमारियां चाचा जी ने डायबिटीज कार्डियोवैस्कुलर डिजीज यह सब काफी ज्यादा होने लगे हैं
Likes  91  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी बीमारी जो होती है वह हमारे सोच की वजह से आती है सोच के पीछे जो इमोशंस होते हैं अगर उसको हम सही वक्त पर एड्रेस नहीं करते हैं तो वह हमारी बॉडी में किसी एक पाठ में बीमारी की जगह बन जाती है और वहां पर एक छोटे से होती शेरवा छोटे प्रॉब्लम से होती है और बाद में बड़ा भी हो सकता है उनमें से एक बीमारी कैंसर भी हो सकता है और कैंसर की वजह होती है जिसको हम बोलते इंग्लिश में रीसेंट मेंट अगर आपने गुस्सा बहुत भरा हुआ है अगर आप में हेड रेडनेस है अरे क्या किसी से नफरत करते हैं आप ज्यादा सोचते हैं अगर आपकी सोच बहुत ही नेगेटिव है आप रिलेटिव बर्तन डिस्टिक इंसान बनते जा रहे हैं तो डेफिनेटली उससे रूप में हम कह सकते हैं कि कैंसर उसे और जो नहीं हो सकता है दूसरा क्या-क्या खराब की बॉडी की इम्युनिटी कम है और आपको लगता है कि आपकी बॉडी के ज्वाइंट बॉडी साइज इन यूनिटी है उसके वजह से भी ऐसा हो सकता है क्या इस बीमारी आ सकती है अगर आपकी इम्यूनिटी कम है तो भी तीसरा ऐसा होता है कि अगर आप ज्यादा स्मोकिंग करते हैं और आपकी इम्यूनिटी कम है तो लंग कैंसर भी आ सकता है अगर आप आजकल क्या है कि आप किसी एक चीज को मैं क्रिकेट नहीं कर सकते कि क्यों आता है इन सारे कारणों बस जो है यह बीमारी आ सकती है और हमारी छोटी से छोटी एज वालों को भी हो रही है ऐसा नहीं है कि यह बड़ी उम्र की लोगों को ही गोरी है यंग पीपल तो है ही बहुत सफर कर रहे हैं इस प्रॉब्लम के साथ इस बीमारी के साथ और वैसे इस बीमारी का इलाज जो है जो पहले नहीं था आज है हमारे पास तकनीकी जानकारी के वजह से मेडिकल फील्ड काफी एडवांस हो चुकी है जिसकी वजह से इसकी और भी है उतनी ही तेजी से बढ़ रही है जैसी बीमारियां बढ़ रही है लेकिन हमें चाहिए कि हम नेगेटिव ना सोचे पॉजिटिव सोचा खुश रहे और चर्च से दूर रहे टेस्ट होता है वह कई तरह की बीमारियों के हमारी बॉडी में मैंने सर्च करता है जिसमें से एक कैंसर भी है तो अच्छा सोचे अच्छा करें और stress-free रहे बी हैप्पी एंड गिव हैप्पीनेस गॉड ब्लेस
कोई भी बीमारी जो होती है वह हमारे सोच की वजह से आती है सोच के पीछे जो इमोशंस होते हैं अगर उसको हम सही वक्त पर एड्रेस नहीं करते हैं तो वह हमारी बॉडी में किसी एक पाठ में बीमारी की जगह बन जाती है और वहां पर एक छोटे से होती शेरवा छोटे प्रॉब्लम से होती है और बाद में बड़ा भी हो सकता है उनमें से एक बीमारी कैंसर भी हो सकता है और कैंसर की वजह होती है जिसको हम बोलते इंग्लिश में रीसेंट मेंट अगर आपने गुस्सा बहुत भरा हुआ है अगर आप में हेड रेडनेस है अरे क्या किसी से नफरत करते हैं आप ज्यादा सोचते हैं अगर आपकी सोच बहुत ही नेगेटिव है आप रिलेटिव बर्तन डिस्टिक इंसान बनते जा रहे हैं तो डेफिनेटली उससे रूप में हम कह सकते हैं कि कैंसर उसे और जो नहीं हो सकता है दूसरा क्या-क्या खराब की बॉडी की इम्युनिटी कम है और आपको लगता है कि आपकी बॉडी के ज्वाइंट बॉडी साइज इन यूनिटी है उसके वजह से भी ऐसा हो सकता है क्या इस बीमारी आ सकती है अगर आपकी इम्यूनिटी कम है तो भी तीसरा ऐसा होता है कि अगर आप ज्यादा स्मोकिंग करते हैं और आपकी इम्यूनिटी कम है तो लंग कैंसर भी आ सकता है अगर आप आजकल क्या है कि आप किसी एक चीज को मैं क्रिकेट नहीं कर सकते कि क्यों आता है इन सारे कारणों बस जो है यह बीमारी आ सकती है और हमारी छोटी से छोटी एज वालों को भी हो रही है ऐसा नहीं है कि यह बड़ी उम्र की लोगों को ही गोरी है यंग पीपल तो है ही बहुत सफर कर रहे हैं इस प्रॉब्लम के साथ इस बीमारी के साथ और वैसे इस बीमारी का इलाज जो है जो पहले नहीं था आज है हमारे पास तकनीकी जानकारी के वजह से मेडिकल फील्ड काफी एडवांस हो चुकी है जिसकी वजह से इसकी और भी है उतनी ही तेजी से बढ़ रही है जैसी बीमारियां बढ़ रही है लेकिन हमें चाहिए कि हम नेगेटिव ना सोचे पॉजिटिव सोचा खुश रहे और चर्च से दूर रहे टेस्ट होता है वह कई तरह की बीमारियों के हमारी बॉडी में मैंने सर्च करता है जिसमें से एक कैंसर भी है तो अच्छा सोचे अच्छा करें और stress-free रहे बी हैप्पी एंड गिव हैप्पीनेस गॉड ब्लेस
Likes  88  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेचडी नो टेंशन नो इनफेक्शियस डिसीसिस इट मीन इस इट कैन नॉट बी ट्रांसफर फ्रॉम वन पर्सन टो अनदर बाय सेटिंग ऑल किंग और और प्लेइंग टुडे बैंक इज मेजर प्रॉब्लम फेस बाय द पीपल ऑफ द वर्ल्ड एंड द कर्स ऑफ़ कैंसर इन स्विंग दवा कोष और ड्रिंकिंग वाइन एंड द अंदर का चीज फार्मर इज यूजिंग पेस्टिसाइड ऑफ फ़र्टिलाइज़र इन द फील्ड फॉर ग्रोइंग क्रॉप्स एंड फर्टिलाइजर्स एंड पेस्टिसाइड्स सब मिक्स विथ वाटर और स्वर्ण सब मिक्स विद अवर क्रॉप विच इस हार्मफुल फॉर अस एंड पीटी पीटी इन द फॉर्म ऑफ फूड कॉज कैंसर
हेचडी नो टेंशन नो इनफेक्शियस डिसीसिस इट मीन इस इट कैन नॉट बी ट्रांसफर फ्रॉम वन पर्सन टो अनदर बाय सेटिंग ऑल किंग और और प्लेइंग टुडे बैंक इज मेजर प्रॉब्लम फेस बाय द पीपल ऑफ द वर्ल्ड एंड द कर्स ऑफ़ कैंसर इन स्विंग दवा कोष और ड्रिंकिंग वाइन एंड द अंदर का चीज फार्मर इज यूजिंग पेस्टिसाइड ऑफ फ़र्टिलाइज़र इन द फील्ड फॉर ग्रोइंग क्रॉप्स एंड फर्टिलाइजर्स एंड पेस्टिसाइड्स सब मिक्स विथ वाटर और स्वर्ण सब मिक्स विद अवर क्रॉप विच इस हार्मफुल फॉर अस एंड पीटी पीटी इन द फॉर्म ऑफ फूड कॉज कैंसर
Likes  16  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह कहना गलत बात नहीं है कि आजकल की जनरेशन है आज का जो उस समय चल रहा है इस समय में कैंसर की जो बीमारी है हर किसी में देखने को मिल रही हर कोई से ग्रसित हो जा रहा है हर कोई इसकी चपेट में आ जाए तो कहने का मतलब यह है कि हर चीज जिसका इफेक्ट है जो इस बीमारी को अफेक्ट कर रहा है लोगों में बढ़ा रहा है लोगों में इसका विस्तार कर रहा है इसको साला आ रहा है उसका कारण क्या है टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी इस तरह का से कारण बन गया है क्योंकि टेक्नोलॉजी ने लोगों को आलसी बना दिया आलसी बना दिया है लोगों को हर चीज को काम करने की जल्दी होती है जिस कारण से वे हर ऐसा उपाय सोचते हैं जिससे वह अपने काम को जल्दी से जल्दी कर सकें और इसी को करने के लिए वह अपना समय बचाने के लिए टेक्नोलॉजी का यूज कर रहे हैं अब प्लस रहन-सहन हमारे रहन-सहन का तो टांग हो गया है खान-पान का आधे से ज्यादा चीजों में कितना आ सकता भाई का प्रयोग किया जाता है और वर्तनी कंपोस्ट का यूज किया जाता है वह कहावत है ना कि पहले के लोग कोई का मेला को चला पानी पीकर भी 100 साल डेढ़ सौ साल जिए जाते थे लेकिन आजकल के लोग क्यों नहीं क्योंकि आजकल लोगों के मन में यह हो गया है कि हर चीज की ओर जैसे फिल्टर वाटर पीना तो फिल्टर वाटर क्या हो गया फिल्टर वाटर मिनरल्स है तो हमारे मन शरीर में जो आपूर्ति होने चाहिए खनिजों की वह कहां से होगी उसकी सारे स्त्रोत को हमने ब्लॉक कर दिया है इन्हीं सब कारणों से कैंसर जो है लोगों में पनप रहा है धन्यवाद
देखिए यह कहना गलत बात नहीं है कि आजकल की जनरेशन है आज का जो उस समय चल रहा है इस समय में कैंसर की जो बीमारी है हर किसी में देखने को मिल रही हर कोई से ग्रसित हो जा रहा है हर कोई इसकी चपेट में आ जाए तो कहने का मतलब यह है कि हर चीज जिसका इफेक्ट है जो इस बीमारी को अफेक्ट कर रहा है लोगों में बढ़ा रहा है लोगों में इसका विस्तार कर रहा है इसको साला आ रहा है उसका कारण क्या है टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी इस तरह का से कारण बन गया है क्योंकि टेक्नोलॉजी ने लोगों को आलसी बना दिया आलसी बना दिया है लोगों को हर चीज को काम करने की जल्दी होती है जिस कारण से वे हर ऐसा उपाय सोचते हैं जिससे वह अपने काम को जल्दी से जल्दी कर सकें और इसी को करने के लिए वह अपना समय बचाने के लिए टेक्नोलॉजी का यूज कर रहे हैं अब प्लस रहन-सहन हमारे रहन-सहन का तो टांग हो गया है खान-पान का आधे से ज्यादा चीजों में कितना आ सकता भाई का प्रयोग किया जाता है और वर्तनी कंपोस्ट का यूज किया जाता है वह कहावत है ना कि पहले के लोग कोई का मेला को चला पानी पीकर भी 100 साल डेढ़ सौ साल जिए जाते थे लेकिन आजकल के लोग क्यों नहीं क्योंकि आजकल लोगों के मन में यह हो गया है कि हर चीज की ओर जैसे फिल्टर वाटर पीना तो फिल्टर वाटर क्या हो गया फिल्टर वाटर मिनरल्स है तो हमारे मन शरीर में जो आपूर्ति होने चाहिए खनिजों की वह कहां से होगी उसकी सारे स्त्रोत को हमने ब्लॉक कर दिया है इन्हीं सब कारणों से कैंसर जो है लोगों में पनप रहा है धन्यवाद
Likes  15  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर लाइफ़स्टाइल और खान-पान की बीमारी है हम आज हमारा लाइफ़स्टाइल इतना अस्त-व्यस्त है ना तो समय से खाना पीना सोना जागना उठना बैठना हमारा सब कुछ अस्त-व्यस्त कोई टाइम नहीं यहां तक कि हम सही तरह से खाना भी नहीं खा पाते नहीं खाना खा पाते हैं बाजार में मिलने वाले फास्ट फूड से हम पेट भरते हैं और इसी हफ्ते व्यस्तता के कारण आज कैंसर इतनी देर से आए लोगों को हो रहा है हमारी बॉडी के मेटाबॉलिज्म सिस्टम में खान-पान रहन-सहन की वजह से प्रॉब्लम हो जाने के कारण कोशिकाएं सुचारू ढंग से कार्य नहीं कर पाती हैं जिसके द्वारा गेट कोशिकाएं बॉडी में पैदा होने लगती हैं और हम कैंसर ग्रस्त हो जाते हैं हमें इन सब से बचना है तो हमें अपने जीवन शैली को नियमित करना होगा उसका एक नियम बनाना होगा हमने कब आना है कब जागना है कब सोना है क्या खाना है तब खाना है कैसे खाना है बाकायदा हमें इसकी एक सूची बनाकर अपने जीवन शैली को नियमित करके जीना होगा तब हम इन खतरनाक बीमारी कैंसर से बच सकते हैं अब यह हमारे ऊपर निर्भर है कि हम अपने लाइफ में तालमेल कैसे बिठाते हैं
कैंसर लाइफ़स्टाइल और खान-पान की बीमारी है हम आज हमारा लाइफ़स्टाइल इतना अस्त-व्यस्त है ना तो समय से खाना पीना सोना जागना उठना बैठना हमारा सब कुछ अस्त-व्यस्त कोई टाइम नहीं यहां तक कि हम सही तरह से खाना भी नहीं खा पाते नहीं खाना खा पाते हैं बाजार में मिलने वाले फास्ट फूड से हम पेट भरते हैं और इसी हफ्ते व्यस्तता के कारण आज कैंसर इतनी देर से आए लोगों को हो रहा है हमारी बॉडी के मेटाबॉलिज्म सिस्टम में खान-पान रहन-सहन की वजह से प्रॉब्लम हो जाने के कारण कोशिकाएं सुचारू ढंग से कार्य नहीं कर पाती हैं जिसके द्वारा गेट कोशिकाएं बॉडी में पैदा होने लगती हैं और हम कैंसर ग्रस्त हो जाते हैं हमें इन सब से बचना है तो हमें अपने जीवन शैली को नियमित करना होगा उसका एक नियम बनाना होगा हमने कब आना है कब जागना है कब सोना है क्या खाना है तब खाना है कैसे खाना है बाकायदा हमें इसकी एक सूची बनाकर अपने जीवन शैली को नियमित करके जीना होगा तब हम इन खतरनाक बीमारी कैंसर से बच सकते हैं अब यह हमारे ऊपर निर्भर है कि हम अपने लाइफ में तालमेल कैसे बिठाते हैं
Likes  0  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही शानदार क्वेश्चन पूछा गया है आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है बहुत ज्वलंत मुद्दा है विचारणीय मुद्दा है मैं आपको बताना चाहूंगा कि मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव खरखौदा से आता हूं हमारे गांव की जनसंख्या लगभग साढे 500 होगी और उस गांव तक 10 से 12 लोगों ने कैंसर से अपनी जान दी है एक छोटे से गांव में जहां का वातावरण बहुत ही शुभ माना जाता है आगे जी के डर से हमारे गांव लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मेरे विचार से गांव का वातावरण शुद्ध होते हुए जलवायु शुद्ध होते हुए भी कैंसर रोग से लोगों को जूझना पड़ रहा है इसकी मुख्य वजह सिर्फ और सिर्फ आज का खानपान है खेती में ज्यादा उर्वरक खादों का इस्तेमाल किस तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग होना यहां तक कि गेहूं में भी दवाई दी जा रही है करने में भी दवाई दी जा रही है लोकी में भी दवाई दी जा रही है यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा अपनी फसलें आज किसान पैदा कर रहा है उन सभी में कीटनाशक दवाइयों का और फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग किया जा रहा है जो कैंसर का मुख्य कारण है सात सब्जियों को और फलों को यहां तक कि अनुदान खाता है और कैंसर की मुख्य वजह है मेरे विचार से हो सकती है
बहुत ही शानदार क्वेश्चन पूछा गया है आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है बहुत ज्वलंत मुद्दा है विचारणीय मुद्दा है मैं आपको बताना चाहूंगा कि मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव खरखौदा से आता हूं हमारे गांव की जनसंख्या लगभग साढे 500 होगी और उस गांव तक 10 से 12 लोगों ने कैंसर से अपनी जान दी है एक छोटे से गांव में जहां का वातावरण बहुत ही शुभ माना जाता है आगे जी के डर से हमारे गांव लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मेरे विचार से गांव का वातावरण शुद्ध होते हुए जलवायु शुद्ध होते हुए भी कैंसर रोग से लोगों को जूझना पड़ रहा है इसकी मुख्य वजह सिर्फ और सिर्फ आज का खानपान है खेती में ज्यादा उर्वरक खादों का इस्तेमाल किस तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग होना यहां तक कि गेहूं में भी दवाई दी जा रही है करने में भी दवाई दी जा रही है लोकी में भी दवाई दी जा रही है यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा अपनी फसलें आज किसान पैदा कर रहा है उन सभी में कीटनाशक दवाइयों का और फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग किया जा रहा है जो कैंसर का मुख्य कारण है सात सब्जियों को और फलों को यहां तक कि अनुदान खाता है और कैंसर की मुख्य वजह है मेरे विचार से हो सकती है
Likes  19  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches:Aaj Kal Itne Logon Ko Itni Kam Umar Mein Cancer Kyun Ho Jata Hai,


vokalandroid