इन दिनों रेप के मामलो में लोग धर्म के हिसाब से प्रतिकिर्या दे रहे है ? इस बात पर आपकी राय क्या है ? ...

Likes  0  Dislikes

4 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
देखिए आपने कहा है कि इन दिनों रेप के मामलों में लोग धर्म के हिसाब से प्रतिक्रिया दे रहे हैं तो इसमें मुझे लगता है कि यह उन दिनों की बात नहीं है यह पहले से होता रहा है और यह सिर्फ रेप की बात नहीं है धर्म को बीच में चाहे रेप हो शादी हो किसी का मर्डर हो हर चीज में बीच में हमारे देश में लाया जाता है इसमें मेरी राय यह है कि हम लोग ऐसी चीजें करके हर चीज में धर्म को एक इंपॉर्टेंट पैक बनाकर जो आज चल शूज है उनको इग्नोर कर देते हैं या उनके बारे में जो भैंस पैदा होने चाहिए वह नहीं हो पाती है क्योंकि हम लोग सब धर्म पर अटक जाते हैं तो मुझे लगता है कि वह इस उसको हमसे Reliance कर देते हो निशु को छोटा बना देते हैं हम लोग और इसी वजह से मुझे लगता है आगे नहीं बढ़ पाते हैं क्योंकि हमारी हर बात पर घूम फिर के बात है याद आती है कि वह किस धर्म का था या वह किस धर्म के लिए कर रहा था यह सब चीजें तो मुझे लगता है कि हमें धर्म से ऊपर उठ जाना चाहिए हमें एक्चुअल जो इशू है रेप उसके बारे में बात करना चाहिए इस बारे में नहीं कि उन्होंने कौन से धर्म के बंदे ने किया है क्योंकि जब हम ऐसी बातें करते हैं तो हम ऐसे लोगों को प्रयोग करते हैं जो ऐसे रेप फिर और करना चाहते हैं जो लोग सब एकदम बढ़ाना चाहते हैं उन लोगों को हम प्रयोग करते हैं कि वह धर्म के नाम पर रेप करेंDekhie Aapne Kaha Hai Ki In Dinon Rape Ke Mamlon Mein Log Dharm Ke Hisab Se Pratikriya De Rahe Hain To Isme Mujhe Lagta Hai Ki Yeh Un Dinon Ki Baat Nahi Hai Yeh Pehle Se Hota Raha Hai Aur Yeh Sirf Rape Ki Baat Nahi Hai Dharm Ko Beech Mein Chahe Rape Ho Shadi Ho Kisi Ka Murder Ho Har Cheez Mein Beech Mein Hamare Desh Mein Laya Jata Hai Isme Meri Rai Yeh Hai Ki Hum Log Aisi Cheezen Karke Har Cheez Mein Dharm Ko Ek Important Pack Banakar Jo Aaj Chal Shoes Hai Unko Ignore Kar Dete Hain Ya Unke Baare Mein Jo Bhains Paida Hone Chahiye Wah Nahi Ho Pati Hai Kyonki Hum Log Sab Dharm Par Atak Jaate Hain To Mujhe Lagta Hai Ki Wah Is Usko Humse Reliance Kar Dete Ho Nishu Ko Chota Bana Dete Hain Hum Log Aur Isi Wajah Se Mujhe Lagta Hai Aage Nahi Badh Paate Hain Kyonki Hamari Har Baat Par Ghum Phir Ke Baat Hai Yaad Aati Hai Ki Wah Kis Dharm Ka Tha Ya Wah Kis Dharm Ke Liye Kar Raha Tha Yeh Sab Cheezen To Mujhe Lagta Hai Ki Hume Dharm Se Upar Uth Jana Chahiye Hume Ekchual Jo Issue Hai Rape Uske Baare Mein Baat Karna Chahiye Is Baare Mein Nahi Ki Unhone Kaun Se Dharm Ke Bande Ne Kiya Hai Kyonki Jab Hum Aisi Batein Karte Hain To Hum Aise Logon Ko Prayog Karte Hain Jo Aise Rape Phir Aur Karna Chahte Hain Jo Log Sab Ekdam Badhana Chahte Hain Un Logon Ko Hum Prayog Karte Hain Ki Wah Dharm Ke Naam Par Rape Karen
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

Additional options appears here!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
क्या हो गया हमारे देश के लोगों की नैतिकता को कहां मर गई है उनकी संवेदनाएं और सहानुभूति की भावनाएं ऐसा लगता है कि किसी को कोई फर्क ही नहीं पड़ता है कि किसी और के साथ क्या हो रहा है रेप रेप होता है वह एक लड़की की जिंदगी को तबाह कर देता है वह पूरी जिंदगी अपनी उसी दर्दनाक हादसे में गुजरती है या फिर आजकल तो ज्यादातर ऐसा हो रहा है कि रेप के बाद चाहे वह नाबालिग बच्चियां हो चाहे बालिक लड़कियों को उन्हें मार दिया जाता है एक लड़की अपनी जिंदगी अपनी इज्जत सब कुछ खत्म कर देती है सब कुछ खो देती है और लोगों को सिर्फ यह लगता है कि इस धमकी है या धर्म है और धर्म और जाति के अनुसार इस धंधे में विभक्त कार्य को नापा जा रहा है उसकी समीक्षा की जा रही है उस पर कटाक्ष किए जा रहे हो यह गलत सा माहौल हमारे देश में बनता जा रहा है जो सही नहीं है देश की जनता को एक होना होगा अपनी एकता को वापस से पुनर्जीवित करना होगा और जो भी गलत कार्य हो रहे हैं उन्हें एकजुट होकर उनका सामना करना होगा तभी हम इन सामाजिक समस्याओं से लड़ पाएंगे और इनके लिए कोई सख्त कानून बनवा पाएंगे और उस पर सुधार कर पाएंगे जब तक एक नहीं होंगे हम लोग हमारी इतनी कमजोरी कला भी अपराधी प्रवृत्ति के लोगों और इसका लाभ ले राजनीतिक पार्टियां भी उठाएगी इसलिए मुझे लगता है कि हमें अपनी सोच को बदलना होगा हम हमें अपने दिलों को थोड़ा विशाल करना होगा उसमें सुविधाओं की जगह बनानी होगी और प्यार और स्नेह को पुनर्जीवित करना होगा एक दूसरे के लिए एक दूसरे के साथ देने के लिए तभी हम एक अच्छा जीवन हैKya Ho Gaya Hamare Desh Ke Logon Ki Naitikta Ko Kahan Mar Gayi Hai Unki Sanvednaen Aur Sahanubhuti Ki Bhavanae Aisa Lagta Hai Ki Kisi Ko Koi Fark Hi Nahi Padata Hai Ki Kisi Aur Ke Saath Kya Ho Raha Hai Rape Rape Hota Hai Wah Ek Ladki Ki Zindagi Ko Tabah Kar Deta Hai Wah Puri Zindagi Apni Ussi Dardnak Haadse Mein Gujarati Hai Ya Phir Aajkal To Jyadatar Aisa Ho Raha Hai Ki Rape Ke Baad Chahe Wah Nabalig Bachchiyan Ho Chahe Balik Ladkiyon Ko Unhen Maar Diya Jata Hai Ek Ladki Apni Zindagi Apni Izzat Sab Kuch Khatam Kar Deti Hai Sab Kuch Kho Deti Hai Aur Logon Ko Sirf Yeh Lagta Hai Ki Is Dhamki Hai Ya Dharm Hai Aur Dharm Aur Jati Ke Anusar Is Dhandhe Mein Vibhakt Karya Ko Napa Ja Raha Hai Uski Samiksha Ki Ja Rahi Hai Us Par Kataksh Kiye Ja Rahe Ho Yeh Galat Sa Maahaul Hamare Desh Mein Banta Ja Raha Hai Jo Sahi Nahi Hai Desh Ki Janta Ko Ek Hona Hoga Apni Ekta Ko Wapas Se Punarjivit Karna Hoga Aur Jo Bhi Galat Karya Ho Rahe Hain Unhen Ekjoot Hokar Unka Samana Karna Hoga Tabhi Hum In Samajik Samasyaon Se Lad Paenge Aur Inke Liye Koi Sakht Kanoon Banwa Paenge Aur Us Par Sudhaar Kar Paenge Jab Tak Ek Nahi Honge Hum Log Hamari Itni Kamjori Kala Bhi Apradhi Pravritti Ke Logon Aur Iska Labh Le Rajnitik Partyian Bhi Uthayegee Isliye Mujhe Lagta Hai Ki Hume Apni Soch Ko Badalna Hoga Hum Hume Apne Dilon Ko Thoda Vishal Karna Hoga Usamen Suvidhaon Ki Jagah Banani Hogi Aur Pyar Aur Sneh Ko Punarjivit Karna Hoga Ek Dusre Ke Liye Ek Dusre Ke Saath Dene Ke Liye Tabhi Hum Ek Accha Jeevan Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
आए दिन हमारे समाज में रेप का तो रेश्यो बढ़ता ही जा रहा है साथ ही साथ लोग जो है एक महिला का रेप को किसी धर्म से या किसी पॉलिटिकल पार्टी से जोड़कर अपना जो है देखना चाह रहे हैं चुनाव जी हमारे सर पर है अबे साले इलेक्शन आने वाले हैं तो उसको धर्म के नाम पर बहुत ही ज्यादा होने कोई भी उसे कटवा कांड हुआ वह दिल्ली का हत्याकांड हमको अजमेर बीच में ना रखेंगे इस से अच्छा है कि आप पर रोक लगाएं अपने पर रुकना लगा रहे हैं और कुछ भी धर्म के नाम के झोंके पॉलिटिक्स कर रहे थे बिल्कुल गलत है हमें ऐसी लड़की जो है महिला मैसेज हो सके रेप पर रोक लग सके और महिला कहीं भी जाए तो वह आशिकी आए ऐसा चलता रहा हमारे भारत में रेप होते रहे तो एक दिन तुम्हें कोई भी महिला बाहर जाने से पहले अपने फैमिली तो पूछोगी क्या वह बाहर जाएगी तो क्या उनकी शादी हो सकता है तो बिल्कुल जो है किसी भी गरीब को जो धर्म के नाम पर प्रतिक्रिया देने से अच्छा कि आप उस पर लगाम लगाने की कोशिश करेंAaye Din Hamare Samaaj Mein Rape Ka To Ratio Badhta Hi Ja Raha Hai Saath Hi Saath Log Jo Hai Ek Mahila Ka Rape Ko Kisi Dharm Se Ya Kisi Political Party Se Jodkar Apna Jo Hai Dekhna Chah Rahe Hain Chunav Ji Hamare Sar Par Hai Abe Saale Election Aane Wale Hain To Usko Dharm Ke Naam Par Bahut Hi Jyada Hone Koi Bhi Use Katewa Kaand Hua Wah Delhi Ka Hatyakand Hamko Ajmer Beech Mein Na Rakhenge Is Se Accha Hai Ki Aap Par Rok Lagaen Apne Par Rukna Laga Rahe Hain Aur Kuch Bhi Dharm Ke Naam Ke Jhonke Politics Kar Rahe The Bilkul Galat Hai Hume Aisi Ladki Jo Hai Mahila Massage Ho Sake Rape Par Rok Lag Sake Aur Mahila Kahin Bhi Jaye To Wah Ashiki Aaye Aisa Chalta Raha Hamare Bharat Mein Rape Hote Rahe To Ek Din Tumhein Koi Bhi Mahila Bahar Jaane Se Pehle Apne Family To Poochhogi Kya Wah Bahar Jayegi To Kya Unki Shadi Ho Sakta Hai To Bilkul Jo Hai Kisi Bhi Garib Ko Jo Dharm Ke Naam Par Pratikriya Dene Se Accha Ki Aap Us Par Lagaam Lagane Ki Koshish Karen
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions


More Answers


शर्मनाक बात हमारे देश की नहीं हो सकती है इससे शर्मनाक बात उन लोगों की नहीं हो सकती है जो वे लोग इस को धर्म से जोड़ते हैं यानी कुल मिलाकर रेप जैसी घटना हो रही है रेप गैंग रेप जैसी घटनाएं हो रही है किसी महिला की जिंदगी बर्बाद हो जा रही है उसकी हत्या हो जा रही है उसके साथ पूरी मतलब लाइफ ऑयल हो चुकी है यानी कि मुसलमान या हिंदू है या मुसलमान को बचा रहे हो हिंदू को बचा रहे हो तो इस प्रकार की राजनीति राजनीति राजनीतिक पार्टियां करती हैं यानी विदेशों के प्रति इतना ज्यादा वह नहीं है कि वह ऐसे यीशु में भी अपने फोटो का वह देखती है कैसे बोर्ड मिल सकते कैसे वोट होने से बच सकते तो कम से कम ऐसे मौके पर अपनी यह सारी चीजें भूलकर और एक इंसानियत के नाते सपोर्ट करने की जरूरत है राजनीतिक पार्टी और वह तमाम लोग जो अपने धर्म की रक्षा करने के लिए दूसरों के धर्म पर हमला करते हैं वह भी ऐसे मुद्दे तो इस पर तो मुझे नहीं लगता कि कुछ भी कहना बनता है क्योंकि जिस इंसान की सोच जैसी है उसको हम फिर बदल ही नहीं सकते

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Romanized Version

शर्मनाक बात हमारे देश की नहीं हो सकती है इससे शर्मनाक बात उन लोगों की नहीं हो सकती है जो वे लोग इस को धर्म से जोड़ते हैं यानी कुल मिलाकर रेप जैसी घटना हो रही है रेप गैंग रेप जैसी घटनाएं हो रही है किसी महिला की जिंदगी बर्बाद हो जा रही है उसकी हत्या हो जा रही है उसके साथ पूरी मतलब लाइफ ऑयल हो चुकी है यानी कि मुसलमान या हिंदू है या मुसलमान को बचा रहे हो हिंदू को बचा रहे हो तो इस प्रकार की राजनीति राजनीति राजनीतिक पार्टियां करती हैं यानी विदेशों के प्रति इतना ज्यादा वह नहीं है कि वह ऐसे यीशु में भी अपने फोटो का वह देखती है कैसे बोर्ड मिल सकते कैसे वोट होने से बच सकते तो कम से कम ऐसे मौके पर अपनी यह सारी चीजें भूलकर और एक इंसानियत के नाते सपोर्ट करने की जरूरत है राजनीतिक पार्टी और वह तमाम लोग जो अपने धर्म की रक्षा करने के लिए दूसरों के धर्म पर हमला करते हैं वह भी ऐसे मुद्दे तो इस पर तो मुझे नहीं लगता कि कुछ भी कहना बनता है क्योंकि जिस इंसान की सोच जैसी है उसको हम फिर बदल ही नहीं सकतेSharmnaak Baat Hamare Desh Ki Nahi Ho Sakti Hai Isse Sharmnaak Baat Un Logon Ki Nahi Ho Sakti Hai Jo Ve Log Is Ko Dharm Se Jodte Hain Yani Kul Milakar Rape Jaisi Ghatna Ho Rahi Hai Rape Gang Rape Jaisi Ghatnaye Ho Rahi Hai Kisi Mahila Ki Zindagi Barbad Ho Ja Rahi Hai Uski Hatya Ho Ja Rahi Hai Uske Saath Puri Matlab Life Oil Ho Chuki Hai Yani Ki Musalman Ya Hindu Hai Ya Musalman Ko Bacha Rahe Ho Hindu Ko Bacha Rahe Ho To Is Prakar Ki Rajneeti Rajneeti Rajnitik Partyian Karti Hain Yani Videshon Ke Prati Itna Jyada Wah Nahi Hai Ki Wah Aise Yeshu Mein Bhi Apne Photo Ka Wah Dekhti Hai Kaise Board Mil Sakte Kaise Vote Hone Se Bach Sakte To Kum Se Kum Aise Mauke Par Apni Yeh Saree Cheezen Bhoolkar Aur Ek Insaniyat Ke Naate Support Karne Ki Zaroorat Hai Rajnitik Party Aur Wah Tamam Log Jo Apne Dharm Ki Raksha Karne Ke Liye Dusron Ke Dharm Par Hamla Karte Hain Wah Bhi Aise Mudde To Is Par To Mujhe Nahi Lagta Ki Kuch Bhi Kehna Banta Hai Kyonki Jis Insaan Ki Soch Jaisi Hai Usko Hum Phir Badal Hi Nahi Sakte
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: In Dinon Rape Ke Mamlo Mein Log Dharm Ke Hisab Se Pratikirya De Rahe Hai ? Is Baat Par Aapki Rai Kya Hai ?, These Days, In The Case Of Rap, People Are Giving Repetition According To Religion? Your Opinion?





मन में है सवाल?