क्या मानवता को कुछ हद तक सही किया जा सकता है? ...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां अवश्य किया जा सकता है इसीलिए तो धर्म और कानून बने थे पर विडंबना यह है कि कुछ लोग धर्म के नाम पर गलत काम करते हैं और कट्टर बंद कर अपनी मानवता को बैठते हैं एक और विडंबना है कि कुछ लोग कानून इसल...
जवाब पढ़िये
हां अवश्य किया जा सकता है इसीलिए तो धर्म और कानून बने थे पर विडंबना यह है कि कुछ लोग धर्म के नाम पर गलत काम करते हैं और कट्टर बंद कर अपनी मानवता को बैठते हैं एक और विडंबना है कि कुछ लोग कानून इसलिए सीखते हैं उसका पालन करने के लिए नहीं पर उसे कैसे विधि पूर्वक तोड़ेHaan Avashya Kiya Ja Sakta Hai Isliye To Dharm Aur Kanoon Bane The Par Widambana Yeh Hai Ki Kuch Log Dharm Ke Naam Par Galat Kaam Karte Hain Aur Kattar Band Kar Apni Manavta Ko Baithate Hain Ek Aur Widambana Hai Ki Kuch Log Kanoon Isliye Sikhate Hain Uska Palan Karne Ke Liye Nahi Par Use Kaise Vidhi Purvak Tode
Likes  2  Dislikes
WhatsApp_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

Similar Questions

More Answers


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरी सभी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है मानवता पर जो मैंने टिप्पर की क्या मान्यता को कुछ हद तक सही किया जा सकता है तो देखिए मानवता है क्या जीव मात्र ...
जवाब पढ़िये
नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरी सभी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है मानवता पर जो मैंने टिप्पर की क्या मान्यता को कुछ हद तक सही किया जा सकता है तो देखिए मानवता है क्या जीव मात्र के प्रति दया का भाव हमदर्दी का भाव पर संवेदनशीलता का भाग है मानवता है कि दूसरों की तकलीफ से हमें तकलीफ हो दूसरों के कष्ट से हमें कष्ट पहुंचे और दूसरों के सुख और खुशी से हमे देश या जलन ना हो यह भी एक मानवता है और मानवता बनाता कौन है आप और मेरे जैसे मानव इंसान हम सभी मिलकर मानवता को पोषण देते हैं और मानवता कमजोर कैसे पड़ती है मानवता कमजोर पड़ती है हमारी संवेदनहीनता की वजह से जब हमें दूसरों की तकलीफ में मजा जब हमें औरों की कष्ट में खुशी महसूस होने लगी तब मान्यता कमजोर पड़ती है और खतरे में भी पड़ती मशहूर लेखक मार्क ट्वेन ने कहा है कि 19th लैंग्वेज व्हिच द डीप कैन हियर एंड द ब्लाइंड कैन सी यानी दयालुता वह भाषा है जिसे बहरे सुन सकते हैं और अंधे देख सकते हैं कि जब तक हम लोगों के मन में दया का भाग नहीं आएगा जीव मात्र के प्रति लोग बाद जो हमारे चारों तरफ से सभी हमारी अपनी यह धरती हमारी अपनी परिवार है वसुधैव कुटुंबकम का भाग जब तक हमारे मन में स्ट्रांग नहीं होगा हम मानवता को सही नहीं कर पाएंगे या नहीं हां जब तक हम अपनी संस्कृति के मूल्यों से हमारी जड़ों से नहीं जुड़ेंगे मानवता को हम हल नहीं कर पाएंगे इसलिए काफी हद तक सही किया जा सकता है लेकिन मन में दया का भाग रखकरNamaskar Doston Wah Kal Par Sun Rahe Meri Sabhi Shrotaon Ko Mera Pyar Bhara Namaskar Aaj Ka Sawal Hai Manavta Par Jo Maine Tippar Ki Kya Manyata Ko Kuch Had Tak Sahi Kiya Ja Sakta Hai To Dekhie Manavta Hai Kya Jeev Matra Ke Prati Daya Ka Bhav Humdardi Ka Bhav Par Samvedansheelata Ka Bhag Hai Manavta Hai Ki Dusron Ki Takleef Se Hume Takleef Ho Dusron Ke Kasht Se Hume Kasht Pahuche Aur Dusron Ke Sukh Aur Khushi Se Hume Desh Ya Jalan Na Ho Yeh Bhi Ek Manavta Hai Aur Manavta Banata Kaon Hai Aap Aur Mere Jaise Manav Insaan Hum Sabhi Milkar Manavta Ko Poshan Dete Hain Aur Manavta Kamjor Kaise Padhti Hai Manavta Kamjor Padhti Hai Hamari Sanvedanahinta Ki Wajah Se Jab Hume Dusron Ki Takleef Mein Maza Jab Hume Auron Ki Kasht Mein Khushi Mahsus Hone Lagi Tab Manyata Kamjor Padhti Hai Aur Khatre Mein Bhi Padhti Mashoor Lekhak Mark Tawun Ne Kaha Hai Ki 19th Language Which The Deep Can HERE End The Blind Can Si Yani Dayaaluta Wah Bhasha Hai Jise Behre Sun Sakte Hain Aur Andhe Dekh Sakte Hain Ki Jab Tak Hum Logon Ke Man Mein Daya Ka Bhag Nahi Aaega Jeev Matra Ke Prati Log Baad Jo Hamare Charo Taraf Se Sabhi Hamari Apni Yeh Dharti Hamari Apni Parivar Hai Vasudev Kutumbakam Ka Bhag Jab Tak Hamare Man Mein Strong Nahi Hoga Hum Manavta Ko Sahi Nahi Kar Payenge Ya Nahi Haan Jab Tak Hum Apni Sanskriti Ke Mulyon Se Hamari Jadon Se Nahi Jidenge Manavta Ko Hum Hal Nahi Kar Payenge Isliye Kafi Had Tak Sahi Kiya Ja Sakta Hai Lekin Man Mein Daya Ka Bhag Rakhakar
Likes  17  Dislikes
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख मानवता को पूछा तक नहीं किया जा सकता बहुत अच्छी तरीके से हल किया जा सकता है सारे लोगों के मायने मिलेगा कि वह मानवता नहीं मान रहा है मानवता नहीं बन जाए और हम भी वही हम कह रहे होते लेकिन हम भी करते ह...
जवाब पढ़िये
देख मानवता को पूछा तक नहीं किया जा सकता बहुत अच्छी तरीके से हल किया जा सकता है सारे लोगों के मायने मिलेगा कि वह मानवता नहीं मान रहा है मानवता नहीं बन जाए और हम भी वही हम कह रहे होते लेकिन हम भी करते हैं जिस दिन हमने खुद पर अपना करना स्टार्ट कर देना दूसरों से हटाने के बजाय उसी दिन समान रूप से आ जाएंगे इसमें कोई शक नहीं हैDekh Manavta Ko Poocha Tak Nahi Kiya Ja Sakta Bahut Acchi Tarike Se Hal Kiya Ja Sakta Hai Sare Logon Ke Maayne Milega Ki Wah Manavta Nahi Maan Raha Hai Manavta Nahi Ban Jaye Aur Hum Bhi Wahi Hum Keh Rahe Hote Lekin Hum Bhi Karte Hain Jis Din Humne Khud Par Apna Karna Start Kar Dena Dusron Se Hatane Ke Bajay Ussi Din Saman Roop Se Aa Jaenge Isme Koi Shaq Nahi Hai
Likes  4  Dislikes
WhatsApp_icon

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Manavta Ko Kuch Had Tak Sahi Kiya Ja Sakta Hai

vokalandroid