क्या भारत में धरना देने से सरकार अपने फैसले को बदल देती है? ...

Likes  0  Dislikes

2 Answers


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
धरना देने से सरकार अगर अपना फैसला बदल देती तो अभी तक हमारी सरकार जो है कितने सारे नियमों को तोड़ देती और कितने सारे अलग-अलग जो नए नियम आ जाते और कितने सारे लोग जो है धरना पर बैठे कि उनके पास एक ही मकसद है कि सरकार को मारा धन-धन गार्ड जॉब मेरे हिसाब से देखा जाए तो भारत में धरना देने से बिल्कुल नहीं देते हैं तो आपके पति नजर जाता है उसके पति को अच्छे से जांच करवाती है ताकि वह सच्चाई को जान सके ऐसा नहीं कि लोगों को धर्म के अनुसार से जो है मतलब बदल देती है इतने सारे हम लोग धरने पर बैठते हैं कैंडल मार्च करते हैं तो क्या करने वाले को दोषी करार दिए मटका भारतीय विकास परिषद से भी ज्यादा ज्यादा हैDharna Dene Se Sarkar Agar Apna Faisla Badal Deti To Abhi Tak Hamari Sarkar Jo Hai Kitne Sare Niyamon Ko Tod Deti Aur Kitne Sare Alag Alag Jo Naye Niyam Aa Jaate Aur Kitne Sare Log Jo Hai Dharna Par Baithey Ki Unke Paas Ek Hi Maksad Hai Ki Sarkar Ko Mara Dhan Dhan Guard Job Mere Hisab Se Dekha Jaye To Bharat Mein Dharna Dene Se Bilkul Nahi Dete Hain To Aapke Pati Nazar Jata Hai Uske Pati Ko Acche Se Janch Karwati Hai Taki Wah Sacchai Ko Jaan Sake Aisa Nahi Ki Logon Ko Dharm Ke Anusar Se Jo Hai Matlab Badal Deti Hai Itne Sare Hum Log Dharne Par Baithate Hain Candle March Karte Hain To Kya Karne Wale Ko Doshi Karar Diye Matka Bhartiya Vikash Parishad Se Bhi Jyada Jyada Hai
Likes  1  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon
500000+ दिलचस्प सवाल जवाब सुनिये 😊

अपना सवाल पूछिए


Englist → हिंदी

अतिरिक्त विकल्प यहां दिखाई देते हैं!


0/180
mic

अपना सवाल बोलकर पूछें


प्ले क्लिक करके जवाब सुनिये। जवाब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिये...जवाब पढ़िये
धरना देना एक संवैधानिक अधिकार है जिसके तहत आप शांतिपूर्ण तरीके से इंसान ना करते धरना दे सकते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि सरकार अपने हर फैसले को धरने के बेस पर ही चेंज करेगी अगर ऐसा होता तो हम किसी भी दे सकते हैं क्योंकि मुझे 1000000 रुपए चाहिए वरना हम सब लोग भूखे मर जाएंगे तो अगर सरकार हर धर्म को फॉलो करती रहे तो गलत है लेकिन हां अपनी बात सरकार के सामने प्रकट करने के लिए धरना देना आवश्यक है कुछ चीजें जो समाज में नकारात्मक रूप से बढ़ती जा रही है उन चीजों को कम करने के लिए धरना या सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने की जनता क्या चाहती है क्या उम्मीद की जानी चाहिए इस तरीके चाहिए धरने से आप जरूर सरकार तक पहुंचा सकते हैं लेकिन धरना शांतिपूर्ण होना चाहिए कोई भी हिंसा का कदम उसके साथ ना उठाया जाए वही बेहतर है धन्यवादDharna Dena Ek Samvaidhanik Adhikaar Hai Jiske Tahat Aap Shantipurna Tarike Se Insaan Na Karte Dharna De Sakte Hain Lekin Iska Matlab Yeh Nahi Hai Ki Sarkar Apne Har Faisle Ko Dharne Ke Base Par Hi Change Karegi Agar Aisa Hota To Hum Kisi Bhi De Sakte Hain Kyonki Mujhe 1000000 Rupaiye Chahiye Varana Hum Sab Log Bhukhe Mar Jaenge To Agar Sarkar Har Dharm Ko Follow Karti Rahe To Galat Hai Lekin Haan Apni Baat Sarkar Ke Samane Prakat Karne Ke Liye Dharna Dena Aavashyak Hai Kuch Cheezen Jo Samaaj Mein Nakaratmak Roop Se Badhti Ja Rahi Hai Un Chijon Ko Kum Karne Ke Liye Dharna Ya Sarkar Tak Apni Aawaj Pahunchane Ki Janta Kya Chahti Hai Kya Ummid Ki Jani Chahiye Is Tarike Chahiye Dharne Se Aap Jarur Sarkar Tak Pahuncha Sakte Hain Lekin Dharna Shantipurna Hona Chahiye Koi Bhi Hinsa Ka Kadam Uske Saath Na Uthaya Jaye Wahi Behtar Hai Dhanyavad
Likes  0  Dislikes
Share this answer
WhatsApp_icon
share_icon

Want to invite experts?




Similar Questions

Vokal is India's Largest Knowledge Sharing Platform. Send Your Questions to Experts.

Related Searches: Kya Bharat Mein Dharna Dene Se Sarkar Apne Faisle Ko Badal Deti Hai, What Is The Difference Between My India And The Country?





मन में है सवाल?